Patna

Oct 04 2019, 11:15

बिहार से राज्यसभा सीट के लिए भाजपा के सतीश चंद्र दुबे आज दाखिल करेंगे नामांकन, 16 को होगा  मतदान

पटना. राज्यसभा  की एक सीट पर होने वाले चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है. वाल्मिकी नगर के पूर्व सांसद व बीजेपी नेता सतीश चंद्र दुबे आज अपना नामांकन दाखिल करेंगे. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह  के निर्देश पर पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी संजय मयूख ने गुरुवार को उनको उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा की.इस सीट के लिए 16 को मतदान होगा.

RJD के रामजेठमलानी के निधन से रिक्त हुई थी सीट

बता दें कि राजद के राज्यसभा सदस्य राम जेठमलानी के निधन से खाली हुई सीट के लिए यह उपचुनाव हो रहा है. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के बाद रविशंकर प्रसाद की छोड़ी गई सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने अपने कोटे से लोक जन शक्ति पार्टी केअध्यक्ष रामविलास पासवान को उम्मीदवार बनाया था और उन्होंने जीत भी हासिल की थी....

Patna

Oct 03 2019, 22:37

अभिनेत्री शुभी शर्मा समेत कई नामचीन कलाकारों के साथ 5 अक्टूबर को होगा डांस डांडिया नाईट का आयोजन

पटना से अनिल कुमार की रिपोर्ट

 पटना: नवरात्रि महोत्‍सव में डांडिया के बिना अधूरा है। इसको ध्‍यान में रखकर आगामी 05 अक्टूबर 2019 को डांस डांडिया नाईट का भव्‍य आयोजन होटल पाटलिपुत्रा एग्‍जॉटिका में किया जा रहा है। बोले तो फुल ऑन मस्ती और ढेर सारा धमाल व प्यार, जितना की आप सोच नहीं सकते। उक्‍त बातें आज होटल के जेनेरल मैनेजर विकाश कुमार ने संवाददाता सम्‍मेलन के दौरान दी। उन्‍होंने कहा कि होटल पाटलिपुत्रा एग्‍जॉटिका के सबसे रॉयल स्‍पेश में डांस डांडिया नाईट का ग्रेंड आयोजन किया गया है, जिसमें वायस ऑफ बिहार सिंगर पापिया गांगुली, विष्णु बाबा सोनी, बॉलीवुड एक्ट्रेस शुभी शर्मा, फेमस डी जे  रोमी सिंह सिंघा। साथ में हमारे फेमस एंकर अमन और गरिमा आये हुए सारे मेहमानों को नाचने और झूमने पर मजबूर कर देंगे।
विकाश कुमार ने बताया कि इस डांस डांडिया नाईट के लिए हमारे शेफ अनिल ने खाने पीने का अलग से इंतेज़ाम किए हैं, जिसमें ज्यादा से ज्यादा स्ट्रीट फ़ूड, एक से बढ़कर एक लज़ीज़ व्‍यंजन लेकर कर आये हैं। इसमें हमारे फ़ूड एंड बेवरेज मैनेजर अनुपम भूषण उनका भरपूर सहयोग दे रहे है। उन्‍होंने कहा कि इस आयोजन में लोगों के लिए उत्तम व्‍यवस्था की गयी है, जिसमें कपल की एंट्री फी मात्र 999 /- रु, स्टैग की 599 /- रु और किड्स 399 /- रखी गयी है। इसमें लकी ड्रा के साथ साथ रु 500 /- का कैश वाउचर भी दिया जा रहा है। इसकी एंट्री शाम में 06 :00 बजे से रात के 10 :00  बजे तक लोग एन्जॉय कर सकेंगें। हमारी पटनाइटस से अनुरोध है कि इस शाम को अपना बनाने के लिए आप सभी लोग सज संवर कर आये और इस हसीं पल को हमेशा हमेशा  के  लिए अपने दिल में और कमरे में कैद कर सकेंगे।

Patna

Oct 03 2019, 18:59

मदद के लिए उठे युवाओं के हाथ।

पटना : जलजमाव से ग्रसित क्षेत्रों में प्रकाशोदय फाउंडेशन एवं पटना फैशन वीक के टीम ने बांटी राहत सामग्री।
_Flood

