India

Jun 28 2024, 16:28

पीएम मोदी 73 बार, तो राहुल गांधी केवल 6 बार..., कांग्रेस ने उठाया संसद टीवी पर सवाल

#congress_question_sansad_tv

क्या संसद टीवी भी मोदी सरकार पर मेहरबान है? ये सवाल कांग्रेस ने उठाया है। दरअसल, गुरूवार को 18वीं लोकसभा के पहले सत्र में आज राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने दोनों सदनों को संबोधित किया। राष्ट्रपति के अभिभाषण के खत्म होने के बाद कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। विपक्षी नेताओं ने परियोजनाओं के इस रोड मैप को सरकार की झूठ पर आधारित पटकथा बताया है। इसके साथ ही कांग्रेस ने संसद टीवी को लेकर भी एक बड़ा दावा किया है। 

कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के अभिभाषण का वीडियो शेयर कर संसद टीवी पर निशाना साधा है। पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने एक्स पर पोस्ट करते हुए दावा किया कि जब राष्ट्रपति मुर्मू अभिभाषण दे रही थी तो उस वक्त पीएम मोदी को अधिक और राहुल गांधी को कम बार दिखाया गया। जयराम रमेश ने लिखा कि राष्ट्रपति ने संसद के संयुक्त सत्र को 51 मिनट तक संबोधित किया। संसद टीवी ने किसको कितनी बार दिखाया? नेता सदन नरेंद्र मोदी -73 बार, प्रतिपक्ष नेता राहुल गांधी- 6 बार, सरकार- 108 बार, विपक्ष -18 बार संसद टीवी सदन की कार्यवाही दिखाने के लिए कैमराजीवी की आत्ममुग्धता के लिए नहीं।

बता दें कि राष्ट्रपति मुर्मू ने बृहस्पतिवार को अपने अभिभाषण में 1975 में लागू आपातकाल का उल्लेख किया और इसे ‘संविधान पर सीधे हमले का सबसे बड़ा एवं काला अध्याय’ करार देते हुए कहा कि ऐसे अनेक हमलों के बावजूद देश ने असंवैधानिक ताकतों पर विजय प्राप्त करके दिखाई। 

राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति के, मोदी सरकार लिखित’ अभिभाषण को सुनकर ऐसा लगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2024 के लोकसभा चुनाव के जनादेश को नकारने की कोशिश कर रहे हैं।उन्होंने यह दावा भी किया कि प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रपति से ‘झूठ बुलवाकर’ अपनी वाहवाही करने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि देश की जनता उन्हें नकार चुकी है।

India

May 19 2024, 15:22

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को दी फिर दी चुनौती, डिबेट के लिए तय किए ये सवाल

#rahul_gandhi_will_ask_these_questions_to_pm_modi_in_debate

कांग्रेस के पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बहस करने की बात लगातार कर रहे हैं। इसी क्रम में राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बार फिर खुले मंच से डिबेट की चुनौती दी है। उन्होंने बुद्धिजीवियों की ओर से लिखे पत्र का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने मुझे और मोदी को चिट्ठी लिखी है कि मोदी जी और राहुल गांधी को बहस करनी चाहिए। राहुल ने कहा कि वे बहस के लिए तैयार हैं। यह नहीं, उन्होंने ये भी तय कर लिया है कि अगर पीएम मोदी से डिबेट हुई तो वो कौन कौन से सवाल पूछेंगे।

दिल्‍ली में एक चुनावी सभा के दौरान राहुल गांधी ने उन सवालों का भी जिक्र किया जो वह पीएम मोदी से पूछना चाहते हैं। उन्‍होंने सवालों की लिस्‍ट के बारे में बात करते हुए कहा कि यदि उन्‍हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ डिबेट करने का मौका मिलेगा तो वह इन सवालों का जिक्र जरूर करेंगे।

1. आपका अडानी से क्या रिश्ता है?

