lucknow

Jun 22 2022, 10:57

केजीएमयू में आज होगी कार्यपरिषद की बैठक, शिक्षकों से जुड़े कई मसले रखे जाएंगे

लखनऊ- केजीएमयू कार्यपरिषद की बैठक आज होगी। इसमें शिक्षकों से जुड़े कई मसले रखे जाएंगे। कुलसचिव कोरोना संक्रमित हो गए हैं। लिहाजा वे ऑनलाइन कार्यपरिषद से जुड़ेंगे।

केजीएमयू में कई विभागों में शिक्षकों की भर्ती हुई थी। इनमें दिव्यांगजन आरक्षण का पालन न होने के आरोप लगे। लिहाजा अभ्यर्थी कोर्ट की शरण में चले गए। बाद में मामला राजभवन भी पहुंच गया। अब राजभवन ने इस मसले पर फैसला लेने के निर्देश केजीएमयू को दिए हैं। केजीएमयू कार्यपरिषद में अभ्यर्थियों का लिफाफा खोला जा सकता है। केजीएमयू 2002 से विश्वविद्यालय बना। अभी तक केजीएमयू में शिक्षकों की वरिष्ठता सूची नहीं तैयार नहीं हुई थी। वरिष्ठता को लेकर रेडियो डायग्नोसिस विभाग में विवाद चल रहा है।

केजीएमयू इलाज महंगा करने मामला नहीं रखा जाएगा। हॉस्पिटल बोर्ड की ओर से पंजीकरण शुल्क दोगुना व अन्य इलाज में 10 फीसदी की बढ़ोतरी करने का निर्णय लिया था। जिसे अंतिम मुहर के लिए कार्यपरिषद में ले जाया जाना था। अब विवि ने निर्णय लिया है कि पहले इसे शासन मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। उसके बाद ही इस पर फैसला होगा। फिलहाल मरीजों को राहत मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।

lucknow

Jun 22 2022, 10:55

इत्र कारोबारी पीयूष जैन को इनकम टैक्स के तौर पर देने होंगे 187 करोड़ रुपए

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन बीते साल दिसंबर में तब चर्चा में आए थे, जब उनके घर से आयकर विभाग को भारी मात्रा में कैश और सोना चांदी मिला था। इसके बाद से जैन जेल में हैं और कई एजेंसियों ने उनसे पूछताछ की है। पीयूष जैन ने अब एजेंसियों से अपने इस धन पर इनकम टैक्स देने की बात कही है। जैन को करीब 187 करोड़ रुपए इनकम टैक्स के तौर पर देने होंगे।

जीएसटी इंटेलिजेंस डीजी और राजस्व खुफिया निदेशालय ने पीयूष जैन से जेल में पूछताछ की है। इसके बाद एजेंसी के सूत्रों ने पुष्टि की कि पीयूष जैन ने आयकर का भुगतान करने की पेशकश की है। पीयूष जैन के परिसर से जब्त की गई कुल राशि पर आयकर ने 87 फीसदी टैक्स तय किया है, जो करीब 187 करोड़ रुपए है।

एजेंसी ने पीयूष जैन के ठिकानों से करीब 197 करोड़ रुपये नकद, करीब 11 करोड़ का 23 किलो सोना और 6 करोड़ रुपए का 600 किलो चंद चंदन का तेल बरामद किया था। पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज वाले घरों में बीते साल दिसंबर में छापे पड़े थे।

पीयूष जैन ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया अहमदाबाद यूनिट के खाते में 54 करोड़ रुपए जमा किए थे और उन्होंने अपने घर से मिले सोने के लिए 4 करोड़ रुपए के आयात शुल्क का भुगतान किया था। पीयूष जैन को इनकम टैक्स के रूप में 187 करोड़ का भुगतान करना होगा।

lucknow

Jun 21 2022, 19:16

एक ही गाँव के 19 पुरुषों ने अपनाई नसबंदी, मुजफ्फरनगर के गालिबपुर गांव की आशा ने पेश की मिसाल

