India

Jul 28 2022, 09:49

#wbsscscam29croremorefoundinraidonarpitamukherjeeflat

प बंगाल शिक्षक भर्ती घोटालाःअर्पिता मुखर्जी के घर से अब तक 50 करोड़ से ज्यादा कैश बरामद, 20 संदूकों में भरकर निकाला गया खजाना

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार में हुए बहुचर्चित एसएससी शिक्षक भर्ती घोटाले में भारी-भरकम भ्रष्टाचार के सबूत मिल रहे हैं। शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों को उत्तर 24-परगना में अर्पिता मुखर्जी के बेलघोरिया फ्लैट से 5 किलो सोने के अलावा 28 करोड़ रुपये की नकदी मिले हैं। यहां मिली नकद राशि को ईडी की टीम को 20 संदूकों में भरकर ट्रक में ले जाना पड़ा। सूत्रों के अनुसार अर्पिता के ठिकानों से अब तक कुल 53.22 करोड़ रुपये नकद मिले हैं। 

नोटों के बंडल करीब 20 ट्रंक में भरकर निकाले गए

गुरुवार सुबह चार बजे तक नोटों की गिनती जारी रही।अधिकारियों ने कहा कि शौचालय से भारी मात्रा में पैसा बरामद किया गया है।ईडी ने अर्पिता के उत्तरी 24 परगना जिले के बेलघरिया में स्थित फ्लैट पर बुधवार को छापा मारा था। यहां इतनी नकदी मिली है कि मशीनें लगाने के बाद भी नोटों की गिनती का काम आज सुबह तक जारी रहा। नोटों का भंडार इतना बड़ा था कि..नोट गिनने की कई मशीनें मंगानी पड़ीं और साथ ही नोट भरने के लिए कई बक्से भी। अर्पिता के फ्लैट पर बक्से से भरा एक ट्रक पहुंचा और एक-एक कर फ्लैट के अंदर बक्से ले जाए गए और फिर सिलसिला शुरु हुआ। काली कमाई को बक्सों में भरने का, आलम ये था कि नोट गिनते-गिनते मशीन का भी दम फूलने लगा और मजबूरन कई मशीनें मंगानी पड़ी ताकि इन नोटों के भंडार का सही आकंड़ा पता लगाया जा सके। ईडी के अधिकारी दो हजार और पांच-पांच सौ के नोटों के बंडल करीब 20 ट्रंक में भरकर लेकर निकले हैं। 

पौने तीन करोड़़ की ज्वैलरी और गोल्ड बार भी बरामद

गुलाबी नोटो के बंडल के अलावा अब तक करीब पौने तीन करोड़़ की ज्वैलरी और गोल्ड बार भी बरामद हुआ है। दोनों फ्लैट से अब तक करीब कुल 53.22 करोड़ रुपये नकद मिले हैं। ईडी के एक अधिकारी ने बताया कि इस बार उत्तर कोलकाता के बेलघरिया स्थित फ्लैट से नकदी मिली है जिसकी मालकिन मुखर्जी हैं। रथाला इलाके में अर्पिता के दो फ्लैट को ताला तोड़कर खोला गया क्योंकि उनकी चाबी नहीं थी। उन्होंने बताया, हमें हाउसिंग कॉम्प्लेक्स में दो में से एक फ्लैट में बड़ी मात्रा में नकदी मिली है। उन्होंने बताया कि फ्लैटों की तलाशी के दौरान कई अहम दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। ईडी ने फ्लैट को सील कर दिया है। जांच एजेंसी ने पार्थ के सहयोगी और व्यवसायी मनोज जैन के बल्लीगंज स्थित आवास पर भी तलाशी ली है।

