/home/streetbuzz1/public_html/newsapp/system/../storage/avatars/thumbs1/1622103157521467.png/home/streetbuzz1/public_html/newsapp/system/../storage/avatars/thumbs4/1622103157521467.png/home/streetbuzz1/public_html/newsapp/system/../storage/avatars/thumbs5/1622103157521467.png StreetBuzz-s:drug
India

Apr 02 2022, 11:32

#cruisedrugscasekeywitnessprabhakarsailpassesaway आर्यन खान ड्र
drugscasekeywitnessprabhakarsailpassesaway आर्यन खान ड्रग केस के पंच गवाह प्रभाकर सैल की मौत, एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर लगाया था समसनीखेज आरोप कॉर्डेलिया क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद सुर्खियों में आए पंच गवाह प्रभाकर सैल की मौत हो गई है। उनके वकील तुषार खंडारे के अनुसार, कल चेंबूर के माहुल इलाके में उनके आवास पर दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। कौन थे प्रभाकर सेल? बता दें कि केपी गोसावी वहीं हैं, जिसकी आर्यन के साथ सेल्फी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई थी। मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल एनसीबी की गवाह किरण गोसावी के अंगरक्षक थे। उन्होंने आरोप लगाया कि गोसावी ने क्रूज जहाज पर छापेमारी के बाद एक व्यक्ति से 50 लाख रुपये लिए। सेल ने कहा था, ''मैंने किरण गोसावी के बॉडीगार्ड के तौर पर काम किया था। मैंने मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले में उनकी मदद की थी। समीर वानखेड़े पर भी लगाए थे आरोप इतना ही नहीं प्रभाकर सैल ने हलफनामे में एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर आरोप भी लगाया था। सैल का कहना था कि वानखेड़े मामले के स्वतंत्र गवाह आरोपियों को खरीदने की कोशिश कर रहे थे। प्रभाकर सैल ने आरोप लगाया कि दरअसल 25 करोड़ की डील थी जो बाद में 18 करोड़ पर आकर फिक्स हुई। एनसीबी ने आर्यन खान को किया था गिरफ्तार 2 अक्टूबर 2021 को मुंबई से गोवा जा रहे क्रूज शिप पर एनसीबी की तरफ से छापेमारी की गई थी जिसका नेतृत्व एनसीबी के तत्कालीन जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े कर रहे थे। उस केस में आर्यन खान समेत 9 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। बता दें आर्यन खान के पास से ड्रग्स की बरामदगी नहीं हुई थी। कई चक्र की बहस के बाद आर्यन खान को जमानत मिली थी।

India

Feb 21 2022, 15:56

महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे का दावा, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत
महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे का दावा, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की, उनके मैनेजर के रेप के बाद हुई सुशांत सिंह की हत्या सुशांत सिंह बॉलीवुड के बहुत ही बेहतरीन कलाकार थे। दुनिया को अलविदा कहने के बावजूद भी सुशांत आज भी सभी के दिलों मे राज करते हैं। हालांकि उनकी मौत की गुत्थी आज तक नहीं सुलझ पाई। सुशांत की मौत के बाद केस का रूख ड्रगस (Drugs) की तरफ हो गया और सुशांत की मौत एक राज बनके रह गई। बॉलीवुड के बड़े से बड़े कलाकार इस ड्रगस केस में सामने आए थे, लेकिन समय के साथ ये मामला ठंडा पड़ता नजर आया था। अब एक बार फिर सुशांत की मौत में एक नया किस्सा सामने आया है। महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह दावा किया कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की, बल्कि उनका मर्डर हुआ है। उनके इस बयान से एक बार फिर सुशांत की मौत के राज से पर्दा उठने लगा हैं। दिशा की रेप के बाद हत्या ! सुशांत मर्डर मिस्ट्री में मंत्री ने कहा कि, “8 जून, 2020 को सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर दिशा सालियन का पहले बलात्कार किया गया और फिर हत्या कर दी गई। दिशा पार्टी में जाने से मना कर रहीं थीं, लेकिन उन्हें जबरदस्ती पार्टी में बुलाया गया। फिर बलात्कार कर उनकी हत्या कर दी गई। सुशांत की मौत पहले से ही थी प्लान ! बता दें की जिस बिल्डिंग में दिशा की हत्या की गई थी, वहां की 13 जून की सीसीटीवी फुटेज गायब हो गई थी, साथ ही बिल्डिंग में आने-जाने वाले लोगों की एंट्री दर्ज करने वाले रजिस्टर के भी पन्ने 8 जून के बाद से फटे हुए थे। जिससे कहीं न कहीं ये लगता है कि सुशांत की मौत पहले से ही प्लान की गई थी। नारायण राणे ने कहा, “अभिनेता ये जान चुके थे कि उनकी पूर्व मैनेजर दिशा सालियन की हत्या हुई है। वे इससे जुड़े कई खुलासे भी करने वाले थे। इसलिए उनकी हत्या कर दी गई। सुशांत के घर एक लाल बत्ती वाली गाड़ी आई थी. यह एक मंत्री की गाड़ी थी। उस गाड़ी से चार लोग निकले और उन्होंने सुशांत को पकड़कर मारा। आप खुद सोचिए, जब सुशांत की हत्या का पता चला तब किसी खास व्यक्ति से संबंधित एंबुलेंस को ही क्यों बुलाया गया था?” सुशांत के दोस्त कैसे गायब ! नारायण राणे ने आगे कहा, “दिशा सालियान की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई नहीं, लेकिन मुझे पता है कि जो डॉक्टर है, उसे हम जानते हैं, हमें सब जानकारी है। सुशांत सिंह राजपूत के यहां सावन नामक एक शख्स रहता था, वो अचानक गायब कैसे हुआ? उसका दोस्त रॉय अब नहीं मिल रहा, गायब है? ऐसे कैसे दिशा सालियान के इमारत का वॉचमैन गायब है। सोसाइटी के पन्ने गायब है। ऐसा कैसे? सुशांत की मौत के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री पर काफी बुरा असर पडा है। फैंस ने सुशांत जैसे बेहतरीन कलाकार की मौत से काफी दुख में हैं। यहां तक की बाकि एक्टर ने भी सुशांत की मौत पर अपना दुख जाहिर किया। इस केस के फिर से चर्चा में आने के बाद लोग ये उम्मीदें लगा कर बैठे हैं कि अब सुशांत की मौत का राज सामने जरूर आएगा।