लखनऊ- एक ही गांव में 19 पुरुषों की नसबंदी। है ना चौंकाने वाली खबर लेकिन है सौ फीसद सच। यह सुखद खबर आई है मुजफ्फरनगर के खतौली ब्लाक से। यहां की आशा कार्यकर्ता सुदेश के प्रयास से यह कामयाबी हासिल हुई है। पश्चिम की यह खबर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक बदलाव की बयार लाने का संकेत दे रही है।

सुदेश को स्वास्थ्य विभाग ने परिवार नियोजन साधनों को अपनाने के लिए महिला व पुरुषों को प्रेरित करने की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी थी। उन्होंने सबसे पहले गालिबपुर गांव के उन सभी पुरुषों से संपर्क साधा, जिनका परिवार पूरा हो चुका था। पुरुषों के साथ ही उनकी पत्नी की काउंसिलिंग कर परिवार नियोजन के स्थायी साधन नसबंदी को अपनाने के लिए प्रेरित किया। उन्हें यह समझाने की हरसम्भव कोशिश की कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरुष नसबंदी ज्यादा सरल और सुरक्षित है। जो लोग यह कहते हैं कि नसबंदी से पुरुषों में कमजोरी आती है तो यह सरासर गलत और मनगढ़ंत बातें हैं, ऐसा कुछ भी नहीं है। उनके काम के लिए उन्हें सम्मानित भी किया गया है।

अपनी बात को मजबूती से रखकर सुदेश ने एक साल के भीतर 19 पुरुषों को नसबंदी के लिए राजी कर लिया। नवम्बर 2021 में पुरुष नसबंदी पखवाड़ा के दौरान आठ लोगों ने स्वेच्छा से नसबंदी की सेवा प्राप्त की। इसके अलावा नवम्बर से अब तक सुदेश 11 और पुरुषों की नसबंदी करा चुकी हैं। जून 2022 में भी उन्होंने दो पुरुषों की नसबंदी करवायी है। सुदेश का कहना है कि अब परिवार नियोजन को लेकर लोग उनकी बात ध्यान से सुनते हैं और मानते हैं।

परिवार नियोजन के फायदे बताकर किया राजी

सुदेश का कहना है- अक्सर समाज में फैली भ्रांतियों के चलते पुरुष नसबंदी करवाने से कतराते हैं और ठान लेते हैं कि नसबंदी नहीं कराएंगे। इसी वजह से वह प्रयास तो दूर नसबंदी के बारे में सोचते भी नहीं है। झिझक को छोड़कर जब गांव के लोगों की भ्रांतियों को दूर करते हुए बातचीत का सिलसिला शुरू किया और फायदे गिनाए तो वह नसबंदी को राजी होने लगे। उन्होंने बताया- आठ लोगों ने परिवार नियोजन का यह स्थाई साधन पुरुष नसबंदी पखवाड़े के दौरान अपनाया, बाकी लोग इसका महत्व समझकर आगे आते रहे। सुदेश कहती हैं वह परिवार नियोजन का महत्व समझाती गयीं और लोग समझते गये, परिणाम सामने है।

परिवार नियोजन का स्थायी साधन अपनाने वाले नीटू ने बताया- उनकी उम्र 29 वर्ष है। परिवार में पत्नी पूजा और तीन बच्चे हैं। महंगाई के इस दौर में मजदूरी करके तीन बच्चों का भरण-पोषण बहुत मुश्किल है। नीटू ने बताया- आशा कार्यकर्ता सुदेश ने जब उन्हें छोटे परिवार के बड़े फायदे गिनाये तो वह शुरू में तो झिझक की वजह से आनाकानी करने लगे, लेकिन पत्नी के समझाने पर नसबंदी कराने के लिए राजी हो गए।