पहले भी बरामद हुई थी काली कमाई

इससे पहले 22 जुलाई को भी ईडी ने अर्पिता के ठिकानों पर छापेमारी कर 21.9 करोड़ रुपये बरामद किए। अर्पिता के टॉलीगंज स्थित फ्लैट से 21 करोड़ रुपए मिले थे। ऐसे में अब सवाल उठ रहा है कि आखिर अर्पिता के कितने ठिकाने हैं और इस कैश क्वीन के पास काली कमाई का कितना भंडार छिपा है। बता दें कि ईडी ने पूर्व शिक्षा व मौजूदा संसदीय कार्य मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को हिरासत में रखा है।

ईडी को 100 करोड़ के घोटाले की आशंका

आपको बता दें कि कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश पर सीबीआई सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह 'ग' और 'घ' वर्ग के कर्मचारियों और शिक्षकों की भर्ती में हुई कथित अनियमितता की जांच कर रही है। वहीं, ईडी घोटाले में धनशोधन की जांच कर रहा है। ईडी को आशंका है कि शिक्षक भर्ती घोटाला 100 करोड़ से ज्यादा का हो सकता है। उल्लेखनीय है कि जिस समय यह कथित घोटाला हुआ, उस समय पार्थ चटर्जी राज्य के शिक्षामंत्री थे।


India

Jul 27 2022, 20:39

तो क्या अब पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी 'खेला' करने की तैयारी में, भाजपा नेता मिथुन चक्रवर्ती का दावा, तृणमूल कांग्रेस के 38 विधायक उनके संपर्क में

पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी 'खेला' करने की तैयारी में है। भाजपा नेता मिथुन चक्रवर्ती ने इसके संकेत दिए हैं। बुधवार को उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के 38 विधायक उनके संपर्क में हैं। मिथुन ने दावा किया कि टीएमसी के 21 विधायक तो सीधे उनकी संपर्क में हैं।

मिथुन चक्रवर्ती ने कहा कि शिक्षक भर्ती घोटाला में टीएमसी के मंत्री गिरफ्तार हुए हैं। इस घोटाला के सामने आने से पार्टी के नेता परेशान हैं। तृणमूल कांग्रेस के तीन दर्जन से अधिक विधायक भाजपा के संपर्क में हैं। मीडिया से मिथुन ने कहा, मैं आपसभी लोगों को ब्रेकिंग न्यूज दे रहा हूं। इस समय टीएमसी के 38 विधायक भाजपा के संपर्क में हैं। इनमें से 21 सीधे मेरे संपर्क में हैं।

मुस्लिम विरोधी नहीं है भाजपा

एक्टर मिथुन चक्रवर्ती पिछले साल बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे। उन्होंने पार्टी की मुस्लिम विरोधी छवि पर भी बात की। उन्होंने कहा कि बॉलीवुड के तीन सबसे बड़े स्टार सलमान खान, शाहरुख खान और आमिर खान मुस्लिम हैं। अगर बीजेपी मुस्लिम विरोधी है तो यह कैसे संभव है? बीजेपी 18 राज्यों में सत्ता में है। अगर बीजेपी इनसे नफरत करती है और हिंदू प्यार नहीं करते तो कैसे इनकी फिल्में इन राज्यों में सबसे अधिक पैसे कमाती हैं? मैं आज जहां हूं वहां हिन्दुओं, मुस्लिमों और सिखों के प्यार से पहुंचा हूं।

2000 करोड़ रुपए का है शिक्षक भर्ती घोटाला

शिक्षक भर्ती घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार हुए मंत्री पार्थ चटर्जी के बारे में मिथुन ने कहा कि अगर जांच एजेंसी के पास कोई सबूत नहीं है तो उन्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन अगर उन्होंने कुछ गलत किया है तो दुनिया की कोई ताकत नहीं बचा सकती। उन्होंने आरोप लगाया कि शिक्षक भर्ती घोटाला 2000 करोड़ रुपए का है।


India

Jul 27 2022, 20:37

सरकार का बड़ा ऐलान, मर्ज होगी BSNL-BBNL, पीएम मोदी ने दी मंजूरी, केंद्रीय मंत्री ने दी जानकारी

