India

Apr 03 2020, 09:46

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया देश को संबोधित,प्रकाश से दूर करें कोरोना रूपी अंधकार,पढ़िए क्या क्या कहा उन्होंने। 


राहुल सिन्हा

कोरोना महामारी के बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देश की जनता को संबोधित किया। संबोधन के दौरान उन्होंने देशवासियों की हौसला अफजाई की और रविवार को रात 9 बजे एक साथ प्रकाश उत्पन्न करने की अपील की। कहा कि हम अगर एक साथ मिलकर लड़े तो कोई भी जंग जीता जा सकता है।
संबोधन के दौरान सबसे पहले उन्होंने जनता को धनवाद दिया। उन्होंने कहा कि देशव्यापी लॉक डाउन को आज 9 दिन हो रहे हैं। इस दौरान आपने जिस प्रकार धैर्यता, अनुशासन और सेवाभाव का परिचय दिया है उसके लिए मैं सभी के प्रति आभार प्रकट करता हूं। जिस प्रकार 22 मार्च को आप सभी ने ताली और थाली बाजाकर एकता का परिचय देते हुए सेवा कर रहे लोगों को धन्यवाद दिया वो अभूतपूर्व है। अन्य देश भी भारत द्वारा किए गए कार्यों को दोहरा रहे हैैं चाहे वह लॉक डाउन हो या कुछ और।
 उन्होंने कहा कि घरों में रहने के दौरान खुद को अकेला ना समझें, हम सभी साथ हैं। देश की 130 करोड़ जनता इस लड़ाई में साथ है। लॉक डाउन के दौरान गरीब तबके के लोगों के बीच जो समस्या उत्पन्न हुई है उसे दूर करने की कोशिश करें। यथासंभव उनकी मदद करें।
इसके बाद उन्होंने कहा कि 5 अप्रैल यानी रविवार को फिर से अपनी एकजुटता का परिचय देना है और कोरोना रूपी अंधकार को प्रकाश से दूर करना है। मैं आप सभी से 9 मिनट मांगने आया। रविवार को आप सभी को रात 9:00 बजे अपने घरों की सारी लाइट बंद कर देनी है और अपने दरवाजे, छत या बालकनी पर 9 मिनट के लिए मोमबत्ती,दिया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाना है और इस प्रकार से कोरोना रूपी अंधकार को दूर करना है।
उस उजाले में संकल्प लें कि हम अकेले नहीं है कोई भी अकेला नहीं है। आइए साथ मिलकर कोरोना को हराएं और भारत को विजयी बनाएं। 
चूंकि पिछली बार कई ऐसे वीडियो सामने आए थे जिसमें लोग भीड़ लगाकर ताली और थाली बजा रहे थे,इसलिए प्रधानमंत्री ने सभी से आग्रह किया कि कोई भीड़ ना लगाएं। एक जगह इकट्ठा ना हो और सोशल डिस्टेंस का सख्ती से पालन करें।

India

Apr 03 2020, 08:43

आज 9 बजे से पीएम मोदी करेंगे देश को संबोधित,कोरोना संकट पर करेंगे बात

आज 9 बजे से पी एम मोदी देश को संबोधित करेंगे।कोरोना संकट से गुजर रहे भारत,लॉक डाउन के कारण उत्पन्न स्थिति,  तबलीगी जमात के कारण कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्यां तथा देश को तीसरे.स्टेज में जाने से बचने के लिए वे आज देश की जनता को दे सकते हैं हिदायत।

India

Apr 03 2020, 08:03

गाजियाबाद: आइसोलेशन वार्ड में बिना पैंट घूम रहे तबलीगी जमात के मरीज, DM-SSP से शिकायत

दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित तबलीगी जमात के मरकज में रहे लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखने शुरू हुए तो पूरे देश में हड़कंप मच गया. यह खबर फैलते ही सभी राज्य सतर्क हो गए, क्योंकि हर प्रदेश से कई लोग जमात के उस कार्यक्रम में शामिल होने आए थे.

