India

Apr 22 2024, 11:22

पीएम मोदी के बयान से बौखलाए कपिल सिब्बल, बोले-ऐसा तो RSS ने भी नहीं सिखाया होगा, देश से मांगें माफी

#rajyasabhampkapilsibalattackpmnarendramodi

लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी गलियारों में पारा हाई है। वहीं, नेताओं के बीच बयानबाजी का दौर भी चरम पर है। चुनाव मैदान में सियासी बयानबाजी के इस दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान से बवाल मचा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राजस्थान में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए आरोप लगाया था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो वह लोगों की संपत्ति को घुसपैठियों और उन लोगों को बांट सकती है, जिनके अधिक बच्चे हैं। पीएम मोदी के इस बयान से घमासान मचा हुआ है। पीएम मोदी की टिप्पणी को लेकर राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल ने हमला बोला है। कांग्रेस के पूर्व नेता सिब्बल ने कहा है कि पीएम मोदी को देश से माफी मांगनी चाहिए।

पीएम मोदी के संपत्ति बांटने वाले बयान पर कपिल सिब्बल ने कहा, कल की बात, जब प्रधानमंत्री ने ऐसा भाषण दिया, जिसे सुनकर ऐसा लगता है कि पहले चरण में हुए मतदान के नतीजे उनके पक्ष में नहीं आ रहे हैं। उस भाषण के बाद मैं समझता हूं कि इस देश के करोड़ों लोग निराश होंगे। वे इसलिए निराश होंगे, क्योंकि 1950 के बाद शायद ही किसी प्रधानमंत्री ने ऐसा बयान दिया होगा। जो दर्शाता है कि यहां रहने वाले अल्पसंख्यक घुसपैठिए हैं। 

यह किस किस्म की राजनीति-सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री के परिवार ने भी उनको ऐसी संस्कृति नहीं दी होगी। नफरत के घोड़े का दूल्हा बनकर आप कभी हिंदुस्तान को बरकरार नहीं रख सकते हैं। उन्होंने सवाल किया कि यह किस किस्म की राजनीति और संस्कृति है? एक तरफ आप राम मंदिर का उद्घाटन करते हैं और दूसरी तरफ नफरत फैलाते हैं? आपका सबका साथ-सबका विकास कहां गया? 

संघ ने पीएम मोदी को ये बातें सिखाई नहीं होगी-सिब्बल

राज्यसभा सांसद ने कहा कि मुझे इस बात पर बहुत निराशा है, क्योंकि हम पीएम पद की बहुत इज्जत करते हैं। मगर पीएम जब इज्जत के लायक न रहें तो बुद्धिजीवी लोगों को आवाज उठानी चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत भी चुप हैं, लेकिन मैं यह भी समझता हूं कि यह बातें संघ ने पीएम मोदी को सिखाई नहीं होगी। पीएम के परिवार ने भी उनको ऐसी संस्कृति नहीं दी होगी?

क्या कहा था पीएम मोदी ने

रविवार को बांसवाड़ा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने मुसलमानों की ओर इशारा करते हुए आगे कहा कि आम आदमी की संपत्ति जब्त करने के बाद इसे अधिक बच्चों वाले लोगों में बांट दिया जाएगा। “पहले, जब उनकी सरकार सत्ता में थी, तो उन्होंने कहा कि मुसलमानों के पास देशों की संपत्ति का पहला स्वामित्व है। इसका मतलब यह है कि वे सभी की संपत्ति इकट्ठा करके उन लोगों को बांट देंगे जिनके ज्यादा बच्चे हैं। वे इसे घुसपैठियों को बांट देंगे…क्या आपकी मेहनत की कमाई घुसपैठियों के पास जानी चाहिए? क्या आप इससे सहमत हैं?…माताओं और बहनों, शहरी नक्सलियों की यह विचारधारा आपके मंगलसुता को भी आपके पास नहीं छोड़ेगी,”

India

Apr 03 2024, 12:10

राज्यसभा से रिटायर हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, खरगे ने लिखा इमोशनल लेटर, कहा-हमेशा युवाओं के नायक रहेंगे

#manmohansinghrajyasabharetirementmallikarjunkhargewroteletter

देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तीन दशक की संसदीय पारी का समापन हो गया। कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की राज्यसभा से विदाई पर एक भावुक पत्र लिखा है। अपने पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष ने देश के लिए पूर्व प्रधानमंत्री के योगदान को भी रेखांकित किया है।उन्होंने कहा कि वह सदैव मध्यवर्ग एवं आकांक्षी युवाओं के नायक बने रहेंगे।

एक युग का अंत हो गया-खरगे

मनमोहन सिंह का राज्यसभा के सदस्य के तौर पर कार्यकाल बुधवार को पूरा हो रहा है। खरगे ने सिंह को पत्र लिखकर पार्टी एवं देश के लिए उनके योगदान को याद किया और उनका आभार जताया। पत्र में खरगे ने कहा, तीन दशकों से अधिक समय तक सेवा करने के बाद एक युग का अंत हो गया। बहुत कम लोग कह सकते हैं कि उन्होंने आपसे अधिक समर्पण और अधिक निष्ठा से हमारे देश की सेवा की है। बहुत कम लोगों ने देश और उसके लोगों के लिए आपके जितना काम किया है।