2. आप इलेक्टोरल बॉन्ड के नाम पर ‘चंदे का धंधा’ क्यों चला रहे हैं?

3. आप किसानों के खिलाफ काले कानून क्यों लेकर लाए?

4. कोरोना में जब लोग मर रहे थे, आपने थाली बजाने के लिए क्यों कहा?

5. आपने शी जिनपिंग को झूले पर झुलाया, तो उसकी सेना ने हिंदुस्तान की जमीन पर कब्जा कैसे कर लिया?

6. आप अग्निवीर योजना क्यों लेकर आए?

बता दें कि दो पूर्व न्‍यायाधीश और एक वरिष्‍ठ पत्रकार ने लोक सभा चुनाव-2024 के मद्देनजर प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं को सार्वजनिक बहस में हिस्‍सा लेते हुए अपने एजेंडे से जनता को अवगत कराने का विचार दिया था। राहुल गांधी ने इसे स्‍वीकार करते हुए पीएम मोदी के साथ डिबेट करने की इच्‍छा जताई थी। भाजपा ने इसपर पलटवार करते हुए कहा कि राहुल गांधी तो पीएम फेस भी नहीं हैं, फिर पीएम मोदी किस हैसियत से उनसे डिबेट करेंगे।

Streetbuzznews

May 09 2024, 15:00

Top Notch AWS DevOps Course from Vihara Tech

 

Are you considering a career in cloud computing or seeking to enhance your skills in DevOps? Look no further than the AWS DevOps course offered by Vihara Tech. With the increasing demand for professionals proficient in cloud technologies, this course stands out as a comprehensive and practical guide to mastering Amazon Web Services (AWS) for DevOps. In this blog post, we’ll delve into some frequently asked questions about this top-notch course.

What sets Vihara Tech’s AWS DevOps course apart from others?

Vihara Tech’s AWS DevOps course distinguishes itself through a blend of theoretical knowledge and hands-on experience. The curriculum is meticulously designed by industry experts to cover essential topics such as AWS services, infrastructure as code, continuous integration/continuous deployment (CI/CD), monitoring, and security. Moreover, the course emphasises practical implementation through real-world projects and case studies, ensuring that participants gain valuable skills applicable to various job roles.

Who can benefit from this course?

This course caters to individuals at different stages of their career journey. Whether you’re a beginner looking to enter the cloud computing field or an experienced professional seeking to upskill in AWS DevOps, this course provides valuable insights and practical expertise. Software developers, system administrators, DevOps engineers, and IT professionals interested in cloud technologies can all benefit from the comprehensive content offered by Vihara Tech.

What prerequisites are required to enroll in this course?

While prior experience with AWS or DevOps is advantageous, it is not a strict requirement. The course is designed to accommodate learners with varying levels of expertise, starting from the fundamentals and progressing to advanced topics. Familiarity with basic programming concepts, Linux operating system, and networking fundamentals can be beneficial but not mandatory. Vihara Tech’s instructors are adept at guiding participants through the learning journey regardless of their background.

How is the course structured, and what learning resources are provided?

The course is structured into modules covering different aspects of AWS DevOps, each accompanied by comprehensive study materials, video tutorials, practical exercises, and quizzes. Participants have access to a dedicated learning portal where they can interact with instructors, collaborate with peers, and access additional resources. Live online sessions and recorded lectures ensure flexibility in learning, allowing participants to study at their own pace while receiving guidance from industry experts.

What career opportunities can this course lead to?

Upon completing the AWS DevOps course from Vihara Tech, participants acquire in-demand skills sought after by top employers in the industry. Graduates can explore various career paths such as AWS DevOps engineer, cloud architect, solutions architect, DevOps consultant, and system administrator. With the increasing adoption of cloud technologies, professionals proficient in AWS DevOps are well-positioned to pursue rewarding career opportunities globally.

How can I Enroll in the course, and what support is available during and after completion?