నిజందాగదుక్షణంఆగదు

Jan 30 2022, 22:20

Hyderabad Drugs: టోనీ విచారణ 2వ రోజు విచారణ ..కీలకంగా మారిన ఫోన్.. Drug Peddler Tony : డ్
Hyderabad Drugs: టోనీ విచారణ 2వ రోజు విచారణ ..కీలకంగా మారిన ఫోన్.. Drug Peddler Tony : డ్రగ్స్‌ కేసులో కీలక నిందితుడిగా ఉన్న టోనీని కస్టడీలో భాగంగా రెండో రోజు విచారించనున్నారు పోలీసులు. ఇందుకు హైదరాబాద్ టాస్క్ ఫోర్స్ పోలీసులు రంగంలోకి దిగారు.2022, జనవరి 30వ తేదీ ఆదివారం పంజాగుట్ట పీఎస్ కు హైదరాబాద్ టాస్క్ ఫోర్స్ డీసీపీ రాధా కిషన్ రావు, నార్త్ జోన్ ఇన్స్ పెక్టర్ నాగేశ్వరరావు చేరుకున్నారు. ముంబైకి వెళ్లిన టాస్క్ ఫోర్స్ బృందం టోనీ గ్యాంగ్ ను పట్టుకుంది. రెండో రోజు జరిగే విచారణలో టోనీ ఫోన్ నెంబర్ కీలకంగా మారింది. ఎన్ఆర్ఐ వ్యాపారి చలసాని వెంకట్ మొబైల్ తో పాటు టోనీ మొబైల్ డేటాపై పోలీసులు ఆరా తీస్తున్నారు. వీరిద్దరి మధ్యలో జరిగిన డ్రగ్స్ డీలింగ్ పై అధ్యయనం చేయనున్నారు. వీరి వద్ద లభించిన 2.0 టీబీ డేటా విశ్లేషణ కోసం 48 గంటల సమయం పట్టే అవకాశం ఉందని తెలుస్తోంది. పలువురి వ్యాపారవేత్తల ఫొటోలు, ఫోన్ నెంబర్స్, చాటింగ్స్ డేటాలో ఉన్నట్లు పోలీసులు గుర్తించారు. టెక్నికల్ ఆధారాలను టోనీ ముందు ఉంచి ప్రశ్నల వర్షం కురిపిస్తున్నారు. శనివారం పంజాగుట్ట పోలీస్ స్టేషన్‌లో ఏసీపీ గణేశ్‌, సీఐ నిరంజన్‌రెడ్డి అండ్ టీమ్‌ నేతృత్వంలో విచారణ జరిగింది. టోనీ ముందు పూర్తి ఆధారాలతో విచారణ అధికారులు 5 గంటల పాటు ప్రశ్నల వర్షం కురిపించారు. ఈ ప్రశ్నలకు స్మగ్లర్ టోనీ సమాధానం చెప్పినట్లు తెలుస్తోంది. ప్రధానంగా అతడికి నగరంలో ఎంతమంది వినియోగదారులు ఉన్నారు..? వారికి ఎంత కాలం నుంచి డ్రగ్స్‌ సరఫరా చేస్తున్నాడు..? వంటి అంశాలపై ప్రశ్నలను అడిగారు. అతడి ఫోన్‌ కాంటాక్ట్స్‌తో పాటు బ్యాంక్‌లకు సంబంధించిన లావాదేవీలపై కూడా ఆరా తీశారు. టోనీకి హైదరాబాద్‌లో వ్యాపారులు వినియోగదారులుగా ఎలా పరిచయమయ్యారు..? [30/01, 14:53] Venkanna.Mogilipuvvu: వారికి మధ్యవర్తిగా ఎవరు ఉన్నారు..? డ్రగ్స్‌ తీసుకున్న తర్వాత మత్తు బాబులు నగదును ఎలా చెల్లించే వారు..? వీరి ఫోన్‌ సంభాషణలు ఎలా జరిగేవి వంటి ప్రశ్నలతో జవాబులను రాబట్టేందుకు పోలీసులు ప్రయత్నించారు. టోనీ ఆంగ్లంలో స్పష్టంగా మాట్లాడుతుండటంతో ప్రశ్నలను ఇంగ్లిష్‌లోనే అడిగారు. ఇంకా నాలుగు రోజుల పాటు గడువు ఉండడంతో పక్కా సాక్ష్యాధారాలు సేకరణకే ప్రాధాన్యమిస్తున్నారు. నిందితులకు శిక్షలు పడేలా విచారణను పూర్తిచేయడమే లక్ష్యంగా పనిచేస్తున్నట్లు అధికారులు తెలిపారు. టోనీ చెప్పిన మాటల్లో ఎంత నిజం ఉందనే విషయాన్ని నిర్ధారించుకోవడానికి ప్రత్యేక బృందాన్ని కూడా ఏర్పాటు చేశారు. మరి రెండో రోజు జరిగే విచారణలో టోనీ ఎలాంటి కీలక అంశాలు వెల్లడించనున్నాడో చూడాలి.