हम सदैव आपके आभारी रहेंगे-खरगे

पत्र में खरगे ने आगे लिखा, आपके मंत्रिमंडल का हिस्सा बनना मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से सौभाग्य की बात है। पिछले 10 वर्षों में, जबकि मैं लोकसभा और राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता रहा हूं, आप हमेशा ज्ञान का स्रोत रहे हैं और ऐसे व्यक्ति रहे हैं जिनकी सलाह को मैं महत्व देता हूं। पिछले कुछ वर्षों में, आपने व्यक्तिगत असुविधाओं के बावजूद कांग्रेस पार्टी के लिए उपलब्ध रहना सुनिश्चित किया है। इसके लिए पार्टी और मैं सदैव आभारी रहेंगे।

27 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला बाहर-खरगे

कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्र में लिखा कि आपने दिखाया है कि ऐसी आर्थिक नीतियों को आगे बढ़ाना संभव है जो बड़े उद्योगों, युवा उद्यमियों, छोटे व्यवसायों, वेतनभोगी वर्ग और गरीबों के लिए समान रूप से फायदेमंद हों। आपने दिखाया कि गरीब भी देश के विकास में भाग ले सकते हैं और गरीबी से बाहर निकल सकते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष के मुताबिक, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की नीतियों की बदौलत उनके प्रधानमंत्री रहते हुए भारत 27 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में कामयाब हुआ।

प्रधानमंत्री पद पर एक गरिमा स्थापित की-खरगे

खरगे ने कहा, राष्ट्र उस गरिमा को याद करता है जो आपने प्रधानमंत्री के पद पर स्थापित की। संसद को अब आपके ज्ञान और अनुभव की कमी खलेगी. आपके मर्यादित, नपे-तुले, मृदुभाषी लेकिन राजनेता जैसे शब्द झूठ से भरी उन तेज़ आवाज़ों के विपरीत हैं जो वर्तमान राजनीति का संकेत देते हैं। वर्तमान राजनीतिक स्थिति ऐसी है कि बेईमानी की तुलना चतुर नेतृत्व से की जाने लगी है।

आप राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे-खरगे

खरगे ने पत्र में लिखा है, आप हमेशा मध्यम वर्ग और आकांक्षी युवाओं के लिए एक नायक, उद्योगपतियों और उद्यमियों के लिए एक नेता और मार्गदर्शक तथा उन सभी गरीबों के लिए एक संरक्षक बने रहेंगे जो आपकी आर्थिक नीतियों के कारण गरीबी से बाहर निकले थे। उन्होंने कहा, यहां तक कि जब आप सक्रिय राजनीति से सेवानिवृत्त हो रहे हैं, तो भी मुझे आशा है कि आप जितनी बार संभव हो हमारे देश के नागरिकों से बात करके राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे।

India

Apr 03 2024, 12:10

*राज्यसभा से रिटायर हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, खरगे ने लिखा इमोशनल लेटर, कहा-हमेशा युवाओं के नायक रहेंगे*

#manmohansinghrajyasabharetirementmallikarjunkhargewroteletter

देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तीन दशक की संसदीय पारी का समापन हो गया। कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की राज्यसभा से विदाई पर एक भावुक पत्र लिखा है। अपने पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष ने देश के लिए पूर्व प्रधानमंत्री के योगदान को भी रेखांकित किया है।उन्होंने कहा कि वह सदैव मध्यवर्ग एवं आकांक्षी युवाओं के नायक बने रहेंगे।

एक युग का अंत हो गया-खरगे

मनमोहन सिंह का राज्यसभा के सदस्य के तौर पर कार्यकाल बुधवार को पूरा हो रहा है। खरगे ने सिंह को पत्र लिखकर पार्टी एवं देश के लिए उनके योगदान को याद किया और उनका आभार जताया। पत्र में खरगे ने कहा, तीन दशकों से अधिक समय तक सेवा करने के बाद एक युग का अंत हो गया। बहुत कम लोग कह सकते हैं कि उन्होंने आपसे अधिक समर्पण और अधिक निष्ठा से हमारे देश की सेवा की है। बहुत कम लोगों ने देश और उसके लोगों के लिए आपके जितना काम किया है।

हम सदैव आपके आभारी रहेंगे-खरगे

पत्र में खरगे ने आगे लिखा, आपके मंत्रिमंडल का हिस्सा बनना मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से सौभाग्य की बात है। पिछले 10 वर्षों में, जबकि मैं लोकसभा और राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता रहा हूं, आप हमेशा ज्ञान का स्रोत रहे हैं और ऐसे व्यक्ति रहे हैं जिनकी सलाह को मैं महत्व देता हूं। पिछले कुछ वर्षों में, आपने व्यक्तिगत असुविधाओं के बावजूद कांग्रेस पार्टी के लिए उपलब्ध रहना सुनिश्चित किया है। इसके लिए पार्टी और मैं सदैव आभारी रहेंगे।

