India

Jun 21 2022, 12:21

#mlaanantsinghgot10yearsimprisonmentinak47case

बाहुबली विधायक अनंत सिंह को AK-47 केस में 10 साल की सजा, जा सकती है विधायकी

बिहार के मोकामा से राजद के बाहुबली विधायक अनंत सिंह को घर में एके-47, मैगजीन और ग्रेनेड रखने के मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। पटना की एमपी-एमएलए कोर्ट ने मंगलवार को 10 साल कैद में रहने की सजा सुनाई। 14 जून को उन्हें कोर्ट ने दोषी करार दिया था।इस सजा के ऐलान के बाद अब अनंत सिंह की विधायकी पर भी खतरा मंडराने लगा है।

मोकामा के विधायक अनंत सिंह अभी पटना की बेऊर जेल में बंद हैं। इस सजा के ऐलान के बाद अनंत सिंह की विधायकी भी जा सकती है, क्योंकि अमूमन किसी भी विधानसभा सदस्य को आपराधिक मामले में दो साल की सजा मिलने पर सदस्यता चली जाती है।हालांकि, अनंत सिंह के वकील सुनील कुमार ने कहा कि सजा के फैसले को पटना हाइकोर्ट में चुनौती दी जाएगी और अपील दायर की जाएगी। इस मामले में बाहुबली विधायक के साथ उनके घर के केयरटेकर सुनील राम को भी इस मामले में 10 साल की सजा सुनाई गई है।

11 घंटे तक अनंत सिंह के घर पर चला था छापा

बता दें कि बिहार पुलिस ने साल 2019 के अगस्त महीने में अनंत सिंह के बाढ़ थाने के अंतर्गत आने वाले गांव लदमा के पुश्तैनी घर पर छापा मारा था। जिसमें एक एके-47, मैगजीन, हैंड ग्रेनेड और दो दर्जन से अधिक कारतूस की बरामदगी हुई थी।अगस्त, 2019 में तत्कालीन एएसपी लिपि सिंह के नेतृत्व में तड़के चार बजे की गई छापेमारी में करीब 11 घंटे तक अनंत सिंह के घर पर तलाशी अभियान चला था। इस छापेमारी के दौरान छह थानों की पुलिस ने भाग लिया था।छापेमारी की खबर के बाद बाहुबली विधायक अनंत सिंह वहां से निकल गए थे, चार दिनों की फरारी के बाद में अनंत सिंह ने दिल्ली की साकेत कोर्ट में सरेंडर किया था। इस मामले में उनके घर के केयरटेकर सुनील राम को गिरफ्तार किया गया था।

स्पीडी ट्रायल के तहत प्रतिदिन 34 माह तक चली

इस कांड की सुनवाई स्पीडी ट्रायल के तहत प्रतिदिन यानी 34 माह तक चली। इस कांड में विधायक अनंत सिंह को सुप्रीम कोर्ट तक से जमानत नहीं मिली थी। 25 अगस्त 2019 से न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। इस मामले विधायक और उनके केयर टेकर पर 15 अक्टूबर 2020 में आरोप गठित किया गया था। इसके बाद विशेष लोक अभियोजक ने 13 पुलिस अभियोजन गवाहों को कोर्ट में पेश किया। विधायक की ओर से बचाव पक्ष में 34 गवाह पेश किए गए।


India

Jun 21 2022, 11:36

#yashwantsinhawillbethecandidatefromtheopposition 

यशवंत सिन्हा होंगे विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार? पूर्व केंद्रीय मंत्री के ट्वीट ने बढ़ायी हलचल

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार ने आज मंगलवार को दिल्ली में बैठक बुलाई है।राष्ट्रपति चुनाव की रणनीति को लेकर एनसीपी नेता शरद पवार के आवास पर 17 दलों के विपक्षी नेताओं की बैठक शुरू हो गई है। इस बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के एक ट्वीट ने राष्ट्रपति चुनाव की सरगर्मी को बढ़ा दिया है। माना जा रहा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को विपक्ष की तरफ से राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार घोषित किया जा सकता है। 