madhavachary

Jan 30 2022, 22:03

Hyderabad Drugs: టోనీ విచారణ 2వ రోజు విచారణ ..కీలకంగా మారిన ఫోన్.. Drug Peddler Tony : డ్రగ్స్‌ క
Hyderabad Drugs: టోనీ విచారణ 2వ రోజు విచారణ ..కీలకంగా మారిన ఫోన్.. Drug Peddler Tony : డ్రగ్స్‌ కేసులో కీలక నిందితుడిగా ఉన్న టోనీని కస్టడీలో భాగంగా రెండో రోజు విచారించనున్నారు పోలీసులు. ఇందుకు హైదరాబాద్ టాస్క్ ఫోర్స్ పోలీసులు రంగంలోకి దిగారు.2022, జనవరి 30వ తేదీ ఆదివారం పంజాగుట్ట పీఎస్ కు హైదరాబాద్ టాస్క్ ఫోర్స్ డీసీపీ రాధా కిషన్ రావు, నార్త్ జోన్ ఇన్స్ పెక్టర్ నాగేశ్వరరావు చేరుకున్నారు. ముంబైకి వెళ్లిన టాస్క్ ఫోర్స్ బృందం టోనీ గ్యాంగ్ ను పట్టుకుంది. రెండో రోజు జరిగే విచారణలో టోనీ ఫోన్ నెంబర్ కీలకంగా మారింది. ఎన్ఆర్ఐ వ్యాపారి చలసాని వెంకట్ మొబైల్ తో పాటు టోనీ మొబైల్ డేటాపై పోలీసులు ఆరా తీస్తున్నారు. వీరిద్దరి మధ్యలో జరిగిన డ్రగ్స్ డీలింగ్ పై అధ్యయనం చేయనున్నారు. వీరి వద్ద లభించిన 2.0 టీబీ డేటా విశ్లేషణ కోసం 48 గంటల సమయం పట్టే అవకాశం ఉందని తెలుస్తోంది. పలువురి వ్యాపారవేత్తల ఫొటోలు, ఫోన్ నెంబర్స్, చాటింగ్స్ డేటాలో ఉన్నట్లు పోలీసులు గుర్తించారు. టెక్నికల్ ఆధారాలను టోనీ ముందు ఉంచి ప్రశ్నల వర్షం కురిపిస్తున్నారు. శనివారం పంజాగుట్ట పోలీస్ స్టేషన్‌లో ఏసీపీ గణేశ్‌, సీఐ నిరంజన్‌రెడ్డి అండ్ టీమ్‌ నేతృత్వంలో విచారణ జరిగింది. టోనీ ముందు పూర్తి ఆధారాలతో విచారణ అధికారులు 5 గంటల పాటు ప్రశ్నల వర్షం కురిపించారు. ఈ ప్రశ్నలకు స్మగ్లర్ టోనీ సమాధానం చెప్పినట్లు తెలుస్తోంది. ప్రధానంగా అతడికి నగరంలో ఎంతమంది వినియోగదారులు ఉన్నారు..? వారికి ఎంత కాలం నుంచి డ్రగ్స్‌ సరఫరా చేస్తున్నాడు..? వంటి అంశాలపై ప్రశ్నలను అడిగారు. అతడి ఫోన్‌ కాంటాక్ట్స్‌తో పాటు బ్యాంక్‌లకు సంబంధించిన లావాదేవీలపై కూడా ఆరా తీశారు. టోనీకి హైదరాబాద్‌లో వ్యాపారులు వినియోగదారులుగా ఎలా పరిచయమయ్యారు..? [30/01, 14:53] Venkanna.Mogilipuvvu: వారికి మధ్యవర్తిగా ఎవరు ఉన్నారు..? డ్రగ్స్‌ తీసుకున్న తర్వాత మత్తు బాబులు నగదును ఎలా చెల్లించే వారు..? వీరి ఫోన్‌ సంభాషణలు ఎలా జరిగేవి వంటి ప్రశ్నలతో జవాబులను రాబట్టేందుకు పోలీసులు ప్రయత్నించారు. టోనీ ఆంగ్లంలో స్పష్టంగా మాట్లాడుతుండటంతో ప్రశ్నలను ఇంగ్లిష్‌లోనే అడిగారు. ఇంకా నాలుగు రోజుల పాటు గడువు ఉండడంతో పక్కా సాక్ష్యాధారాలు సేకరణకే ప్రాధాన్యమిస్తున్నారు. నిందితులకు శిక్షలు పడేలా విచారణను పూర్తిచేయడమే లక్ష్యంగా పనిచేస్తున్నట్లు అధికారులు తెలిపారు. టోనీ చెప్పిన మాటల్లో ఎంత నిజం ఉందనే విషయాన్ని నిర్ధారించుకోవడానికి ప్రత్యేక బృందాన్ని కూడా ఏర్పాటు చేశారు. మరి రెండో రోజు జరిగే విచారణలో టోనీ ఎలాంటి కీలక అంశాలు వెల్లడించనున్నాడో చూడాలి.

