lucknow

Oct 24 2021, 12:06



  

यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस को बतायी राष्ट्रीय बीमारी

लखनऊ - उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस राष्ट्रीय बीमारी बताया है। केशव मौर्य ने कहा है कि जनता डाक्टर बनकर कांग्रेस का इलाज कर रही है।

  

मौर्य ने कहा कि जैसे-जैसे बीमारी दूर हो रही है, वैसे ही राष्ट्रीय समस्या दूर हो रही है। जैसे श्री राम मंदिर निर्माण, धारा 370 स्वाहा लाल चौक पर तिरंगा लहरा रहा है। राजनीतिक जागरूकता से सर्व समाज आगे बढ़ रहा है, जनसंख्या के अनुपात में सत्ता में हिस्सेदारी मांगना और प्राप्त करना उनका अधिकार है। उन्होंने कहा कि भाजपा के इस निर्णय से विपक्ष में बौखलाहट है। भाजपा ने सर्व समाज को राजनीति में उनकी हिस्सेदारी को सुनिश्चित किया है। 

lucknow

Oct 24 2021, 12:06



  

यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस को बतायी राष्ट्रीय बीमारी

लखनऊ - उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस राष्ट्रीय बीमारी बताया है। केशव मौर्य ने कहा है कि जनता डाक्टर बनकर कांग्रेस का इलाज कर रही है।

  

मौर्य ने कहा कि जैसे-जैसे बीमारी दूर हो रही है, वैसे ही राष्ट्रीय समस्या दूर हो रही है। जैसे श्री राम मंदिर निर्माण, धारा 370 स्वाहा लाल चौक पर तिरंगा लहरा रहा है। राजनीतिक जागरूकता से सर्व समाज आगे बढ़ रहा है, जनसंख्या के अनुपात में सत्ता में हिस्सेदारी मांगना और प्राप्त करना उनका अधिकार है। उन्होंने कहा कि भाजपा के इस निर्णय से विपक्ष में बौखलाहट है। भाजपा ने सर्व समाज को राजनीति में उनकी हिस्सेदारी को सुनिश्चित किया है। 

lucknow

Oct 24 2021, 12:05



  

यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस को बतायी राष्ट्रीय बीमारी

लखनऊ - उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कांग्रेस राष्ट्रीय बीमारी बताया है। केशव मौर्य ने कहा है कि जनता डाक्टर बनकर कांग्रेस का इलाज कर रही है।

  

मौर्य ने कहा कि जैसे-जैसे बीमारी दूर हो रही है, वैसे ही राष्ट्रीय समस्या दूर हो रही है। जैसे श्री राम मंदिर निर्माण, धारा 370 स्वाहा लाल चौक पर तिरंगा लहरा रहा है। राजनीतिक जागरूकता से सर्व समाज आगे बढ़ रहा है, जनसंख्या के अनुपात में सत्ता में हिस्सेदारी मांगना और प्राप्त करना उनका अधिकार है। उन्होंने कहा कि भाजपा के इस निर्णय से विपक्ष में बौखलाहट है। भाजपा ने सर्व समाज को राजनीति में उनकी हिस्सेदारी को सुनिश्चित किया है। 

lucknow

Oct 24 2021, 10:10

यूपी में दस डीएम और 14 आइपीएस अफसरों के तबादले, पुलिस महकमे में बड़े फेरबदल की तैयारी

  


लखनऊ- विधानसभा चुनाव से पहले पुलिस विभाग में बड़े स्तर पर फेरबदल होगा। हालांकि पहले डीजी व एडीजी समेत अन्य कई वरिष्ठ आइपीएस अधिकारियों को जल्द नई जिम्मेदारियां सौंपी जा सकती हैं। चार रेंज की कमान बदले जाने के बाद अब कुछ जोन में बदलाव की चर्चाएं तेज हो गई हैं। दूसरी ओर जिलों में लंबे समय से तैनात पुलिसकर्मियों को सूचीबद्ध किया जा रहा है। वहीं शन‍िवार को योगी सरकार ने दस डीएम और 14 आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया है। 

