India

May 20 2021, 13:40

-writes-letter-to-cm-yogi
  

प्रियंका गांधी ने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र, लोगों को राहत देने के लिए दिए पांच सुझाव 

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी को पत्र लिखकर कई सलाह दी है।उन्होंने लिखा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने जनसाधारण को गंभीर रूप से प्रभावित किया है। 
प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, "बढ़ती महंगाई, निजी अस्पतालों द्वारा लूट, बिजली बिल, स्कूल फीस एवं व्यापार बंदी से हुए नुकसान से मध्य वर्ग जूझ रहा है। कई लोगों को कर्ज लेने, FD तुड़वाने, भविष्य निधि का पैसा निकालने जैसे कदम उठाने पड़े हैं। मैंने योगी जी को पत्र लिखकर मध्य वर्ग को राहत देने का आग्रह किया है।"

प्रियंका गांधी ने लेटर में लिखा है-
अप्रैल-मई में मचे हाहाकार ने स्पष्ट कर दिया कि सरकार की कोई प्लानिंग नहीं थी, कई सारे अनावश्यक नियम और लालफीताशाही लोगों के लिए मुश्किलों का पहाड़ लेकर आये. महामारी ने जहां एक तरफ हजारों-लाखों लोगों को हमसे छीना, वहीं दूसरी तरफ रोजी-रोजगार, व्यापार और काम-धंधे के सामने भारी मुश्किलें पैदा कर दी हैं।ईमानदारी और मेहनत से खाने-कमाने वाले लोगों को इन मुश्किल हालातों में उनके हाल पर छोड़ देने की बजाय आज जरूरत है कि आपकी सरकार आगे बढ़कर कुछ जनकल्याणकारी कदम उठाए जिससे लोगों को परेशानियों से थोड़ी राहत मिल सके

यही नहीं प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को सुझाव भी दे है। 

प्रियंका के पांच सुझाव
1.	महामारी में स्वास्थ्य सेवाओं के अलावा निजी क्षेत्र के अस्पतालों ने भी बड़ी भूमिका निभाई। कई गैर सरकारी अस्पतालों ने जनसेवा की शानदार और उम्दा मिसाल पेश की है. मगर पूरे प्रदेश से निजी अस्पतालों द्वारा आम जनता से इलाज के लिए मोटी रकम वसूलने की शिकायतें भी आई हैं। अपने मरीजों के लिए परेशान लोग भारी-भरकम बिल चुकाने के लिए कर्ज ले रहे हैं। आपसे निवेदन है कि निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ बैठकर इलाज के लिए सुविधा के हिसाब से उचित एवं जनहितैशी कीमतें निर्धारित की जाएं जिससने ना अस्पतालों को आर्थिक नुकसान हो और ना ही आम जनता के शोषण की गुंजाइश हो। सरकार मूल्यांकन कर जिन लोगों से जरूरत से ज्यादा पैसा  वसूला गया है उनको मुआवजा देने की व्यवस्था करे।

2.	बढ़ती महंगाई के चलते आम लोगों के लिए दैनिक उपभोग की वस्तुएं एवं आवश्यक चीजों को खरीदना भी मुश्किल हो रहा है। खाद्य तेल, सब्जियां, फल और घरेलू इस्तेमाल की चीजें बहुत तेजी से महंगाई की चपेट में आई हैं। प्रदेश में महंगाई पर नियंत्रण के लिए और वस्तुओं का दाम फिक्स करने के लिए तुरंत ठोस कदम उठाने जाने चाहिए ताकि इस बंदी के समय लोगों को घर चलाने में मुश्किल ना हो।


3.	यूपी की जनता बिजली के बढ़ते दामों और स्मार्ट मीटरों से पहले से ही त्रस्त है। संकट के इस दौर में उसे बिजली के बिलों में राहत मिलनी चाहिए, लेकिन एक बार फिर प्रदेश में बिजली के दाम ब

India

May 20 2021, 13:10

दिल्ली के सीएम के सिंगापुर वाले बयान पर विदेश मंत्रालय नाराज, कहा-ये भारत सरकार के बयान नहीं, सिंगापुर और भारत मजबूत साझेदारी
  




अरविंद केजरीवाल ने कहा था- सिंगापुर में कोविड का नया वैरिएंट बच्चों के लिए खतरनाक, तुरन्त फ्लाइट रोकी जाए



दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के सिंगापुर से आ रहे कोरोना के नए वेरिएंट से खतरा के कारण फ्लाइट रोकने के बयान पर विवाद बढ़ गया है। सिंगापुर की सरकार ने वहां भारत के हाई कमिश्नर को तलब कर केजरीवाल के सिंगापुर वैरिएंट वाले ट्वीट पर आपत्ति जताई है। हालांकि भारत की ओर से जवाब दिया गया है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के पास कोविड के वैरिएंट या विमान पॉलिसी पर बोलने का अधिकार नहीं है। बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कोरोना के सिंगापुर स्ट्रेन  को लेकर चेताते हुए भारत सरकार से एक्शन लेने का आग्रह किया था।
हालांकि भारत सरकार ने अरविंद केजरीवाल के आरोपों का जवाब दिया गया था। और अब सिंगापुर की ओर से भी जवाब दिया गया है। भारत में मौजूद सिंगापुर के दूतावास द्वारा बुधवार को अरविंद केजरीवाल के ट्वीट पर जवाब में कहा गया कि सिंगापुर में कोरोना के नये स्ट्रेन मिलने की बात में कोई सच्चाई नहीं है। टेस्टिंग में पता चला है कि सिंगापुर में कोरोना का B.1.617.2 वैरियंट ही मिला है, इसमें बच्चों से जुड़े कुछ मामले भी शामिल हैं. 

दिल्ली के सीएम का बयान भारत का नहीं  :  विदेश मंत्री

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने  केजरीवाल को फटकार लगाते हुए ट्वीट कर कहा, सिंगापुर और भारत कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में मजबूत साथी रहे हैं। सिंगापुर ने ऑक्सीजन सप्लायर और ढुलाई के हब के तौर पर किरदार निभाया है। उनकी तरफ से मदद के लिए मिलिट्री एयरक्राफ्ट लगाना हमें बेहतरीन रिश्तों पर बोलने में मदद करता है। कहा, हालांकि, जिन्हें ज्यादा जानकारी होनी चाहिए, उनके गैरजिम्मेदाराना बयानों से लंबे समय से चली आ रही साझेदारी को नुकसान हो सकता है। इसलिए मैं स्पष्ट करता हूं- दिल्ली के मुख्यमंत्री भारत के लिए नहीं बोलते। कहा कि दिल्ली के CM का बयान भारत का नहीं  है।
वहीं सिंगापुर के दूतावास ही नहीं, बल्कि सिंगापुर की सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मंगलवार को प्रेस रिलीज़ जारी कर  अरविंद केजरीवाल के दावे का खंडन किया था। सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन ने भी इस मसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री  को जवाब देते हुए कहा कि राजनेताओं को तथ्यों पर बात करनी चाहिए, कोरोना का कोई सिंगापुर वैरिएंट नहीं है।

India

May 20 2021, 13:07

कोरोना से बचाता है गौमूत्र' साध्वी प्रज्ञा के बयान पर बरसीं एक्ट्रेस देवोलिना, बोलीं- बस करो, मजाक बना दिया है
  




देवोलिना भट्टाचार्य के सोशल मीडिया पर किया पोस्ट हो रहा  वायरल, लिखा है- श्रद्धा और अंधविश्वास में काफी अंतर होता है



'कोरोना से बचाता है गौमूत्र' साध्वी प्रज्ञा के बयान पर बरसीं देवोलिना, बोलीं- मजाक बना दिया है। 

कोरोना महामारी के कहर ने देश में कोहराम मचाया हुआ है। इस बीच जहां कोरोना से बचने के लिए कुछ लोग सरकार द्वारा बनाए गए नियमों का पालन कर रहा है तो वहीं कोई देसी नुस्खे अपना रहा है। 

वहीं इस बीच साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा था कि गौमूत्र पीने से फेफड़ों का इंफेक्शन दूर होता है। साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर एक्ट्रेस देवोलिना भट्टाचार्य भड़क गई। 

उन्होंने इसे लेकर सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया जो काफी वायरल हो रहा है। 


देवोलिना ने एक अखबार की कटिंग ट्विटर पर शेयर की है जिस पर साध्वी प्रज्ञा का दिया बयान छपा है।

 एक्ट्रेस ने अखबार की कटिंग शेयर कर लिखा, 'मैं सच में निशब्द हूं। बस करो, मजाक बनाकर रख दिया है।'
देवोलिना के इस ट्वीट पर यूजर्स तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं।