आज सुबह यशवंत सिन्हा के एक ट्वीट ने इन अटकलों को और बल दे दिया है। टीएमसी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा, टीएमसी में उन्होंने मुझे जो सम्मान और प्रतिष्ठा दिया, उसके लिए मैं ममता जी का आभारी हूं। अब एक समय आ गया है जब एक बड़े राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए मुझे पार्टी से हटकर अधिक विपक्षी एकता के लिए काम करना होगा। मुझे यकीन है कि वह इस कदम को स्वीकार करती हैं। उनके इस ट्वीट के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि विपक्ष की ओर से वह राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। 

इससे पहले विपक्ष की ओर से अब तक चार नाम सामने आ चुके हैं। हालांकि, सभी जगह से मायूसी ही हाथ लगी है।15 जून को तृणमूल ने दिल्ली में विपक्ष की बैठक बुलाई थी, जिसमें सर्वसम्मति से विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में शरद पवार का नाम प्रस्तावित किया गया था। हालांकि, पवार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।ममता बनर्जी ने तब नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी के नामों को दो संभावित नामों के रूप में प्रस्तावित किया था। हालांकि, अब्दुल्ला और गोपाल कृष्ण, दोनों ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है।

बता दें कि सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी सिन्हा ने पहले अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में केंद्रीय वित्तमंत्री और फिर विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया था। उन्होंने 2021 में तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने से पहले 2018 में बीजेपी छोड़ दी। उन्हें पिछले साल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया था।


India

Jun 21 2022, 11:33

#bjpwilldiscusswithalliestodayaboutpresidentialelection

कौन होगा एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार, आज एनडीए के सभी सहयोगी दलों के बीच होगा मंथन

देश में राष्ट्रपति चुनाव के लिए अब बस 28 दिन बचे हैं। जैसे-जैसे चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है सियासी गलियारों में हलचल बढ़ती जा रही है।हालांकि, अभी तक ना तो सत्ता पक्ष और ना ही विपक्ष के द्वारा इस पद के लिए किसी कैंडिडेट के नाम की घोषणा की गई है। इसी बीच भाजपा नेता आज राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने उम्मीदवार को अंतिम रूप देने के लिए अपनी पहली औपचारिक बैठक करेंगे। कुछ ही दिनों के भीतर औपचारिक रूप से नाम की घोषणा होने की संभावना है।

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए उम्मीदवार तय करने को लेकर भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक मंगलवार शाम को होगी। इस बैठक के साथ ही पार्टी नेतृत्व एनडीए के सभी सहयोगी दलों के साथ भी उम्मीदवार के नाम को लेकर चर्चा करेगा। आज होने वाली इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा मंगलवार शामिल होंगे। बीजेपी मुख्यालय में ये सभी सहयोगी दलों के साथ-साथ गैर-एनडीए संगठनों की प्रतिक्रिया पर भी चर्चा करेंगे।

भाजपा नेतृत्व ने हाल में ही पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर विभिन्न दलों के साथ चर्चा करने का जिम्मा सौंपा था। दोनों नेताओं ने विपक्ष के विभिन्न दलों के नेताओं के साथ सत्ता पक्ष और क्षेत्रीय दलों के नेताओं के नेताओं से टेलीफोन पर चर्चा कर उनके सुझाव लिए और उम्मीदवार के नाम को लेकर सर्वानुमति बनाने को लेकर भी बात की।

बता दें कि भाजपा में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए 10 से ज्यादा दिग्गजों के नामों पर बातचीत जारी है। हालांकि, इनमें पांच ऐसे नाम हैं, जिनकी सबसे ज्यादा चर्चा है। बीजेपी की तरफ से राष्ट्रपति पद के लिए कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत के नाम की काफी चर्चा है। गहलोत मध्य प्रदेश के दलित समुदाय से आते हैं। कहा जा रहा है कि भाजपा लगातार दूसरी बार दलित वोटर्स को साधने के लिए दलित चेहरे पर दांव खेलना चाहती है। 