यूपी में भी ऐसे लोगों की पहचान की गई और उनमें से कुछ को आइसोलेशन में रखा गया जबकि कुछ को क्वारनटीन किया गया. गाजियाबाद के एक अस्पताल में भी जमात में शामिल कुछ लोगों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. लेकिन उनकी हरकतें सामान्य नहीं बताई जा रही हैं. शिकायत के आधार पर उन सभी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है.

गाजियाबाद में जिला सरकारी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) ने घंटाघर कोतवाली में इस बारे में सूचना दी है. एमएमजी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने पत्र लिखकर शिकायत की कि आइसोलेशन वार्ड में रखे गए कोरोना वायरस के संभावित मरीज जो तबलीगी जमात से ताल्लुक रखते हैं वो वार्ड में बिना कपड़ों के घूमते रहते हैं.

एमएमजी अस्पताल में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में रोके गए तथाकथित लोगों द्वारा अश्लील हरकतें करने, सहयोग ना करने आदि के संबंध में मुकदमा पंजीकृत करने हेतु थानाध्यक्ष को शिकायत दी गई थी. उसी क्रम में थाना कोतवाली गाजियाबाद में अपराध संख्या 288/20 आईपीसी की धारा 354, 294, 509, 269, 270 और 271 के अंतर्गत पंजीकृत किया गया है.

इसके अलावा पत्र में यह भी लिखा गया है कि जमाती मरीज स्टाफ नर्स के सामने अश्लील गाने सुनते हैं और गंदे-गंदे इशारे करते रहते हैं. इतना ही नहीं डॉक्टरों और नर्सों से वो लोग बीड़ी और सिगरेट की मांग भी कर रहे हैं.

दरअसल, बताया जा रहा है कि आइसोलेशन में रखे गए उन जमाती मरीजों की शिकायत अस्पताल की कुछ नर्सों ने जिला अस्पताल के सीएमएस से की थी. जिसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी शिकायत दी है. वहीं इस शिकायत के बाद तबलीगी जमात से ताल्लुक रखने वाले मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है.

India

Apr 03 2020, 07:22

वीडियो कॉन्फ्रेंस में हुई PM मोदी की राज्यों के मुख्य मंत्रियों से बात,कोरोना से निपटने के लिए मुख्य मंत्रियों  ने मांगा पैसे,पूछा क्या लॉक डाउन और बढ़ेगा...?

नई दिल्ली, कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई बातचीत में पी एम ने राज्यों की हालत का जानकारी लिया तथा कोरोना से निपटने की तैयारी पर चर्चा की ।

 इस  दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 2500 करोड़ की मदद मांगां है।  इसके अलावे पंजाब समेत बाकी राज्यों ने भी केंद्र से आर्थिक मदद मांगा है।
   इस दौरान मुख्यमंत्रियों ने राज्यों ने केंद्र से मेडिकल किट, बकाये पैसे के साथ ही आर्थिक मदद की मांग की है. राज्यों ने केंद्र से पूछा कि लॉकडाउन कब तक लागू रहेगा?

    पश्चिम बंगाल की ही तरह पंजाब ने भी 60 हजार करोड़ के पुराने बकाये की मांग की है। इसके साथ ही पंजाब ने नए फसल के आने से पहले केंद्र सरकार से दो लाख मीट्रिक टन गेहूं को रखने की व्यवस्था करने की मांग की।

पश्चिम बंगाल और पंजाब की तरह बाकी राज्यों ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना से जंग लड़ने के लिए पर्सनल प्रोटेक्शन इक्वीपमेंट की सप्लाई की मांग की। साथ ही पुराने बकाया राशि  भी देने की मांग की गई है।  राज्यों ने पीएम मोदी से कहा कि इस बार लॉकडाउन की वजह से राजस्व कलेक्शन में कमी आएगी, इसकी भरपाई केंद्र को करनी चाहिए।

