lucknow

Jun 22 2022, 16:23

रोज अखबार पढ़े और तकनीक का प्रयोग करें मेधावी : योगी

लखनऊ। बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट की परीक्षा में उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने वाले मेधावियों से मुलाकात की और उन्हें कई महत्वपूर्ण सुझाव दिए। मुख्यमंत्री ने अपने लखनऊ स्थित आवास पर आयोजित कार्यक्रम में मेधावियों से कहा कि आप सब को जागरुक होना चाहिए।

इसलिए जरूरी है कि तकनीक का प्रयोग करें। उन्होंने मेधावियों से कहा कि आप सबको सरकारी योजनाओं की जानकारी होनी चाहिए। इसलिए हर रोज अखबार पढऩा चाहिए। उन्होंने कहा कि हर शिक्षण संस्थान को मुख्यमंत्री अभ्युदय कोचिंग, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला जैसी योजनाओं की जानकारी होनी चाहिए। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि सफल वही होता है जो छोटी-छोटी गलतियों को सुधार कर आगे बढ़ता जाता है। विफल वही होता है जो जानने के बाद भी गलतियों की तरफ ध्यान नहीं देता। उन्होंने शिक्षकों को तकनीक की मदद लेने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि अब इंटरनेट सेवा गांव-गांव में पहुंच रही है। इसका सही उपयोग कर विद्यार्थियों को लाभान्वित करें।

बुधवार को इंटरमीडिएट के मेधावियों से मुलाकात करने के बाद मुख्यमंत्री गुरुवार को हाईस्कूल के मेधावियों से मुलाकात करेंगे। शिक्षा विभाग की ओर से दोनों कक्षाओं के जिले के दस-दस टॉपर्स को मुख्यमंत्री से मिलने के लिए बुलाया गया है।

lucknow

Jun 22 2022, 16:20

इंडियन रेडक्रास सोसाइटी के द्वारा हाईजीनिक किट एवं तारपोलिन किट वितरित

लखनऊ। इंडियन रेडक्रास सोसाइटी, लखनऊ शाखा के द्वारा राम तीरथ वार्ड पुराना किला रामलीला ग्राउंड के पास बस्ती में सिविल डिफेंस, हजरतगंज प्रखण्ड के वार्डनों के सहयोग से चिन्हित 40 गरीब परिवारों को हाइजीनिक किट एवं तारपोलिन का वितरण किया गया। हाइजीनिक किट में 5 नहाने का साबुन, 5 कपड़े धोने का साबुन, तेल, 4 टूथपेस्ट, 4 टूथ ब्रश, 2 शेविंग रेजर व 18 सैनिटरी नैपकिन शामिल हैं।

कार्यक्रम का शुभारंभ इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी लखनऊ शाखा के चेयरमैन ओम प्रकाश पाठक एवं सचिव अमरनाथ मिश्रा के द्वारा शुभारंभ किया किया गया। नागरिक सुरक्षा, हजरतगंज प्रखण्ड के वार्डनों ने हाइजीनिक किट एवं तारपोलिन वितरण हेतु पात्र परिवारों के चयन में सक्रिय भूमिका निभाई।

इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी के सदस्य रूप कुमार शर्मा और ऋतुराज रस्तोगी नागरिक सुरक्षा, लखनऊ के सहायक उप नियंत्रक ऋषि कुमार, मनोज वर्मा ने हाइजीनिक किट एवं तारपोलिन का वितरण किया गया। इस अभियान में सिविल डिफेंस के वार्डन ठाकुर प्रसाद, ओम प्रकाश, माला यादव, रीना सिंह, शोभा पाल, दिनेश भारती ने सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

lucknow

Jun 22 2022, 16:17

1 से 31 जुलाई तक चलेगा विशेष संचारी रोग अभियान, सीडीओ की अध्यक्षता में हुई टास्क फोर्स की बैठक

