lucknow

Jun 21 2022, 19:15

बास्केट ऑफ चॉइस की मदद लें, परिवार सीमित रखें और मातृ स्वास्थ्य बेहतर करें

लखनऊ- बास्केट ऑफ़ च्वाइस में परिवार नियोजन के लिए नौ साधनों को शामिल किया गया है। इस बारे में उचित सलाह के लिए स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक,परिवार नियोजन काउंसलर, आशा कार्यकर्ता और एएनएम की मदद ली जा सकती है।

परिवार कल्याण कार्यक्रम की नोडल अधिकारी डॉ. मिश्रा का कहना है कि स्वास्थ्य केंद्रों पर परिवार नियोजन काउंसलर व कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर (सीएचओ) की मदद से बॉस्केट ऑफ च्वाइस के बारे में लाभार्थी की स्थिति के अऩुसार सही परामर्श दिया जाता है । प्रत्येक माह की 21 तारीख को आयोजित होने वाले खुशहाल परिवार दिवस, प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित होने वाले अंतराल दिवस एवं प्रत्येक माह की नौ तारीख को आयोजित होने वाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस पर भी इस बारे में जानकारी दी जाती है । पुरुष और महिला नसबंदी, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी, त्रैमासिक अंतरा इंजेक्शन, माला एन, कंडोम, छाया और ईसीपी की गोलियां बॉस्केट ऑफ च्वाइस का हिस्सा हैं ।

डॉ. अभिलाषा बताती हैं कि परिवार नियोजन का साधन हर लाभार्थी अपनी जरूरत और पसंद के हिसाब से अपनाता है, लेकिन काउंसलर और चिकित्सकों को दिशा-निर्देश है कि वह लाभार्थी के उन पहलुओं की भी जानकारी जुटाएं। जिनमें कोई साधन विशेष उनके लिए उपयुक्त है या नहीं ।

काकोरी ब्लॉक के कुसमौरा गाँव की कल्पना बताती हैं कि जब वह दूसरी बार गर्भवती थीं तो आशा दीदी ने उनको बताया था कि प्रसव के तुरंत बाद आईयूसीडी लगवा सकते हैं और जब बच्चा चाहिए तो उसे हटवा दें। हमने आशा दीदी की बात को माना और दूसरा बच्चा होने के तुरंत बाद लगभग तीन साल पहले उन्होंने आईयूसीडी लगवाया। इसके लगवाने के बाद अभी तक उन्हें उन्हें कोई समस्या नहीं हुई है।

lucknow

Jun 21 2022, 18:39

लखनऊ के बलरामपुर चिकित्सालय के सभी प्रशासनिक अधिकारी, चिकित्सक, फार्मासिस्ट और कर्मटारियों को दिया जाएगा योग का प्रशिक्षण

लखनऊ- बलरामपुर चिकित्सालय के निदेशक डॉ. रमेश गोयल, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी.गुप्ता, चिकित्साअधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी, कंसलटेंट डॉ. विष्णु कुमार, कंसलटेंट डॉ.आनंद कुमार गुप्ता एवं अन्य चिकित्सक गण, स्कूल ऑफ नर्सिंग बलरामपुर चिकित्सालय की प्रधानाचार्य बीना , मिनिस्टीरियल स्टाफ, नर्सिंग स्टाफ, प्रशिक्षणरत कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर, फार्मासिस्ट एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों ने योग विशेषज्ञ डॉ. नंदलाल जिज्ञासु के निर्देशन में सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार योगाभ्यास कर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर्षोउल्लास के साथ मनाया।