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण स्कीम को प्रदेशों सरकारों से लागू करने की अपील की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें कोशिश करें कि पलायन को रोका जा सके, इसके साथ ही गरीबों को उनके खाते में पैसा और राशन मिल जाए। राज्य सरकारों ने केंद्र से लॉकडाउन को बढ़ाए जाने को लेकर सवाल पूछे। सरकारों ने पूछा कि क्या लॉकडाउन को बढ़ाने का प्लान है।

     मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम कोशिश कर रहे हैं कि राज्य सरकारों से बेहतरीन समन्वय स्थापित किया जा सके, क्योंकि कोरोना की लड़ाई हम सबको मिलकर लड़नी है। केंद्र सरकार हर कदम पर राज्य सरकार का साथ देगी। उन्होंने राज्यों के मेडिकल सुविधाओं के बारे में भी जाना। साथ ही क्वारनटीन सेंटर की हालत की विस्तृत रिपोर्ट ली।

.

India

Apr 03 2020, 06:57

बंगलोर, में कोरोना से संवंधित डाटा संग्रह करने गयी आशा वर्कर पर मुस्लिम परिवार द्वारा हमला,

  वायरल वीडियो में हमले के शिकार हुई कृष्णबेनी बोलीं- मस्जिद से आई आवाज और वे मुझ पर लोग टूट पड़े

बंगलोर, कोरोना की भयावहता और सरकार द्वारा इसकी रोकथाम के सतत प्रयास की गंभीरता को लोग अभी भी नही समझ रहे हैं। जिसका उदाहरण है कि लोंगो द्वारा लगातार स्वास्थ्यकर्मी, चिकित्सको पर हमला तो जारी है। अब सम्भावित इलाके में कोरोना  संक्रमितों के सर्वे में लगाये गए आशाकर्मी पर भी हमला शुरू हो गया है ।

ताज़ा घटना  बेंगलुरु की है जहां कोरोना वायरस का सर्वे करने गयी आशाकर्मी पर हमाल किया गया।

   ये आशा वर्कर्स लोगों में कोरोना वायरस की जागरूकता फैलाने और सर्वे करने निकली थीं। एक इलाके में उनके ऊपर हमला किया गया। 

   कर्नाटक का एक वीडियो वायरल हो रहा है। यह वीडियो आशा वर्कर का है जो कोरोना वायरस के प्रति लोगों को जागरूक करने निकली थी। उसके साथ अन्य स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी भी थे। वीडियो में आशा वर्कर बता रही है कि किस तरह उनके ऊपर हमला किया गया। वह घटना का जिक्र करते हुए रोने लगती है।

   इस आशा वर्कर का नाम कृष्णावेनी है। उसने बताया कि कर्नाटक के सादिक इलाके में हर घर में जाकर यह पता करने का निर्देश था कि किसी व्यक्ति में कोरोना वायरस से संक्रमित होने के लक्षण तो नहीं दिख रहे हैं। आशा कर्मियों को ऐसे व्यक्तियों के बारे में डाटा एकत्र करने की जिम्मेदारी भी दी गई है।

मुस्लिम परिवार निकले बाहरऔर कर दिया हमला

कृष्णावेनी ने बताया कि वे लोग डाटा एकत्र करने गई थीं। तभी एक मस्जिद से अपील की गई कि डाटा एकत्र करने में सहयोग न करें। मस्जिद से अपील के बाद कई मुस्लिम परिवार के लोग बाहर आ गए और उनके साथ बदसलूकी करने लगे। उनके ऊपर हमला किया

India

Apr 03 2020, 06:54

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्यां हुई 2069,इसमें 155 हुए ठीक,53 की हुई मौत

दिल्ली, पिछले 24 घंटों में कोरोना के 235 नए मामले सामने आए हैं। भारत में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 2069 हो गई है (1860 सक्रिय मामले, 155 ठीक / डिस्चार्ज/ प्रवासी और 53 मृतक) स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार उपरोक्त जानकारी दी गयी है ।