  

 सरकार ने बीएसएनएल के रिवाइवल के लिए 1,64,156 करोड़ रुपए का रिवाइवल पैकेज की मंजूरी दी है। इसके अलावा, कैबिनेट ने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (BBNL) के मर्जर को मंजूरी दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई बैठक में कई बड़े मुद्दे पर फैसला हुआ। कैबिनेट और कैबिनेट कमिटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स (CCEA) को लेकर भी बड़ा फैसला हुआ है। कैबिनेट ने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के रिवाइवल के लिए 1.64 लाख करोड़ रुपये के रिवाइवल पैकेज को मंजूरी दी।

कैबिनेट बैठक के फैसलों की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, सरकार ने बीएसएनएल के रिवाइवल के लिए 1,64,156 करोड़ रुपये का रिवाइवल पैकेज की मंजूरी दी है। इसके अलावा, कैबिनेट ने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (BBNL) के मर्जर को मंजूरी दी।

गौरतलब है कि इस मर्जर से अब देशभर में बिछे BBNL के 5.67 लाख किलोमीटर के ऑप्टिकल फाइबर का पूरा कंट्रोल बीएसएनएल हाथों में आ जाएगा। इसके लिए सरकार अगले तीन साल में BSNL के लिए 23,000 करोड़ रुपये का बॉन्ड जारी करेगी। वहीं सरकार MTNL के लिए 2 साल में 17,500 करोड़ रुपये का बॉन्ड जारी करेगी। केंद्रीय मंत्री ने बताया, 'सरकार ने बीएसएनएल के रिवाइवल के लिए 1,64,156 करोड़ रुपये का रिवाइवल पैकेज को मंजूरी दी। इससे टेलीकॉम कंपनी को 4G में अपग्रेड करने में मदद मिलेगी।

BSNL के पास 6.80 लाख किलोमीटर से ज्यादा ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क है। वहीं, BBNL देश के 1.85 लाख ग्राम पंचायतों में 5.67 लाख किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर बिछा रखा है। BSLN को BBNL द्वारा बिछाए गए फाइबर का कंट्रोल यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF) के जरिए मिलेगा। 

अश्विनी वैष्णव ने कहा कि बीएसएनएल के 33,000 करोड़ रुपये के वैधानिक बकाये को इक्विटी में बदला जाएगा। साथ ही कंपनी इतनी ही राशि (33,000 करोड़ रुपये) के बैंक कर्ज के भुगतान के लिये बॉन्ड जारी करेगी। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल ने बीएसएनएल और भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (BBNL) के विलय को भी मंजूरी दी है।


India

Jul 27 2022, 20:36

भारत में 5जी स्पेक्ट्रम के लिए नीलामी प्रक्रिया जारी लेकिन दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां 7जी और 8जी की गति से मिलती है इंटरनेट की स्पीड 

भारत में 5जी स्पेक्ट्रम के लिए नीलामी मंगलवार से शुरू हो गई जिसमें 4.3 लाख करोड़ रुपये के 72 गीगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम के लिए बोलियां लगाई जाएंगी। स्पेक्ट्रम नीलामी के इस दौर में 5जी के लिए मौजूदा टेलीकॉम कंपनियां रिलायंस जियो, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के अलावा गौतम अडाणी की कंपनी अडाणी एंटरप्राइजेज भी बोली लगाने वाली है। देश में 5जी सर्विस शुरू होने से बेहद तेज गति वाली इंटरनेट सेवाएं देने का रास्ता साफ हो पाएगा। मौजूदा 4जी सर्विस की तुलना में 5जी सेवा करीब 10 गुना तेज होगी। लेकिन दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां 7जी और 8जी की गति से इंटरनेट की स्पीड मिलती है। इस देश का नाम नॉर्वे है।

 