India

Dec 28 2021, 13:22

#approvaltocovid19vaccinescovovaxcorbevaxandantiviraldrugmolnupir
tocovid19vaccinescovovaxcorbevaxandantiviraldrugmolnupiravir कोरोनावायरस के खिलाफ जंग के बीच भारत को मिले तीन और अहम हथियार, कोरोना वैक्सीन कोवोवैक्स’ ,‘कोर्बेवैक्स’ और एंटी-वायरल को भी इमरजेंसी यूज की मंजूरी कोरोनावायरस के खिलाफ जंग के बीच भारत में तीन और अहम हथियार सामने आ गए हैं। देश में कोविड-19 की दो वैक्सीन और एक एंटी-वायरल पिल को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि कोरोना से जंग में देश को दो और अहम हथियार मिल गए हैं। केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ के कोविड-19 रोधी टीके ‘कोवोवैक्स’ और ‘बायोलॉजिकल ई’ कम्पनी के टीके ‘कोर्बेवैक्स’ को कुछ शर्तों के साथ आपात स्थिति में उपयोग की अनुमति दे दी है। साथ ही, कोविड-19 रोधी दवा ‘मोलनुपिराविर’ (गोली) के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग को भी अनुमति मिल गई है।आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया था कि सीडीएससीओ की कोविड-19 संबंधी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने ‘कोवोवैक्स’ और ‘कोर्बेवैक्स’ को कुछ शर्तों के साथ आपात स्थिति में उपयोग की अनुमति देने की सिफारिश की है। कोविड-19 रोधी दवा ‘मोलनुपिराविर’ (गोली) के आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग की भी सिफारिश की गई थी। आपात स्थिति में ‘मोलनुपिराविर’ का उपयोग कोविड 19 के व्यस्क मरीजों पर ‘‘एसपीओ2’’ 93 प्रतिशत के साथ किया जा सकेगा और उन मरीजों को यह दवा दी जा सकेगी, जिन्हें बीमारी से बहुत ज्यादाखतरा हो। सभी सिफारिशों को अंतिम मंजूरी के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) के पास भेजा गया था। आपात स्थिति में टीके के उपयोग के लिए ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (एसआईआई) के आवेदन की सोमवार को दूसरी बार समीक्षा करने वाली सीडीएससीओ की विशेषज्ञ समिति ने गहन अध्ययन के बाद ‘कोवोवैक्स’ के उपयोग की सिफारिश की थी। एक आधिकारिक सूत्र ने कहा था, ‘‘समिति ने इस बात पर गौर किया कि टीके का निर्माण नोवावैक्स की प्रौद्योगिकी के आधार पर किया गया है और यह सशर्त विपणन प्राधिकरण के लिए यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी द्वारा अनुमोदित है। साथ ही, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे आपात स्थिति में इस्तेमाल की भी मंजूरी दे दी है।’’ वैक्सीन और दवा के बारे में जानें कोवोवैक्स यूएस ड्रग मैन्यूफैक्चरर नोवावैक्स का भारतीय स्वरूप है। यह एक नॉनपार्टिकल प्रोटीन पर आधारित कोविड-19 वैक्सीन है. फिलिपिंस में नोवावैक्स और सीरम इंस्टीच्यूट को पहले ही इसके आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी मिल गई थी। हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कोवोवैक्स के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दी थी। इसके बाद भारत में भी इसे जल्द ही अप्रूवल मिलने की उम्मीद काफी बढ़ गई थी। वहीं बायोलॉजिकल ई लिमिटेड की बनाई कोर्बेवैक्स एक प्रोटीन-आधारित वैक्सीन है। केंद्र सरकार ने पहले ही कंपनी को 1500 करोड़ रुपए दिए थे ताकि कोरबेवैक्स की 300 मिलियन डोज को रिजर्व किया जा सके। इसके अलावा कोविड-19 के खिलाफ कारगर बताई जा रही है मोलनुपिराविर’ एंटी-वायरल दवा को MSD and Ridgeback Biotherapeutics ने विकसित किया है। यह दवा वायरस के दोबारा हमारे शरीर में प्रवेश करने से रोकने के काम आती है। देश में अब आठ कोरोना वैक्सीन बीते दिनों भारत के ड्रग रेगुलेटर के अंतर्गत आने वाली सबजेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) ने कोवोवैक्स, कोरबेवैक्स और मोल्नूपीरावीर के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी देने की एक सिफारिश ड्रग कंट्रोल जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को भेजी थी. इससे पहले देश में छह कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है. इसमें कोवैक्सीन(Covaxin) कोविडशील्ड (Covishield) जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) मॉर्डना (Moderna) स्पूतनिक वी (Sputnik V) और जायडस वैक्सीन (Zycov-D) शामिल हैं. ऐसे में इन दोनों Covovax और Corbevax वैक्सीन को DCGI की मंजूरी मिलते ही देश में वैक्सीन की संख्या आठ हो गई.