इसी तरह दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 141 केस नए आये हैं । जिसमें 182 कोरोना संक्रमित निजामुद्दीन मरकज में  शामिल हुए थे दिल्ली में मरीजों की संख्या बढकर 293 हो गयी 
है ।
महाराष्ट्र में 81 नए मरीज- आंकड़ा 416 पहुंचा। 
तमिलनाडु में 309 मरीज,जिसमें 264 दिल्ली के मरकज से लौटे लोग। मौलाना साद अब तक फरार।

India

Apr 02 2020, 22:46

कोरोना के बारे में दारुल-उलूम फ़िरंगी महल ने ‘फ़तवा’ जारी किया.

दारुल उलूम फिरंगी महल लखनऊ से आज एक फ़तवा जारी किया है जिसमें कोरोना का टेस्ट और इलाज करवाना जरूरी और इस बीमारी को छुपाना अपराध बताया गया है। अपनी जान या किसी दूसरे की जान को खतरे में डालना इस्लाम में हराम बताया गया है: मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली

India

Apr 02 2020, 22:21

गाजियाबाद अस्पताल में भर्ती जमातियों ने किया हंगामा, गाजियाबाद के सीएमओ ने यूपी पुलिस से की शिकायत। 


राहुल सिन्हा 

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से निकाले गए कई लोग देश के विभिन्न राज्यों के अस्पतालों में भर्ती हैं। गाजियाबाद में भी जमात में शामिल होने वाले कई लोग भर्ती हैं। जाहिर सी बात है कि इन्हे कोरोना से बचाने के लिए यानी इनकी जान बचाने के लिए इन्हें अस्पताल में रखा गया है लेकिन इन्हें शायद ये मंजूर नहीं। यह कहना हमारा नहीं है बल्कि खुद इनकी हरकतें यह कह रही है।
इन लोगों ने आज अस्पताल में खूब हंगामा किया। स्थिति इतनी गड़बड़ा गई कि गाजियाबाद के CMO को यूपी पुलिस से इस मामले को लेकर शिकायत करनी पड़ी। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने यूपी पुलिस को लिखा कि तब्लीगी जमात के सदस्य बिना पतलून के नंगे घूम रहे हैं, अश्लील गाने सुन रहे हैं, नर्स और कर्मचारियों से बीड़ी सिगरेट आदि की मांग रहे हैं और नर्सों के प्रति अश्लील इशारे कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में चिकित्सालय में इनका इलाज करना संभव नहीं हो पा रहा है। अतः आपसे अनुरोध है कि ऐसे गंभीर स्थिति को देखते हुए इस संबंध में उचित कार्रवाई करें ताकि इन्हे संयमित रखकर इनका इलाज किया जा सके।
सोचने वाली बात है कि आखिर ये लोग, अपनी जान जोखिम में डालकर उनकी जान बचाने वाले स्वास्थ्य कर्मियों या पुलिस के जवानों के साथ ऐसा क्यों कर रहे हैं।

India

Apr 02 2020, 21:58

तबलीगी जमात पर गृह मंत्रालय का एक्शन, 960 विदेशी नागरिक ब्लैक लिस्ट, वीजा रद्द

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में लॉकडाउन के दौरान इकट्ठा रह रहे हजारों लोगों का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. पहले इस मामले में पुलिस ने मरकज के लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. अब जानकारी सामने आई है कि तबलीगी गतविधियों में शामिल पाए गए 960 विदेशी नागरिकों को गृह मंत्रालय ने ब्लैक लिस्ट कर दिया है. इसके साथ ही इन सभी विदेशी नागरिकों के वीजा भी रद्द कर दिए गए हैं, क्योंकि सभी टूरिस्ट वीजा पर भारत आए हुए थे.