मानवता के लिए योग विषय पर चर्चा करते हुए बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ के निदेशक डॉ. रमेश गोयल ने बताया कि *योग भारत की प्राचीन धरोहर है जिसके नियमित अभ्यास से भारतीय ऋषि-मुनि एवं साधकगण स्वस्थमय लंबी आयु जिया करते थे, वर्तमान समय में बिगड़ती जीवन शैली एवं बढ़ती बीमारियों ने एक बार पुन: अपनी प्राचीन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विधा योग की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित किया है, वास्तव में योग सर्वांगीण स्वास्थ्य के प्रबंधन में आज भी कारगर है।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता ने बताया कि वैश्विक स्तर पर आम जनता ने योग को स्वीकार किया है, योग की महत्ता को देखते हुए बलरामपुर चिकित्सालय ने एलोपैथी के साथ-साथ आयुष चिकित्सा पद्धति - योग को बढ़ावा देने में अब पीछे नहीं रहेगा, बलरामपुर चिकित्सालय प्रशासन ने निर्णय लिया है कि चिकित्सालय के सभी प्रशासनिक अधिकारी, चिकित्सकगण, फार्मासिस्ट, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कर्मचारियों को शिफ्ट वाइज चिकित्सकीय दृष्टि से योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि सभी लोग स्वास्थ्य के प्रति स्वावलंबी हो सके।

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी ने बताया कि योग की शोधन क्रियायें शरीर एवं मस्तिष्क का शोधन करती हैं, योगासन से शरीर सुदृढ़, प्राणायाम एवं ध्यान के अभ्यास से चित् एकाग्र एवं इम्यूनिटी बढ़ती है। इसलिए योग चिकित्सक से प्रशिक्षण लेकर सभी को नियमित योगाभ्यास करना चाहिए।

lucknow

Jun 21 2022, 18:37

एनबीआरआई में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन, दैनिक जीवन में योग को अपनाने की सलाह

लखनऊ- आज आठवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया।आज़ादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत, संस्थान द्वारा योग दिवस के उपलक्ष्य में योग आसन, योग प्रतियोगिताओं, योग प्रोटोकॉल प्रशिक्षण सत्र आदि पर विशेषज्ञ व्याख्यान सहित एक सप्ताह तक चलने वाले समारोह का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर सीएसआईआर-एनबीआरआई के निदेशक प्रो. एसके बारिक ने कहा कि तनाव को कम करने और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को दैनिक जीवन में योग को अपनाना चाहिए। हमारी दैनिक कार्य दिनचर्या आमतौर पर बहुत व्यस्त होती है जिस कारण हम अपने स्वास्थ्य और फिटनेस पर ध्यान नहीं दे पाते। हमारे कार्य-स्वास्थ्य संतुलन को बनाए रखने के लिए योग आसन एक त्वरित उपाय हो सकते हैं। उन्होंने इस अवसर पर आयोजित योग प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार भी वितरित किए।

इस अवसर पर प्रयाग आरोग्यम केंद्र, लखनऊ के विशेषज्ञ योग प्रशिक्षकों ने वैज्ञानिकों, शोधार्थियों सहित कर्मचारियों को विभिन्न योग आसनों के बारे में बताया। कर्मचारियों को योग के लाभों के बारे में भी बताया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. सीएच.वी. राव, वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक एवं डीके पुरुषोत्तम, प्रधान तकनीकी अधिकारी द्वारा किया गया।

lucknow

Jun 21 2022, 17:28

सच्चा हिंदू किसी धर्म के विरुद्ध कभी नहीं हो सकता है : अखिलेश

पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रेस वार्ता में भाजपा सरकार पर साधा निशाना

लखनऊ। भाजपा सरकार का बुलडोजर गरीबों एवं व्यापारियों के सपनों पर चल रहा है। जबकि देश में देश की सबसे अधिक प्राथमिकता वाली सेना को टेंपरेरी किया जा रहा है संविधान और कानून सरकार का बुलडोजर रोकेगा