पटना से अनिल कुमार की रिपोर्ट

पटना में हुए लगातार बारिश के वजह से आए बाढ़ ने पटना वासियों को हिला दिया है। सड़के, अस्पताल, स्कूल, कॉलेज, घर, दुकान, मन्दिर पिछले 4 दिनों से जलमग्न हो गए हैं। जिसके कारण सार्वजनिक और निजि सम्पति को भी भारी नुकसान हुआ है। साथ ही साथ पटना वासियों के रोज़ मर्रा की ज़िंदगी भी अस्त व्यस्त हो गई हैं। 

बाढ़ पीड़ितों के मदद के लिए प्रकाशोदय फाउंडेशन और पटना फैशन वीक के सदस्यों ने बुद्धवार को राजधानी पटना के कंकड़बाग, राजेन्द्र नगर, हनुमान नगर, सैदपुर के सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ पीड़ितों के बीच राहत सामग्री बांटे और सदस्यों ने घर-घर लोगों की मदद करने का प्रयास किया। राहत सामग्री में पानी की बोतलें, ब्रेड, बिस्किट, चुरा-मिट्ठा,कैंडल, दवाइयां इत्यादि शामिल था।
राहत सामग्री वितरण के साथ जिनको भी रेस्क्यू करने की जरूरत थी, उन्हें नाव और ट्रेक्टर के जरिये रेस्क्यू भी किया गया।

सदस्यों में प्रकाशोदय फॉउंडेशन के स्वयंसेवक, रवि प्रकाश, पुष्पम कुमार, अविनाश कुमार, दिव्यांसु सरन, अपूर्वा शर्मा के साथ पटना फैशन वीक के चंदन श्रीवास्तव, अनुभव वर्मा, अवधेश कुमार, परी साहू आदि शामिल थें।

Patna

Oct 03 2019, 18:43

निगम में व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार, ठेकेदार को 40% देनी पड़ती है रिश्वत : बबलु प्रकाश

पटना से अनिल कुमार की रिपोर्ट


पटना। आम आदमी पार्टी बिहार के प्रदेश मीडिया प्रभारी बबलु कुमार प्रकाश ने पटना क्षेत्र में गत दिनों हुई अतिवृष्टि के कारण बाढ़ व जलजमाव के चलते राजेन्द्र नगर, कंकड़बाग, इंद्रा नगर, संदलपुर, बाजार समिति, नंद नगर कॉलोनी, हनुमान नगर, लोहानीपुर सहित पूरे पटना के निवासियों को हुए नुकसान के मुआवजे की मांग बिहार सरकार से की है।

बबलु ने कहा कि पटना के मध्यमवर्गीय जनता ने रुपया रुपया जोड़कर फ्रिज, टीवी, सोफा, फर्नीचर इत्यादि खरीदा था जो पानी मे डूब कर खराब हो गया। जिला प्रशासन जलजमाव वाले क्षेत्रों का सर्वे कराकर नुकसान का भरपाई करें। क्योंकि यह प्राकृतिक आपदा नही है, सरकारी मिशनरी के लापरवाही है। जिस कारण पटना की जनता को भारी नुकसान हुआ है। 

उन्होंने कहा, यहां पर विकास का कोई पैमाना नहीं है। नगर निगम पटना के लोगों से हाउस टैक्स लेता है, सीवर टैक्स लेता है, वाटर टैक्स लेता है. लेकिन सुविधा के नाम पर कुछ नहीं है। न सीवर है, न सड़क है।पूरे रोड पर गंदगी फैली रहती है। पंप हाउस, संप हाउस बदहाल है। नाला-नहर उड़ाही के नाम पर सिर्फ सरकारी पैसे की लूट है। कितना साफ हुआ उसका कोई मेजरमेंट निगम के अधिकारियों के पास नही है।  निगम के योजनाओ के लिए ठेकेदारों को 40%  देनी पड़ती है रिश्वत। निगम में व्यापक स्तर पर रिश्वतखोरी है। सरकार, निगम के योजनाओं की जाँच कराएं।