यही नहीं, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तबलीगी जमात के मामले में दिल्ली पुलिस और अन्य संबंधित राज्यों के पुलिस महानिदेशकों को विदेशी अधिनियम, 1946 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के प्रावधानों का उल्लंघन करने के लिए 960 विदेशियों के विरुद्ध आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने गुरुवार की मीडिया ब्रीफिंग में बताया कि देश भर में तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना की चपेट में हैं. वहीं, गृह मंत्रालय से जानकारी के मुताबिक, 9000 लोगों को क्वारनटीन किया गया है, जिसमें से 1306 विदेशी हैं.

लव अग्रवाल ने बताया कि अंडमान निकोबार, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी, राजस्थान और उत्त प्रदेश से आई रिपोर्ट के मुताबिक, तबलीगी जमात से जुड़े अब तक 400 कोरोना पॉजिटिव केसेज आ चुके हैं. इसके अलावा अतिरिक्त टेस्टिंग भी चल रही है जिससे कुछ और केसेज भी पाए जा सकते हैं.

उन्होंने बताया, तमिलनाडु से 173 लोग, राजस्थान से 11, अंडमान निकोबार से 9, दिल्ली से 47 पुडुचेरी से 2, जम्मू-कश्मीर से 22, तेलंगाना से 33, आंध्रप्रदेश से 67 और असम से 16 ऐसे पॉजिटिव केसेज आए हैं. ये नंबर और बढ़ता जा रहा है जैसे-जैसे सैंपलिंग की रिपोर्ट आती जा रही है.

India

Apr 02 2020, 21:13

आज के ही दिन भारत ने 28 साल बाद रचा था इतिहास, धोनी के छक्के से वर्ल्ड कप पर किया कब्जा

भारत ने आज के ही दिन (2 अप्रैल) 2011 में दूसरी बार वर्ल्ड कप पर कब्जा किया था. 1983 में भारत ने पहली बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था. यानी 28 साल बाद टीम इंडिया ने एक बार फिर इतिहास रच डाला. इसके साथ ही भारतीय टीम वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बाद तीसरी ऐसी टीम बनी, जो दो या इससे अधिक बार खिताब पर कब्जा करने में सफल रही.

इससे पहले तक फाइनल में शतक बनाने वाले की टीम जीतती रही थी. लेकिन ऐसा पहली बार हुआ, जब शतक काम नहीं आया. महेला जयवर्धने के नाबाद 103 रनों के बाद भी श्रीलंका को जीत नसीब नहीं हुई. 275 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को शुरुआती झटके लगे थे. 2 विकेट महज 31 रनों पर गिर गए थे.

एक समय टीम इंडिया 114 रनों पर 3 विकेट खो चुकी थी. ओपनर गौतम गंभीर क्रीज पर थे और उनका साथ देने के लिए युवराज सिंह को आना था. लेकिन सबको हैरत में डालते हुए कप्तान धोनी पांचवें नंबर पर युवराज से पहले क्रीज पर आ गए. उन्होंने धमाकेदार पारी खेल कर भारत को जीत दिलाई, वे मैन ऑफ द मैच रहे.

छक्के के साथ चैम्पियन बनाया

धोनी ने गंभीर के साथ 109 रनों की शानदार पार्टनरशिप की. गौतम गंभीर ने 97 रनों की ठोस पारी खेली. धोनी ने 79 गेंदों में 91 रन (8 चौके, दो छक्के) तो बनाए ही, साथ ही 'बेस्ट फिनिशर' की परिभाषा पर खरे उतरते हुए विजयी सिक्सर मारकर सबके दिलों को जीत लिया. युवी 24 गेंदों पर 21 रन बनाकर नाबाद रहे.

भारतीय क्रिकेट टीम 28 साल बाद वनडे वर्ल्ड कप विजेता बनी... और प्रशंसक जश्न में डूब गए. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का विश्व विजेता बनने का सपना पूरा हो चुका था. टीम ने इस दिग्गज को कंधे पर बिठाया और पूरे स्टेडियम का चक्कर लगाया.