27 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला बाहर-खरगे

कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्र में लिखा कि आपने दिखाया है कि ऐसी आर्थिक नीतियों को आगे बढ़ाना संभव है जो बड़े उद्योगों, युवा उद्यमियों, छोटे व्यवसायों, वेतनभोगी वर्ग और गरीबों के लिए समान रूप से फायदेमंद हों। आपने दिखाया कि गरीब भी देश के विकास में भाग ले सकते हैं और गरीबी से बाहर निकल सकते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष के मुताबिक, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की नीतियों की बदौलत उनके प्रधानमंत्री रहते हुए भारत 27 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में कामयाब हुआ।

प्रधानमंत्री पद पर एक गरिमा स्थापित की-खरगे

खरगे ने कहा, राष्ट्र उस गरिमा को याद करता है जो आपने प्रधानमंत्री के पद पर स्थापित की। संसद को अब आपके ज्ञान और अनुभव की कमी खलेगी. आपके मर्यादित, नपे-तुले, मृदुभाषी लेकिन राजनेता जैसे शब्द झूठ से भरी उन तेज़ आवाज़ों के विपरीत हैं जो वर्तमान राजनीति का संकेत देते हैं। वर्तमान राजनीतिक स्थिति ऐसी है कि बेईमानी की तुलना चतुर नेतृत्व से की जाने लगी है।

आप राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे-खरगे

खरगे ने पत्र में लिखा है, आप हमेशा मध्यम वर्ग और आकांक्षी युवाओं के लिए एक नायक, उद्योगपतियों और उद्यमियों के लिए एक नेता और मार्गदर्शक तथा उन सभी गरीबों के लिए एक संरक्षक बने रहेंगे जो आपकी आर्थिक नीतियों के कारण गरीबी से बाहर निकले थे। उन्होंने कहा, यहां तक कि जब आप सक्रिय राजनीति से सेवानिवृत्त हो रहे हैं, तो भी मुझे आशा है कि आप जितनी बार संभव हो हमारे देश के नागरिकों से बात करके राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे।

India

Mar 08 2024, 14:14

सुधा मूर्ति राज्यसभा के लिए मनोनीत, पीएम मोदी ने किया ऐलान

#sudha_murthy_nominated_for_rajya_sabha_pm_modi_announced

इंफोसिस के को-फाउंडर नारायण मूर्ति की पत्नी और मशहूर लेखिका सुधा मूर्ति को राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने एक्स हैंडल पर यह जानकारी दी। राज्यसभा के सांसद के रूप में मनोनीत होने पर पीएम मोदी ने सुधा मूर्ति को बधाई देते हुए कहा कि उनकी उपस्थिति हमारी नारी शक्ति के लिए एक शक्तिशाली प्रमाण है। बता दें कि सुधा मूर्ति इंफोसिस फाउंडेशन की अध्यक्ष भी हैं।

पीएम ने एक्स पर लिखा, ''मुझे ख़ुशी है कि भारत के राष्ट्रपति ने सुधा कृष्णमूर्ति को राज्यसभा के लिए मनोनित किया है। सुधा जी का सामाजिक कार्य, परोपकार और शिक्षा सहित विविध क्षेत्रों में योगदान अतुलनीय और प्रेरणादायक रहा है। राज्यसभा में उनकी उपस्थिति हमारी 'नारी शक्ति' का एक शक्तिशाली प्रमाण है, जो हमारे देश की नियति को आकार देने में महिलाओं की ताकत और क्षमता का उदाहरण है। उनके सफल संसदीय कार्यकाल की कामना करता हूं।''

सुधा मूर्ति प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका हैं। सुधा मूर्ति ने आठ उपन्यास लिखे हैं। वह भारत की सबसे बड़ी ऑटो निर्माता इंजीनियरिंग और लोकोमोटिव कंपनी टेल्को में काम करने वाली पहली महिला इंजीनियर भी हैं।सुधा मूर्ति इंफोसिस फाउंडेशन के संस्थापक नारायण मूर्ति की पत्नी हैं। सुधा मूर्ति के दो बच्चे हैं, बेटी अक्षता मूर्ति और बेटा रोहन मूर्ति। अक्षता नारायण मूर्ति ब्रिटेन में रहने वाली भारतीय फैशन डिजाइनर हैं और यूके के प्रधानमंत्री की पत्नी हैं। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक सुधा मूर्ति के दामाद हैं।

बता दें कि सुधा मूर्ति को 2006 में सामाजिक कार्यों के लिए भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। बाद में 2023 में उन्हें तीसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मभूषण से भी सम्मानित किया गया था। देश के राष्ट्रपति कला, साहित्य, विज्ञान और सामाजिक सेवाओं में उनके योगदान के लिए 12 सदस्यों को संसद के उच्च सदन में नामांकित करते हैं।

India

Feb 27 2024, 15:59

राज्यसभा चुनावः कर्नाटक में बीजेपी हुई “गेम” का शिकार, विधायक सोमशेखर ने की क्रॉस वोटिंग