इसी तरह नसबंदी अपनाने वाले श्रवण ने बताया -उनकी पत्नी सरिता सुन और बोल नहीं सकती है। आशा कार्यकर्ता ने जब उन्हें परिवार नियोजन के फायदे बताए और यह भी बताया कि उनकी पत्नी नसबंदी कराएगी तो वह अपनी परेशानी बोलकर बता भी नहीं पाएगी। पत्नी की परेशानी को समझते हुए श्रवण ने नसबंदी कराने का फैसला किया।

lucknow

Jun 21 2022, 19:15

बास्केट ऑफ चॉइस की मदद लें, परिवार सीमित रखें और मातृ स्वास्थ्य बेहतर करें

लखनऊ- बास्केट ऑफ़ च्वाइस में परिवार नियोजन के लिए नौ साधनों को शामिल किया गया है। इस बारे में उचित सलाह के लिए स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक,परिवार नियोजन काउंसलर, आशा कार्यकर्ता और एएनएम की मदद ली जा सकती है।

परिवार कल्याण कार्यक्रम की नोडल अधिकारी डॉ. मिश्रा का कहना है कि स्वास्थ्य केंद्रों पर परिवार नियोजन काउंसलर व कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर (सीएचओ) की मदद से बॉस्केट ऑफ च्वाइस के बारे में लाभार्थी की स्थिति के अऩुसार सही परामर्श दिया जाता है । प्रत्येक माह की 21 तारीख को आयोजित होने वाले खुशहाल परिवार दिवस, प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित होने वाले अंतराल दिवस एवं प्रत्येक माह की नौ तारीख को आयोजित होने वाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस पर भी इस बारे में जानकारी दी जाती है । पुरुष और महिला नसबंदी, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी, त्रैमासिक अंतरा इंजेक्शन, माला एन, कंडोम, छाया और ईसीपी की गोलियां बॉस्केट ऑफ च्वाइस का हिस्सा हैं ।

डॉ. अभिलाषा बताती हैं कि परिवार नियोजन का साधन हर लाभार्थी अपनी जरूरत और पसंद के हिसाब से अपनाता है, लेकिन काउंसलर और चिकित्सकों को दिशा-निर्देश है कि वह लाभार्थी के उन पहलुओं की भी जानकारी जुटाएं। जिनमें कोई साधन विशेष उनके लिए उपयुक्त है या नहीं ।

काकोरी ब्लॉक के कुसमौरा गाँव की कल्पना बताती हैं कि जब वह दूसरी बार गर्भवती थीं तो आशा दीदी ने उनको बताया था कि प्रसव के तुरंत बाद आईयूसीडी लगवा सकते हैं और जब बच्चा चाहिए तो उसे हटवा दें। हमने आशा दीदी की बात को माना और दूसरा बच्चा होने के तुरंत बाद लगभग तीन साल पहले उन्होंने आईयूसीडी लगवाया। इसके लगवाने के बाद अभी तक उन्हें उन्हें कोई समस्या नहीं हुई है।

lucknow

Jun 21 2022, 18:39

लखनऊ के बलरामपुर चिकित्सालय के सभी प्रशासनिक अधिकारी, चिकित्सक, फार्मासिस्ट और कर्मटारियों को दिया जाएगा योग का प्रशिक्षण

लखनऊ- बलरामपुर चिकित्सालय के निदेशक डॉ. रमेश गोयल, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी.गुप्ता, चिकित्साअधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी, कंसलटेंट डॉ. विष्णु कुमार, कंसलटेंट डॉ.आनंद कुमार गुप्ता एवं अन्य चिकित्सक गण, स्कूल ऑफ नर्सिंग बलरामपुर चिकित्सालय की प्रधानाचार्य बीना , मिनिस्टीरियल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ, प्रशिक्षणरत कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर, फार्मासिस्ट एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों ने योग विशेषज्ञ डॉ. नंदलाल जिज्ञासु के निर्देशन में सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार योगाभ्यास कर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर्षोउल्लास के साथ मनाया।