वहीं एक कयास ये भी है कि पहली बार भाजपा किसी आदिवासी चेहरे को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बना सकती है। इसमें छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके और झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्म के नाम की सबसे ज्यादा चर्चा है। खास बात ये भी है कि दोनों महिलाएं हैं। 

इसके अलावा किसी मुस्लिम चेहरे को भी राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाए जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। इनमें केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी शामिल हैं। किसी मुस्लिम चेहरे को राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति बनाकर भाजपा एक संदेश देना चाहेगी। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान भी ऐसा ही हुआ था। तब भाजपा की तरफ से डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को उम्मीदवार बनाया गया था।


India

Jun 21 2022, 11:08

#monsoon_update

दिल्ली में मानसून का इंतजार होने वाला है खत्म, मौसम विभाग ने बताया कब देगा दस्तक

मानसून का इंतजार कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है। दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में बारिश के चलते गर्मी से राहत मिली है। राष्ट्रीय राजधानी, नोएडा और एनसीआर के कई इलाकों में बारिश होने से मौसम सुहाना हो गया। रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण तापमान में कमी आई है। हालांकि, अभी तक मानसून ने यहां पर दस्तक नहीं दी है।

6 दिन बाद मानसून पहुंचेगा दिल्ली

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, सफदरजंग में अगले तीन-चार दिनों में अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहने की संभावना है और 26 जून तक तापमान 38 डिग्री सेल्सियस से नीचे रहने का अनुमान है।मौसम विज्ञानियों का कहना है कि दक्षिण-पश्चिमी मानसून अपनी सामान्य तारीख 27 जून के आसपास दिल्ली पहुंचेगा और जून के अंत तक बारिश की कमी पूरी हो जाएगी। दिल्ली में पिछले तीन दिनों से जारी मानसून पूर्व बारिश से वर्षा की कमी में कुछ पूर्ति हुई है और यह घटकर 34 फीसदी रह गई है।

पूर्वी राज्यों में तेज बारिश के साथ आंधी-तूफान की संभावना

वैज्ञानिकों ने बताया, दक्षिणी-पश्चिम मानसून मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, बंगाल की खाड़ी समेत ओडिशा में आगे बढ़ गया है। इसके अलावा झारखंड, बिहार और दक्षिण-पूर्व उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों की ओर भी मानसून आगे बढ़ रहा है। मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि अगले पांच दिनों में पश्चिमी पट पर मूसलाधार बारिश हो सकती है। इसके अलावा उत्तर, मध्यम और पूर्वी भारत के राज्यों में भी तेज बारिश के साथ आंधी-तूफान की संभावना है।


India

Jun 21 2022, 10:40

#nationalheraldcaseedsummonsrahulgandhififthtime 

नेशनल हेरॉल्ड केस में राहुल गांधी से आज भी ईडी की पूछताछ, सोमवार को करीब आठ घंटे चला सवाल-जवाब

नेशनल हेरॉल्ड केस में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ जारी है। सोमवार को चौथी बार नेशनल हेराल्ड मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष सुबह 11:05 बजे पूछताछ के लिए पेश हुए। उन्हें मंगलवार को फिर बुलाया गया है।राहुल गांधी से अब तक कुल 36 घंटे की पूछताछ हो चुकी है।सोमवार को राहुल गांधी ने कुल आठ घंटे तक सवाल-जवाब किया गया था। 

इन सबके बीच कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर कांग्रेस नेताओं के साथ दिल्ली पुलिस की बदसलूकी के बारे में शिकायत की। सोमवार को राहुल गांधी करीब 11 बजकर पांच मिनट पर ईडी दफ्तर में दाखिल हुए और पहले चक्र में करीब साढ़े चार घंटे तक पूछताछ हुई थी। दोबारा चार बजे के करीब वो फिर ईडी दफ्तर पहुंचे और दूसरे दौर की पूछताछ हुई। बता दें कि राहुल गांधी से ईडी ने 13 जून, 14 जून, 15 जून और 20 जून को पूछताछ की है। प्रवर्तन निदेशालय ने पूछताछ के लिए सोनिया गांधी को 23 जून को बुलाया है। 

वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं व समर्थकों ने ईडी की कार्रवाई के खिलाफ प्रदर्शन किया। यही नहीं पूरी दिल्ली में अलग-अलग जगह कांग्रेस समर्थक सड़क पर उतरे। इसे देखते हुए ईडी दफ्तर व आसपास के इलाकों में धारा 144 लागू रही। कुछ जगहों पर आंदोलन हिंसक हो गया क्योंकि पार्टी कार्यकर्ताओं की पुलिस और अर्धसैनिक बलों से झड़प हो गई। शीर्ष नेताओं सहित सैकड़ों कांग्रेस समर्थकों को पिछले सप्ताह बिना अनुमति के विरोध करने और निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के लिए हिरासत में लिया गया था।


India

Jun 21 2022, 10:32

हिमाचल प्रदेश में बीच रास्ते में अटकी टिंबर ट्रेल केबल कार, 

2 केबल कारों में कुल 15 लोग फंसे, बाद में सभी बचाए गए

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में टिंबर ट्रेल रोपवे में केबल कार बीच रास्ते में फंस गई। घटना में 2 केबल कारों में 15 लोग फंस गए, जिन्हें बाद में बचा लिया गया। सोलन के टीटीआर रिसोर्ट परवाणू में टेक्निकल फाल्ट आने के कारण कुछ घंटो तक यह केबल कार फंस रही। यात्रियों को बचाने के लिए NDRF की टीम को बुलाया गया।

आपदा प्रबंधन के प्रधान सचिव ओंकार चंद शर्मा ने बताया कि दो केबल कारों में कुल 15 लोग फंसे हुए थे। ऊपर जाने वाली ट्रॉली में चार और डाउनहिल ट्रॉली में 11 लोग थे। एनडीआरएफ की टीम जल्द ही मौके पर पहुंचेगी, वायुसेना अलर्ट पर है। पहले चरण में अपहिल ट्रॉली में सवार चार लोगों को बचा लिया गया। डाउनहिल ट्रॉली में सवार 11 लोगों में से 7 को बचा लिया गया है और शेष 4 के आधे घंटे में बचा लिए जाने की उम्मीद है। बाद में सभी को बचा लिया गया।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि सभी 11 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। खराब मौसम के कारण बचाव दल को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। मैं गृह मंत्री अमित शाह को एनडीआरएफ टीम को जल्द से जल्द मौके पर पहुंचाने और फंसे हुए लोगों के बचाव के लिए वायुसेना को अलर्ट पर रखने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं।

एनडीआरएफ अधिकारी बलजिंदर सिंह ने कहा कि इस बचाव अभियान में सबसे बड़ी बाधा फंसे हुए पर्यटकों को यह विश्वास दिलाना था कि हम उन्हें सफलतापूर्वक सुरक्षित निकाल सकते हैं। पूरे रेस्क्यू में करीब 3-4 घंटे लगे। इसके अलावा हम हाल ही में रोपवे का सर्वेक्षण कर रहे हैं।  

 

केबल कार के भीतर फंसे लोगों के वीडियो भी सामने आए। वह वीडियो में खुद को रेस्क्यू करने की अपील करते सुनाई दे रहे हैं। केबल कार में फंसे एक शख्स ने बताया कि वह पिछले दो घंटे से केबल कार के अंदर फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें कोई मदद नहीं मिली है।

वहीं परवाणू के डीएसपी प्रणव चौहान ने घटना को लेकर बताया कि केबल कार सिस्टम में तकनीकी खराबी आने की वजह से दो वरिष्ठ नागरिकों और चार महिलाओं समेत 11 लोग पिछले डेढ़ घंटे से केबल कार ट्रॉली में फंसे हुए हैं। उनके बचाव के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही सबको सुरक्षित निकाल लिया जाएगा।