सीतापुर- इस वर्ष का दूसरा विशेष संचारी रोग अभियान 01 से 31 जुलाई तक आयोजित होगा। वहीं इसी के साथ 16 से 31 जुलाई तक दस्तक अभियान भी चलाया जाएगा। इसको लेकर बुधवार को मुख्य विकास अधिकारी अक्षत वर्मा की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स की बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी विभागों द्वारा विस्तृत कार्ययोजना बनाकर गतिविधियां आयोजित की जाएं। इसके अलावा पिछले वर्ष जो क्षेत्र मच्छर जनित रोगों के संदर्भ में उच्च खतरे में थे उनका प्राथमिकता के आधार स्वास्थ्य विभाग के अधीन मलेरिया विभाग द्वारा पुनः आकलन किया जाए कि वहाँ वर्तमान में क्या स्थिति है। जिन क्षेत्रों में मच्छर का सामान्य से अधिक प्रजनन पाया जाये, ऐसे क्षेत्रों की सूची अंतर्विभागीय सहयोग से मच्छर नियंत्रण गतिविधियां संपादित करने के लिए नगर विकास, ग्रामीण विकास, पंचायती राज आदि संबंधित विभागों को उपलब्ध कराई जाये।

उन्होंने कहा कि अभियान के तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ता लोगों को मच्छरजनित परिस्थितियाँ उत्पन्न न होने देने के लिए जागरूक करें। संचारी रोग जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, दिमागी बुखार जैसी बीमारियों के प्रसार को रोकना है इसके लिए आवश्यक है कि सही समय पर बुखार की जांच और उसका इलाज हो। इसके लिए आवश्यक है कि स्वास्थ्य कार्यकर्ता घर-घर पहुँचें। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि संचारी रोगों एवं दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनका त्वरित एवं सही उपचार सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानों के साथ बैठक कर उन्हें सामान्य बुखार एवं दिमागी बुखार के लक्षणों के अन्तर के विषय में भलीभांति अवगत करा दिया जाये तथा लक्षणयुक्त व्यक्तियों को तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में चिकित्सकीय परामर्श प्राप्त करने हेतु प्रेरित किया जाये। उन्होंने कहा कि बीटीएफ एवं टीटीएफ में पशुपालन विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित की जाये। गत संचारी रोग नियंत्रण अभियान में खराब प्रदर्शन करने वाले तथा जेई टीकाकरण में पिछड़े एमओआईसी को सुधार हेतु निर्देश दिये। गांवों में विशेष सफाई अभियान एवं जागरूकता अभियान के साथ-साथ विद्यालयों में छात्रों को भी संवेदीकृत किये जाने हेतु भी निर्देश दिये। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के विकास खण्डों तथा गोंदलामऊ एवं बेहटा में विशेष ध्यान देते हुये सुधार हेतु निर्देशित भी किया।

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा0 सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि इस अभियान में स्वास्थ्य विभाग नोडल विभाग है। इसके अलावा बाल विकास एवं पुष्टाहार, शिक्षा, पंचायती राज, ग्रामीण विकास, दिव्यांगजन कल्याण, पशु पालन, कृषि, नगर विकास, चिकित्सा शिक्षा एवं सूचना विभाग भी सहयोग करेंगे। सभी विभागों के परस्पर सक्रिय सहयोग से ही अभियान की सफलता निश्चित है। सोलह जुलाई से शुरू होने वाले दस्तक अभियान में आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बुखार के रोगियों, इंफ्लुएंजा लाइक इलनेस के रोगियों, क्षय रोग के लक्षणयुक्त व्यक्तियों एवं कुपोषित बच्चों की सूची बनाएंगी। इसके साथ ही आशा कार्यकर्ता उन घरों के प्रमुख स्थानों पर स्टीकर लगायेंगी जिन घरों में 15 वर्ष से कम आयु के बच्चे हैं या क्षय रोग के लक्षणयुक्त व्यक्ति हैं। इसके साथ ही संचारी रोगों से बचाव हेतु स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा स्कूलों, वीएचएनडी, मातृ समिति की बैठक में लोगों को जागरूक किया जाएगा। आशा कार्यकर्ता लोगों को इस बात के लिए जागरूक करें एवं यह जरूर सुनिश्चित करें कि बुखार होने पर स्वयं कोई इलाज न करें नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर बुखार की जांच कराएं।