मानवता के लिए योग विषय पर चर्चा करते हुए बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ के निदेशक डॉ. रमेश गोयल ने बताया कि *योग भारत की प्राचीन धरोहर है जिसके नियमित अभ्यास से भारतीय ऋषि-मुनि एवं साधकगण स्वस्थमय लंबी आयु जिया करते थे, वर्तमान समय में बिगड़ती जीवन शैली एवं बढ़ती बीमारियों ने एक बार पुन: अपनी प्राचीन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विधा योग की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित किया है, वास्तव में योग सर्वांगीण स्वास्थ्य के प्रबंधन में आज भी कारगर है।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता ने बताया कि वैश्विक स्तर पर आम जनता ने योग को स्वीकार किया है, योग की महत्ता को देखते हुए बलरामपुर चिकित्सालय ने एलोपैथी के साथ-साथ आयुष चिकित्सा पद्धति - योग को बढ़ावा देने में अब पीछे नहीं रहेगा, बलरामपुर चिकित्सालय प्रशासन ने निर्णय लिया है कि चिकित्सालय के सभी प्रशासनिक अधिकारी, चिकित्सकगण, फार्मासिस्ट, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कर्मचारियों को शिफ्ट वाइज चिकित्सकीय दृष्टि से योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि सभी लोग स्वास्थ्य के प्रति स्वावलंबी हो सके।

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी ने बताया कि योग की शोधन क्रियायें शरीर एवं मस्तिष्क का शोधन करती हैं, योगासन से शरीर सुदृढ़, प्राणायाम एवं ध्यान के अभ्यास से चित् एकाग्र एवं इम्यूनिटी बढ़ती है। इसलिए योग चिकित्सक से प्रशिक्षण लेकर सभी को नियमित योगाभ्यास करना चाहिए।

lucknow

Jun 21 2022, 18:37

एनबीआरआई में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन, दैनिक जीवन में योग को अपनाने की सलाह

लखनऊ- आज आठवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया।आज़ादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत, संस्थान द्वारा योग दिवस के उपलक्ष्य में योग आसन, योग प्रतियोगिताओं, योग प्रोटोकॉल प्रशिक्षण सत्र आदि पर विशेषज्ञ व्याख्यान सहित एक सप्ताह तक चलने वाले समारोह का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर सीएसआईआर-एनबीआरआई के निदेशक प्रो. एसके बारिक ने कहा कि तनाव को कम करने और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को दैनिक जीवन में योग को अपनाना चाहिए। हमारी दैनिक कार्य दिनचर्या आमतौर पर बहुत व्यस्त होती है जिस कारण हम अपने स्वास्थ्य और फिटनेस पर ध्यान नहीं दे पाते। हमारे कार्य-स्वास्थ्य संतुलन को बनाए रखने के लिए योग आसन एक त्वरित उपाय हो सकते हैं। उन्होंने इस अवसर पर आयोजित योग प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार भी वितरित किए।

इस अवसर पर प्रयाग आरोग्यम केंद्र, लखनऊ के विशेषज्ञ योग प्रशिक्षकों ने वैज्ञानिकों, शोधार्थियों सहित कर्मचारियों को विभिन्न योग आसनों के बारे में बताया। कर्मचारियों को योग के लाभों के बारे में भी बताया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. सीएच.वी. राव, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक एवं डीके पुरुषोत्तम, प्रधान तकनीकी अधिकारी द्वारा किया गया।

lucknow

Jun 21 2022, 17:28

सच्चा हिंदू किसी धर्म के विरुद्ध कभी नहीं हो सकता है : अखिलेश

पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रेस वार्ता में भाजपा सरकार पर साधा निशाना

लखनऊ। भाजपा सरकार का बुलडोजर गरीबों एवं व्यापारियों के सपनों पर चल रहा है। जबकि देश में देश की सबसे अधिक प्राथमिकता वाली सेना को टेंपरेरी किया जा रहा है संविधान और कानून सरकार का बुलडोजर रोकेगा