30 साल पहले हुआ था बड़ा हादसा

बता दें कि इस रोपवे पर 30 साल पहले भी एक बड़ा हादसा हुआ था। साल 1992 में इस रोपवे पर करीब 10 जिंदगियां तीन दिनों तक केबल कार में फंसी हुईं थीं। तब आर्मी और एयरफोर्स के जवानों ने अपनी जान पर खेलकर फंसे हुए लोगों को रेस्क्यू किया था। उस हादसे में एक शख्स की मौत हो गई थी।


India

Jun 21 2022, 10:30

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव के नतीजे घोषित, 10 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा 5 सीटों पर विजेता, शिवसेना के दोनों उम्मीदवार व कांग्रेस के एक जीते

विधान परिषद अध्यक्ष और राकांपा उम्मीदवार रामराजे निंबालकर, उच्च सदन में विपक्ष के नेता भाजपा के प्रवीण दारेकर और भाजपा के पूर्व मंत्री और अब राकांपा के उम्मीदवार एकनाथ खडसे ने आसानी से जीत हासिल करने के लिए पर्याप्त संख्या में पहली वरीयता के वोट हासिल किए। शिवसेना के दोनों उम्मीदवारों सचिन अहीर और अमश्य पड़वी ने भी जीत हासिल की।

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं। 10 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा ने 5 सीटों पर जीत हासिल कर ली है। 10 सीटों के लिए 11 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे। भाजपा ने 5 उम्मीदवार उतारे थे जबकि एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की ओर से दो-दो उम्मीदवार उतारे गए थे। 9 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल 7 जुलाई को समाप्त हो रहा था। यही कारण था कि चुनाव कराए गए हैं। वही, दसवीं सीट के लिए चुनाव इस वजह से हुए क्योंकि इसी साल भाजपा विधायक की मृत्यु हो गई थी। हालांकि, भाजपा की जीत कहीं ना कहीं महा विकास आघाडी के लिए बड़ा झटका है। महा विकास आघाडी लगातार छह सीटों पर जीत का दावा कर रही थी। भाजपा ने 5 सीटों पर जीत हासिल करके अपनी ताकत दिखा दी है।

भाजपा के सभी पांच उम्मीदवारों प्रवीण दरेकर, राम शिंदे, श्रीकांत भारतीय, उमा खपरे और प्रसाद लाड चुनाव जीते हैं। शाम करीब सात बजे दो घंटे की देरी से शुरू हुई मतगणना थी। सभी आठ उम्मीदवारों ने राज्य विधानमंडल के उच्च सदन में जगह बनाने के लिए न्यूनतम 26 वोट का कोटा हासिल कर लिय़ा था। विधान परिषद अध्यक्ष और राकांपा उम्मीदवार रामराजे निंबालकर, उच्च सदन में विपक्ष के नेता भाजपा के प्रवीण दारेकर और भाजपा के पूर्व मंत्री और अब राकांपा के उम्मीदवार एकनाथ खडसे ने आसानी से जीत हासिल करने के लिए पर्याप्त संख्या में पहली वरीयता के वोट हासिल किए। शिवसेना के दोनों उम्मीदवारों सचिन अहीर और अमश्य पड़वी ने भी जीत हासिल की। कांग्रेस के भाई जगताप को जीत मिली है।