#karnatakarajyasabhavotingbjpmlastsomashekaracross_voting

उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव की वोटिंग के दौरान बीजेपी के लिए अच्छी खबर आई। इन दोनों राज्यों में बीजेपी के लिए क्रॉस वोटिंग की खबर आई। हालांकि,कर्नाटक में बीजेपी के साथ ही “खेला” हो गया। बताया जा रहा है कि बीजेपी विधायक एसटी सोमशेखर ने कांग्रेस प्रत्याशी को वोट किया है।

एसटी सोमशेखर ने की क्रॉस वोटिंग

कर्नाटक विधानसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक डोड्डानगौड़ा जी. पाटिल ने कहा कि एसटी सोमशेखर ने कांग्रेस पार्टी के पक्ष में वोट किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी इस मामले को देखेगी और क्रॉस वोटिंग करने पर विधायक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।भाजपा के मुख्य सचेतक पाटिल ने कहा कि एसटी सोमशेखर द्वारा क्रॉस वोटिंग की पुष्टि की गई है। हम इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि उनके खिलाफ और क्या किया जा सकता है।

ये प्रत्याशी मैदान में

कर्नाटक की चार राज्यसभा सीटों के लिए पांच उम्मीदवार हैं। इस चुनाव के लिए पांच उम्मीदवार, अजय माकन, सैयद नसीर हुसैन और जी.सी. चंद्रशेखर (सभी कांग्रेस), नारायण बंदगे (बीजेपी) और कुपेंद्र रेड्डी (जनता दल सेक्युलर) मैदान में हैं।बता दें कि कर्नाटक में कांग्रेस के तीन और बीजेपी के एक सांसद रिटायर हो रहे हैं।

एचडी कुमारस्वामी ने कांग्रेस पर लगाए आरोप

राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग की आशंका पर जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने कांग्रेस पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हर दिन उनकी पार्टी के नेताओं को परेशान कर रही है। हर दिन वे कह रहे हैं कि 12-13 जेडीएस विधायक कांग्रेस में शामिल होने के लिए तैयार हैं।

बताते चलें कि कर्नाटक विधानसभा में विधायकों की संख्या 224 है। कांग्रेस के 134 विधायक हैं जबकि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 66 और जनता दल-सेक्युलर (जेडीएस) के 19 विधायक हैं। इसके अलावा कर्नाटक में चार अन्य विधायक हैं। कांग्रेस ने चार अन्य विधायकों में से दो निर्दलीय और सर्वोदय कर्नाटक पक्ष के दर्शन पुत्तनैया का समर्थन होने का दावा किया है तथा वह तीन सीट जीतने को लेकर आश्वस्त है।

India

Feb 27 2024, 15:01

राज्यसभा चुनावः यूपी के बाद अब हिमाचल प्रदेश में 'खेला',कांग्रेस के 8- 9 विधायकों की क्रॉस वोटिंग!

#himachalrajyasabhaelectionsourcessaidcongress9mlavotinginfavorof_bjp

राज्यसभा चुनाव में यूपी से लेकर हिमाचल प्रदेश कांग्रेस को बड़ा झटका लगता दिख रहा है। यूपी के बाद अब हिमाचल प्रदेश में 'खेला' हो गया है।हिमाचल प्रदेश में राज्य सभा की एक सीट के लिए मंगलवार को मतदान हुआ। इस चुनाव से पहले संख्या बल के आधार पर कांग्रेस की जीत सुनिश्चित थी। लेकिन बीजेपी ने हर्ष महाजन को मैदान में उतारकर दिलचस्प बना दिया। इसी बीच सूत्रों की मानें तो कांग्रेस के 9 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है। इन सभी विधायकों ने बीजेपी प्रत्याशी हर्ष महाजन के पक्ष में मतदान किया है। हालंकि इसमें कितनी सच्चाई है इसका पता शाम को 5 बजे के बाद पता चल पाएगा।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कही ये बात

राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग के मामले पर हिमाचल प्रदेश कांग्रेस प्रमुख प्रतिभा वीरभद्र सिंह का कहना है कि जब नतीजे आएंगे तब देखेंगे। हमें उम्मीद है कि हमारा उम्मीदवार चुनाव जीतेगा। हमारे पास बहुमत है। हमें पहले से पता था कि वे (भाजपा) धनबल का इस्तेमाल करेगी। सभी 40 विधायकों से बात हो गई है। पार्टी पूरी तरह से एकजुट है। सभी कांग्रेस विधायक सरकार के साथ हैं। विपक्षी भाजपा पैसे की अंतरात्मा की बात कर रही है। क्योंकि भाजपा की कोई अंतरात्मा नहीं है पैसा ही उनकी अंतरात्मा है। अगर कोई पार्टी की सोच से हटकर वोट डालता है तो उसमें सौदेबाजी का अंदेशा होता है।

प्रतिभा सिंह के बयान से टेंशन

वहीं, प्रतिभा सिंह का बयान पार्टी के लिए टेंशन बढ़ाने वाला बयान है। उन्होंने कहा कि विधायकों की नाराजगी स्वभाविक है। विधायकों को लगता था कि सरकार कुछ कर सकती थी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि हम स्थिति का सामना करेंगे। हम नैया पार लगा लेंगे, हमारे पास बहुमत है। हमें पता था कि वे (बीजेपी) धनबल का इस्तेमाल करेंगे। मंडी से सांसद प्रतिभा सिंह ने कहा कि यह कांग्रेस के लिए संकट की घड़ी है।

अभिषेक मनु सिंघवी के खिलाफ हर्ष महाजन

बता दें कि कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी को उम्मीदवार बनाया है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी के खिलाफ हर्ष महाजन को मैदान में उतारा है। तीन बार कांग्रेस के विधायक रहे और राज्य के पूर्व मंत्री महाजन ने सितंबर 2022 में विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और भाजपा में शामिल हो गए थे।

क्या है हिमाचल में समीकरण?