 एक यूजर ने कमेंट करके लिखा, 'जिसमें जिसकी श्रद्धा और जिस पर जिसको भरोसा अपनी अपनी सोच अपना अपना तरीका।' जिसका जवाब देते हुए एक्ट्रेस ने लिखा, 'श्रद्धा और अंधविश्वास में काफ अंतर होता है। श्रद्धा अपनी जगह दलाई अपनी जगह। बस अपना एक पाॅइंट रखने के लिए कुछ भी नहीं प्रमोट कर सकते।'

India

May 20 2021, 12:59

# fir-against-bjp-leaders
  

”टूलकिट” मामले ने पकड़ा तूल, जेपी नड्डा, स्मृति ईरानी, बीएल संतोष और संबित पात्रा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

कोरोना टूलकिट मामले को लेकर कांग्रेस रेस नजर आ रही है. कांग्रेस ने इस मसले पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, भाजपा महासचिव बीएल संतोष और प्रवक्ता संबित पात्रा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. राजस्थान के जयपुर स्थित बजाज नगर पुलिस स्टेशन में बीजेपी नेताओं के खिलाफ दर्ज किये गये आरोप में कांग्रेस ने बीजेपी पर झूठ, छल और पाखंड की राजनीति करने का आरोप लगाया है. राजस्थान कांग्रेस के सचिव जसवंत गुर्जर ने शिकायत दर्ज करायी है. 

बीजेपी द्वारा टूलकिट जारी करने के बाद कांग्रेस की तरफ से यह कदम उठाया गया है. बीजेपी के टूलकिट में दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमण से निपटने के खिलाफ पीएम मोदी और केंद्र सरकार की छवि को खराब करने के लिए कांग्रेस ने यह टूलकिट बनाया है. जबकि कांग्रेस ने बीजेपी के आरोपो को फर्जी करार दिया है. 

टूलकिट को सबसे पहले जेपी नड्डा ने ट्वीट कर शेयर किया था. इसके बाद स्मृति ईरानी, संतोष और संबित पात्रा ने इस ट्वीट को शेयर करके कांग्रेस पर आरोप लगाया था. बीजेपी नेताओं ने "एआईसीसी अनुसंधान विभाग" के लेटरहेड पर छपा हुआ एक दस्तावेज़ साझा किया था. 
 
इसके बाद कांग्रेस की छात्र ईकाई NSUI ने भी छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और संबित पात्रा के खिलाफ "झूठी और मनगढ़ंत" सामग्री छापने के लिए रायपुर में प्राथमिकी दर्ज की है।

नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा की शिकायत पर सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज कराया गया है. शर्मा ने आरोप लगाया कि भाजपा नेताओं ने AICC अनुसंधान विभाग के फर्जी लेटरहेड का उपयोग करके मनगढ़ंत सामग्री प्रसारित की.

बीजेपी नेताओं के खिलाफ आईपीसी की धारा 469 (प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से जालसाजी), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान), 505 (1) (बी) (भय या अलार्म पैदा करने के इरादे से अफवाह फैलाना या रिपोर्ट करना) के तहत मामला दर्ज किया गया था.

India

May 20 2021, 11:56

-palestine-gaza-conflict
  

इजरायल और फलस्‍तीन के बीच संघर्ष खत्‍म होने के आसार, हमास ने कहा- अगले 24 घंटे में हो सकता है सीजफायर का ऐलान

इजरायल और फलस्‍तीनी उग्रवादी गुट हमास के बीच जारी भीषण संघर्ष खत्‍म होने के आसार दिख रहे हैं। हमास के नेताओं ने कहा है कि अगले 24 घंटे में सीजफायर का ऐलान हो सकता है। हमास के नेताओं ने अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन से बातचीत में कहा कि अगले 24 घंटे में इजरायल और हमास के बीच सीजफायर का ऐलान हो सकता है। 

गाजा पट्टी में कम से कम 227 लोगों की मौत
हालांकि अभी तक इस बारे में इजरायल की ओर से कोई बयान नहीं आया है। एक दिन पहले ही हमास के राजनीतिक ब्‍यूरो के नेता मूस अबू मारजोक ने कहा था कि उन्‍हें अपेक्षा है कि अगले एक या दो दिन में सीजफायर का ऐलान हो सकता है। 2014 के बाद हुए इस सबसे भीषण संघर्ष में अब तक गाजा पट्टी में कम से कम 227 लोग और इजरायल में 12 लोग मारे गए हैं। हमास ने इजरायल पर जहां करीब 4 हजार रॉकेट दागे हैं, वहीं इजरायल की सेना ने भी सैकड़ों हवाई और जमीनी हमले किए हैं।