मौजूदा समय में 5जी नेटवर्क को सबसे एडवांस माना जा रहा है। यह सर्विस कई देशों में शुरू है और कई देश इसे लागू करने वाले हैं। भारत में इस नेटवर्क को जल्द सर्विस में ले सकता है। ऐसे में एक सवाल ये उठता है कि जब पूरी दुनिया में 5जी ही अभी लागू नहीं है तो 6जी और 7जी के लिए कब तक इंतजार करना होगा। 7जी नेटवर्क की स्पीड प्रति सेकंड 11 गीगाबाइट की होगी जो कि किसी एवरेज यूजर के लिए बहुत अधिक स्पीड होगी। यह सेवा 4जी और 5जी की तुलना में अत्यधिक महंगी होगी जिसके लिए यूजर को बड़ी रकम चुकानी होगी। लेकिन इससे भी आगे नॉर्वे है जहां इंटरनेट की स्पीड 7जी और 8जी के बराबर है।

नॉर्वे ने सबको पीछे छोड़ा

नॉर्वे के अलावा दुनिया के किसी देश में 7जी या 8जी की इंटरनेट स्पीड नहीं है। कुछ देशों में 6जी पर काम शुरू हो चुका है। उसके बाद ही 7जी या 8जी के बारे में सोचा जाएगा। हालांकि बहुत पहले से इसके तकनीकी पहलुओं पर रिसर्च जारी है। लोगों की सुरक्षा और गंभीर मुद्दों को निपटाने में 7जी नेटवर्क का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जा सकता है। 7जी के फायदों में जो बातें शामिल हैं, उनमें खतरे का पता लगाना, अपराध नियंत्रण, दिमाग पढ़ना,स्वास्थ्य की निगरानी, आपदा तैयारियां, गैस और टॉक्सिक पदार्थों की निगरानी और IoT डिवाइस प्रबंधन जैसे मुद्दे शामिल हैं।

7जी से ये होंगे बड़े फायदे

इन फायदों को देखते हुए कई देश पहले से 7जी पर रिसर्च कर रहे हैं। आगे चलकर इसी आधार पर मोबाइल फोन भी विकसित होंगे जिनमें डीप लर्निंग, डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जा सकेगा। व्यावहारिक तौर पर देखें तो अभी 7जी या 8जी पर काम शुरू नहीं हुआ है, बस रिसर्च जारी है। यह सेवा हमारे बीच कब तक आएगी, अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। अभी इसके बारे में पूरी बातें अनुमानों पर आधारित हैं। अभी तो 6जी पर भी बहुत कम काम हुआ है। जब तक इसका दायरा नहीं बढ़ जाता, तब तक 7जी या 8जी के बारे में कुछ भी कहना बेहद जल्दबाजी होगी।


India

Jul 27 2022, 18:07

भाजपा में गए नेताओं के ईडी मामले अचानक कैसे हवा हो गए, बोले चिदंबरम- जब मोदी से पूछताछ की गई थी तो बीजेपी ने पूरे गुजरात में पोस्टर लगा दिए थे

 कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने नेशनल हेरल्ड धनशोधन मामले में सोनिया गांधी से पूछताछ पर मंगलवार को कहा कि इस मामले में गांधी नहीं बल्कि कांग्रेस विरोध कर रही है और उसे ऐसा करने का अधिकार है। गौरतलब है कि प्रवर्तन निदेशालय ने मंगलवार को दूसरी बार कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी से पूछताछ की। दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी ने केंद्रीय एजेंसियों के कथित दुरुपयोग के खिलाफ व्यापक विरोध प्रदर्शन किया।

चिदंबरम ने ट्वीट किया, भाजपा पूछती है कि कांग्रेस सड़कों पर प्रदर्शन क्यों कर रही है। श्रीमती सोनिया गांधी ईडी के सामने पेश हो रही हैं। वह विरोध नहीं कर रही हैं। इसका विरोध कांग्रेस पार्टी कर रही है। जब हमारे नेता को परेशान किया जा रहा हो तो हमें विरोध करने का अधिकार है।'

चिदंबरम ने कहा, जब (नरेंद्र) मोदी से पूछताछ की गई थी, तो भाजपा ने पूरे गुजरात में पोस्टर लगाए थे और विरोध प्रदर्शन किया था। हमें यह पूछने का भी अधिकार है कि कई राजनीतिक नेताओं (जो बाद में भाजपा में शामिल हो गए) के खिलाफ ईडी के मामले अचानक कैसे हवा में गायब हो गए?