बबलु ने कहा 'आप' के कार्यकर्ता जनता के सहयोग से निगम के नाला उड़ाही, सड़क- नाला निर्माण जैसे योजनाओं पर निगरानी रखेगी। निगम में फैली भ्रष्टाचार पर लगाम लगाएगी।

Patna

Oct 03 2019, 18:41

इनर व्हील क्लब ऑफ़ पटना द्वारा जलजमाव से ग्रसित क्षेत्रों में बांटी गई राहत सामग्री।


इनर व्हील क्लब ऑफ़ पटना के द्वारा आज पानी से भरे इलाको राजेंद्र नगर रोड, बहादुरपुर कॉलोनी, धनुकी गाँव के कुछ इलाको में राहत सामग्री दुध, बिस्कुट, माचिस, मोमबती, पीने का पानी, मैगी, दवा, पावरोटी, सेनेटरी नैपकिन एवं घर में बनाये गये 5,000 लिट्टी का वितरण किया गया और इसके अलावा लोगो ने अपने आवश्यकता के अनुसार जिन-जिन सामग्रीयो की माँग की उन्हे उन तक पहुचाया गया।


इस मौके पर क्लब की प्रेसिडेंट संध्या सरकार, श्रुती राम, कविता, विभा चरण पहाड़ी  दिव्या, वीणा मितल, मुक्ता एवं अन्य सदस्य मौजूद थी।

Patna

Oct 03 2019, 16:45

बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए इस बच्ची ने फोड़ दिया गुल्लक, 11 हजार रुपए लेकर पहुंची पटना

पटना. बिहार में बाढ़ की त्रासदी और उस से पीड़ित लोंगो की पीड़ा से जहां  पूर्व सांसद पप्पू यादव मर्माहत हैं और बाढ़ पीड़ितों की  दिल खोल कर मदद कर रहे हैं वही बिहार की 9 साल की बच्ची सौम्या सिद्धि ने उनकी दर्द और स्थिति देख कर अपनी गुल्लक फोड़ कर 11000 रुपये इन बाढ़ पीड़ितों की सेवा के लिए पूर्व सांसद पप्पू यादव को सौप 
दी। इस बच्ची के इस जज्बे को देख कर ना पप्पू यादव के आंखों में आंसू छलक आया बल्कि पटना बासियों ने उस बच्ची के इस जज्बे को  सलाम किया ।

    बिहार की राजधानी पटना समेत बिहार के कई इलाके बाढ़ से डूब रहे हैं. बिहार में आई इस विपदा में लोग पीड़ित परिवारों  की अपने हिसाब से मदद कर रहे हैं. कोई चैरिटी , तो कोई कैश और खाने पीने का सामान लेकर बाढ़ से घिरे लोगों के बीच जा रहा है. मददगारों की इस कड़ी में एक नाम  इस नौ साल की बच्ची सौम्या सिद्धि का  आने से लोंगो में इज़के प्रति अपार श्रद्धा उमड़ पड़ा है । 

भी है जिसने बिहार के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए अपने गुल्लक को फोड़ दिया और जमा पैसे को लेकर पटना आ पहुंची.

पूर्व सांसद को सौंपे 11 हजार रुपए...। 
     पप्पू यादव ने कहा इस बच्ची की यह भावना और उनका यह सहयोग अतुलनीय है ।

Patna

Oct 03 2019, 16:41

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर कसा तंज, कहा यह प्राकृतिक आपदा नहीं बल्कि आपकी भ्रष्टाचारिक आपदा है।
Politics

नीतीश जी अपनी विफलताओं को प्रकृति का दोष बताकर अपनी ज़िम्मेदारियों से पल्ला झाड़ रहे है। मुख्यमंत्री जी, यह प्राकृतिक आपदा नहीं बल्कि आपकी भ्रष्टाचारिक आपदा है। आपकी भ्रष्ट अफ़सरशाही ने आपके 15 वर्ष के विकास को गटर से निकालकर देश को दिखाया है। आपके कथित सुशासन में जिस समय राजेंद्रनगर और कंकड़बाग में नाव चल रही है ठीक उसी समय पटना के दूसरे हिस्सों में धूल उड़ रही है। अगर ये प्राकृतिक आपदा है तो आप जिस जगह पर रहते है वहाँ यह आपदा क्यों नहीं आई?