Enrolling in the AWS DevOps course is simple and can be done through Vihara Tech’s official website. Once enrolled, participants receive guidance and support from experienced instructors throughout the duration of the course. Additionally, Vihara Tech offers career counseling and job placement assistance to help participants leverage their newfound skills and expertise in the job market effectively. Post-completion, participants can join a vibrant alumni community and continue to access updated learning materials and resources.

Key Features of the Course:

Comprehensive Curriculum: The course covers a wide range of topics, including but not limited to AWS fundamentals, infrastructure as code (IaC), continuous integration and continuous deployment (CI/CD), monitoring, automation, security, and best practices for DevOps in AWS environments.

Hands-on Experience: Theory is complemented by practical exercises, real-world projects, and case studies, allowing participants to apply their knowledge in simulated environments and gain valuable hands-on experience.

Expert Guidance: Experienced instructors provide guidance and support throughout the learning journey, offering insights, answering queries, and facilitating discussions to enhance understanding and retention of course material.

Flexible Learning Options: Participants have the flexibility to choose between live online sessions and recorded lectures, enabling them to study at their own pace while accommodating personal and professional commitments.

Interactive Learning Portal: A dedicated learning portal provides access to course materials, video tutorials, quizzes, and collaborative tools, fostering engagement and interaction among participants and instructors.

Conclusion

In conclusion, Vihara Tech’s AWS DevOps course stands out as a top-notch program designed to equip participants with the knowledge and skills needed to excel in the rapidly evolving field of cloud computing. Whether you’re a beginner or an experienced professional, this course provides a solid foundation and practical experience to thrive in the world of AWS DevOps. Take the first step towards a rewarding career journey with Vihara Tech today!

FAQs: Addressing Your Queries

1. What distinguishes Vihara Tech’s AWS DevOps course from others in the market?

Vihara Tech’s AWS DevOps course stands out for its comprehensive approach to learning, combining theoretical knowledge with practical application. The curriculum is continuously updated to reflect the latest advancements in AWS services and DevOps methodologies, ensuring that participants receive relevant and industry-aligned instruction. Additionally, the emphasis on hands-on experience through real-world projects equips participants with the skills and confidence needed to tackle challenges in actual work settings.

2. Who is eligible to enroll in this course?

The course caters to individuals at various stages of their career journey, from beginners with little to no prior experience in AWS or DevOps to seasoned professionals seeking to enhance their skills and stay abreast of industry trends. While familiarity with basic programming concepts, Linux operating systems, and networking fundamentals can be advantageous, they are not prerequisites for enrollment. Vihara Tech’s instructors are adept at tailoring instruction to meet the diverse needs and backgrounds of participants.

3. How is the course structured, and what learning resources are provided?

The course is structured into modules, each focusing on specific aspects of AWS DevOps. Participants have access to comprehensive study materials, video tutorials, practical exercises, and quizzes to reinforce learning. Live online sessions and recorded lectures offer flexibility, allowing participants to study at their own pace while receiving guidance from instructors. The learning portal serves as a centralised hub for accessing course materials, interacting with instructors and peers, and engaging in collaborative learning activities.

4. What career opportunities can this course lead to?

Completing the AWS DevOps course from Vihara Tech opens doors to a wide range of career opportunities in the field of cloud computing and DevOps. Graduates can pursue roles such as AWS DevOps engineer, cloud architect, solutions architect, DevOps consultant, system administrator, and more. With the increasing adoption of cloud technologies across industries, professionals proficient in AWS DevOps are in high demand, both locally and globally.

5. How can I enroll in the course, and what support is available during and after completion?

Enrolling in the AWS DevOps course is straightforward and can be done through Vihara Tech’s official website. Once enrolled, participants receive ongoing support from experienced instructors who are committed to their success. In addition to regular guidance and feedback during the course, Vihara Tech offers career counselling and job placement assistance to help participants transition into new roles or advance in their current careers. Post-completion, participants can join a vibrant alumni community and access updated learning materials and resources to stay ahead in their field.

India

Apr 30 2024, 19:17

सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल को लेकर ईडी से किया बड़ा सवाल, पूछा- चुनाव से पहले गिरफ्तारी क्यों?