हिमाचल प्रदेश विधानसभा में 68 विधायक हैं। इन सभी ने राज्यसभा चुनाव के लिए वोट किया है।हिमाचल के 68 के 68 विधायकों ने वोट डाल दिया है। हिमाचल में कांग्रेस के 40 विधायक हैं। वहीं बीजेपी के 25 विधायक हैं। वहीं नालागढ़ से कृष्ण लाल ठाकुर, देहरा से होशियार सिंह और हमीरपुर से आशीष शर्मा निर्दलीय विधायक हैं। राज्य में सरकार बनाने के लिए किसी भी दल को 35 विधायकों की जरूरत होती है। ऐसे में अआगर क्रॉस वोटिंग नहीं होती है, तो कांग्रेस आसानी से जीत दर्ज कर सकती है।

నిజంనిప్పులాంటిది

Feb 27 2024, 12:03

Rajya Sabha elections: నేడు 15 రాజ్యసభ స్థానాలకు ఎన్నికలు, ఫలితాలు కూడా

దేశంలో 15 రాజ్యసభ స్థానాలకు(Rajya Sabha seats) నేడు (ఫిబ్రవరి 27న) పోలింగ్ జరగనుంది. ఉదయం 9 గంటల నుంచి సాయంత్రం 4 గంటల వరకు పోలింగ్ జరగనుంది..

సాయంత్రం 5 గంటల నుంచి కౌంటింగ్ జరగనుంది. ఉత్తరప్రదేశ్‌లోని 10, కర్ణాటకలో నాలుగు, హిమాచల్‌ప్రదేశ్‌లోని ఒక స్థానానికి పోలింగ్ జరగనుంది. 15 స్థానాల్లో హోరాహోరీ పోటీ జరగనుండగా..మూడు రాష్ట్రాల్లో ఖాళీగా ఉన్న స్థానాల కంటే ఒకరి కంటే ఎక్కువ మంది అభ్యర్థులు ఎన్నికల బరిలో ఉన్నారు..

ఉత్తరప్రదేశ్‌లోని 10 రాజ్యసభ స్థానాలకు మంగళవారం ఓటింగ్(voting) జరగనుంది. మొత్తం 11 మంది అభ్యర్థులు బరిలో ఉన్నారు. వీరిలో భారతీయ జనతా పార్టీకి చెందిన 8 మంది, సమాజ్‌వాదీ పార్టీకి చెందిన 3 మంది ఉన్నారు. 403 మంది సభ్యులున్న యూపీ అసెంబ్లీలో కేవలం 397 మంది ఎమ్మెల్యేలు మాత్రమే ఓటు వేసేందుకు అర్హులు..

India

Feb 27 2024, 10:01

राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान जारी, सपा को सता रहा क्रॉस वोटिंग का डर

#up_himachal_karnataka_rajya_sabha_election_voting

लोकसभा चुनाव से पहले राज्यसभा चुनाव को लेकर आज बड़ा चुनावी दंगल है। तीन राज्यों की 15 राज्यसभा सीटों पर आज यानी मंगलवार को मतदान शुरू हो गया है। इनमें उत्तर प्रदेश की 10 सीट, हिमाचल प्रदेश की एक सीट और कर्नाटक की चार राज्यसभा सीटों के लिए मतदान चल रहा है।देश के 15 राज्यों में राज्यसभा की सीटें खाली हो रही हैं। इस चुनाव में 56 राज्यसभा सीटों पर नए सदस्य मिलने थे, जिनमें से 41 पहले ही निर्विरोध चुने जा चुके हैं। ऐसे में बाकी बची 15 सीटों पर मंगलवार सुबह 9 बजे से वोटिंग जारी है, जो शाम 4 बजे तक चलेगी। इसके बाद शाम 5 बजे से वोटों की गिनती शुरू हो जाएगी और इसके कुछ ही देर बार नतीजे सामने आ जाएंगे।

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा सीटों के लिए मतदान चल रहा है। उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा सीट पर 11 उम्मीदवार मैदान में हैं। बीजेपी ने 8 और सपा ने 3 उम्मीदवार उतारे हैं। सपा से जया बच्चन रामजीलाल सुमन और आलोक रंजन उम्मीदवार हैं. वहीं, बीजेपी की तरफ से आरपीएन सिंह, चौधरी तेजवीर सिंह, अमरपाल मौर्य, संगीता बलवंत, सुधांशु त्रिवेदी, साधना सिंह, नवीन जैन और संजय सेठ मैदान में हैं। यूपी में राज्यसभा के लिए मुकाबला काफी रोचक बन गया है। हालांकि, बीजेपी 8वें उम्मीदवर की जीत को लेकर पूरी तरह आश्वस्त नजर आ रही है। वहीं, सूत्रों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के 10, कांग्रेस और बसपा के 1-1 विधायक के क्रॉस वोटिंग करने की संभावना है।

राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग की अटकलों के बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। उन्होंने बीजेपी पर प्रहार करते हुए कहा, ‘हमें उम्मीद है कि समाजवादी पार्टी के तीनों प्रत्याशी जीतेंगे। जो दूसरों के लिए काटा बोते हैं या गड्ढे खोदते हैं वे खुद ही उसमें गिरते हैं। भाजपा चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है। जिन्हें कुछ लाभ मिलना होगा वे चले(भाजपा की तरफ) जाएंगे।’

India

Feb 20 2024, 18:46

राजस्थान से राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुनी गईं सोनिया गांधी, नड्डा सहित ये उम्मीदवार भी निर्वाचित

#soniagandhijpnaddaelectedforrajya_sabha

राज्यसभा के लिए कई दिग्गज नेता निर्विरोध निर्वाचित घोषित किए गए हैं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुन ली गई हैं। राजस्थान से राज्यसभा चुनाव में सोनिया गांधी समेत तीनों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। इन तीन सदस्यों में कांग्रेस की सोनिया गांधी और बीजेपी के मदन राठौड़ तथा चुन्नीलाल गरासिया निर्वाचित घोषित किए गए हैं। उधर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत पार्टी के तीन अन्य उम्मीदवारों को भी गुजरात से राज्यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया है। तो बिहार के सभी छह उम्मीदवार भी निर्विरोध निर्वाचित घोषित किए गए हैं।

राजस्थान के कोटे की 10 में से सीटों में से 3 सीटों के लिए चुनाव हुए हैं। इन तीन सीटों में से बीजेपी ने दो ही सीट के लिए अपने प्रत्याशी मदन राठौड़ और चुन्नीलाल गरासिया को चुनाव मैदान में उतारा था। वहीं एक सीट के लिए कांग्रेस ने अपनी पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी को चुनाव मैदान में खड़ा था। 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में चौथा कोई प्रत्याशी मैदान में नहीं था। 20 फरवरी नाम वापसी की अंतिम तारीख थी। आज नाम वापसी का निर्धारित समय निकल जाने के बाद स्थिति बिल्कुल साफ हो गई। उसके बाद रिटर्निंग अधिकारी ने तीनों प्रत्याशियों को निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया।

पहली बार राज्यसभा पहुंचेंगी सोनिया

लोकसभा सांसद के रूप में पांच कार्यकाल पूरा करने के बाद 77 वर्षीया सोनिया गांधी का राज्यसभा में ये पहला कार्यकाल होगा। साल 1999 में कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने के बाद वह पहली बार सांसद चुनी गईं। वह पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के बाद राज्यसभा में प्रवेश करने वाली गांधी परिवार की दूसरी सदस्य होंगी। इंदिरा गांधी अगस्त 1964 से फरवरी 1967 तक राज्यसभा की सदस्य थीं।

गुजरात में चारों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित

गुजरात में राज्यसभा की चार सीटें खाली थीं और सभी सीटों पर सत्तारूढ़ भाजपा के उम्मीदवारों ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। किसी अन्य ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया। जिसके बाद निर्वाचन अधिकारी रीता मेहता ने नड्डा सहित चारों भाजपा उम्मीदवारों को संसद के ऊपरी संदन के लिए निर्विरोध विजयी घोषित किया। नड्डा के अलावा निर्विरोध चुने गए तीन अन्य उम्मीदवारों में हीरा कारोबारी गोविंदभाई ढोलकिया, भाजपा नेता जसवन्तसिंह परमार और मयंक नायक हैं।

ओडिशा से अश्विनी वैष्णव निर्विरोध चुने गए

केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव भी ओडिशा से निर्विरोध राज्यसभा के लिए चुने गए हैं। उन्हें जीत का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है। वैष्णव भुवनेश्वर के राम मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे।

बिहार के सभी छह उम्मीदवार निर्वाचित

उधर बिहार के भी सभी छह उम्मीदवार राज्यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। राज्यसभा के लिए बिहार से बीजेपी के दो, आरजेडी के दो, आरजेडी के एक और कांग्रेस से एक उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। सभी को निर्विरोध राज्यसभा का सदस्य चुन लिया गया है। बीजेपी की तरफ से भीम सिंह और धर्मशीला गुप्ता ने नामांकन दाखिल किया था जबकि जेडीयू से संजय झा को राज्यसभा के लिए उम्मीदवार बनाया गया था। वहीं राष्ट्रीय जनता दल से मनोज झा और संजय यादव, कांग्रेस से अखिलेश प्रसाद सिंह ने नोमिनेशन फाइल किया था।

