Bihar

Jun 20 2022, 16:51

अग्निपथ नीति को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने केन्द्र सरकार से किये 20 सवाल, 22 जून को महागठनबंधन के राजभवन मार्च का किया एलान

डेस्क : अग्निपथ नीति पर मचे घमासान पर अब सियासत भी तेज हो गई है। पिछले दिनों बिहार बंद को राजद समेत विपक्ष की कई पार्टियों द्वारा उसे समर्थन दिये जाने के बाद अब विपक्ष की ओर से एक बड़ा एलान किया गया है। 

बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने घोषणा की है कि युवाओं को नौकरी एवं अग्निपथ योजना की वापसी की मांग को लेकर 22 जून को सुबह नौ बजे महागठबंधन के सभी विधायक विधानसभा से लेकर राजभवन तक पैदल मार्च करेंगे। उन्होंने यह जानकारी रविवार को अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर साझा की है। 

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने रविवार को नयी दिल्ली में बुलायी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि केंद्र सरकार की बिना सोचे समझे लायी गयी योजनाएं टेक ऑफ से पहले ही क्रेश हो जाती हैं। भाजपा के लोग अंतत: माफी भी मांग लेते हैं। उन्होंने केंद्र से कहा कि युवाओं के साथ ‘चार वर्षीय मजाक’ न करे। अपनी नीतियों को लेकर देश के युवाओं से माफी मांगें। इस दौरान उन्होंने अग्निपथ योजना से जुड़े सवाल उठाते हुए उनके जवाब भी मांगे। 

तेजस्वी यादव ने केन्द्र सरकार से पूछा कि क्या अग्निवीरों को नियमित सैनिकों की तरह छुट्टियां मिलेंगी? ठेके पर अफसरों की भर्ती क्यों नहीं? संविदा पर अफसरों की भर्ती क्यों नहीं? क्या इस योजना के पीछे और भी कोई मंशा है? नौकरी के बाद उन्हें मिलने वाली एकमुश्त राशि पर टैक्स लगेगा? सरकार अग्निवीरों को ग्रैच्युटी देगी? कैंटीन और चिकित्सा व अन्य सैनिक सुविधाएं मिलेंगी? इस योजना को बनाने से पहले संबंधित विशेषज्ञों से राय ली गयी? सरकार नो रेंक-नो पेंशन पर क्यों रुक गयी? रिक्त पदों पर सरकार कोई चर्चा क्यों नहीं करती।

सरकार अब स्थायी नौकरियों पर भी पूर्ण पाबंदी लगायेगी? सरकार को ठेकेदारी प्रथा इतनी पसंद है, तो भाजपा के मंत्री ,सांसद और विधायक आदि अपने बच्चों से सरकारी नौकरियों से इस्तीफा दिलाएं। इस तरह के कुल 20 सवाल उठाते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार से कहा कि तत्काल अग्निवीर योजना वापस ले। साथ ही उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि किसी भी परिस्थिति में आंदोलन को हिंसक नहीं होने दें।


Bihar

Jun 20 2022, 16:29

अग्निपथ नीति को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने केन्द्र सरकार से किये 20 सवाल, 22 जून को महागठनबंधन के राजभवन मार्च का किया एलान

डेस्क : अग्निपथ नीति पर मचे घमासान पर अब सियासत भी तेज हो गई है। पिछले दिनों बिहार बंद को राजद समेत विपक्ष की कई पार्टियों द्वारा उसे समर्थन दिये जाने के बाद अब विपक्ष की ओर से एक बड़ा एलान किया गया है। 

बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने घोषणा की है कि युवाओं को नौकरी एवं अग्निपथ योजना की वापसी की मांग को लेकर 22 जून को सुबह नौ बजे महागठबंधन के सभी विधायक विधानसभा से लेकर राजभवन तक पैदल मार्च करेंगे। उन्होंने यह जानकारी रविवार को अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर साझा की है। 

इससे पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने रविवार को नयी दिल्ली में बुलायी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि केंद्र सरकार की बिना सोचे समझे लायी गयी योजनाएं टेक ऑफ से पहले ही क्रेश हो जाती हैं। भाजपा के लोग अंतत: माफी भी मांग लेते हैं। उन्होंने केंद्र से कहा कि युवाओं के साथ ‘चार वर्षीय मजाक’ न करे। अपनी नीतियों को लेकर देश के युवाओं से माफी मांगें। इस दौरान उन्होंने अग्निपथ योजना से जुड़े सवाल उठाते हुए उनके जवाब भी मांगे। 

तेजस्वी यादव ने केन्द्र सरकार से पूछा कि क्या अग्निवीरों को नियमित सैनिकों की तरह छुट्टियां मिलेंगी? ठेके पर अफसरों की भर्ती क्यों नहीं? संविदा पर अफसरों की भर्ती क्यों नहीं? क्या इस योजना के पीछे और भी कोई मंशा है? नौकरी के बाद उन्हें मिलने वाली एकमुश्त राशि पर टैक्स लगेगा? सरकार अग्निवीरों को ग्रैच्युटी देगी? कैंटीन और चिकित्सा व अन्य सैनिक सुविधाएं मिलेंगी? इस योजना को बनाने से पहले संबंधित विशेषज्ञों से राय ली गयी? सरकार नो रेंक-नो पेंशन पर क्यों रुक गयी? रिक्त पदों पर सरकार कोई चर्चा क्यों नहीं करती।