#supreme_court_asked_big_questions_to_ed_on_kejriwal_arrest

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। आज सुप्रीम कोर्ट में इस याचिका पर सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव से पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के समय पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से सवाल किया और एजेंसी से जवाब मांगा।जस्टिस संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता की पीठ ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू से सवाल पर जवाब मांगते हुए कहा कि जीवन और स्वतंत्रता बेहद महत्वपूर्ण हैं। आप इससे इनकार नहीं कर सकते।

सुप्रीम कोर्ट ने ईडी से दिल्ली के मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी पर पांच सवाल पूछे हैं।इसमें याचिकाकर्ता से लेकर चुनाव से पहले केजरीवाल की गिरफ्तारी तक पर सवाल पूछे गए हैं। ईडी के वकील के पास इन सभी सवालों का जवाब देने के लिए शुक्रवार तक का समय है।

• पहले सवाल में जस्टिस संजीव खन्ना ने पूछा कि आम चुनावों से पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल गिरफ्तारी क्यों की गई?

• दूसरे सवाल की बात करें तो कोर्ट ने कहा, “क्या न्यायिक कार्यवाही के बिना आप यहां जो कुछ हुआ है उसके संदर्भ में आपराधिक कार्यवाही शुरू कर सकते हैं। इस मामले में अब तक कुर्की की कोई कार्रवाई नहीं हुई है और यदि हुई है तो दिखाएं कि मामले में केजरीवाल कैसे शामिल हैं।”

• शीर्ष अदालत ने सवाल खड़े करते हुए कहा, “जहां तक मनीष सिसोदिया से जुड़े मामले की बात है, पक्ष और विपक्ष में निष्कर्ष हैं, तो हमें बताएं कि केजरीवाल मामला कहां है?”

• सर्वोच्च न्यायलय ने कहा, “उनका मानना है कि धारा 19 की सीमा, अभियोजन पर जिम्मेदारी डालती है न कि आरोपी पर। इस प्रकार नियमित जमानत की मांग नहीं होती। क्योंकि वे धारा 45 का सामना कर रहे हैं और जिम्मेदारी उन पर आ गई है, तो हम इसकी व्याख्या कैसे करें। क्या हम सीमा को बहुत ऊंचा बनाएं और यह सुनिश्चित करें कि जो व्यक्ति दोषी है उसका पता लगाने के लिए मानक समान हों।

• कोर्ट ने कहा कि कार्यवाही शुरू होने और फिर गिरफ्तारी आदि की कार्रवाई के बीच का इतने समय का अंतराल क्यों?

इससे एक दिन पहले, 29 अप्रैल को इसी मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक सिंघवी से भी कई सवाल पूछे थे और कहा था कि आम आदमी पार्टी के नेता ने अधीनस्थ अदालत में जमानत याचिका दायर क्यों नहीं की. पीठ ने कहा था, “क्या आप यह कहकर अपनी ही बात का खंडन नहीं कर रहे हैं कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की धारा 50 के तहत उनके बयान दर्ज नहीं किए गए? आप धारा 50 के तहत बयान दर्ज कराने के लिए समन जारी किये जाने पर उपस्थित नहीं होते हैं और फिर कहते हैं कि यह दर्ज नहीं किया गया।”

बता दें कि दिल्ली के शराब नीति घोटाले में फंसे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि उनकी गिरफ्तारी अवैध है और उनकी हिरासत भी अवैध है। आम चुनाव से पहले राजनीति के तहत ये किया जा रहा है। केजरीवाल ने अपनी याचिका में कहा कि एक राजनीतिक पार्टी को खत्म करने और एक चुनी हुई सरकार को गिराने के लिए यह कोशिश की जा रही है। जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस दीपांकर दत्ता की पीठ याचिका पर सुनवाई कर रही है।

WestBengalBangla

Apr 15 2024, 08:21

*Kolkata Knight Riders made a 'halkhata' to win the Bengali New Year*
*Sports News*