शासन ने नीतीश कुमार को अयोध्या, संजय सिंह को फर्रुखाबाद, मानवेंद्र को बरेली, रविंद्र कुमार को झांसी, सीपी सिंह को बुलंदशहर, हर्षिता माथुर को कासगंज, सत्येंद्र कुमार को महाराजगंज, मनोज कुमार को महोबा, नेहा प्रकाश को श्रावस्ती और टीके शिबू को सोनभद्र का डीएम बनाया है। जबकि अयोध्‍या के डीएम अनुज कुमार झा और महाराजगंज के डीएम उज्ज्वल कुमार को प्रतीक्षा सूची में डाला गया है। वहीं सुधीर कुमार सिंह को SSP आगरा, अनुराग आर्य को आजमगढ़, आकाश तोमर को सहारनपुर, अनुराग वत्स को बाराबंकी, अंकुर अग्रवाल को चंदौली, जय प्रकाश सिंह को इटावा, दिनेश त्रिपाठी को उन्नाव, सुधीर कुमार सिंह को आगरा भेजा गया है।

  

दीपावली के बाद जिलों में तैनात कुछ अधिकारियों को भी इधर से उधर किया जा सकता है। बीते दिनों आइपीएस अधिकारी रेणुका मिश्रा, बीके मौर्य, संदीप सालुंके व एसएन साबत एडीजी से डीजी के पद पर पदोन्नति पा चुके हैं। वर्तमान में प्रदेश में डीजी स्तर के 14 व एडीजी स्तर के 48 अधिकारी तैनात हैं। डीजी पावर कारपोरेशन व डीजी मानवाधिकार के पद खाली हैं। जबकि डीजी फायर सर्विस आनन्द कुमार के पास डीजी कारागार, डीजी इंटेलीजेंस डीएस चौहान के पास डीजी विजिलेंस व डीजी पुलिस भर्ती बोर्ड आरके विश्वकर्मा के पास डीजी ईओडब्ल्यू का अतिरिक्त प्रभार है। लोक शिकायत से एडीजी तनुजा श्रीवास्तव के हटने के बाद यहां एडीजी स्तर के दूसरे अधिकारी की तैनाती नहीं की गई है। एंटी करप्शन से एडीजी जकी अहमद को हटाए जाने के बाद एडीजी आवास निगम हरिराम शर्मा को एडीजी एंटी करप्शन का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। इसके अनुरूप कई पदों डीजी व एडीजी स्तर के अधिकारियों को नई जिम्मेदारियां सौंपी जा सकती है। सूत्रों का कहना है कि विधानसभा चुनाव से पहले जोन व जिला स्तर पर भी कई फेरबदल संभावित हैं। इसे लेकर शासन स्तर पर मंथन चल रहा है। वहीं डीजीपी मुख्यालय स्तर पर जिलों में लंबे समय से तैनात सिपाही, मुख्य आरक्षी, उपनिरीक्षक, निरीक्षक, पुलिस उपाधीक्षक व अपर पुलिस उपाधीक्षकों को भी सूचीबद्ध किया जा रहा है। 

lucknow

Oct 23 2021, 15:01

पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर उत्पीड़न मामले पर मानवाधिकार आयोग ने पुलिस कमिश्नर से मांगा जवाब

  


लखनऊ- पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर के उत्पीड़न मामले पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पुलिस कमिश्नर से चार सप्ताह में जवाब मांगा है। अमिताभ ठाकुर की पत्नी डॉ. नूतन ठाकुर की शिकायत का संज्ञान लेते हुए मानवाधिकार आयोग ने पुलिस कमिश्नर से जवाब तलब किया है।