India

Feb 14 2024, 15:00

कल ही ली सदस्यता, आज मिल गया राज्यसभा का टिकट, बीजेपी का अशोक चौहान को तोहफा

#former_congress_leader_ashok_chavhan_rajyasabha_ticket_bjp

भारतीय जनता पार्टी ने राज्यसभा के लिए उम्मीदवारों की एक और सूची जारी की है। राज्यसभा के लिए जारी तीसरी सूची में गुजरात से भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और महाराष्ट्र से अशोक चव्हाण को उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि अशोक चव्हान ने कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद कल यानी मंगलवार को ही बीजेपी ज्वान क्या था। 24 घंटे के अंदर ही बीजेपी ने अशोक चव्हान को पार्टी बदलने का इनाम दे दिया है।

भारतीय जनता पार्टी ने जगत प्रकाश नड्डा के अलावा गोविंदभाई ढोलकिया, मयंकभाई नायक और जशवंतसिंह सलामसिंह परमार को राज्यसभा का टिकट दिया है। वहीं पार्टी ने महाराष्ट्र से अशोक चव्हाण के अलावा मेधा कुलकर्णी और अजीत गोपघड़े को उम्मीदवार बनाया है।

इससे पहले सोमवार सुबह को राज्यसभा चुनाव के लिए भाजपा की ओर से दूसरी लिस्ट जारी की गई है।इस लिस्ट में बीजेपी ने राज्यसभा चुनाव के लिए अपने पांच उम्मीदवारों का ऐलान किया है।जिसमें रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव का भी नाम शामिल है। भाजपा ने बुधवार को केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव और एल मुरुगन को क्रमशः ओडिशा और मध्य प्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार बनाया है।केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन के अलावा, भाजपा ने मध्य प्रदेश से राज्यसभा चुनाव के लिए तीन और नामों का ऐलान किया है। 

राज्यसभा चुनाव के लिए इससे पहले रविवार (11 फरवरी) को बीजेपी ने पहली लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल के लिए उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया। उत्तर प्रदेश से सुधांशु त्रिवेदी और आरपीएन सिंह को टिकट दिया गया। पूर्व बीजेपी हरियाणा अध्यक्ष सुभाष बराला को हरियाणा से उम्मीदवार बनाया गया। इस लिस्ट में 14 उम्मीदवारों के नाम शामिल थे।

India

Apr 22 2024, 11:22

पीएम मोदी के बयान से बौखलाए कपिल सिब्बल, बोले-ऐसा तो RSS ने भी नहीं सिखाया होगा, देश से मांगें माफी

#rajyasabhampkapilsibalattackpmnarendramodi

लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी गलियारों में पारा हाई है। वहीं, नेताओं के बीच बयानबाजी का दौर भी चरम पर है। चुनाव मैदान में सियासी बयानबाजी के इस दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान से बवाल मचा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को राजस्थान में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए आरोप लगाया था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है, तो वह लोगों की संपत्ति को घुसपैठियों और उन लोगों को बांट सकती है, जिनके अधिक बच्चे हैं। पीएम मोदी के इस बयान से घमासान मचा हुआ है। पीएम मोदी की टिप्पणी को लेकर राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल ने हमला बोला है। कांग्रेस के पूर्व नेता सिब्बल ने कहा है कि पीएम मोदी को देश से माफी मांगनी चाहिए।

पीएम मोदी के संपत्ति बांटने वाले बयान पर कपिल सिब्बल ने कहा, कल की बात, जब प्रधानमंत्री ने ऐसा भाषण दिया, जिसे सुनकर ऐसा लगता है कि पहले चरण में हुए मतदान के नतीजे उनके पक्ष में नहीं आ रहे हैं। उस भाषण के बाद मैं समझता हूं कि इस देश के करोड़ों लोग निराश होंगे। वे इसलिए निराश होंगे, क्योंकि 1950 के बाद शायद ही किसी प्रधानमंत्री ने ऐसा बयान दिया होगा। जो दर्शाता है कि यहां रहने वाले अल्पसंख्यक घुसपैठिए हैं। 

यह किस किस्म की राजनीति-सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री के परिवार ने भी उनको ऐसी संस्कृति नहीं दी होगी। नफरत के घोड़े का दूल्हा बनकर आप कभी हिंदुस्तान को बरकरार नहीं रख सकते हैं। उन्होंने सवाल किया कि यह किस किस्म की राजनीति और संस्कृति है? एक तरफ आप राम मंदिर का उद्घाटन करते हैं और दूसरी तरफ नफरत फैलाते हैं? आपका सबका साथ-सबका विकास कहां गया? 

संघ ने पीएम मोदी को ये बातें सिखाई नहीं होगी-सिब्बल

राज्यसभा सांसद ने कहा कि मुझे इस बात पर बहुत निराशा है, क्योंकि हम पीएम पद की बहुत इज्जत करते हैं। मगर पीएम जब इज्जत के लायक न रहें तो बुद्धिजीवी लोगों को आवाज उठानी चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत भी चुप हैं, लेकिन मैं यह भी समझता हूं कि यह बातें संघ ने पीएम मोदी को सिखाई नहीं होगी। पीएम के परिवार ने भी उनको ऐसी संस्कृति नहीं दी होगी?