भाजपा ने पांच उम्मीदवार- दरेकर, राम शिंदे, उमा खापरे, श्रीकांत भारतीय और प्रसाद लाड को मैदान में उतारा था, जिनमें से पहले चार को चुनाव जीतने के लिए आवश्यक न्यूनतम कोटा पहले ही मिल चुका है। भाजपा विधायक अतुल भाटखलकर ने कहा, ‘‘दारेकर को पहली वरीयता के 29 वोट मिले, जबकि राम शिंदे और भारतीय को पहली वरीयता के 30 वोट मिले। इसका मतलब है कि सूची में शीर्ष तीन उम्मीदवारों के हमारे अतिरिक्त वोट हमारे पांचवें उम्मीदवार प्रसाद लाड को स्थानांतरित हो जाएंगे।’’ उन्होंने कहा कि यदि आप भाजपा उम्मीदवारों को पहली वरीयता के सभी वोटों की गिनती करते हैं, तो पार्टी को 133 वोट मिले हैं। महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा के 106 विधायक हैं, जबकि उसके उम्मीदवारों के लिए शेष वोट या तो निर्दलीय विधायकों से आए हैं, या छोटे दलों के विधायकों के हैं।


India

Jun 21 2022, 10:16

#internationalyogaday_2022 

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भारत सहित दुनिया भर में लोगों ने किया योगाभ्यास, पीएम मोदी ने मैसूर से दिया ये संदेश

आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है।आठवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मंगलवार सुबह भारत सहित दुनिया भर में लोग योग करते नजर आए। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2014 में संयुक्त राष्ट्र से योग दिवस मनाने की अपील की। पीएम मोदी की इस अपील के बाद संयुक्त राष्ट्र ने हर साल 21 जून को योग दिवस मनाने की घोषणा की। दुनिया में हर साल 180 से ज्यादा देश योग को एक मिशन के रूप में मनाते हैं। 

आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मैसूर पैलेस ग्राउंड पहुंचे, जहां वह 15 हजार से अधिक लोगों के साथ योग किया। योग दिवस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कल वह कर्नाटक पहुंचे। पीएम मोदी ने केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई सहित कई अन्य लोगों के साथ योग किया।देश और विश्व भर के सभी लोगों को 8वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। आज योग दिवस के अवसर पर मैं कर्नाटक की सांस्कृतिक राजधानी, आध्यात्म और योग की धरती मैसूरु को प्रणाम करता हूं।

इस बार अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम है “मानवता के लिए योगा”

मैसूर पैलेस ग्राउंड में बड़ी संख्या में जुटे लोगों को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि इस बार अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम है “मानवता के लिए योगा”। मैं इस थीम के जरिए योग के इस संदेश को पूरी मानवता तक पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र का और सभी देशों का हृदय से धन्यवाद करता हूं। पीएम ने कहा हम कितने तनावपूर्ण माहौल में क्यों न हों, कुछ मिनट का ध्यान हमें तनावमुक्त कर देता है, हमारी सृजनात्मकता बढ़ा देता है। इसलिए, हमें योग को एक अतिरिक्त काम के तौर पर नहीं लेना है। हमें योग को जानना भी है, हमें योग को जीना भी है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी की योग क्रियाएं

वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में योग की क्रियाएं कीं। उन्होंने कहा कि योग प्राचीन भारतीय विरासत का एक हिस्सा है। यह मानवता को एक देन है। यह मानसिक, शारीरिक एवं आध्यात्मिक दशाओं में संतुलन लाने का काम करता है।

राजनाथ सिंह, नड्डा और अरविंद केजरीवाल ने भी किया योग

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी योग किया। रक्षा मंत्री के अलावा केंद्र सरकार के मंत्री अलग-अलग जगहों पर योगासन किया और लोगों को इसे अपने जीवन में उतारने का संदेश दिया। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने नोएडा स्टेडियम में सैकड़ों लोगों के साथ योग किया। इसके साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने त्यागराज स्टेडियम में लोगों के साथ योग किया।


India

Jun 21 2022, 09:55

#maharashtrapoliticswarm

महाराष्ट्र में फिर सियासी महाभारत! मंत्री एकनाथ शिंदे और 13 अन्य विधायकों से शिवसेना का नहीं हो रहा संपर्क, सीएम उद्धव ने बुलाई आपात बैठक