# IPL_KKR_KOLKATA
*Khabar kolkata:* Kolkata Knight Riders made a 'halkhata' to win the Bengali New Year. Salt does not melt even in extreme heat. Rather, his solid innings helped KKR increase their net run rate in an easy win.KKR captain Shreyas Iyer won the toss and decided to field. KKR's first four matches in this year's IPL were at night. The toss will not be much of a factor in yesterday's day-match, predicted Shreyas. He thinks it is better to chase the run.KKR bowlers eased the situation to make his idea a reality..Especially Mitchell Starc. The much-criticised left-arm pacer took 3 wickets with impeccable bowling. KKR's target was 162 runs. Although the target was not huge, Lucknow's left-handed pacer Mohsin Khan put Kolkata Knight Riders under temporary pressure. On the one hand, opener Phil Salt was solid, but Mohsin Khan brought back opener Sunil Narine and Angakrish Raghuvanshi, who dropped to three. There was some glimmer of hope in the Lucknow camp.Gautam Gambhir also had to deal with questions about Salt's performance on the eve of the match. England's keeper batter gave the answer on the field for the mentor. *Pic:Sanjay Hazra ( khabar kolkata).*

India

Apr 04 2024, 16:21

अमेरिका भारत के विपक्ष के लिए तो आवाज उठाता है लेकिन पाकिस्तान के लिए, जानें पत्रकार के इस सवाल पर क्या बोला यूएस

#us_spoke_person_squirming_on_pakistani_journalist_question 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जेल में बंद है। अरविंद केजरीवाल को 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। केजरीवाल की गिरफ्तारी के बाद अमेरिका, जर्मनी और संयुक्त राष्ट्र के अफसरों ने बयान जारी किया था। हांलाकि, भारत की ओर से इन पर आपत्ति जाहिर की गई थी। भारत ने अपने आंतरिक मामलों में दखल ना देने की सलाह दी थी। अब बुधवार को अमेरिका के विदेश विभाग की प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसके प्रवक्ता मैथ्यू मिलर इस मामले में फंसते नजर आए। इसे लेकर अमेरिका पर पक्षपात का आरोप लग रहा है। दरअसल एक पत्रकार ने अमेरिका के विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर से पूछा कि अमेरिका, भारत में अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी पर मुखर है, लेकिन पाकिस्तान में इमरान खान की गिरफ्तार पर उसने चुप्पी क्यों साधी हुई है? 

अमेरिका ने इसपर सफाई देते हुए कानून के शासन को बनाए रखने और यह सुनिश्चित करने के महत्व पर जोर दिया कि सभी के साथ निष्पक्षता और मानवाधिकारों के सम्मान के साथ व्यवहार किया जाए।दरअसल, प्रेस कांफ्रेंस के दौरान पाकिस्तानी मूल के पत्रकार ने पूछा, अमेरिका भारत के विपक्ष के लिए तो आवाज उठाता है लेकिन ऐसा पाकिस्तानी विपक्ष को लेकर देखने नहीं मिलता है। जबकी पाकिस्तान में कई पॉलिटिकल लीडर जेलों के अंदर है जिनमें महिलाएं भी शामिल हैं। जिसके जवाब में स्पोकपर्सन ने ज्यादा कुछ नहीं बोलने का नहीं रहा। उन्होंने जवाब दिया कि अमेरिका का स्टेंड सभी देशों के लिए समान है। कई मौकों पर हमने पाकिस्तान के लिए भी ऐसी ही आवाजें उठाई है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद मिलर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अमेरिका केजरीवाल की गिरफ्तारी की निगरानी कर रहा है और भारत से निष्पक्ष और समय पर कानूनी प्रक्रिया सुनिश्चित करने का आह्वान किया। हालांकि पाकिस्तान के मामले में मिलर का बयान अलग देखा जाता रहा है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को अगस्त 2023 में गिरफ्तार किया गया था। मिलर ने तब इसे पाकिस्तान का आंतरिक मामला बताया था। मिलर से पूछा गया था कि क्या उन्हें लगता है कि इमरान की सुनवाई निष्पक्ष होगी? इसपर उन्होंने कहा था, 'हमारा मानना है कि यह पाकिस्तान का आंतरिक मामला है।' इसके अलावा उन्होंने इमरान को सजा सुनाए जाने की भी कोई आलोचना नहीं की थी।