इस मौके पर सभी विभागों को निर्देशित किया गया कि वे अपने अपने विभाग का माइक्रोप्लान 28 जून तक मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में उपलब्ध अवश्य करा दे। मौके पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ पीके सिंह, डॉ सुरेंद्र सिंह, डॉ उदय प्रताप, डॉ कमलेश चन्द्रा, डॉ केबी गौतम, जिला कार्यक्रम अधिकारी राज कपूर, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी राज कुमार, डीपीएम सुजीत वर्मा, डॉ विवेक सचान, नीतेश श्रीवास्तव सहित विभागों व पाथ के प्रतिनिधि एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

lucknow

Jun 22 2022, 13:37

हाइजीनिक किट वितरित कर दिया सुरक्षा का भरोसा

लखनऊ। बुधवार को राम तीरथ वार्ड पुराना किला मलिन बस्ती में निकट रामलीला ग्राउंड में इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी लखनऊ द्वारा के हाइजीनिक किट एवं तर्पॉलिन वितरण किया गया है जिसमें 42 लाभार्थियों को तारपोलिन व हाइजीनिक किट बाँटी गई।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से चेयरमैन ओपी पाठक सचिव अमरनाथ मिश्रा रूप कुमार शर्मा ऋतु राज रस्तोगी के साथ नागरिक सुरक्षा के अनीता प्रताप मनोज वर्मा ऋषि कुमार एवं स्वयं सेवक मौजूद रहे और कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

lucknow

Jun 22 2022, 13:35

विश्व वरिष्ठ नागरिक दुर्व्यवहार जागरूकता के लिए हस्ताक्षर अभियान का आयोजन

लखनऊ। हेल्पेज इंडिया द्वारा कराए गए 22 राज्यों के सर्वे में यह तथ्य निकल कर आया कि परिवार के लगभग 10% बुजुर्गों ने दुर्व्यवहार महसूस किया ।

वहीं 82%बुज़ुर्ग काम नही कर पा रहे हैं और लगभग 52% वरिष्ठजनों ने फिर से काम करने की इच्छा जाहिर की ।

दुःखद है कि 46% बुजुर्गों को किसी भी दुर्व्यवहार निवारण तंत्र के बारे में पता ही नहीं है वो नहीं जानते कि हम इस स्थिति में कहाँ जाएं।

सर्वे में ये भी निकल कर आया कि दुर्व्यवहार सहने वाले लगभग 41% ने कहा कि परिवार के सदस्यों को परामर्श की आवश्यकता है।

वरिष्ठ जनों के साथ दुर्व्यवहार ना हो इस विषय पर हेल्पेज इंडिया हस्ताक्षर अभियान का आयोजन कर रही है।

इसी क्रम में हेल्पेज इंडिया ने हस्ताक्षर अभियान का आयोजन आकाशवाणी के संयुक्त तत्वावधान में किया । अभियान का उद्देश्य जनता के बीच में इस विषय पर जागरूकता फैलाना था कि वो अपने बुजुर्गों का आदर और सम्मान करें। इस अवसर पर हेल्पेज इंडिया के निदेशक श्री अशोक कुमार सिंह ने सभी का आभार जताया। आकाशवाणी के सभाकक्ष में उपस्थित लोगों से आग्रह किया कि आपके माध्यम से इस विषय पर लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें।

इस अवसर पर आकाशवाणी की कार्यक्रम प्रमुख सुश्री मीनू खरे ने प्रथम हस्ताक्षर करके अभियान की शुरुआत की और सभी से आग्रह किया कि वे हस्ताक्षर करके ये शपथ लें कि वे सदेव वरिष्ठ जनों के सम्मान एवं हितों की रक्षा करेंगे।

इस अवसर पर ध्यान एवं योग प्रशिक्षक आर. एस. बोरा ने ध्यान करने की सही प्रक्रिया को बताया और ध्यान के महत्व के बारे में समझाया वहीं योग संस्थान से शौमिल शर्मा ने योग के महत्व को बताते हुए इसको दिनचर्या में शामिल करने पर बल दिया ।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केंद्राध्यक्ष आर .बी सिंह ने सभी का स्वागत किया।

इस अवसर पर श्रीमती रश्मि चौधरी जी ,प्रतिभा त्रिपाठी और ममता उपाध्याय मौजूद रहीं ।

lucknow

Jun 22 2022, 10:58

एटा: पूर्व सपा विधायक की भाई समेत 29 करोड़ रुपये की संपत्ति होगी कुर्क, नोटिस चस्पा

