India

Jun 01 2021, 09:47


50 दिनों में कोरोना के सबसे कम मामले, 24 घंटे में 1.52 लाख मामले, सक्रिय मामलों में 20 दिनों में 17 लाख से भी अधिक की कमी


देश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है। इसके साथ ही सक्रिय रोगियों की संख्या भी घट रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सोमवार को 1.52 लाख नए संक्रमण दर्ज किए गए हैं। मौतों में भी कमी आई है लेकिन अभी भी यह आंकड़ा तीन हजार के पार बना हुआ है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले 20 दिनों में कोरोना के सक्रिय रोगियों की संख्या में 17 लाख से भी अधिक की कमी आई है। 

सोमवार को कोरोना के 1 लाख 52 हजार 734 नए संक्रमण दर्ज किए गए। पिछले 50 दिनों में यह संख्या सबसे कम है। इससे पूर्व 11 अप्रैल को 1 लाख 52 हजार 879 मामले दर्ज किए गए थे। लगातार चौथे दिन नए संक्रमण दो लाख से नीचे रहे हैं। 


34 दिन में कोरोना से सबसे कम मौतें
इस बीच चौबीस घंटों के दौरान कोरोना से होने वाली मौतों में कमी आई है। लेकिन अभी भी संख्या ज्यादा है। चौबीस घंटों के दौरान 3128 मौतें दर्ज की गई हैं, यह 34 दिन में कोरोना से दैनिक मौत का न्यूनतम आंकड़ा है। 19 मई को सर्वाधिक 4529 मौतें दर्ज की गई थी। उस हिसाब से मौतों में भी कमी आई है, लेकिन अभी भी तीन हजार से ज्यादा मौतें होना भयावह आंकड़ा है। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि आने वाले दिनों में मौतों के आंकड़ों में भी कमी जारी रहेगी।


सक्रिय मामलों में 20 दिनों में 17 लाख से भी अधिक की कमी
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों में कहा गया है कि 10 मई को देश में सक्रिय कोरोना रोगियों की संख्या 37.45 लाख दर्ज की गई थी, जो सोमवार को घटकर 20.26 लाख रह गई। इस प्रकार इसमें 20 दिनों के दौरान 17 लाख से भी अधिक की कमी आई है।

24 घंटों के दौरान 2.38 लाख लोग स्वस्थ हुए
मंत्रालय के अनुसार रोजाना स्वस्थ होने वालों की संख्या बीमार होने वालों से लगातार ऊंची बनी हुई है जिससे सक्रिय रोगी घट रहे हैं। 24 घंटों के दौरान 2.38 लाख लोग स्वस्थ हुए। 1.52 लाख नए संक्रमित हुए। इस प्रकार 88416 सक्रिय रोगी कम हुए हैं। इस समय देश में सक्रिय मरीजों की संख्या अब तक कुल संक्रमितों हुए लोगों की 7.2 फीसदी है।

पांच राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेश में सक्रिय मामलों में बढ़ोतरी
आंकड़ों पर गौर करें तो सिर्फ पांच राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश ही ऐसे हैं जहां सक्रिय रोगियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इनमें दादर में छह, लक्षदीप में 28, मणिपुर में 452, नगालैंड में 67 तथा सिक्किम में 130 मरीज बढ़े हैं। बाकी सभी राज्यों में सक्रिय रोगी घट रहे हैं।


देश में कोरोना वैक्सीनेशन की बात करें तो 20.9 करोड़ कुल वैक्सीन दी गई है। जिसमें 4.31 करोड़ लोग पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुके हैं। जो कुल टीकाकरण का मात्र 3.2% है। 

India

Jun 01 2021, 09:16

कोरोना महामारी के कारण बनने वाले Sars-Cov-2 वायरस की व्यापकता का आकलन करने के लिए देश भर में चौथा सीरोलॉजिकल सर्वे कराया जाएगा.  

देश में कोरोना की दूसरी लहर के बाद कोरोना महामारी के कारण बनने वाले Sars-Cov-2 वायरस की व्यापकता का आकलन करने के लिए देश भर में चौथा सीरोलॉजिकल सर्वे कराया जाएगा.  

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) इसके लिए योजना बना रही है. इसकी औपचारिक घोषणा आईसीएमआर को महानिदेशक द्वारा की जाएगी. 

विशेषज्ञों का मानना है कि सीरों सर्वे के जरिये बीमारी की व्यापकता का पता चलता है, साथ ही हम जान पाते हैं कि इस बीमारी से बचाव के लिए क्या उपाय अपनाए जा सकते हैं. 

वर्तमान में किये जा रहे सीरो सर्वे से सरकार को भी मदद मिल जाएगी कि कब तक प्रतिबंधों में ढील दी जा सकती है. 

सीरो सर्वे के जरिए विभिन्न समूहों में एंटीबॉडी प्रसार को जानने में मदद मिलेगी. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के प्रोफेसर डॉ संजय राय ने कहा कि यह संभव है कि जिस तरीके से सकारात्मकता दर में कमी आयी है, यह काफी हद तक प्राकृतिक संक्रमण के कारण हुआ है. 


विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि चौथा सर्वेक्षण पिछले किये गये तीन सर्वेक्षणों से अलग होगा, क्योंकि दूसरी लहर में कोरोना के मामलों में जबरदस्त उछाल देखा गया, इसके अलावा पिछले चार महीनों में टीकाकरण भी हुआ है. 

डॉ पांडा ने कहा कि सीरो सर्वेक्षण में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी की मौजूदगी की तलाश की जाती है. एंटीबॉडी ना केवल संक्रमण से बल्कि टीकारण से भी बन सकती है. उन्होंने कहा कि इस बार हमे एक मिश्रित प्रकार की एंटीबॉडी मिलेगी, क्योंकि इस बार कई लोग हल्के लक्षण वाले या बिना लक्षण वाले थे, और कई लोग गंभीर रुप से बीमार पड़े थे.