Virohan

Dec 14 2021, 15:52

Video For Things To Be Taken Care Of While Handling Patients As An MLT. In this video, we have co
Video For Things To Be Taken Care Of While Handling Patients As An MLT. In this video, we have covered 7 things to be taken care of while handling patients as an MLT. A medical lab technician (MLT) performs complex chemical, biological, haematological, immunological, microscopic, and bacteriological tests; matches blood for transfusions; and tests for drug levels in the blood. https://youtu.be/pz_Wl3B7Dkg

India

Nov 08 2021, 17:32

#malikaskwankhedesisterinlawdrug_case अब साली के बहाने नवाब मलिक ने सम
askwankhedesisterinlawdrug_case अब साली के बहाने नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े को घेरा, ट्वीट कर पूछा- क्या आपकी साली हर्षदा दीनानाथ रेडकर ड्रग्स के धंधे में थी? नवाब मलिक ड्रग्स केस को लेकर एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर लगातार तीर छोड़ रहे हैं। नवाब मलिक के आरोपों का दौर अभी खत्म नहीं हो रहा है। वानखेड़े पर एक के बाद एक आरोप लगा रहे मलिक ने अब वानखेड़े की पत्नी की बहन को निशाना बनाया है। नवाब मलिक ने ट्वीट कर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर की बहन हर्षिदा पर ड्रग रैकेट से जुड़े होने का आरोप लगाया है। मलिक ने ट्वीट कर वानखेड़े से पूछा है कि क्या उनकी पत्नी की बहन (साली) ड्रग्स के काले धंधे से जुड़ी थीं? नवाब मलिक ने ट्वीट किया 'समीर दाऊद वानखेड़े क्या आपकी साली हर्षदा दीनानाथ रेडकर ड्रग्स के धंधे में थीं? आपको जवाब देना चाहिए क्योंकि उनका केस पुणे कोर्ट में लंबित है। यह रहा उसका सबूत। अपने ट्वीट के साथ नवाब मलिक ने कुछ स्क्रीनशॉट अटैच किए हैं, जिसमें एक केस का जिक्र है। वानखेड़े ने मलिक को लिया आड़े हाथ नवाब मलिक के लगाए आरोपों पर जवाब देते हुए वानखेड़े ने कहा, 'गुड वर्क, डियर फ्रेंड। एक महिला का नाम सर्कुलेट करके। असल में, जब हम प्रेस रिलीज जारी करते हैं तो हम महिला की गरिमा की सुरक्षा के लिए उसका नाम साझा नहीं करते। क्या किसी ऐसी महिला का खुलकर नाम लेना सही है, जिसके दो बच्चे और परिवार है। उन्होंने कहा कि वो मलिक के खिलाफ कोर्ट जाने के बारे में सोच रहे हैं। समीर वानखेड़े की ओर से सफाई साथ ही इन ट्वीट को लेकर समीर वानखेड़े की ओर से सफाई दी गई है। वानखेड़े ने कहा कि यह केस साल 2008 का है। उस वक्त वह एनसीबी का हिस्सा भी नहीं थे। वहीं उन्होंने क्रांति रेडकर से साल 2017 में शादी की है, इसलिए हर्षदा के मामले से उनका कोई लेना-देना नहीं है। क्रांति रेडकर ने कहा मेरी बहन इस मामले में पीड़ित वहीं, वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर ने भी अपनी बहन पर लगाए आरोपों पर बयान जारी कर सफाई दी है। क्रांति रेडकर ने कहा, 'डियर मीडिया, मुझे पता है नवाब मलिक के ट्विटर हैंडल पर किए एक ट्वीट पर आपके कई सारे सवाल होंगे। मैं ये कहना चाहूंगी कि मेरी बहन इस मामले में पीड़ित थी और पीड़ित है. हमारी लीगल टीम के अनुसार इस पर टिप्पणी करना समझदारी नहीं है क्योंकि मामला अभी भी विचाराधीन है। मेरी बहन मलिक के ट्वीट से कानूनी तरीके से निपटने जा रही है। समीर वानखेड़े का इस केस से कोई लेना-देना नहीं है। बता नवाब मलिक इससे पहले भी वानखेड़े के परिवार पर कई आरोप लगा चुके हैं। वानखेडे़ के पिता ने नवाब मलिक पर 1.25 करोड़ रुपये का मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है। इस मामले में आज बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है।