मंगलवार को जनपद कन्नौज के गांव सपा प्रमुख एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उक्त बात कही उन्होंने कहा कि सच्चा हिंदू किसी धर्म के विरुद्ध कभी नहीं हो सकता है यह सरकार जाति धर्म देकर काम कर रही है यह नफरत फैलाने वाली सरकार है जो अग्नीपथ एवं अग्निवीर जैसी योजनाएं ला कर फौज को आउटसोर्स कर सकते हैं।

उन्होंने कहा जो प्रायरिटी फौज की थी जो फौज का सामान है उसे गिराने का काम भाजपा सरकार कर रही है फौज को टेंपरेरी करने का काम भाजपा सरकार कर रही है उन्होंने कहा कि किसी युवा से पूछो क्या वह टेंपरेरी नौकरी करेगा तो शायद ही कोई युवा इसके लिए तैयार होगा उन्होंने कहा कि भाजपा पूंजी पतियों की पार्टी है पूंजी पतियों को सुरक्षा के लिए प्रशिक्षित लोगों की जरूरत होती है यही वजह हो सकती है पूंजीपतियों से मिलकर भाजपा सरकार अग्निवीर एवं अग्निपथ जैसी योजना ला रही है सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा नौकरी के नाम पर युवाओं को गुमराह करने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा की कथनी और करनी में बहुत फर्क है जिसको समूचा देश खूब जान रहा है। पूर्व उन्होंने सपा जिला सचिव हारून अहमद सिद्दीकी की पत्नी के निधन पर शोक व्यक्त किया

इस अवसर पर छिबरामऊ के पूर्व विधायक अरविंद सिंह यादव शिल्पी यादव शहनिगार सिद्दीकी सभासद नफीस अहमद जावेद अहमद सिद्दीकी तालिब खान अंसार अहमद शहनवाज सिद्दीकी सहित सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद रहे।

lucknow

Jun 21 2022, 13:09

थिएटर एंड फिल्म वेलफेयर एसोसिएशन की गुहार, कलाकारों को दोबारा मिले रेलवे कन्शेशन का लाभ

लखनऊ- कलाकारों को कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए देश भर में आने-जाने के लिए पहले की ही तरह रेलवे कन्शेशन की सुविधा दोबारा दी जाए। यह बात आज प्रेस वार्ता के दौरान केंद्र व प्रदेश सरकार से फिल्म एंड थियेटर एसोसिएशन के सचिव दबीर सिद्धीकी ने कही। 

उन्होंने कहा कि सरकार ने देश भर में कोरोना के प्रतिबंध हटाकर सांस्कृतिक आयोजन तो शुरू कर दिये हैं पर अभी भी बीते दो वर्षों से प्रतिबंधित रेलवे कन्शेशन की सुविधा को दोबारा चालू नहीं किया है।

सचिव दबीर सिद्धीकी के अनुसार विक्रम बिष्ट यश भारती से अलंकृत लोक गायिका ऋचा जोशी, विलुप्त हो रही लोक कला प्पेट के संरक्षण में लगे काफिला के मेराज आलम और प्रदीप नाथ त्रिपाठी सहित कई अन्य कलाकार देश भर में प्रस्तुतियों के लिए रेलवे का इस्तेमाल सुरक्षित यातायात के रूप में करते रहे हैं। ऐसे में बीते दो वर्षों से उन्हें रेलवे कन्शेशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में जो कलाकार कहीं अन्य संस्थान से रोजी रोटी से नहीं जुड़े हैं और कला प्रदर्शन कर ही अपना और अपने परिवार का दायित्व उठा रहे हैं उनके लिए रेलवे कन्शेशन की छोटी सी मदद भी काफी बड़ी सहायता बन जाती है। ऐसे में सबका साथ सबका विकास करने की बात करने वाली यह डबल इंजन की सरकार कलाकारों को रेलवे कन्शेशन की सुविधा दोबारा देना शुरू करे। इससे देश भर में सांस्कृतिक कर्मियों को तो लाभ होगा ही सांस्कृतिक गतिविधियों में भी इजाफा होगा। 