महाराष्ट्र में एक बार फिर सियासी महाभारत की स्थिति पैदा होती दिख रही है। राज्यसभा चुनाव के बाद विधान परिषद चुनाव में भी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, शिवसेना और कांग्रेस गठबंधन को झटका दिया है। कुल 10 सीटों में बीजेपी और महाविकास अघाड़ी को पांच पांच सीटें मिली हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि बीजेपी का पांचवां उम्मीदवार कैसे जीत गया। नतीजे से साफ है कि विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है। जिसने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की चिंता बढ़ा ही दी है। 

सीएम उद्धव ठाकरे ने आपात बैठक बुलाई

इसी बीच खबरें आ रही हैं कि कल देर शाम हुए चुनाव के बाद से महाराष्ट्र के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे और 13 अन्य विधायकों से शिवसेना का संपर्क नहीं हो रहा है।मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि शिवसेना के 10-12 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ सूरत की होटल में हैं। कहा जा रहा है कि शिंदे भाजपा नेतृत्व के संपर्क में है। उभरते सियासी संकट के बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने आपात बैठक बुलाई है। खास बात यह है कि 24 घंटों में यह दूसरी आपात बैठक होने वाली है। 

एकनाथ शिंदे और 13 अन्य विधायक गायब

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से ऐसी अफवाहें चल रही थीं कि एकनाथ पार्टी के कामकाज से खुश नहीं थे। नतीजे आने के बाद बीती रात सभी विधायक सीएम उद्धव ठाकरे के आवास 'वर्षा' में मिले। इस बैठक से एकनाथ शिंदे और 13 अन्य विधायक गायब थे।

भाजपा ने अकेले पांच सीटें जीत ली

गौरतलब हो कि महाराष्ट्र विधान परिषद के चुनाव में कल बड़े पैमाने पर क्रॉस वोटिंग हुई थी। 10 सीटों के लिए सोमवार को हुए चुनाव में सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी(एमवीए) को फिर झटका लगा है। भाजपा ने अकेले पांच सीटें जीत लीं वहीं, शिवसेना व राकांपा ने दो-दो सीटें जीतीं तो कांग्रेस के हाथ सिर्फ एक सीट आई। इस दौरान क्रॉस वोटिंग की आशंका इसलिए गहरा गई है, क्योंकि शिवसेना को अपने 55 विधायकों व समर्थक निर्दलीय विधायकों के बावजूद सिर्फ 52 वोट मिले हैं।शिवसेना की तरफ से सचिन अहिर और आमश्या पाडवी को जीत मिली है जबकि एनसीपी की तरफ से रामराजे निंबालकर और एकनाथ खड़से ने जीत हासिल की है। भाजपा की ओर से प्रसाद लाड, श्रीकांत भारतीय, प्रवीण दरेकर, उमा खापरे और राम शिंदे ने बाजी मारी है। कांग्रेस के उम्मीदवार भाई जगताप को भी जीत मिली है।

कांग्रेस विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग

सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस के 44 विधायक थे लेकिन इनमें से सिर्फ 41 ने ही कांग्रेस को पहली प्राथमिकता दी। तीन विधायकों के क्रास वोटिंग करने की खबर सामने आई। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि पार्टी के उम्मीदवारों को कुल 134 वोट मिले हैं। इससे पहले मतगणना को लेकर देर रात तक हंगामा होता रहा।


India

Jun 21 2022, 09:45

इस साल 8,000 हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (एचएनआई) भारत छोड़ देंगे, लंदन के वैश्विक नागरिकता और निवास सलाहकार हेनले एंड पार्टनर्स (एचएंडपी) की 2018 की रिपोर्ट से हुआ खुलासा