बता दें कि दिल्ली शराब नीति घोटाला मामले में अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार किया गया है, जिस पर अमेरिका, जर्मनी और संयुक्त राष्ट्र ने बयान जारी किया। इस पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी और भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने एक बयान में कहा कि हम एक संप्रभु राष्ट्र हैं और हम नहीं चाहते कि हम एक दूसरे के आंतरिक मामलों में दखल दें।

India

Mar 30 2024, 14:25

कौन है वो शख्स जिसने केजरीवाल की गिरफ्तारी पर अमेरिका और यूएन उठाया सवाल, अपने ही देश बांग्लादेश से हो चुका है भगोड़ा घोषित

#whoismushfiqulfazalansareywhoquestionedusunspokespersonson_kejriwal

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी को लेकर जर्मनी और अमेरिका के बाद संयुक्त राष्ट्र ने भी टिप्पणी की है।हालांकि भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से इसका जवाब दे दिया गया है। क्या आप जानते हैं कि अमेरिका और यूएन ने यूं ही भारत को लेकर टिप्पणी नहीं की है। बल्कि, अमेरिकी विदेश विभाग और संयुक्त राष्ट्र की प्रेस ब्रीफिंग के दौरान उनसे सवाल पूछे गए थे, जिनकी जवाब के दौरान भारत के आंतरिक मामलों लेकर प्रतिक्रिया आई। अब सवाल ये उठता है कि आखिर अमेरिकी विदेश विभाग और संयुक्त राष्ट्र की प्रेस ब्रीफिंग में भारत में केजरीवाल की गिरफ्तारी को लेकर सवाल किसने उठाए थे? तो जान लें कि सवाल उठाने वाले उस पत्रकार का नाम मुश्फिकुल फजल अंसारे है जो बांग्लादेशी नागरिक है और अमेरिका के वॉशिंगटन में रहता है।

अंसारे ने मैथ्यू मिलर से पूछा था ये सवाल

बता दें कि अंसारे ने अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर से सवाल पूछा था कि एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार ‘भारत में लोकसभा चुनावों से पहले विपक्ष पर कार्रवाई तेज हो गई है। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की गिरफ्तारी के संबंध में टिप्पणियों पर भारत द्वारा अमेरिकी राजनयिक को तलब करने पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है, और आप विपक्षी पार्टी के बैंक खाते की हेराफेरी पर भारत में हालिया राजनीतिक उथल-पुथल को कैसे देखते हैं?’

अमेरिका ने दी थी ये प्रतिक्रिया

सवाल के जवाब में अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, हम दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी सहित इन कार्रवाईयों पर बारीकी से नजर रख रहे हैं। हम कांग्रेस पार्टी के आरोपों से भी अवगत हैं कि कर अधिकारियों ने उनके कुछ बैंक खातों को इस तरह से फ्रीज कर दिया है जिससे आगामी चुनावों में प्रभावी ढंग से प्रचार करना चुनौतीपूर्ण हो जाएगा, और हम इनमें से प्रत्येक समस्या के लिए निष्पक्ष, पारदर्शी और समय पर कानूनी प्रक्रियाओं की मांग करते हैं। हमें नहीं लगता कि किसी को इस पर आपत्ति होनी चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता के भी पूछा वही सवाल