India

Jul 27 2022, 16:38

आपके काम की खबर, अगस्त में 13 दिन बन्द रहेंगे बैंक, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अगस्त में छुट्टियों के दिनों की जारी की सूची

ऑनलाइन बैंकिंग का विकल्प रहेगा खुला

जुलाई का महीना अब समाप्ति की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में ज्यादातर लोगों के मन में अगले महीने के कामकाज को निपटाने के खयाल आ रहे होंगे। लेकिन अगस्त माह में बैंकों में 13 दिन छुट्टियां रहेंगी। यानीअगस्त में बैंकों में लगभग 13 दिनों तक कामकाज नहीं हो पाएगा जुलाई की तुलना में अगस्त माह में बैंक ज्यादा दिनों तक बंद रहेंगे। अगस्त माह रक्षा बंधन, जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस सहित राष्ट्रीय और धार्मिक उत्सवों से भरा है 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अगस्त में उन दिनों की सूची जारी की है, जिन दिनों राष्ट्रीय या क्षेत्रीय त्योहारों और विशेष पालन के दिनों में बैंक बंद रहेंगे।

कुल मिलाकर, दूसरे/चौथे शनिवार और रविवार के अलावा अगस्त में कुल 13 दिन होंगे जब देश के कुछ हिस्सों में बैंक बंद रहेंगे। सुझाव है कि किसी भी असुविधा से बचने के लिए केवल उन दिनों में बैंक जाएं, जब वे खुले हों हालांकि, ऑनलाइन वित्तीय सेवाएं हमेशा की तरह काम करती रहेंगी। 

अगस्त 2022 में बैंक अवकाश 

1 अगस्त: द्रुक्पा त्शे-ज़ी उत्सव (केवल सिक्किम)

8 अगस्त: मुहर्रम (केवल जम्मू और कश्मीर)

9 अगस्त: मुहर्रम (अगरतला, अहमदाबाद, आइजोल, बेलापुर, बेंगलुरु, भोपाल, चेन्नई, हैदराबाद, जयपुर, कानपुर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, नागपुर, नई दिल्ली, पटना, रायपुर और रांची में)

11 अगस्त: रक्षा बंधन

12 अगस्त: रक्षा बंधन

13 अगस्त: देशभक्त दिवस (इंफाल)

15 अगस्त: स्वतंत्रता दिवस

16 अगस्त: पारसी नव वर्ष

 ;(बेलापुर, मुंबई और नागपुर)

18 अगस्त: जन्माष्टमी (भुवनेश्वर, देहरादून, कानपुर और लखनऊ)

19 अगस्त: जन्माष्टमी

20 अगस्त: श्री कृष्ण अष्टमी (केवल हैदराबाद)

29 अगस्त: श्रीमंत शंकरदेव की तिथि (केवल गुवाहाटी)

31 अगस्त: गणेश चतुर्थी/विनायक चतुर्थी (अहमदाबाद, बेलापुर, बेंगलुरु, भुवनेश्वर, चेन्नई, हैदराबाद, मुंबई, नागपुर और पणजी में)


India

Jul 27 2022, 16:34

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के बेल्लारे गांव में युवा बीजेपी नेता प्रवीण की हत्या के मामले ने पकड़ा तूल, मुख्यमंत्री ने दी सफाई, बोले - हत्यारे नहीं बचेंगे