 सर्वेक्षणों से पता चल रहा है कि अमीर भारत से जा रहे हैं। लंदन स्थित वैश्विक नागरिकता और निवास सलाहकार हेनले एंड पार्टनर्स (एचएंडपी) की 2018 की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल लगभग 8,000 हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (एचएनआई) भारत छोड़ देंगे। वॉल-स्ट्रीट इन्वेस्टमेंट बैंक मॉर्गन स्टेनली के आंकड़ों से इन दावों का पता चलता है। 2018 की एक बैंक रिपोर्ट में पाया गया कि 2014 के बाद से 23,000 भारतीय करोड़पति देश छोड़ चुके हैं। हाल ही में, एक ग्लोबल वेल्थ माइग्रेशन रिव्यू रिपोर्ट से पता चला है कि केवल 2020 में लगभग 5,000 करोड़पति, या भारत में उच्च निवल मूल्य वाले व्यक्तियों की कुल संख्या में से 2 फीसदी ने देश छोड़ दिया।

 

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एचएंडपी के मुताबिक अमीर लोगों के भारत छोड़ने का मुख्य कारण कोविड-19 है। इस दौरान उनमें अपने जीवन और संपत्ति का वैश्वीकरण करने का ट्रेंड बढ़ा है। फर्म ने इस बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए पिछले साल लॉकडाउन के बीच में भारत में अपना ऑफिस स्थापित किया। डॉमिनिक वोलेक (हेनले एंड पार्टनर्स के ग्रुप हेड ऑफ प्राइवेट) के अनुसार वे (क्लाइंट) महसूस कर रहे हैं कि वे महामारी की दूसरी या तीसरी लहर की प्रतीक्षा नहीं करना चाहते हैं।

वोलेक के अनुसार अमीर लोग अब अपने कागजात लेना चाहते हैं और वे तैयार बैठे हैं। वे इसे बीमा पॉलिसी या प्लान बी के रूप में संदर्भित करते हैं। बॉब ढिल्लों, कनाडाई-भारतीय रियल एस्टेट मैग्नेट और मेनस्ट्रीट इक्विटी कॉर्प के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, इसे भारत से प्रवास की तीसरी लहर के रूप में देखते हैं। पहली लहर पंजाब के गरीब और सीमांत किसानों के एक सदी पहले पश्चिमी देशों में चले जाना और उसके बाद बेहतर काम करने और रहने की स्थिति की तलाश में प्रोफेश्नल्स का भारत से जाना।

5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी को झटका

जानकार कहते हैं कि अमीर भारतीयों का दूसरे देश में जाना या दूसरे देश में निवास करना भारत के लिए चिंता का विषय हो सकता है क्योंकि देश की योजना 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था तक पहुंचने का है। अमीरों का ये पलायन स्थायी नहीं है। लोग अपने देश से अपना सारा पैसा निकालने और व्यापारिक संबंधों को काटने के बजाय केवल दूसरे देश में फॉल-बैक विकल्प के रूप में पैसा लगाते हैं। लेकिन यह भारत जैसे विकासशील देश के लिए शुभ संकेत नहीं है।

यूएस, यूके और कनाडा पसंदीदा देश

यूएस, यूके और कनाडा पसंदीदा देश हैं। यूरोपीय संघ के देश, साथ ही पारंपरिक पसंदीदा दुबई और सिंगापुर, भारतीयों के बीच लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं। जबकि सिंगापुर अपनी मजबूत कानूनी प्रणाली और विश्व स्तरीय वित्तीय सलाहकारों तक एक्सेस के कारण डिजिटल उद्यमियों और फैमिली ऑफिसेज के लिए एक लोकप्रिय विकल्प है, दुबई गोल्डन वीज़ा लेने में आसानी और इसके कई विकल्पों के कारण कुछ सर्किलों में काफी बेहतर माना जा रहा है।

हेनले प्राइवेट वेल्थ माइग्रेशन डैशबोर्ड के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात को 2022 (कम से कम 4,000) में वैश्विक स्तर पर सबसे अधिक एचएनडब्ल्यूआई प्राप्त करने का अनुमान लगाया गया है। ऑस्ट्रेलिया (3,500) के बाद सिंगापुर तीसरे स्थान पर है, जहां 2,800 ऐसे लोग पहुंच सकते हैं। इजराइल 2500 के स्कोर के साथ चौथे स्थान पर है। इसके बाद स्विट्जरलैंड (2200) और अमेरिका (1500) का नंबर है।