अमेरिका ने किया सीजफायर कराने के प्रस्‍ताव का विरोध
इस बीच अमेरिका ने बुधवार को कहा कि वह संयुक्‍त राष्‍ट्र के सीजफायर कराने के प्रस्‍ताव का विरोध करता है। अमेरिका ने यह भी कहा कि बाइडेन प्रशासन के प्रयासों से इस संकट को खत्‍म किया जा सकता है। अमेरिका ने इजरायल और फलस्‍तीन के बीच हिंसा को बंद करने के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र में लाए गए प्रस्‍ताव को 4 बार ब्‍लॉक कर दिया। इसके बाद फ्रांस ने प्रस्‍ताव को तैयार किया है।

मकसद पूरा होने तक अभियान जारी रहेगा- नेतन्याहू
इधर इजरायल ने बुधवार को गाजा पर हवाई हमले जारी रखे, जबकि फलस्तीनी उग्रवादियों ने भी इजरायल पर दिन भर रॉकेट दागे। इस बीच, लेबनान से भी उत्तरी इजराइल में रॉकेट दागे गए। नेतन्याहू ने सैन्य मुख्यालय के दौरे के बाद कहा कि वह ‘अमेरिका के राष्ट्रपति के सहयोग की बहुत सराहना करते हैं’, लेकिन उन्होंने कहा कि ‘इजरायल के लोगों को शांति एवं सुरक्षा वापस दिलाने के लिए’ देश अभियान जारी रखेगा।  उन्होंने कहा कि वह ‘अभियान का मकसद पूरा होने तक उसे जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।'

India

May 20 2021, 11:37

कोरोना से पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया का निधन, सीएम ने की एक दिन के राजकीय शोक की घोषणा
  


 जयपुर : कोरोना के चलते एक और राजनेता इस दुनिया से हमेशा के लिए विदा हो गए. उनके निधन से पूरे प्रदेश में शोक की लहर है. राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया का बुधवार की देर रात निधन हो गया। 

राज्य सरकार ने उनके निधन पर एक दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है। पूर्व मुख्यमंत्री कोरोना संक्रमित थे। प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहाड़िया के निधन पर शोक जताया है। 

गहलोत ने ट्वीट किया,’ राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया के निधन की खबर बेहद दुखद है। पहाड़िया ने मुख्यमंत्री, राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री के रूप में लम्बे समय तक देश की सेवा की, वे देश के वरिष्ठ नेताओं में से थे।’ एक सरकारी प्रवक्ता के अनुसार 20 मई (गुरूवार) को दोपहर 12 बजे राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक होगी, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया के निधन पर शोकाभिव्यक्ति होगी. 

 पहाड़िया के सम्मान में एक दिन का राजकीय शोक रहेगा एवं राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा, सभी सरकारी कार्यालयों में 20 मई का अवकाश रहेगा। पहाड़िया की अंत्येष्टि राजकीय सम्मान से होगी.

India

May 20 2021, 11:32

पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
  



नई दिल्ली,  पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है। याचिका में पश्चिम बंगाल में हिंसा का हवाला देते हुए केंद्र सरकार को बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने का निर्देश देने की मांग की गई है।
 
वकील घनश्याम उपाध्याय ने दायर याचिका में कहा है कि पश्चिम बंगाल में 16 बीजेपी कार्यकर्ताओं और समर्थकों की हत्या की गई है। ये हत्याएं पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की शह पर की गई हैं। इन हत्याओं की एसआईटी से जांच की मांग की गई है।
 
याचिका में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल में राजनीतिक विरोधियों को सरकार की ओर से निशाना बनाया जा रहा है। याचिका में कहा गया है कि देश को तालिबान बनने से रोकने के लिए केंद्र सरकार को राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने का निर्देश दिया जाए। याचिका में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल से वहां की कानून-व्यवस्था की स्थिति पर रिपोर्ट मंगाई जाए।