सचिव दबीर सिद्धीकी ने कहा कि इस संदर्भ में जल्द ही एसोसिएशन का प्रतिनिधि मंडल केंद्र सरकार व रेलवे मंत्री जी को ज्ञापन देगा और मुख्यमंत्री से वार्ता के लिए भी प्रयास करेगा। अगले चरण में एसोसिएशन देश भर के कलाकारों के साथ शान्तिपूर्ण प्रदर्शन भी करेगा।

lucknow

Jun 21 2022, 12:19

व्यापार मंडल ने आयोजित किया योगाभ्यास

लखनऊ। मानवता के लिए 8वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योगाभ्यास कार्यक्रम मंगलवार को सुबह 6-से 7 बजे लखनऊ व्यापार मंडल द्वारा आयोजित किया गया इंद्राणी नगर पार्क निकट पायनियर स्कूल शास्त्री नगर लखनऊ में सपन्न हुआ। व्यापारी भाइयों ने अधिक संख्या में एकत्र होकर योगाभ्यास किया कार्यक्रम में राजेंद्र अग्रवाल अमरनाथ मिश्रा सचिन अग्रवाल जितेंद्र अग्रवाल रिंकू अगरवाल विनोद अग्रवाल ऋतुराज गौरव है संजय मनीष आदि ने सम्मिलित होकर योग किया। स्वस्थ रहें हम एक स्वस्थ और खुशहाल समाज में रहने की आशा करते हैं।

lucknow

Jun 20 2022, 20:02

लखनऊःबलरामपुर अस्पताल में अब प्रतिदिन मरीज व अन्य लोग कर सकेंगे योग

लखनऊ- अमृत योग सप्ताह एवं मानवता के लिए योग अंतर्गत बलरामपुर अस्पताल के आयुष विभाग में सात दिवसीय योगाभ्यास शिविर दिनांक 13 से 20 जून तक संचालित किया गया। इस शिविर में मरीजों के साथ-साथ प्रशिक्षणरत कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर को सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल अनुसार योग का प्रशिक्षण दिया गया।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के शुभ अवसर पर मंगलवार को सुबह 6:45 से 8:00 बजे तक बलरामपुर अस्पताल के ओ.पी.डी. ग्राउंड फ्लोर में बृहद योगाभ्यास कार्यक्रम डॉ. नंदलाल जिज्ञासु योग विशेषज्ञ के निर्देशन में आयोजित किया जाएगा। जिसमें बलरामपुर चिकित्सालय के निदेशक डॉ. रमेश गोयल, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता, अधीक्षक डॉ.हिमांशु चतुर्वेदी,समस्त चिकित्सक गण, नर्सिंग स्टाफ, मैटर्न, फार्मासिस्ट,मिनिस्ट्रियल स्टाफ,कम्युनिटी हेल्थ ऑफीसर एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी प्रतिभाग करेंगे।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जी.पी. गुप्ता ने बताया कि अस्पताल प्रशासन द्वारा निर्णय लिया गया है कि प्रतिदिन आयुष विभाग में दिनांक 22 जून से प्रातः 9:30 बजे से 11:00 बजे तक नियमित सामूहिक योग का प्रशिक्षण रोग अनुसार डा. नंद लाल के निर्देशन में विज्ञान भवन के प्रथम तल पर आयुष विभाग में मरीजों को योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा, आमजन तथा मरीज चिकित्सकीय दृष्टि से योग द्वारा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस बात का भी ध्यान दिया जाएगा कि मरीजों को उनकी बीमारी से संबंधित सामान्य योग के अतिरिक्त विशिष्ट योग चिकित्सा भी प्रदान किया जाएगा।

lucknow

Jun 20 2022, 19:09

दलित डिलीवरी ब्वॉय को अपमानित करने का मामला, सामाजिक संस्था बहुजन भारत ने की नामजद आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग

लखनऊ- सामाजिक संस्था बहुजन भारत ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में दलित युवक से खाने के सामान की डिलीवरी लेने से इंकार करने के साथ ही उसके साथ अपमानजनक व्यवहार करने के मामले को गंभीर और शर्मनाक बताया है और इस मामले में नामजद दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। संस्था के अध्यक्ष एवं पूर्व आईएएस कुंवर फ़तेह बहादुर ने कहा कि राजधानी लखनऊ में इस तरह के कृत्य को अंजाम देने वालों से सरकार को सख्ती से निपटने की जरूरत है।

फ़तेह बहादुर ने कहा कि इस मामले में पीड़ित युवक ने थाना आशियाना में नामजद लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी है, बावजूद इसके अभीतक अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया है। ऐसा लगता है कि दलितों का उत्पीड़न करने वालों और दलित महिलाओं के विरुद्ध अश्लील व अभद्र टिप्पणी करने वालों के खिलाफ पुलिस और प्रशासन सख्त कार्रवाई करने से बच रहा है।

उन्होंने कहा कि जब राजधानी लखनऊ में दलितों का इस तरह से खुलेआम उत्पीड़न और अपमान किया जा रहा है तो गांवों में दलित उत्पीड़न की घटनाओं का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में जोमैटो डिलीवरी ब्वॉय विनीत रावत ने अभियुक्तों के खिलाफ नामजद मुक़दमा दर्ज कराया, पुलिस ने अभियुक्तों के यहाँ जाकर पीड़ित की बाइक भी दिलाई, लेकिन अभियुक्तों को गिरफ्तार नहीं किया। दलितों को इन्साफ दिलाने की बात करने वाली सरकार का बुलडोजर भी अभियुक्तों के खिलाफ खुद चलने से बच रहा है। जातिवादी व्यवस्था के पोषकों ने इस तरह का कृत्य करके दलितों को इस तरह के रोजगार से दूर करने का भी प्रयास किया है, और ये लोग राज्य में मनुवादी व्यवस्था लागू करने की तैयारी भी कर रहे हैं और ऐसा लगता है कि ऐसे तत्वों को सरकार का मूक समर्थन हासिल है।

संस्था के अध्यक्ष ने कहा कि लखनऊ जिले के तहसील मोहनलालगंज के तहसीलदार निखिल शुक्ल ने दलितों के खिलाफ अभद्र और अपमानजनक टिप्पणी की और उनके खिलाफ लगभग एक महीने के प्रयास के बाद दलित निवारण अत्याचार अधिनियम के खिलाफ मुक़दमा भी दर्ज हुआ, बावजूद इसके अभीतक उनकी गिरफ़्तारी नहीं की गयी, वहीं लखनऊ विश्वविद्यालय के दलित प्रोफेसर रविकांत के खिलाफ भाजपा के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के कार्यकर्ताओं की शिकायत पर उन पर पुलिस ने मुक़दमा दर्ज कर लिया, जबकि रविकांत के साथ अभद्रता व मारपीट के मामले में पुलिस की ओर से अभीतक एफआईआर दर्ज नहीं की गयी। उन्होंने कहा कि यदि विश्वविद्यालयों में अध्यापन कार्य कर रहे दलित समाज के प्रोफ़ेसरों, सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा कहीं कोई तथ्यों के आधार पर भी अपनी बात रखी जाती हैं तो उनके खिलाफ धार्मिक भावनाओं को भड़काने के आरोप में एफआईआर होने के साथ ही उनकी गिरफ्तारी हो रही है।