मंगलवार को जनपद कन्नौज के गांव सपा प्रमुख एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उक्त बात कही उन्होंने कहा कि सच्चा हिंदू किसी धर्म के विरुद्ध कभी नहीं हो सकता है यह सरकार जाति धर्म देकर काम कर रही है यह नफरत फैलाने वाली सरकार है जो अग्नीपथ एवं अग्निवीर जैसी योजनाएं ला कर फौज को आउटसोर्स कर सकते हैं।

उन्होंने कहा जो प्रायरिटी फौज की थी जो फौज का सामान है उसे गिराने का काम भाजपा सरकार कर रही है फौज को टेंपरेरी करने का काम भाजपा सरकार कर रही है उन्होंने कहा कि किसी युवा से पूछो क्या वह टेंपरेरी नौकरी करेगा तो शायद ही कोई युवा इसके लिए तैयार होगा उन्होंने कहा कि भाजपा पूंजी पतियों की पार्टी है पूंजी पतियों को सुरक्षा के लिए प्रशिक्षित लोगों की जरूरत होती है यही वजह हो सकती है पूंजीपतियों से मिलकर भाजपा सरकार अग्निवीर एवं अग्निपथ जैसी योजना ला रही है सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा नौकरी के नाम पर युवाओं को गुमराह करने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा की कथनी और करनी में बहुत फर्क है जिसको समूचा देश खूब जान रहा है। पूर्व उन्होंने सपा जिला सचिव हारून अहमद सिद्दीकी की पत्नी के निधन पर शोक व्यक्त किया

इस अवसर पर छिबरामऊ के पूर्व विधायक अरविंद सिंह यादव शिल्पी यादव शहनिगार सिद्दीकी सभासद नफीस अहमद जावेद अहमद सिद्दीकी तालिब खान अंसार अहमद शहनवाज सिद्दीकी सहित सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद रहे।

lucknow

Jun 21 2022, 13:09

थिएटर एंड फिल्म वेलफेयर एसोसिएशन की गुहार, कलाकारों को दोबारा मिले रेलवे कन्शेशन का लाभ

लखनऊ- कलाकारों को कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए देश भर में आने-जाने के लिए पहले की ही तरह रेलवे कन्शेशन की सुविधा दोबारा दी जाए। यह बात आज प्रेस वार्ता के दौरान केंद्र व प्रदेश सरकार से फिल्म एंड थियेटर एसोसिएशन के सचिव दबीर सिद्धीकी ने कही। 

उन्होंने कहा कि सरकार ने देश भर में कोरोना के प्रतिबंध हटाकर सांस्कृतिक आयोजन तो शुरू कर दिये हैं पर अभी भी बीते दो वर्षों से प्रतिबंधित रेलवे कन्शेशन की सुविधा को दोबारा चालू नहीं किया है।

सचिव दबीर सिद्धीकी के अनुसार विक्रम बिष्ट यश भारती से अलंकृत लोक गायिका ऋचा जोशी, विलुप्त हो रही लोक कला प्पेट के संरक्षण में लगे काफिला के मेराज आलम और प्रदीप नाथ त्रिपाठी सहित कई अन्य कलाकार देश भर में प्रस्तुतियों के लिए रेलवे का इस्तेमाल सुरक्षित यातायात के रूप में करते रहे हैं। ऐसे में बीते दो वर्षों से उन्हें रेलवे कन्शेशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में जो कलाकार कहीं अन्य संस्थान से रोजी रोटी से नहीं जुड़े हैं और कला प्रदर्शन कर ही अपना और अपने परिवार का दायित्व उठा रहे हैं उनके लिए रेलवे कन्शेशन की छोटी सी मदद भी काफी बड़ी सहायता बन जाती है। ऐसे में सबका साथ सबका विकास करने की बात करने वाली यह डबल इंजन की सरकार कलाकारों को रेलवे कन्शेशन की सुविधा दोबारा देना शुरू करे। इससे देश भर में सांस्कृतिक कर्मियों को तो लाभ होगा ही सांस्कृतिक गतिविधियों में भी इजाफा होगा। 