India

Nov 06 2021, 10:20

#Sameerwankhederemovedfromcruisedrugscase समीर वानखेड़े अब नहीं करेंगे
wankhederemovedfromcruisedrugscase समीर वानखेड़े अब नहीं करेंगे आर्यन खान ड्रग्स केस की जांच, एनसीबी की दिल्ली टीम करेगी पड़ताल नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े अब आर्यन खान ड्रग्स केस की जांच नहीं करेंगे।महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक द्वारा लगाए गए आरोपों से घिरे एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर गाज गिरी है। उन्हें आर्यन खान केस से हटा दिया गया है। हालांकि कई व्यक्तिगत और सेवा संबंधी आरोपों का सामना कर रहे वानखेड़े क्षेत्रीय निदेशक बने रहेंगे। एनसीबी ने कहा है कि किसी भी अधिकारी को उनके पद से हटाया नहीं गया है, जरूरत के हिसाब से मौजूदा अधिकारी टीम की मदद करेंगे। अब वरिष्ठ पुलिस अधिकारी संजय सिंह के नेतृत्व में एक एसआईटी गठित की गई है, जो आर्यन खान केस समेत छह मामलों की भी जांच करेंगे। एनसीबी ने क्रूज ड्रग्स मामले और पांच अन्य मामलों को समीर वानखेड़े के नेतृत्व वाली एजेंसी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई से ले लिया है और उनकी जांच की जिम्मेदारी दिल्ली स्थित अपनी संचालन इकाई में स्थानांतरित कर दी है। आर्यन केस के साथ समीर खान केस की भी जांच दिल्ली टीम के हाथ एनसीबी के उप महानिदेशक (उत्तर-पश्चिम क्षेत्र) मुथा अशोक जैन कहा कि कहा कि मामलों के स्थानांतरण का आदेश एनसीबी के महानिदेशक (डीजी) एस एन प्रधान द्वारा जारी किया गया है। डीडीजी अशोक मुथा जैन ने कहा कि "हमारे क्षेत्र के कुल 06 मामलों की अब दिल्ली की टीमों द्वारा जांच की जाएगी। यह एक प्रशासनिक निर्णय था।डीडीजी ने मुंबई एनसीबी टीम और समीर वानखेड़े के खिलाफ लगाए गए आरोपों के कारण मामले को स्थानांतरित करने पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। आर्यन खान केस के साथ साथ समीर खान केस की भी जांच दिल्ली की टीम करेगी। बता दें कि समीर खान, एनसीपी नेता नवाब मलिक के दामाद हैं। जानें कौन हैं संजय सिंह? संजय सिंह 1996 बैच के ओडिशा कैडर के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं। उन्होंने अपने अब तक के कार्यकाल के दौरान कई अहम पदों की जिम्मेदारी संभाली है। उन्हें सबसे पहले ओडिशा पुलिस में बतौर अपर आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया था। इसके बाद उन्हें ओडिशा पुलिस में ही आईजी की जिम्मेदारी दी गई थी। उनके शानदार काम को देखते हुए सरकार ने उन्हें सीबीआई में उपमहानिरीक्षक के रूप में नियुक्त कर दिया। अब वर्तमान में संजय सिंह एनसीबी के उपमहानिदेशक (ऑपरेशन) के पद पर कार्यरत हैं। केस से हटाए जाने पर वानखेड़े ने दी सफाई वहीं, समीर वानखेड़े ने हटाए गए शब्द पर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह बहुत ही गलत शब्द है। एक वरिष्ठ अधिकारी इस मामले की जांच कर रहे हैं, वो अभी भी मुंबई जोनल यूनिट में जोनल डॉयरेक्टर है, उन्होंने उस संबंध में पहले से ही अदालत में याचिका दायर है। कोर्ट में मैंने खुद याचिका देकर इसकी जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग की थी। इसलिए आर्यन और समीर खान केस की जांच अब दिल्ली एनसीबी की एसआईटी करेगी। यह दिल्ली और मुंबई की एनसीबी टीमों के बीच एक समन्वय है। नवाब के निशाने पर हैं वानखेड़े इधर समीर वानखेड़े को केस से हटाए जाने पर मलिक ने ट्वीट कर कहा कि समीर वानखेड़े को आर्यन खान मामले सहित पांच मामलों से हटा दिया गया। कुल 26 मामले हैं, जिनकी जांच की जरूरत है। यह तो बस शुरुआत है... इस व्यवस्था को साफ करने के लिए और भी बहुत कुछ करने की जरुरत है और हम इसे करेंगे। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक द्वारा समीर वानखेड़े पर सरकारी नौकरी पाने के लिए जाली दस्तावेजों और अपने धर्म के बारे में झूठ बोलने का आरोप लगाने के बाद आईआरएस अधिकारी विवादों में घिर गए। मलिक ने वानखेड़े के खिलाफ रश्वित और जबरन वसूली के आरोप लगाए हैं। नवाब मलिक ने आरोप लगाया था कि वानखेड़े महंगे ब्रांडों का उपयोग करते हैं जिनकी कीमत लाखों रुपये में होती है और इसके लिए पैसा जबरन वसूली के माध्यम से आता है। उन्होंने दावा किया कि अधिकारी लुई वेटन के जूते पहनते हैं जिसकी कीमत 2 लाख रुपये प्रति जोड़ी है।