कुंवर फ़तेह बहादुर ने कहा कि सरकार और पुलिस प्रशासन सोशल मीडिया पर की जा रही टिप्पणी के आधार पर दलितों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई कर रही है, लेकिन इसी सोशल मीडिया पर दलितों के विरुद्ध रोजाना सैकड़ों अभद्र, अपमानजनक और आपत्तिजनक टिप्पणी के अलावा दलितों को खुलेआम पीटा जा रहा है, उन्हें अपमानित किया जा रहा है, शिकायत करने पर भी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है, सरकार व पुलिस प्रशासन दलितों के खिलाफ पोस्ट करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई करे, इससे सामाजिक सामंजस्य स्थापित होगा। उन्होंने कहा कि शायद अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लोगों के खिलाफ हो रहे अत्याचार को लेकर सरकार व अधिकारियों की कुछ और ही राय है। बैठक में संस्था के महासचिव चिंतामणि, उपाध्यक्ष नन्द किशोर, कोषाध्यक्ष राम कुमार गौतम, संयुक्त सचिव कृष्ण कन्हैया पाल, नवल किशोर ने भी अपने विचार रखे।

lucknow

Jun 20 2022, 18:37

शहरी पीएचसी सेवा सदन, ग्रामीण पीएचसी कुम्हारावां और उपकेन्द्र थावर क्वॉलिटी एश्योरेंस में लखनऊ में रहा अव्वल

लखनऊ- आज शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों की सीएचसी व पीएचसी को क्वालिटी एश्योरेन्स के तहत कायाकल्प पुरस्कार गया। जिसमें शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) सेवा सदन,पीएचसी कुम्हारावां और उपकेन्द्र थावर को क्वालिटी एश्योरेंस के तहत जिले में प्रथम पुरस्कार मिला है। कायाकल्प अवार्ड के रूप में शहरी पीएचसी सेवा सदन और पीएचसी कुम्हारावां को दो लाख रुपये, ग्रामीण उपकेन्द्र थावर को एक लाख रुपये तथा शहरी पीएचसी खुर्रम नगर और ग्रामीण पीएचसी सरोजिनी नगर,खुजौली और उतरटिया को 50-50 हजार रूपये का सांत्वना पुरस्कार दिया गया है।

इस दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. मनोज अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में कई सालों से क्वालिटी एश्योरेन्स के तहत कायाकल्प पुरस्कार दिया जा रहा है। इस पुरस्कार के लिए इन स्वास्थ्य केंद्रों का पूरा स्टाफ बधाई का पात्र है। जिले के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों को भी इस तरह के प्रयास करने चाहिए ताकि वह भी पुरस्कार के हकदार बने।

जिला क्वालिटी एश्योरेन्स कंसल्टेंट डा.नाजिया शाहीन ने बताया- कायाकल्प श्रेणी में पुरस्कार पाने के लिए स्वास्थ्य केन्द्रों को सात बिन्दुओं चिकित्सालय कर्मियों के कार्यशैली एवं दक्षता में सुधार करना, स्वास्थ्य सुविधा परिसर में सफाई , बायोमेडिकल वेस्ट प्रबंधन, हाइजिन प्रमोशन, स्वास्थ्य केंद्र की चहारदीवारी के बाहर भी सफाई, सेनिटाइजेशन, संक्रमण प्रबंधन आदि पर जाँच टीम के द्वारा अंक दिए जाते हैं। सर्वाधिक स्कोर हासिल करने वाले स्वास्थ्य केन्द्रों को इसके तहत पुरस्कृत किया जाता है।

lucknow

Jun 20 2022, 18:36

22 मेडिकल कॉलेजों के लिए प्रस्‍ताव पर लगी मुहर, 36 राजकीय मेडिकल कॉलेजों और संस्‍थानों में होगा क्रियान्वयन