लखनऊ। एटा के पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव और जुगेंद्र सिंह यादव की संपत्ति कुर्क होगी। डीएम ने कुर्की की कार्रवाई के आदेश दिए थे। पुलिस ने मंगलवार शाम उनके प्रेमनगर स्थित आवास पर कुर्की का आदेश चस्पा किया। इस दौरान आवास पर मिली एक कार को कुर्क कर लिया गया। बता दें कि गैंगस्टर मामले में पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव जेल में बंद हैं।

दोनों सपा नेताओं पर 18 अप्रैल को गैंगस्टर एक्ट के तहत कोतवाली नगर में रिपोर्ट दर्ज की गई थी। पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव गिरफ्तार हो चुके हैं। जबकि जुगेंद्र सिंह यादव फरार चल रहे हैं। डीएम अंकित कुमार अग्रवाल ने 17 जून को दोनों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट की धारा 14-1 के तहत कार्रवाई कर दी। जिसमें दोनों नेताओं की करीब 29 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया। आदेश तामील कराने के लिए सात दिन का समय दिया गया था।

इसी के तहत सीओ सिटी कालू सिंह सहित कोतवाली देहात और नगर का पुलिस बल सपा नेताओं के प्रेमनगर स्थित आवास पर पहुंचा। पूरे आदेश को दीवारों पर चस्पा किया गया। वहीं आवास में खड़ी एक कार को कुर्क कर लिया गया। सीओ सिटी ने बताया कि डीएम के आदेश पर गैंगस्टर के आरोपियों की संपत्ति जब्तीकरण की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

पूर्व सपा विधायक रामेश्वर सिंह यादव और उनके भाई पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जुगेंद्र सिंह यादव पर गैंग बनाकर अवैध संपत्ति अर्जित करने का आरोप है। पूर्व विधायक के खिलाफ 78 मुकदमे और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ 81 मुकदमे दर्ज हैं।

lucknow

Jun 22 2022, 10:57

केजीएमयू में आज होगी कार्यपरिषद की बैठक, शिक्षकों से जुड़े कई मसले रखे जाएंगे

लखनऊ- केजीएमयू कार्यपरिषद की बैठक आज होगी। इसमें शिक्षकों से जुड़े कई मसले रखे जाएंगे। कुलसचिव कोरोना संक्रमित हो गए हैं। लिहाजा वे ऑनलाइन कार्यपरिषद से जुड़ेंगे।

केजीएमयू में कई विभागों में शिक्षकों की भर्ती हुई थी। इनमें दिव्यांगजन आरक्षण का पालन न होने के आरोप लगे। लिहाजा अभ्यर्थी कोर्ट की शरण में चले गए। बाद में मामला राजभवन भी पहुंच गया। अब राजभवन ने इस मसले पर फैसला लेने के निर्देश केजीएमयू को दिए हैं। केजीएमयू कार्यपरिषद में अभ्यर्थियों का लिफाफा खोला जा सकता है। केजीएमयू 2002 से विश्वविद्यालय बना। अभी तक केजीएमयू में शिक्षकों की वरिष्ठता सूची नहीं तैयार नहीं हुई थी। वरिष्ठता को लेकर रेडियो डायग्नोसिस विभाग में विवाद चल रहा है।

केजीएमयू इलाज महंगा करने मामला नहीं रखा जाएगा। हॉस्पिटल बोर्ड की ओर से पंजीकरण शुल्क दोगुना व अन्य इलाज में 10 फीसदी की बढ़ोतरी करने का निर्णय लिया था। जिसे अंतिम मुहर के लिए कार्यपरिषद में ले जाया जाना था। अब विवि ने निर्णय लिया है कि पहले इसे शासन मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। उसके बाद ही इस पर फैसला होगा। फिलहाल मरीजों को राहत मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।

lucknow

Jun 22 2022, 10:55

इत्र कारोबारी पीयूष जैन को इनकम टैक्स के तौर पर देने होंगे 187 करोड़ रुपए

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन बीते साल दिसंबर में तब चर्चा में आए थे, जब उनके घर से आयकर विभाग को भारी मात्रा में कैश और सोना चांदी मिला था। इसके बाद से जैन जेल में हैं और कई एजेंसियों ने उनसे पूछताछ की है। पीयूष जैन ने अब एजेंसियों से अपने इस धन पर इनकम टैक्स देने की बात कही है। जैन को करीब 187 करोड़ रुपए इनकम टैक्स के तौर पर देने होंगे।