डॉ. नूतन ठाकुर ने अपने पति की गिरफ्तारी को सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों की अवहेलना बताते हुए आयोग से शिकायत की थी। नूतन ठाकुर ने आरोप लगाया था कि अमिताभ ठाकुर को घर से जबरन ले जाया गया और पुलिस ने उनके साथ अमानवीय व्यवहार भी किया। उन्होंने जिला कारागार लखनऊ में अमिताभ ठाकुर पर हो रहे अत्याचारों व मानवाधिकारों के उल्लंघन का भी जिक्र किया है। 

lucknow

Oct 23 2021, 15:00

माफिया अतीक अहमद के बेटे उमर की संपत्ति कुर्क करने का आदेश

  


उत्तर प्रदेश में माफियाओं पर शिकंजा कसता ही जा रही है। सीबीआई की विशेष अदालत ने लखनऊ के एक प्रॉपर्टी डीलर से जबरन वसूली के मामले में पूर्व सांसद अतीक अहमद के बेटे उमर की संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है। 

बता दें कि रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि देवरिया जेल में बंद माफिया डॉन अतीक ने गोमतीनगर कार्यालय से उसका अपहरण किया था और उसे जेल ले जाया गया था। जहां उसकी पिटाई थी और उससे फिरौती ली गई थी। उस वक्त ये मामला काफी चर्चित हुआ था, क्योंकि मोहित को जेल ले जाया गया था। लिहाजा इस मामले में पुलिस की मिली भगत से भी इंकार नहीं किया जा सकता। मोहित ने बताया कि अतीक ने उसे सादे स्टांप पेपर पर साइन करने को कहा और अपने बेटों उमर के साथ मिलकर फारूक, गुलाम और इरफान ने उसे पिस्टल और लोहे की रॉड से पीटा। अतीक और उसके बेटे ने उसकी 45 करोड़ की संपत्ति को अपने नाम कराई थी।

  

इस मामले में पहले लखनऊ पुलिस जांच कर रही थी और पुलिस ने अतीक अहमद समेत आठ आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी। लेकिन इस मामले उस वक्त बड़ा मोड़ आया जब सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी। वहीं सीबीआई ने इस मामले में अतीक अहमद, फारूक, जकी अहमद, मोहम्मद को गिरफ्तार किया और जेल भेज दिया। फिलहाल अतीक अहमद गुजरात की जेल में बंद है। 

lucknow

Oct 23 2021, 14:58

दिवाली पर यूपी में होगी नौकरियों की बहार, 30 अक्टूबर से लग रहा रोजगार मेला

  


लखनऊ- दिवाली पर यूपी सरकार प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को सौगात देने जा रही है। 30 अक्टूबर से राजधानी में रोजगार मेले का आयोजन हो रहा है।  30 अक्टूबर को बख्शी का तालाब में लगने वाले वृहद रोजगार मेले में श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या नियुक्ति पत्र देंगे।

मेले में 50 से अधिक कंपनियां दो हजार से अधिक युवाओं को नौकरी का तोहफा देंगी। रोजगार मेला सुबह 10:00 बजे से होगा शुरू। मेले में हाईस्कूल से लेकर स्नातक और आइटीआइ पास को भी शामिल किया जाएगा।इसके लिए सेवायोजन की वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण कर सकते हैं।

  

बेरोजगार युवा सेवायोजन की वेबसाइट sewayojan.up.nic.in पर ऑनलाइन आवेदन के साथ ही अपना पंजीयन भी करा सकते हैं। योग्यता के अनुरूप वेतन दिया जाएगा। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान और उप्र कौशल विकास मिशन की ओर से 30 अक्टूबर को बख्शी का तालाब स्थित एसआर ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशन परिसर में सुबह 10 बजे से मेला लगेगा। कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन के अनुरूप मेला लगेगा। सभी शैक्षिक दस्तावेजों और आधार कार्ड व फोटो के साथ युवाओं के मेले में आना होगा। 

lucknow

Oct 23 2021, 14:10

लखीमपुर खीरी हिंसा में तीन और गिरफ्तार, अब तक 13 लोग दबोचे गए

  