India

Oct 29 2021, 13:24

#drugscaseconspiracybybjptomove_bollywood समीर वानखेड़े के बाद नवाब मल
caseconspiracybybjptomove_bollywood समीर वानखेड़े के बाद नवाब मलिक ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- बॉलीवुड को मुंबई से बाहर यूपी ले जाने के लिए भाजपा ने रची साजिश मुंबई क्रूज पार्टी ड्रग केस में एनसीबी के जोनल अफसर समीर वानखेड़े पर हमलावर रहे नवाब मलिक ने इस बार भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक का अब कहना है कि ड्रग्स केस के जरिए बीजेपी ने बॉलीवुड को बदनाम करने की साजिश रची है। मलिक ने कहा कि बॉलीवुड को मुंबई से बाहर लेने जाने के लिए क्रूज पार्टी ड्रग केस भाजपा की साजिश है। बीजेपी बॉलीवुड इंडस्ट्री को यूपी ले जाने की कवायद में है। बॉलीवुड को बदनाम करके नहीं आएगा यूपीवुड-नवाब मलिक मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि मैं देख रहा हूं कि महाराष्ट्र सरकार और यहां के लोगों को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। भाजपा इस साजिश को समीर वानखेड़े के जरिए अंजाम देने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नोएडा में एक फिल्मसिटी बना रहे हैं, लेकिन वह यह जान लें कि बॉलीवुड को बदनाम करके यूपीवुड नहीं आएगा। बीजेपी समीर वानखेड़े का इस्तेमाल कर रही-नवाब मलिक वहीं नवाब मलिक ने एक बार फिर एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर हमला बोला। मलिक ने कहा कि बीजेपी के लोग महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने के लिए समीर वानखेड़े का इस्तेमाल कर रहे थे। नवाब मलिक ने कहा कि एनसीबी अधिकारी ने गिरफ्तारी से सुरक्षा के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख किया क्योंकि वह डर गए हैं। समीर ने जरूर कुछ गलत किया होगा, तभी वह डर रहे हैं। भाजपा इनके साथ खड़े हो गई है, जो जिन्न है। इनकी जान इसी तोते में है। जिन्न घबराने लगा है कि तोता जेल में चला गया तो बहुत सारे राज खुल जाएंगे। पूरा सिक्वेंस बदल गया-नवाब मलिक मलिक ने कहा कि पूरा सिक्वेंस बदल गया है। पकड़ने वाले बचाव का रास्ता ढूंढ रहे हैं। पकड़ाने वाले जेल के सलाखों के पीछे है। इसलिए मैंने कल कहा था कि पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त। नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में उस दाढ़ीवाले के नाम और उसके काम का खुलासा किया है, जिसका जिक्र वह पहले कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि दाढ़ीवाले का नाम काशिफ खान है, वह फैशन टीवी का इंडिया हेड है और वह देशभर में फैशन शोज कराता है, जिसमें धड़ल्ले से ड्रग्स बेची और इस्तेमाल की जाती है। वह बड़े पैमाने पर सेक्स रैकेट चलाने का काम करता है। क्रूज पर उस दिन एक पार्टी काशिफ खान की ओर से भी दी गई थी। उसने सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को इनवाइट किया था।

Image

India

Oct 28 2021, 10:17

#drugbustcasencbwitnesskpgosavi_arrest आर्यन खान ड्रग्स केस में एनसीबी
bustcasencbwitnesskpgosavi_arrest आर्यन खान ड्रग्स केस में एनसीबी का मुख्य गवाह किरण गोसावी गिरफ्तार, आर्यन खान के साथ उसकी सेल्फी सोशल मीडिया पर हुई थी वायरल क्रूज ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी)के मुख्य गवाह केपी गोसावी को पुणे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुणे पुलिस के कमिश्नर ने इस बात की पुष्टि की है कि पुलिस ने क्रूज पार्टी ड्रग केस में एनसीबी के स्वतंत्र गवाह किरण गोसावी को हिरासत में लिया है। गोसावी पर धोखाधड़ी के कई मामले दर्ज हैं और उसी में से एक मामले में पुलिस को उसकी तलाश थी। किरण गोसावी उस समय सुर्खियों में आ गया था जब आर्यन खान के साथ उसकी सेल्फी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। लंबे समय से था फरार किरण गोसावी के खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी किया गया था।2018 के धोखाधड़ी मामले में पुणे पुलिस द्वारा उसके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने के बाद से फरार गोसावी ने दावा किया था कि महाराष्ट्र में उसकी जान को खतरा है। 2019 में पुणे सिटी पुलिस ने उसे वांटेड घोषित किया। वह तब से लापता था और उसे केवल एनसीबी गवाह के रूप में क्रूज रेड के दौरान देखा गया था। गिरफ्तारी से पहले जारी किया वीडियो गिरफ्तारी से पहले केपी गोसावी ने एक वीडियो जारी किया है। गोसावी ने गुहार लगाई है कि कम से कम एक मंत्री या महाराष्ट्र से विपक्ष का कोई भी नेता मेरे साथ खड़ा होना चाहिए। कम से कम उन्हें मुंबई पुलिस से अनुरोध करना चाहिए कि मैं क्या मांग कर रहा हूं। गोसावी ने इस वीडियो में प्रभाकर सेल और उसके भाई पर गंभीर आरोप लगाते हुए साजिश रचने का आरोप लगाया है। गोसावी ने कहा है कि प्रभाकर सेल की पूरी कॉल डिटेल्स निकाली जाए तो सारी सच्चाई सामने आ जाएगी। बता दें कि किरण गोसावी वही है, जो आर्यन खान के साथ सेल्फी लेते दिखा था। गोसावी के कथित ड्राइवर व बाउंसर प्रभाकर सेल ने एनसीबी के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े और अन्य के खिलाफ उगाही के आरोप लगाए थे। प्रभाकर सैल ने दावा किया था कि आर्यन को छोड़ने के बदले समीर वाननखेड़े, गोसावी व अन्य लोगों ने 25 करोड़ की मांग की थी।