क्या कहा था पीएम मोदी ने

रविवार को बांसवाड़ा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने मुसलमानों की ओर इशारा करते हुए आगे कहा कि आम आदमी की संपत्ति जब्त करने के बाद इसे अधिक बच्चों वाले लोगों में बांट दिया जाएगा। “पहले, जब उनकी सरकार सत्ता में थी, तो उन्होंने कहा कि मुसलमानों के पास देशों की संपत्ति का पहला स्वामित्व है। इसका मतलब यह है कि वे सभी की संपत्ति इकट्ठा करके उन लोगों को बांट देंगे जिनके ज्यादा बच्चे हैं। वे इसे घुसपैठियों को बांट देंगे…क्या आपकी मेहनत की कमाई घुसपैठियों के पास जानी चाहिए? क्या आप इससे सहमत हैं?…माताओं और बहनों, शहरी नक्सलियों की यह विचारधारा आपके मंगलसुता को भी आपके पास नहीं छोड़ेगी,”

India

Apr 03 2024, 12:10

राज्यसभा से रिटायर हुए पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, खरगे ने लिखा इमोशनल लेटर, कहा-हमेशा युवाओं के नायक रहेंगे

#manmohansinghrajyasabharetirementmallikarjunkhargewroteletter

देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तीन दशक की संसदीय पारी का समापन हो गया। कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की राज्यसभा से विदाई पर एक भावुक पत्र लिखा है। अपने पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष ने देश के लिए पूर्व प्रधानमंत्री के योगदान को भी रेखांकित किया है।उन्होंने कहा कि वह सदैव मध्यवर्ग एवं आकांक्षी युवाओं के नायक बने रहेंगे।

एक युग का अंत हो गया-खरगे

मनमोहन सिंह का राज्यसभा के सदस्य के तौर पर कार्यकाल बुधवार को पूरा हो रहा है। खरगे ने सिंह को पत्र लिखकर पार्टी एवं देश के लिए उनके योगदान को याद किया और उनका आभार जताया। पत्र में खरगे ने कहा, तीन दशकों से अधिक समय तक सेवा करने के बाद एक युग का अंत हो गया। बहुत कम लोग कह सकते हैं कि उन्होंने आपसे अधिक समर्पण और अधिक निष्ठा से हमारे देश की सेवा की है। बहुत कम लोगों ने देश और उसके लोगों के लिए आपके जितना काम किया है।

हम सदैव आपके आभारी रहेंगे-खरगे

पत्र में खरगे ने आगे लिखा, आपके मंत्रिमंडल का हिस्सा बनना मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से सौभाग्य की बात है। पिछले 10 वर्षों में, जबकि मैं लोकसभा और राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता रहा हूं, आप हमेशा ज्ञान का स्रोत रहे हैं और ऐसे व्यक्ति रहे हैं जिनकी सलाह को मैं महत्व देता हूं। पिछले कुछ वर्षों में, आपने व्यक्तिगत असुविधाओं के बावजूद कांग्रेस पार्टी के लिए उपलब्ध रहना सुनिश्चित किया है। इसके लिए पार्टी और मैं सदैव आभारी रहेंगे।

27 करोड़ लोगों को गरीबी से निकाला बाहर-खरगे

कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्र में लिखा कि आपने दिखाया है कि ऐसी आर्थिक नीतियों को आगे बढ़ाना संभव है जो बड़े उद्योगों, युवा उद्यमियों, छोटे व्यवसायों, वेतनभोगी वर्ग और गरीबों के लिए समान रूप से फायदेमंद हों। आपने दिखाया कि गरीब भी देश के विकास में भाग ले सकते हैं और गरीबी से बाहर निकल सकते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष के मुताबिक, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की नीतियों की बदौलत उनके प्रधानमंत्री रहते हुए भारत 27 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में कामयाब हुआ।

प्रधानमंत्री पद पर एक गरिमा स्थापित की-खरगे

खरगे ने कहा, राष्ट्र उस गरिमा को याद करता है जो आपने प्रधानमंत्री के पद पर स्थापित की। संसद को अब आपके ज्ञान और अनुभव की कमी खलेगी. आपके मर्यादित, नपे-तुले, मृदुभाषी लेकिन राजनेता जैसे शब्द झूठ से भरी उन तेज़ आवाज़ों के विपरीत हैं जो वर्तमान राजनीति का संकेत देते हैं। वर्तमान राजनीतिक स्थिति ऐसी है कि बेईमानी की तुलना चतुर नेतृत्व से की जाने लगी है।

आप राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे-खरगे

खरगे ने पत्र में लिखा है, आप हमेशा मध्यम वर्ग और आकांक्षी युवाओं के लिए एक नायक, उद्योगपतियों और उद्यमियों के लिए एक नेता और मार्गदर्शक तथा उन सभी गरीबों के लिए एक संरक्षक बने रहेंगे जो आपकी आर्थिक नीतियों के कारण गरीबी से बाहर निकले थे। उन्होंने कहा, यहां तक कि जब आप सक्रिय राजनीति से सेवानिवृत्त हो रहे हैं, तो भी मुझे आशा है कि आप जितनी बार संभव हो हमारे देश के नागरिकों से बात करके राष्ट्र के लिए ज्ञान और नैतिकता की आवाज बने रहेंगे।