India

May 20 2021, 11:31

26 मई को साल का पहला चंद्रग्रहण लगेगा, इन महाद्वीपों के साथ भारत में देगा दिखाई
  


 26 मई को साल का पहला चंद्रग्रहण लगेगा। यह चंद्र ग्रहण पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका महाद्वीप के साथ भारत में भी दिखाई देगा। इसके बाद दूसरा चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को लगेगा। वहीं साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून को लगेगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। दूसरा सूर्य ग्रहण साल के आखिरी महीने 4 दिसंबर को लगेगा। यह पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा।

यह सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देंगा। इसलिए इन दोनों ग्रहण का सूतक काल यहां मान्य नहीं होगा। 26 मई के दिन पूर्ण ग्रास चंद्रग्रहण है। हिंदी तिथि के अनुसार यह दिन वैशाख शुक्ल  पक्ष पूर्णिमा है। यह दिन बुद्ध पूर्णिमा है। यहां बता दें कि पूर्णिमा में ही चंद्र ग्रहण लगता है।

यह चंद्र ग्रहण का स्पुर्श भारतीय समयानुसार दोपहर बाद 3:15 बजे, मध्य  4:49 और मोक्ष शाम 6:23 है। ग्रहण दिन में लग रहा है। इस कारण भारत में इसका ज्यािदा प्रभाव नहीं है। लेकिन देश के कुछ जगहों पर कहीं-कहीं ग्रहण की समाप्ति या मोक्ष देखा जाएगा। पूर्वोत्तोपर भारत के कुछ स्थाेनों पर इसे दृश्यकमान बताया गया है।

ग्रहण को लेकर मान्यताएं
धार्मिक और ज्योतिष मान्यताओं में ग्रहण को अशुभ घटना के रूप में देखा जाता है। इसलिए इस दौरान कई कार्यों को वर्जित माना गया है। । ग्रहण के दौरान पूजा-पाठ करना वर्जित होता है और इस दौरान देवी-देवताओं की मूर्तियों को स्पर्श नहीं किया जाता है। मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं।सूर्य ग्रहण में सूर्य के बीजमंत्र और चंद्र ग्रहण में चंद्रमा के बीज मंत्र का जाप करने से ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचा जा सकता है। इसके अलावा इन दोनों ग्रहों के यंत्रों की पूजा करने से भी ग्रहण के अशुभ प्रभावों से छुटकारा पाया जा सकता है।

ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां

ग्रहण के दौरान और ग्रहण के खत्म होने तक भगवान की मूर्ति को नहीं छूना चाहिए। ग्रहण में घर के मंदिरों के कपाट बंद कर देना चाहिए। ताकि भगवान पर ग्रहण का असर ना हो सके। ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान ना तो ग्रहण देखना चाहिए और ना ही घर के बाहर निकलना चाहिए। सूतक लगने पर और ग्रहण के दौरान सबसे ज्यादा नकारात्मक शक्तियां हावी रहती हैं। ग्रहण में कभी भी श्मशान घाट में नहीं जाना चाहिए। सूतक लगने पर किसी भी तरह का कोई भी शुभ कार्य करने से बचना चाहिए।

India

May 20 2021, 10:57

-against-pm
  

'मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दी ?' दिल्ली के बाद मुबंई में लगा पोस्टर, कांग्रेस पूछ रही सवाल

एक तरफ देश में कोरोना भयावह रूप ले चुका है, दूसरी तरफ महामारी का एकमात्र हथियार यानी वैक्सीन के लिए देश में रोना जारी है। देश में कोरोना वैक्सीन की कमी को लेकर दिल्ली के बाद अब मुंबई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पोस्टर लगाए गए हैं। मुंबई कांग्रेस द्वारा घाटकोपर इलाके में पोस्टर लगाए गए हैं, जिस पर लिखा गया है, 'मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दी ?'

बता दें कि इससे पहले दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर लगाए थे। आरोप है कि पीएम के खिलाफ ये पोस्टर आम आदमी पार्टी ने लगाया था। जिसके आरोप में पुलिस ने 25 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।विवादित पोस्टर को लेकर 25 लोगों की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने निशाना साधा था।

राहुल-प्रियंका का सरकार पर निशाना
राहुल गांधी ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्टर को शेयर करते हुए लिखा था, 'मुझे भी गिरफ्तार करो। वहीं कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने बकायदा इस पोस्टर को ही ट्विटर पर अपनी डीपी बना लिया है।