मुख्यमंत्री जी बताए, संप हाउस का काम नहीं करना, नाला उड़ाही नहीं होना, नगर विकास मंत्री का हर समय ग़ायब रहना और नालों में कचरा होना क्या प्रकृति का दोष है? ये 6 फ़ीट तक जमा गंदा पानी आपकी नाकामी की कहानी बयाँ कर रहा है। 

ग़रीबों के घर-व्यापार उजाड़ने वाले आपके चेहते पटना कमिश्नर कहाँ है? आप जब अपनी असफलता का मुआयना करने निकलते है तो संबंधित विभाग के अधिकारियों की जगह दूसरे विभागों के अधिकारियों के संग घूम रहे है जिन्हें इससे कोई लेना-देना नहीं है।  मुख्यमंत्री जी बताए, पटना को नर्क में तब्दील करने का ज़िम्मेदार कौन है?

Patna

Oct 03 2019, 14:33

पटना में कई दिनों से हुए जलजमाव ने लिया महामारी का रूप, बह रहा नाले का गंदा पानी, गंदे पानी मे मर रहे है पशु।
WaterLogging

पिछले दिनों राजधानी में चंद घंटों की बारिश ने पटना की सूरत और सीरत ही बदल कर रख दी है। पटना के कई इलाके जहां जलजमाव से काफी प्रभावित है। पानी तो कुछ कम जरूर हुआ है पर अब महामारी का खतरा साफ तौर पर दिख रहा है। जलजमाव से राजेन्द्र नगर इलाक़े, राजा बाजार के गोला रोड, कंकड़बाग सहित कई इलाकों में अभी भी 3 -5 फिट जलजमाव देखने को मिल रहा है। पानी पूरी तरह से बदबू दे रहा है। पानी मे पैर रखना भी मुश्किल हो गया है। लगतार इलाको से रेक्सक्यू कर एनडीआरएफ,एसडीआरएफ और सामाजिक संस्था के द्वारा लोगो को एक स्थान से दूसरे स्थान पहुंचाया जा रहा है।

ऐसे में गंदे पानी और गंदे पानी से महामारी को लेकर सूबे के अस्पताल पीएमसीएच को अलर्ट पर रखा गया है।

Patna

Oct 02 2019, 22:28

एक्सक्लुसिव .................

 पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव  धनरुआ के पास डूबते -डूबते बाल -बाल बचे ,टायर से पुनपुन नदी  क्रास करते समय , टायर पलट गई जिसके कारण वे नदी में  गिर गए

पटना । राजधानी में इन दिनों चंद घंटों की बारिश में पटना की सूरत ही बदल कर रख दी है चंद घंटों की बारिश के कारण पटना के कई इलाकों में जलजमाव के हालात उत्पन्न हो गए है ऐसे में लगातार सरकार के तरफ से रेसक्यू ऑपरेशन चालाया जा रहा है जरूरत की चीजों को भी गंतव्य स्थानों तक पहुचाया जा रहा है, सामाजिक संस्था औऱ कॉलेज के छात्र औऱ छात्राओ ने इस विकट स्थिति में लोगो को मदद पहुचाने में अपनी कमर कस लिए है ऐसे में इन दिनों में राजधानी की सड़कों पर जहां राजनेता नदारद दिखे ,वही  थोड़े पानी कम होने के बाद ,पूर्व सांसद पप्पू यादव ने जहां राजेन्द्र नगर इलाके में मदद पहुँचाकर लोगो के दुआए बटोरे वही आज पाटलिपुत्रा क्षेत्र इलाके के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव भी अपने इलाको का दौरा किया जहां पुनपुन नदी में टायर पर नदी क्रॉस करने के दौरान अचानक टायर नदी में पलटी,टायर नदी में पलटने के कारण पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव नदी में जा गिरे ,जिसके बाद कार्यकर्ताओ के द्वारा रामकृपाल यादव को बचाया गया ।।

Patna

Oct 02 2019, 20:30

पटना भले ही पानी-पानी हो लेकिन सरकार  बेपानी नज़र आ रही है.