जीएसटी इंटेलिजेंस डीजी और राजस्व खुफिया निदेशालय ने पीयूष जैन से जेल में पूछताछ की है। इसके बाद एजेंसी के सूत्रों ने पुष्टि की कि पीयूष जैन ने आयकर का भुगतान करने की पेशकश की है। पीयूष जैन के परिसर से जब्त की गई कुल राशि पर आयकर ने 87 फीसदी टैक्स तय किया है, जो करीब 187 करोड़ रुपए है।

एजेंसी ने पीयूष जैन के ठिकानों से करीब 197 करोड़ रुपये नकद, करीब 11 करोड़ का 23 किलो सोना और 6 करोड़ रुपए का 600 किलो चंद चंदन का तेल बरामद किया था। पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज वाले घरों में बीते साल दिसंबर में छापे पड़े थे।

पीयूष जैन ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया अहमदाबाद यूनिट के खाते में 54 करोड़ रुपए जमा किए थे और उन्होंने अपने घर से मिले सोने के लिए 4 करोड़ रुपए के आयात शुल्क का भुगतान किया था। पीयूष जैन को इनकम टैक्स के रूप में 187 करोड़ का भुगतान करना होगा।

lucknow

Jun 21 2022, 19:16

एक ही गाँव के 19 पुरुषों ने अपनाई नसबंदी, मुजफ्फरनगर के गालिबपुर गांव की आशा ने पेश की मिसाल

लखनऊ- एक ही गांव में 19 पुरुषों की नसबंदी। है ना चौंकाने वाली खबर लेकिन है सौ फीसद सच। यह सुखद खबर आई है मुजफ्फरनगर के खतौली ब्लाक से। यहां की आशा कार्यकर्ता सुदेश के प्रयास से यह कामयाबी हासिल हुई है। पश्चिम की यह खबर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक बदलाव की बयार लाने का संकेत दे रही है।

सुदेश को स्वास्थ्य विभाग ने परिवार नियोजन साधनों को अपनाने के लिए महिला व पुरुषों को प्रेरित करने की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी थी। उन्होंने सबसे पहले गालिबपुर गांव के उन सभी पुरुषों से संपर्क साधा, जिनका परिवार पूरा हो चुका था। पुरुषों के साथ ही उनकी पत्नी की काउंसिलिंग कर परिवार नियोजन के स्थायी साधन नसबंदी को अपनाने के लिए प्रेरित किया। उन्हें यह समझाने की हरसम्भव कोशिश की कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरुष नसबंदी ज्यादा सरल और सुरक्षित है। जो लोग यह कहते हैं कि नसबंदी से पुरुषों में कमजोरी आती है तो यह सरासर गलत और मनगढ़ंत बातें हैं, ऐसा कुछ भी नहीं है। उनके काम के लिए उन्हें सम्मानित भी किया गया है।

अपनी बात को मजबूती से रखकर सुदेश ने एक साल के भीतर 19 पुरुषों को नसबंदी के लिए राजी कर लिया। नवम्बर 2021 में पुरुष नसबंदी पखवाड़ा के दौरान आठ लोगों ने स्वेच्छा से नसबंदी की सेवा प्राप्त की। इसके अलावा नवम्बर से अब तक सुदेश 11 और पुरुषों की नसबंदी करा चुकी हैं। जून 2022 में भी उन्होंने दो पुरुषों की नसबंदी करवायी है। सुदेश का कहना है कि अब परिवार नियोजन को लेकर लोग उनकी बात ध्यान से सुनते हैं और मानते हैं।