दक्षिण कन्नड़ जिले के बेल्लारे गांव में मंगलवार देर शाम को अज्ञात लोगों ने युवा बीजेपी नेता प्रवीण की हत्या की थी। इस हत्या के खिलाफ आज सुलिया और पुत्तुर में बंद का आह्वान किया गया है बंद को देखते हुए सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। प्रवीण का अंतिम संस्कार आज दोपहर किया जायेगा। वहीं पुत्तुर में कुछ लोगों ने एक बस पर पत्थर भी चलाए प्रवीण के हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है। फिलहाल हालात नियंत्रण में है।

कर्नाटका के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा प्रवीण के हत्या में शामिल लोगो को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा। आरोपियों के खिलाफ सख्त कारवाई की जाएगी। उन्होने कहा कि लोगों का गुस्सा सरकार के विरुद्ध नहीं है। इस घटना को लेकर लोगों का नाराज होना जायज है। मैंने इस मामले की सघन जांच के आदेश दे दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि होम मिनिस्टर ने SP से बात कर सभी जरूरी दिशा निर्देश दे दिए हैं। इस हत्या के पीछे जो भी हैं उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। ये इलाका केरल की सीमा के नजदीक है, इसीलिए केरल में भी पड़ताल की जा रही है।

ये क्यों हुआ कैसे हुआ ये जांच का विषय है जल्द ही इस बारे में सबकुछ साफ हो जाएगा। ये हत्या उस समय हुई है जब प्रवीण के पास कोई नहीं था। हत्यारों ने पीछे से आकर उसपर जान लेवा हमला कर दिया। हम इन लोगों को जल्द ही अरेस्ट करेंगे और कानून की सख्त धाराओं के तहत उनके खिलाफ कार्यवाही होगी, ये पूर्व नियोजित साजिश के तहत की गई हत्या है हमारी सरकार ऐसी ताकतों के खिलाफ सख्त कारवाई कर रही है इसी बात से बौखलाकर वे ऐसी हरकतें कर रहे हैं। मैं आश्वासन देता हूं कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।


India

Jul 27 2022, 16:32

#ghulamnabiazadonsoniagandhied_case

सोनिया से ईडी की पूछताछ पर गुलाम नबी आजाद का केन्द्र सरकार पर सीधा हमला, कहा-जंग में औरत और बीमार पर हाथ नहीं उठाते

नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से ईडी की ओर से तीसरी बार पूछताछ को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने प्रेस कांफ्रेंस कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला।आजाद ने कहा, 'जंग में भी नियम होते थे कि औरत और बीमार पर हाथ नहीं उठाना है।खास बात ये रही कि प्रेस कॉन्फ्रेंस में गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा भी शामिल हुए जो पार्टी से हाल के दिनों में नाराज बताए जाते रहे हैं।

शनल हेराल्ड मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा तीसरे दिन सोनिया गांधी से पूछताछ की गई। इस दौरान कांग्रेस नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं ने मंच और सड़क पर मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं दूसरी तरफ प्रेस कांफ्रेस कर पार्टी के वरिष्ठ नेता और जी-23 ग्रुप के मेंबर गुलाम नबी आजाद सोनिया गांधी के समर्थन में खड़े नजर आए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आजाद ने कहा, 'आपके पास कागज हैं तो आपने राहुल गांधी जी से लंबी पूछताछ की, वही काफी है। पहले जंग होती थी तो बादशाह की तरफ से हिदायत होती थी कि महिला और बीमार पर हाथ नहीं उठाना। यह हमारी परंपरा रही है। ईडी को ध्यान रखना चाहिए कि सोनिया जी को बार-बार बुलाना ठीक नहीं है...सोनिया जी की सेहत के साथ खेलना अच्छा नहीं है।' उन्होंने कहा कि मैं सरकार व ईडी से आग्रह करता हूं कि वह सोनिया गांधी की हालत को देखते हुए उन्हें तलब न करे।