अंसारे ने 28 मार्च को प्रेस ब्रीफिंग के दौरान वीडियो लिंक के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता से भी यही सवाल पूछा था। इस पर प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने जवाब दिया था कि हमें उम्मीद है कि ‘भारत में वैसा ही होगा, जैसा कि चुनाव वाले किसी भी देश में होता है। राजनीतिक और नागरिक अधिकारों सहित सभी के अधिकार सुरक्षित होते हैं और हर कोई ऐसे माहौल में स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान करने में सक्षम होता है।’ 

भारत विरोधी बातें फैलाने में माहिर

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अंसारे का भारत विरोधी बातें फैलाने का इतिहास रहा है और वह बांग्लादेश का भगोड़ा भी है। अंसारे अपने लेखों में अक्सर बांग्लादेश के राजनीतिक घटनाक्रम के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराते रहे हैं। अपनी साख का उपयोग कर कई बार अमेरिका को भारत के मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए प्रेरित कर चुका है।

कौन हैं मुश्फिकुल फज़ल

मुश्फिकुल फज़ल (अंसारे) के फेसबुक प्रोफाइल के अनुसार, वह साउथ एशिया पर्सपेक्टिव्स का कार्यकारी संपादक, राइट टू फ्रीडम का कार्यकारी निदेशक, जस्ट न्यूज बीडी के लिए व्हाइट हाउस संवाददाता है। इसके साथ ही इस बात का भी दावा किया जाता रहा है कि जमात-ए-इस्लामी और बीएनपी मुश्फिकुल फजल अंसारे के संगठन राइट टू फ्रीडम को फंड देते हैं।

SanatanDharm

Mar 22 2024, 09:17

आज प्रदोष व्रत,यह दिन महादेव को है समर्पित,इस दिन सुख समृद्धि के लिए लोग रखते हैं ब्रत

; --star-background: ; } .Stars { --percent: calc(var(--rating) / 5 100%); display: inline-block; font-size: var(--star-size); font-family: Times; // make sure ★ appears correctly line-height: 1; &::before { content: "★★★★★"; letter-spacing: 3px; background: linear-gradient( 90deg, var(--star-background) var(--percent), var(--star-color) var(--percent) ); -webkit-background-clip: text; -webkit-text-fill-color: transparent; } } StreetBuzz upload.php

uiwrap">
menuholder"> leftmenu">
"StreetBuzz""StreetBuzz"
nav mainsbmenu">
profile ">
!important; border-radius:0"> ""▼
SanatanDharm
Close

Write a News


Title

text" id="charcounttext" class="pull-right">

Buzzing in group ; font-size: 10px;" title="Delete Group">
val" value="1">
10000
10000
Close

Create Photo News

photo()" autocomplete="off" required> photo" id="charcountphoto" class="pull-right">

Upload images

Select Attachment " multiple >
Vickykumartanti66

Mar 19 2024, 19:12

साहिबगंज नींबू पहाड़ में हुए अवैध खनन की जांच को लेकर फिर एक बार सीबीआई की दविश।

साहिबगंज नींबू पहाड़ में हुए अवैध खनन की जांच को लेकर फिर एक बार सीबीआई की दविश।

; --star-background: ; } .Stars { --percent: calc(var(--rating) / 5 100%); display: inline-block; font-size: var(--star-size); font-family: Times; // make sure ★ appears correctly line-height: 1; &::before { content: "★★★★★"; letter-spacing: 3px; background: linear-gradient( 90deg, var(--star-background) var(--percent), var(--star-color) var(--percent) ); -webkit-background-clip: text; -webkit-text-fill-color: transparent; } } StreetBuzz upload.php

uiwrap">
menuholder"> leftmenu">
"StreetBuzz""StreetBuzz"
nav mainsbmenu">
profile ">
!important; border-radius:0"> ""▼
Vickykumartanti66
Close

Write a News


Title

text" id="charcounttext" class="pull-right">

Buzzing in group ; font-size: 10px;" title="Delete Group">
val" value="1">
10000
10000
Close

Create Photo News

photo()" autocomplete="off" required> photo" id="charcountphoto" class="pull-right">

Upload images

Select Attachment " multiple >