लखनऊ- लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को उपद्रव के बाद हिंसा में चार किसान सहित आठ लोगों की मृत्यु के मामले में पुलिस ने शनिवार को तीन और लोगों को गिरफ्तार किया है। लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हिंसा मामले में एसआइटी ने बेहद सक्रिय हो गई है। इस केस में मुख्य आरोपित मंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा मोनू सहित अब तक 13 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। इनमें से आठ लोग पुलिस की रिमाड पर भी रहे थे।

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया के हिंसा के मामले में इस केस की जांच कर रही एसआइटी ने शनिवार को तीन अन्य लोगों मोहित त्रिवेदी, धर्मेन्द्र सिंह तथा रिंकू राणा को गिरफ्तार किया है। इसके ऊपर आरोप है कि यह तीनों घटना के समय स्कॉर्पियो गाड़ी में सवार थे। इस तरह से तिकुनिया हिंसा के मामले में अब तक कुल 13 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं।

  

एसआइटी इससे पहले किसानों की हत्या से संबंधित दर्ज मुकदमे में दस आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी थी। इनमें से गंभीर रूप से घायल लवकुश व आशीष पाण्डेय का पुलिस लाइंस अस्पताल में इलाज चल रहा है, जबकि अन्य आठ लखीमपुर खीरी जिला जेल में बंद हैं। अरोपितोंं में से एक साथ गिरफ्तारी न हो पाने के कारण चार आरोपितों से अब तक पूछताछ हो चुकी हैं, जिनके बयानों में विरोधाभाष है। एसआइटी ने इसी विरोधाभाष को दूर करने के लिए अब शनिवार को आठ आरोपितों से एक साथ पूछताछ की रणनीति बनाई है। अब सभी प्रमुख आरोपितों का आमना-सामना होने से कई अनसुलझे सवालों के जवाब मिलने की संभावना व्यक्त की जा रही है। 

lucknow

Oct 23 2021, 14:09

शिक्षकों की मांग के बाद यूपी बोर्ड को दूसरी बार बढ़ानी पड़ी 10वीं, 12वीं परीक्षा के आवेदन की तारीख

  

 

लखनऊ- उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् 2022 की 10वीं-12वीं परीक्षा के लिए आवेदन की अंतिम तिथि दूसरी बार बढ़ाई गई है। इससे पहले एक महीने पहले 23 सितंबर को अंतिम तिथी बढ़ाकर 19 अक्टूबर की गई थी. वहीं, यूपी बोर्ड ने सत्र 2021-22 में दसवीं और बारहवी के परीक्षा फॉर्म भरने की तारीख 8 नवंबर तक बढ़ा दी गई है।

  

शिक्षकों ने की थी मांग 
स्कूलों के प्रबंधको और शिक्षकों की मांग पर बोर्ड ने फिर से परीक्षा फॉर्म भरने की तारीख बढ़ाई है. 9 से 14 नवंबर तक छात्र-छात्राओं के विवरण जांचकर उसे अपडेट करने का अवसर प्रधानाचार्यों को मिलेगा. इस दौरान किसी नवीन छात्र का विवरण अपलोड नहीं किया जाएगा. उसके बाद प्रधानाचार्य पंजीकृत अभ्यर्थियों की फोटोयुक्त नामावली व कोषपत्र संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को 18 नवंबर तक भेजेंगे।

इतने लाख छात्रों का हुआ पंजीकरण
तमाम स्कूलों के प्रधानाचार्य अंतिम तिथि बढ़ाने की मांग कर रहे थे. शिक्षक विधायक सुरेश कुमार त्रिपाठी ने भी यूपी बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल को पत्र लिखकर कक्षा 9 व 11 के अग्रिम पंजीकरण की तिथि बढ़ाने का अनुरोध किया था।19 अक्टूबर तक हाईस्कूल के लिए 27.70 लाख छात्र-छात्राओं का पंजीकरण हुआ था जिनमें लगभग 14 हजार प्राइवेट छात्र थे। वहीं, इंटर में 23.42 लाख विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन हुआ था जिनमें 1.14 लाख प्राइवेट छात्र थे. कक्षा 9 में 31.14 लाख और 11 में 26.04 लाख बच्चों का अग्रिम पंजीकरण हुआ था. पिछले साल 12वीं के 29 लाख 94 हजार 312 और 10वीं के 26 लाख 9 हजार 501 कुल 56 लाख 3 हजार 813 परीक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया था।