परिवार नियोजन के फायदे बताकर किया राजी

सुदेश का कहना है- अक्सर समाज में फैली भ्रांतियों के चलते पुरुष नसबंदी करवाने से कतराते हैं और ठान लेते हैं कि नसबंदी नहीं कराएंगे। इसी वजह से वह प्रयास तो दूर नसबंदी के बारे में सोचते भी नहीं है। झिझक को छोड़कर जब गांव के लोगों की भ्रांतियों को दूर करते हुए बातचीत का सिलसिला शुरू किया और फायदे गिनाए तो वह नसबंदी को राजी होने लगे। उन्होंने बताया- आठ लोगों ने परिवार नियोजन का यह स्थाई साधन पुरुष नसबंदी पखवाड़े के दौरान अपनाया, बाकी लोग इसका महत्व समझकर आगे आते रहे। सुदेश कहती हैं वह परिवार नियोजन का महत्व समझाती गयीं और लोग समझते गये, परिणाम सामने है।

परिवार नियोजन का स्थायी साधन अपनाने वाले नीटू ने बताया- उनकी उम्र 29 वर्ष है। परिवार में पत्नी पूजा और तीन बच्चे हैं। महंगाई के इस दौर में मजदूरी करके तीन बच्चों का भरण-पोषण बहुत मुश्किल है। नीटू ने बताया- आशा कार्यकर्ता सुदेश ने जब उन्हें छोटे परिवार के बड़े फायदे गिनाये तो वह शुरू में तो झिझक की वजह से आनाकानी करने लगे, लेकिन पत्नी के समझाने पर नसबंदी कराने के लिए राजी हो गए।

इसी तरह नसबंदी अपनाने वाले श्रवण ने बताया -उनकी पत्नी सरिता सुन और बोल नहीं सकती है। आशा कार्यकर्ता ने जब उन्हें परिवार नियोजन के फायदे बताए और यह भी बताया कि उनकी पत्नी नसबंदी कराएगी तो वह अपनी परेशानी बोलकर बता भी नहीं पाएगी। पत्नी की परेशानी को समझते हुए श्रवण ने नसबंदी कराने का फैसला किया।

lucknow

Jun 21 2022, 19:15

बास्केट ऑफ चॉइस की मदद लें, परिवार सीमित रखें और मातृ स्वास्थ्य बेहतर करें

लखनऊ- बास्केट ऑफ़ च्वाइस में परिवार नियोजन के लिए नौ साधनों को शामिल किया गया है। इस बारे में उचित सलाह के लिए स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक,परिवार नियोजन काउंसलर, आशा कार्यकर्ता और एएनएम की मदद ली जा सकती है।

परिवार कल्याण कार्यक्रम की नोडल अधिकारी डॉ. मिश्रा का कहना है कि स्वास्थ्य केंद्रों पर परिवार नियोजन काउंसलर व कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर (सीएचओ) की मदद से बॉस्केट ऑफ च्वाइस के बारे में लाभार्थी की स्थिति के अऩुसार सही परामर्श दिया जाता है । प्रत्येक माह की 21 तारीख को आयोजित होने वाले खुशहाल परिवार दिवस, प्रत्येक शुक्रवार को आयोजित होने वाले अंतराल दिवस एवं प्रत्येक माह की नौ तारीख को आयोजित होने वाले प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान दिवस पर भी इस बारे में जानकारी दी जाती है । पुरुष और महिला नसबंदी, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी, त्रैमासिक अंतरा इंजेक्शन, माला एन, कंडोम, छाया और ईसीपी की गोलियां बॉस्केट ऑफ च्वाइस का हिस्सा हैं ।

डॉ. अभिलाषा बताती हैं कि परिवार नियोजन का साधन हर लाभार्थी अपनी जरूरत और पसंद के हिसाब से अपनाता है, लेकिन काउंसलर और चिकित्सकों को दिशा-निर्देश है कि वह लाभार्थी के उन पहलुओं की भी जानकारी जुटाएं। जिनमें कोई साधन विशेष उनके लिए उपयुक्त है या नहीं ।

काकोरी ब्लॉक के कुसमौरा गाँव की कल्पना बताती हैं कि जब वह दूसरी बार गर्भवती थीं तो आशा दीदी ने उनको बताया था कि प्रसव के तुरंत बाद आईयूसीडी लगवा सकते हैं और जब बच्चा चाहिए तो उसे हटवा दें। हमने आशा दीदी की बात को माना और दूसरा बच्चा होने के तुरंत बाद लगभग तीन साल पहले उन्होंने आईयूसीडी लगवाया। इसके लगवाने के बाद अभी तक उन्हें उन्हें कोई समस्या नहीं हुई है।