आजाद ने कहा, 'नेशनल हेराल्ड से जुड़े कौन से कागजात हैं जिनकी कई वर्षों से जांच की जा रही है? एक समय में यह भी कहा गया था कि इस मामले में कुछ नहीं है। फिर राहुल गांधी जी से पांच दिनों तक पूछताछ क्यों की गई?' उन्होंने कहा कि मेरे समझ में नहीं आया कि जब मामला एक है, परिवार एक है, जब राहुल गांधी से पांच दिन कई घंटों तक पूछताछ की गई, तो फिर उसी मामले में सोनिया जी को बुलाने के लिए क्या जरूरत थी? राहुल जी जवान हैं, लेकिन सोनिया जी की उम्र काफी है, (वह) पिछले कुछ वर्षों से बीमार भी हैं।' आजाद ने कहा कि इतने वर्षों से संगठन और एक राजनीतिक परिवार में रहने के कारण सोनिया जी ने भले ही राजनीतिक जानकारी हासिल की है, लेकिन इन सब तकनीकी बातों के बारे में वह कैसे जानेंगी।


India

Jul 27 2022, 16:30

अफगानिस्तान में तालिबान ने हिंदुओं-सिखों से की लौटने की अपील, गृह मंत्रालय ने कहा- देश में बहाल हुई सुरक्षा

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जा जमाने के बाद से वहां सुरक्षा के हालात बेहद खराब हो गए हैं। अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों पर हमले आम बात हैं। इसी कारण देश से खासकर हिंदुओं और सिखों ने पलायन शुरू कर दिया है। अब तालिबान के गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने इस समुदाय के नेताओं से मिलकर दावा किया कि देश में सुरक्षा की समस्या को हल कर लिया गया है। इसलिए हिंदुओं और सिख समुदाय के लोगों को वापस लौट आना चाहिए। अफगानिस्तान के हिंदू और सिख परिषद के सदस्यों से 24 जुलाई को मुलाकात के बाद तालिबान के चीफ ऑफ स्टाफ डॉ. मुल्ला वसी के कार्यालय ने एक ट्वीट में कहा, अफगानिस्तान में सुरक्षा की स्थिति अब काफी बेहतर है। ट्वीट के मुताबिक, बैठक के दौरान परिषद के सदस्यों ने इस्लामिक स्टेट के खुरासान गुट की ओर से काबुल के कर्ता-ए-परवान गुरुद्वारे पर किए हमले के दौरान प्रभावी कार्रवाई करने के लिए तालिबान को धन्यवाद भी दिया। बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान का शासन के दौरान हिंदू और सिख ही नहीं, शिया समुदाय के लोग और उनके धार्मिक स्थल भी कट्टरपंथियों के हमलों का निशाना बनते रहे हैं। 

कुछ दिन पहले ही शियाओं के धार्मिक और शैक्षिक स्थलों पर हमलों का सिलसिला चल निकला था। गुरुद्वारा पुनर्निर्माण पर खर्च होंगे 75 लाख अफगानी काबुल के काबुल के कर्ता-ए-परवान गुरुद्वारे पर 18 जून को आईएस के खुरासान गुट ने हमला किया था। इसमें तालिबान की ओर से तैनात एक गार्ड और एक सिख की मौत हो गई थी। 

इस गुरुद्वारे में अफगानिस्तान में शेष बचे भारत वापसी का इंतजार कर रहे सिखों ने पनाह ले रखी थी। हमले में गुरुद्वारे की इमारत को काफी नुकसान पहुंचा था।


India

Jul 27 2022, 16:27

2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) से पार्टनरशिप खत्म कर रहा रूस, अमेरिका ने की थी रूसी अंतरिक्ष यात्रियों की आलोचना