पिछले वर्ष यानि कि 2021 की बात करें तो बोर्ड परीक्षाएं फरवरी-मार्च में संभावित थीं. लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के चलते परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया था. इस वजह से 10वीं के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन, जबकि 12वीं के छात्रों को 30:30:40 के फॉर्मूले पर पास किया गया था। 

lucknow

Oct 23 2021, 14:08

भगवान बुद्ध के धातु अवशेष लेकर फर्रुखाबाद रवाना हुए श्रीलंका के बौद्ध धर्मगुरू

  


लखनऊ - श्रीलंका से आए भगवान बुद्ध के धातु अवशेष (अस्थि अवशेष) को बौद्व धर्मगुरु कड़ी सुरक्षा में कुशीनगर से गोरखपुर एयरपोर्ट लेकर पहुंचे। एसपी सिटी की अगुवाई में 20 सदस्यीय शिष्टमंडल का स्वागत किया गया। एयरपोर्ट पर 30 मिनट रुकने के बाद बौद्ध धर्मगुरु एयर इंडिया की फ्लाइट से धातु अवशेष को लेकर लखनऊ रवाना हुए, जहां से फर्रुखाबाद के संकसा ले जाया जाएगा।

कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के उद्घाटन समारोह में बौद्ध धर्मगुरु धातु अवशेष (अस्थि अवशेष) को श्रीलंका से लेकर कुशीनगर आए थे। जिसे पहले एयरपोर्ट पर रखा गया, फिर वहां से महापरिनिर्वाण बुद्ध विहार ले जाया गया। वहां धातु अवशेष की विशेष पूजा की गई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का कार्यक्रम संपन्न होने के बाद श्रीलंका से आया शिष्टमंडल धातु अवशेष को लेकर गोरखपुर चला आया।

  

तीन द‍िन गोरखपुर में रहा श‍िष्‍टमंडल
यहां तीन दिन तक होटल रेडीसन ब्लू में रहा। इसके बाद एसपी सिटी सोनम कुमार कड़ी सुरक्षा में बौद्ध धर्मगुरु के साथ धातु अवशेष को लेकर गोरखपुर एयरपोर्ट पहुंचे। जहां एयरपोर्ट निदेशक प्रभाकर बाजपेई ने स्वागत किया।एसपी सिटी सोनम कुमार ने बताया कि भगवान बुद्ध के धातु अवशेष को राष्ट्राध्यक्ष प्रोटोकाल मिला है। जिसको लेकर एयरपोर्ट के अंदर और सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे।

विमान में धातु अवशेष के लिए अलग सीट
धातु अवशेष का बौद्ध धर्म में विशेष महत्व है। मूर्ति पूजा से पहले इसी की पूजा की जाती थी। जहां पर इसे रखा जाता है, उसे धार्मिक दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण स्थल माना जाता है। भारत सरकार में धातु अवशेष को राष्ट्राध्यक्ष का प्रोटोकाल मिला है। एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद प्रोटोकाल का पालन करते हुए धातु अवशेष को पहले कुर्सी पर रखा गया। उसके बाद बौद्ध धर्मगुरु और शिष्टमंडल के सदस्य बैठे। विमान में भी धातु अवशेष को पहले सबसे आगे की सीट पर रखा गया, उसके बाद शिष्टमंडल के लोग बैठे।

होटल में रहा सख्त पहरा
धातु अवशेष की सुरक्षा को लेकर होटल रेडिसन ब्लू में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे।कमरे के बाहर और परिसर में सिपाही के साथ ही एलआइयू की टीम मुस्तैद रही।इस दौरान हर आने-जाने वाले पर कड़ी नजर रखी गई।