India

Apr 02 2022, 11:32

#cruisedrugscasekeywitnessprabhakarsailpassesaway आर्यन खान ड्र
drugscasekeywitnessprabhakarsailpassesaway आर्यन खान ड्रग केस के पंच गवाह प्रभाकर सैल की मौत, एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर लगाया था समसनीखेज आरोप कॉर्डेलिया क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद सुर्खियों में आए पंच गवाह प्रभाकर सैल की मौत हो गई है। उनके वकील तुषार खंडारे के अनुसार, कल चेंबूर के माहुल इलाके में उनके आवास पर दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। कौन थे प्रभाकर सेल? बता दें कि केपी गोसावी वहीं हैं, जिसकी आर्यन के साथ सेल्फी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई थी। मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल एनसीबी की गवाह किरण गोसावी के अंगरक्षक थे। उन्होंने आरोप लगाया कि गोसावी ने क्रूज जहाज पर छापेमारी के बाद एक व्यक्ति से 50 लाख रुपये लिए। सेल ने कहा था, ''मैंने किरण गोसावी के बॉडीगार्ड के तौर पर काम किया था। मैंने मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले में उनकी मदद की थी। समीर वानखेड़े पर भी लगाए थे आरोप इतना ही नहीं प्रभाकर सैल ने हलफनामे में एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर आरोप भी लगाया था। सैल का कहना था कि वानखेड़े मामले के स्वतंत्र गवाह आरोपियों को खरीदने की कोशिश कर रहे थे। प्रभाकर सैल ने आरोप लगाया कि दरअसल 25 करोड़ की डील थी जो बाद में 18 करोड़ पर आकर फिक्स हुई। एनसीबी ने आर्यन खान को किया था गिरफ्तार 2 अक्टूबर 2021 को मुंबई से गोवा जा रहे क्रूज शिप पर एनसीबी की तरफ से छापेमारी की गई थी जिसका नेतृत्व एनसीबी के तत्कालीन जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े कर रहे थे। उस केस में आर्यन खान समेत 9 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। बता दें आर्यन खान के पास से ड्रग्स की बरामदगी नहीं हुई थी। कई चक्र की बहस के बाद आर्यन खान को जमानत मिली थी।

India

Feb 21 2022, 15:56

महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे का दावा, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत
महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे का दावा, अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की, उनके मैनेजर के रेप के बाद हुई सुशांत सिंह की हत्या सुशांत सिंह बॉलीवुड के बहुत ही बेहतरीन कलाकार थे। दुनिया को अलविदा कहने के बावजूद भी सुशांत आज भी सभी के दिलों मे राज करते हैं। हालांकि उनकी मौत की गुत्थी आज तक नहीं सुलझ पाई। सुशांत की मौत के बाद केस का रूख ड्रगस (Drugs) की तरफ हो गया और सुशांत की मौत एक राज बनके रह गई। बॉलीवुड के बड़े से बड़े कलाकार इस ड्रगस केस में सामने आए थे, लेकिन समय के साथ ये मामला ठंडा पड़ता नजर आया था। अब एक बार फिर सुशांत की मौत में एक नया किस्सा सामने आया है। महाराष्ट्र के बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह दावा किया कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की, बल्कि उनका मर्डर हुआ है। उनके इस बयान से एक बार फिर सुशांत की मौत के राज से पर्दा उठने लगा हैं। दिशा की रेप के बाद हत्या ! सुशांत मर्डर मिस्ट्री में मंत्री ने कहा कि, “8 जून, 2020 को सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर दिशा सालियन का पहले बलात्कार किया गया और फिर हत्या कर दी गई। दिशा पार्टी में जाने से मना कर रहीं थीं, लेकिन उन्हें जबरदस्ती पार्टी में बुलाया गया। फिर बलात्कार कर उनकी हत्या कर दी गई। सुशांत की मौत पहले से ही थी प्लान ! बता दें की जिस बिल्डिंग में दिशा की हत्या की गई थी, वहां की 13 जून की सीसीटीवी फुटेज गायब हो गई थी, साथ ही बिल्डिंग में आने-जाने वाले लोगों की एंट्री दर्ज करने वाले रजिस्टर के भी पन्ने 8 जून के बाद से फटे हुए थे। जिससे कहीं न कहीं ये लगता है कि सुशांत की मौत पहले से ही प्लान की गई थी। नारायण राणे ने कहा, “अभिनेता ये जान चुके थे कि उनकी पूर्व मैनेजर दिशा सालियन की हत्या हुई है। वे इससे जुड़े कई खुलासे भी करने वाले थे। इसलिए उनकी हत्या कर दी गई। सुशांत के घर एक लाल बत्ती वाली गाड़ी आई थी. यह एक मंत्री की गाड़ी थी। उस गाड़ी से चार लोग निकले और उन्होंने सुशांत को पकड़कर मारा। आप खुद सोचिए, जब सुशांत की हत्या का पता चला तब किसी खास व्यक्ति से संबंधित एंबुलेंस को ही क्यों बुलाया गया था?” सुशांत के दोस्त कैसे गायब ! नारायण राणे ने आगे कहा, “दिशा सालियान की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई नहीं, लेकिन मुझे पता है कि जो डॉक्टर है, उसे हम जानते हैं, हमें सब जानकारी है। सुशांत सिंह राजपूत के यहां सावन नामक एक शख्स रहता था, वो अचानक गायब कैसे हुआ? उसका दोस्त रॉय अब नहीं मिल रहा, गायब है? ऐसे कैसे दिशा सालियान के इमारत का वॉचमैन गायब है। सोसाइटी के पन्ने गायब है। ऐसा कैसे? सुशांत की मौत के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री पर काफी बुरा असर पडा है। फैंस ने सुशांत जैसे बेहतरीन कलाकार की मौत से काफी दुख में हैं। यहां तक की बाकि एक्टर ने भी सुशांत की मौत पर अपना दुख जाहिर किया। इस केस के फिर से चर्चा में आने के बाद लोग ये उम्मीदें लगा कर बैठे हैं कि अब सुशांत की मौत का राज सामने जरूर आएगा।