सचिव दबीर सिद्धीकी ने कहा कि इस संदर्भ में जल्द ही एसोसिएशन का प्रतिनिधि मंडल केंद्र सरकार व रेलवे मंत्री जी को ज्ञापन देगा और मुख्यमंत्री से वार्ता के लिए भी प्रयास करेगा। अगले चरण में एसोसिएशन देश भर के कलाकारों के साथ शान्तिपूर्ण प्रदर्शन भी करेगा।

lucknow

Jun 21 2022, 12:19

व्यापार मंडल ने आयोजित किया योगाभ्यास

लखनऊ। मानवता के लिए 8वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योगाभ्यास कार्यक्रम मंगलवार को सुबह 6-से 7 बजे लखनऊ व्यापार मंडल द्वारा आयोजित किया गया इंद्राणी नगर पार्क निकट पायनियर स्कूल शास्त्री नगर लखनऊ में सपन्न हुआ। व्यापारी भाइयों ने अधिक संख्या में एकत्र होकर योगाभ्यास किया कार्यक्रम में राजेंद्र अग्रवाल अमरनाथ मिश्रा सचिन अग्रवाल जितेंद्र अग्रवाल रिंकू अगरवाल विनोद अग्रवाल ऋतुराज गौरव है संजय मनीष आदि ने सम्मिलित होकर योग किया। स्वस्थ रहें हम एक स्वस्थ और खुशहाल समाज में रहने की आशा करते हैं।

lucknow

Jun 20 2022, 20:02

लखनऊःबलरामपुर अस्पताल में अब प्रतिदिन मरीज व अन्य लोग कर सकेंगे योग

लखनऊ- अमृत योग सप्ताह एवं मानवता के लिए योग अंतर्गत बलरामपुर अस्पताल के आयुष विभाग में सात दिवसीय योगाभ्यास शिविर दिनांक 13 से 20 जून तक संचालित किया गया। इस शिविर में मरीजों के साथ-साथ प्रशिक्षणरत कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर को सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार योग का प्रशिक्षण दिया गया।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के शुभ अवसर पर मंगलवार को सुबह 6:45 से 8:00 बजे तक बलरामपुर अस्पताल के ओ.पी.डी. ग्राउंड फ्लोर में बृहद योगाभ्यास कार्यक्रम डॉ. नंदलाल जिज्ञासु योग विशेषज्ञ के निर्देशन में आयोजित किया जाएगा। जिसमें बलरामपुर चिकित्सालय के निदेशक डॉ. रमेश गोयल, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता, अधीक्षक डॉ.हिमांशु चतुर्वेदी,समस्त चिकित्सक गण, नर्सिंग स्टाफ, मैटर्न, फार्मासिस्ट,मिनिस्ट्रियल स्टाफ,कम्युनिटी हेल्थ ऑफीसर एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी प्रतिभाग करेंगे।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता ने बताया कि अस्पताल प्रशासन द्वारा निर्णय लिया गया है कि प्रतिदिन आयुष विभाग में दिनांक 22 जून से प्रातः 9:30 बजे से 11:00 बजे तक नियमित सामूहिक योग का प्रशिक्षण रोग अनुसार डा. नंद लाल के निर्देशन में विज्ञान भवन के प्रथम तल पर आयुष विभाग में मरीजों को योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा, आमजन तथा मरीज चिकित्सकीय दृष्टि से योग द्वारा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस बात का भी ध्यान दिया जाएगा कि मरीजों को उनकी बीमारी से संबंधित सामान्य योग के अतिरिक्त विशिष्ट योग चिकित्सा भी प्रदान किया जाएगा।