यूक्रेन और रूस के बीच बनी हुई युद्ध के चलते वॉशिंगटन और मॉस्को में तनाव की स्थिति बरकरार है। अब मिल रही जानकारी के अनुसार रूसी अंतरिक्ष एजेंसी साल 2024 के बाद अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) से पार्टनरशिप खत्म कर रही है। रोसकॉस्मोस के अधिकारियों के के हवाले से समाचार एजेंसी AFP ने यह साझेदारी खत्म होने की जानकारी दी है। यानी रूस साल 2024 के बाद ISS छोड़ देगा।

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी चीफ ने लिया फैसला

समाचार एजेंसी ने रूसी अंतरिक्ष एजेंसी चीफ की ओर से मिली जानकारी रिपोर्ट में शेयर की है।

चीफ ने अमेरिकी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से कहा है, बेशक, हम अपने पार्टनर के साथ सभी बाध्यताएं पूरी करेंगे, लेकिन साल 2024 के बाद इस स्टेशन छोड़ने का फैसला लिया जा चुका है। बता दें, यह फैसला अमेरिका की ओर से रूसी अंतरिक्ष यात्रियों की आलोचना करने के कुछ सप्ताह बाद आया है।

अंतरिक्ष स्टेशन के राजनीतिक इस्तेमाल पर आपत्ति

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA की ओर से बीते दिनों रूसी अंतरिक्ष यात्रियों की गतिविधि पर आपत्ति जताई गई थी।

NASA ने कहा था, हम यूक्रेन के खिलाफ युद्ध का समर्थन करने से जुड़े राजनीतिक मकसद के लिए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन का इस्तेमाल करने के लिए रूस को फटकार लगाते हैं। इस स्टेशन को विज्ञान और शांति से जुड़े काम और प्रयोग करने के लिए 15 अलग-अलग देश मिलकर एकसाथ चला रहे हैं।

अमेरिका और रूस संबंध युद्ध के चलते प्रभावित

दुनिया की दोनों परमाणु शक्तियों के बीच संबंध तनावपूर्ण दौर में हैं, जब करीब चार महीने पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी है। राजनीतिक संबंधों में उतार-चढ़ाव के बावजूद भी रूस अंतरिक्ष एजेंसी रोसकॉस्मोस और NASA एकसाथ काम कर रही हैं। इतना ही नहीं, रूसी स्पेस एजेंसी तो अपने सोयूज एयरक्राफ्ट में अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री मार्क वेंडे हेइ को भी लेकर गई थी।

पुतिन ने रूसी अंतरिक्ष एजेंसी में बदलाव किए

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी में हाल ही में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं और पुतिन के मुखर समर्थक दिमित्री रोगोजिन को उनके पद से हटाया गया है।

उनकी जगह उप-प्रधानमंत्री यूरी बोरीसोव को एजेंसी चीफ बनाया गया है, जिनके जिम्मे इससे पहले हथियारों का विभाग था।

रोगोजिन अंतरिक्ष स्टेशन से रूस के सहयोग को लेकर विवाद की स्थिति में थे। अप्रैल में उन्होंने ISS को लेकर आगाह किया था कि रूस इसके साथ पार्टनरशिप खत्म कर सकता है।

अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन ऐसे करता है काम

अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) अंतरिक्ष में मौजूद एक प्रकार की प्रयोगशाला है, जहां धरती से एस्ट्रोनॉट्स जाकर रहते हैं और कई तरह के प्रयोग करते हैं।

इसे अमेरिका और रूस समेत कई देश मिलकर संचालित करते हैं। यह 357 फीट में बना है और 300 कारों के वजन से भी भारी है। यह हर 90 मिनट में धरती का एक चक्कर लगा लेता है।

साल 1990 से ही अंतरिक्ष में सक्रिय अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में करीब 110 देश सहयोग कर चुके हैं और इसमें अलग-अलग तरह के शोध या प्रयोगों का हिस्सा बने हैं। अमेरिका ने इस साल ISS की मिशन टाइमलाइन 2030 तक बढ़ाने का फैसला किया है।