बाढ़ और बारिश से हुई तबाही के बाद सरकार, अपनी नाकामयाबी को छिपाने के लिए प्रकृतिक आपदा बताकर काट रही है कन्नी


 पटना भले ही पानी-पानी हो लेकिन सरकार तो बेपानी नज़र आ रही है. बल्कि सवाल पूछने वालों से ही सरकार मुँह लड़ा रही है. अमेरिका और मुंबई का हवाला देकर सवाल पूछने वालों का मुँह बंद करना चाहती है.आखिर आवाम कहां फ़रियाद करे ! अगर सरकार उनकी नहीं सुनेगी तो किसको वे अपनी समस्या सुनाएँ ?
बाढ़ प्राकृतिक आपदा है. यह कौन नहीं जानता! लेकिन जब आपदा आती है उस मौक़े पर सरकारें आवाम के साथ खड़ी नज़र आ रहीं हैं या नहीं, सवाल तो इसी का है. आज का युग तो विज्ञान और तकनीक की युग है. अब वह ज़माना नहीं है जब मौसम की भविष्यवाणी का उपहास उड़ाया जाता था. मौसम विभाग कहता था आज धूप खिली रहेगी. तब मज़ाक़ होता था, छाता लेकर निकलिए ज़रूर बारिश होगी. वक़्त बदल गया है. अब ऐसी भविष्यवाणियाँ काफ़ी हद तक सही होने लगी हैं. इन चेतावनियों को गंभीरता से लेकर कुशल सरकारें और चुस्त प्रशासन ऐसी तैयारी करता है जिससे प्राकृतिक आपदाओं से नुक़सान कम से कम हो.
हमारे मुख्यमंत्री जी सवाल सुनना पसंद नहीं करते हैं. शोहरत है कि सवाल पूछनेवालों को अपनी नज़रों पर चढ़ा लेते हैं. लेकिन कल जब अपने लाव-लश्कर के साथ पटना के जल जमाव का मुआइना करने निकले तो मुसीबतजदा लोगों ने उनसे तीखे सवाल किए. मुख्यमंत्री जी ने मुंबई और अमेरिका का हवाला देना शुरू किया !जब वाजिब जवाब नहीं हो तो आदमी को भटकाने का यह पुराना तरीक़ा है. मुंबई में भीषण बारिश और उससे उत्पन्न दो-चार दिनों का संकट तो सलाना रूटीन है. लेकिन पटना की तरह वहाँ के घरों में मल- मूत्र का पानी लोगों को बेहाल नहीं करता. वहाँ पीने के पानी के लिए लोग नहीं छटपटाते हैं.
मुख्यमंत्री जी को मुंबई और अमेरिका याद आया. लेकिन उड़ीसा याद नहीं आया जहां इसी वर्ष 200 किलोमीटर की रफ़्तार वाला भयंकर तूफ़ान आया था. मौसम विभाग ने आसन्न तूफ़ान की जानकारी दे दी थी. तदनुसार नवीन पटनायक की सरकार ने उस तूफ़ान से निपटने और नुक़सान को कम करने की ऐसी तैयारी कि जिससे उनकी सरकार की भूरि-भूरि प्रशंसा हुई.
बिहार में भी मौसम विभाग भारी बारिश की संभावना बता चुका था. अख़बारों ने भी इसकी ख़बर छापी थी. लेकिन नीतीश सरकार ने इसका अनदेखा किया. नतीजा हुआ कि आवाम की इस मुसीबत में सरकार अनुपस्थित नज़र आ रही थी. लोगों में इसका ग़ुस्सा था. शारदा सिंहा पद्मभूषण हैं. घर में डूब रही थीं. सोशल मीडिया में बचाव के लिए गुहार लगा रही थीं. घंटो कोई नहीं पहुँचा. कुछ जागरूक नागरिक और मीडिया के लोगों ने उनको वहाँ से निकाला. राजीव नगर, पाटलिपुत्र कालोनी, इंदिरा नगर के इलाक़े में बड़ी आबादी बसती है. वहाँ सिर्फ़ एक नाव चल रही थी. सरकार के आला अधिकारी जो ग़रीबों के निर्माण को अवैध घोषित कर  खड़े होकर उसको तोड़वाते हुए अख़बा