देहरादून में भी लगा पोस्टर
देहरादून में भी कांग्रेस भवन के बाहर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और महानगर अध्यक्ष लालचंद शर्मा द्वारा पोस्टर लगाकर पूछा गया ‘मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दी’। इस तरह कांग्रेस ने कोरोना वैक्सीन को विदेश भेजने पर सवाल खड़े किए हैं।

वैक्सीनेशन की रफ्तार बेहद कम
बता दें कि देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच वैक्सीनेशन का तीसरा चरण जारी है। इस चरण में 18 साल से ऊपर आयु के लोगों को वैक्सीन देने का काम किया जा रहा है।हालांकि वैक्सीन की कमी के कारण कई राज्यों में युवाओं को अभी वैक्सीन नहीं दी जा रही है।सरकार ने अब तक 18.5 करोड़ टीका मुहैय्या कराया है, जिसमें से महज 4.09 करोड़ लोगों को वैक्सीनेट किया गया है। जो कुल आबादी का महज 3 फीसदी है।

India

May 20 2021, 09:55

-updates
  

भारत में कोरोना संक्रमण के मामलों में उतार-चढ़ाव जारी, 24 घंटे में 2.76 लाख नए मामले आए सामने, मौत का आंकड़ा घटा

भारत में कोरोना संक्रमण के मामलों में उतार-चढ़ाव जारी है। देश में कोरोना से होने वाली मौतों में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। बीते 24 घंटे में 3,880 लोगों की जानें गईं हैं। जबकि बुधवार को 24 घंटों में यही आंकड़ा 4,529 था, जो एक दिन में मरने वालों की सर्वाधिक संख्या थी।15 मई के बाद यह पहली बार है जब एक दिन में कोरोना से मरने वालों की संख्या 4 हजार से नीचे गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2 लाख 76 हजार 261 नए मामले सामने आए हैं, जबकि इसी दौरान 3,880 लोगों की जान गई है। सबसे अच्छी बात यह रही कि गुरुवार को नए मामलों से अधिक इससे ठीक होने वाले लोगों की संख्या रही। इस दौरान करीब 3 लाख 68 हजार 788 लोग कोरोना से ठीक हुए।  फिलहाल, देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 2 करोड़ 57 लाख 71 हजार 405 है, जबकि इनमें से एक्टिव केसों की संख्या 31 लाख 25 हजार 140 है। देश में कोरोना महामारी से अब तक 2 करोड़ 23 लाख 48 हजार 683 लोग ठीक हो चुके हैं और करीब 2 लाख 87 हजार 156 लोग काल के गाल में समा चुके हैं। 

22 राज्यों में संक्रमण की दर 15 फीसदी से अधिक
सरकार ने कहा कि आठ राज्यों में कोविड के एक लाख से अधिक मामले हैं और 22 राज्यों में संक्रमण की दर 15 फीसदी से अधिक है। महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कोविड के मामलों में कमी आई है और संक्रमण दर भी कम हुई है। 199 जिलों में कोविड-19 के मामलों और संक्रमण दर में पिछले दो हफ्ते में कमी आई है।

एक दिन में पहली बार 20.08 लाख सैंपल की जांच
भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में अभी तक कुल 32,03,01,177 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है। इनमें से 20,08,296 नमूनों की जांच मंगलवार को की गई।देश में पहली बार एक दिन में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस की जांच की गई है। जिनमें 13.31 फीसदी सैंपल संक्रमित मिले हैं। तीन दिन पहले तक यह दर 19 फीसदी तक दर्ज की गई थी लेकिन अब यह आंकड़ा तेजी से नीचे आ रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार की प्रतिदिन रोजाना 25 लाख जांच करने की तैयारी है।

4.09 करोड़ लोगों को लगा टीका
भारत में कोरोना के कहर के बीच वैक्सीनेशन जारी है। हालांकि इसकी रफ्तार काफी कम है। देश में वैक्सीन की कमी की वजह से ये अभियान बाधित हो रहा है। सरकार ने अब तक 18.5 करोड़ टीका मुहैय्या कराया है, जिसमें से महज 4.09 करोड़ लोगों को वैक्सीनेट किया गया है। जो कुल आबादी का महज 3 फीसदी है।

दुनिया में हर तीसरी मौत भारत में
बता दें कि दुनिया के 40 फीसदी से ज्यादा नए कोरोना मामले हर दिन भारत में दर्ज किए जा रहे हैं, वहीं दुनिया में हर तीसरी मौत भारत में हो रही है। व