लखनऊ- प्रदेश के सभी अस्‍पतालों में जल्‍द ही हॉस्पिटल मैनेजमेंट इन्‍फॉरमेशन सिस्‍टम प्रणाली को लागू किया जाएगा। जिसके तहत यूपी के 36 राजकीय मेडिकल कॉलेजों और संस्‍थानों में इसका क्रियान्वयन किया जाना है। इस प्रणाली के जरिए मरीज की सारी जानकारी ऑनलाइन फीड कर डॉक्टर के कंप्यूटर तक पहुंचा दी जाएगी और जांच रिपोर्ट ऑनलाइन होने के बाद डॉक्टर अपने कंप्यूटर पर देख सकेंगे। प्रदेश के राजकीय मेडिकल कालेजों, राजकीय संस्थानों, स्वायत्तशासी संस्थानों, चिकित्सा विश्वविद्यालयों और स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों में पेपरलेस व्‍यवस्‍था को लेकर चिकित्‍सा एवं शिक्षा विभाग की ओर से पूरी तैयार कर ली गई है।

प्रदेश सरकार ने पहले चरण में चिकित्सा शिक्षा के पुराने संस्थानों में लागू किया है। प्रदेश के नौ मेडिकल कॉलेज में ये प्रणाली लागू की जा चुकी है। जिसके तहत गोरखपुर, कानपुर, इलाहाबाद, झांसी, मेरठ और आगरा के मेडिकल कॉलेजों के साथ कानपुर में इसकी शुरुआत हो चुकी है। अब यूपी के 36 राजकीय मेडिकल कॉलेजों में ई-हॉस्पिटल मैनेजमेंट सिस्टम लागू करने की तैयारी है। इस प्रणाली के लागू होने से जहां एक ओर अस्‍पतालों के प्रबंधन, नेतृत्व, नेटवर्क, कार्यप्रणाली और प्रशासन में सुधार होगा वहीं मरीजों को एक यूनीक आईडी नंबर मिलने से उनसे जुड़ी सारी जानकारी अस्‍पताल में दर्ज होगी। रोगियों के दुबारा अस्‍पताल आने पर केस हिस्‍ट्री और जानकारी अस्‍पताल में पहले से दर्ज होने से मरीजों को काफी राहत मिलेगी।

22 मेडिकल कॉलेजों के लिए प्रस्‍ताव पर लगी मुहर

यूपी के 36 मेडिकल कॉलेजों और संस्थानों में से नौ मेडिकल कॉलेजों व संस्थानों में ई-हास्पिटल (एनआईसी) संचालित है, जिसमें मरीजों का पंजीकरण, बिलिंग, फार्मेसी का काम ऑनलाइन किया जा रहा है। विभाग की ओर से यूपी के 22 मेडिकल कॉलेजों और संस्थानों में हॉस्पिटल मैनेजमेंट इन्‍फॉरमेशन सिस्‍टम प्रणाली (एचएमआइएस) के लिए सी-डैक की ओर से तैयार प्रस्‍ताव पर शासन की मुहर लगने के बाद एमओयू हस्ताक्षरित किए जाने की कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही अन्‍य पांच मेडिकल कॉलेजों व संस्थानों में भी हॉस्पिटल मैनेजमेंट इन्‍फॉरमेशन सिस्‍टम प्रणाली (एचएमआइएस) के क्रियान्वयन के लिए प्रस्‍ताव बनाकर भेजा जा रहा है।

सभी मेडिकल कॉलेजों में लागू होगी प्रणाली

प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों को हॉस्पिटल मैनेजमेंट इन्‍फॉरमेशन सिस्‍टम प्रणाली (एचएमआइएस) से जोड़ा जाएगा। इसके साथ ही जल्‍द ही हॉस्पिटल मैनेजमेंट सिस्टम सॉफ्टवेयर भी लागू करने की तैयारी है जिससे मेडिकल कॉलेजों में दवाओं की मौजूदगी और डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ व कर्मचारियों की हाजिरी की ऑनलाइन जानकारी उपलब्ध कराएगा। मरीज के मोबाइल फोन पर भी यह सिस्टम रिपोर्ट भेज देगा। किसी खास मामले में सिस्टम के जरिए डॉक्टर भी किसी दूसरे मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह ले सकेंगे।