सरकार अब स्थायी नौकरियों पर भी पूर्ण पाबंदी लगायेगी? सरकार को ठेकेदारी प्रथा इतनी पसंद है, तो भाजपा के मंत्री ,सांसद और विधायक आदि अपने बच्चों से सरकारी नौकरियों से इस्तीफा दिलाएं। इस तरह के कुल 20 सवाल उठाते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार से कहा कि तत्काल अग्निवीर योजना वापस ले। साथ ही उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि किसी भी परिस्थिति में आंदोलन को हिंसक नहीं होने दें।


Bihar

Jun 20 2022, 16:18

बिहार में बढ़ा का खतरा : मुजफ्फरपुर में बागमती का पानी पीपा पुल पर चढ़ा, बाढ़ के डर से स्थानीय लोग भयभीत

डेस्क : बिहार में मानसून के प्रवेश और बारिश की शुरुआत होने से भले ही लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिली है। लेकिन उत्तर बिहार में मानसून की बारिश की शुरुआत होते ही बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। मुजफ्फरपुर जिले के कटरा प्रखंड क्षेत्र में बागमती नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है, जिससे लोगों को बाढ़ आने की चिंता सताने लगी है। 

प्रखंड के उत्तरी हिस्से की 14 पंचायतों को प्रखंड मुख्यालय से जोड़ने वाले पीपा पुल के दोनों ओर बाढ़ का पानी चढ़ गया है। इस कारण क्षेत्र के लोग जान जोखिम में डाल कर यात्रा करने को विवश हैं। जलस्तर में वृद्धि होने से बकुची पतारी नवादा, अनदामा, बर्री, बसंत, तेहबारा सहित अन्य गांव के निचले हिस्से में बाढ़ का पानी फैल गया है।

स्थानीय लोगो का कहना है कि हमलोगों को प्रखंड मुख्यालय तक जाने के लिए जान जोखिम में डाल कर आना पड़ता है। बकुची निवासी हंसराज भगत सहित अन्य लोगों ने कहा कि जलस्तर में वृद्धि जारी रही तो सैकड़ों एकड़ में लगी सब्जी की फसल बर्बाद हो जाएगी। हमलोगों का एकमात्र जीविकोपार्जन का साधन सब्जी की खेती है, जिससे हमलोग अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। जलस्तर में वृद्धि होने से हमलोगों को लाखों रुपये का नुकसान होगा।


Bihar

Jun 20 2022, 12:09

भारत बंद को लेकर आज बिहार में तकरीबन 350 ट्रेने रद्द, 20 जिलों में सोशल नेटवर्किंग साइट पर रोक

डेस्क : अग्निपथ योजना के विरोध में आज भारत बंद का एलान किया गया है। वहीं अग्निपथ योजना के बाद हिंसा की घटनाओं को देखते हुए पूर्व मध्य रेल क्षेत्राधिकार से खुलने और पहुंचने वाली ट्रेनों का परिचालन एहतियात के तौर पर आज सोमवार को लगभग साढ़े तीन सौ ट्रेनें रद्द रहेंगी।

साथ ही उपद्रव को लेकर राज्य में इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी का दायरा बढ़ता जा रहा है। गया और मधुबनी के बाद रविवार को इसमें जहानाबाद, खगड़िया और शेखपुरा जिलों को भी जोड़ दिया गया। अब राज्य के कुल 20 जिलों में सोशल नेटवर्किंग साइट पर रोक लगा दी गई है। वहीं जिन जिलों में पहले से इंटरनेट सेवा पर पाबंदी लगाई गई थी, उसे भी 24 घंटे के लिए रविवार को बढ़ा दिया गया है। आज सोमवार को भी इन जिलों में सोशल साइट और इंटरनेट बंद रहेंगे।

गौरतलब है कि रविवार को पूर्व मध्य रेल से खुलने और गुजरने वाली 362 ट्रेनें रद्द रहीं, जबकि दो ट्रेनों का आंशिक समापन किया गया। खुसरूपुर में मालगाड़ी के इंजन के सामने रविवार को कुछ लोगों ने प्रदर्शन किया। आधे घंटे तक प्रदर्शन के बाद स्टेशन पर तैनात अधिकारियों के समझाने पर वे चले गये। 

सोमवार को भारत बंद की स्थिति को देखते हुए रेलवे ने दर्जनों ट्रेनों को रद्द रखने का निर्णय लिया है।


Bihar

Jun 20 2022, 12:00

इन दो बहादुर महिला अफसरों की वजह से टला बड़ा विमान हादसा, वर्ना 185 यात्रियों समेत 191 की चली जाती जान

डेस्क : बिहार में बीते रविवार को एक बड़ा विमान हादसा टल गया। महिला पायलट व महिला एटीसी अफसर की सूझबूझ से पटना एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग करा 185 यात्री व छह क्रू सदस्य सहित 191 लोग सुरक्षित बचा लिए गए। इन 191 लोगों की जान बचाने में दो महिलाओं की बहादूरी रही।  

जिस वक्त यह हादसा हुआ उस समय तमाम स्थितियां प्रतिकूल थीं। एक चूक सैकड़ों लोगों की जान पर भारी बन सकती थी, लेकिन इन मुश्किल परिस्थतियों में एयर ट्रैफिक कंट्रोल की चीफ कंट्रोलिंग अफसर चंचला और पायलट इन कमांड मोनिका खन्ना ने वो कर दिखाया, जिसकी आस सबने लगा रखी थी।

मुश्किल मौके पर कैप्टन मोनिका खन्ना ने न केवल यात्रियों को हौसला दिया बल्कि एटीसी कंट्रोलर चंचला के साथ संवाद कर विमान को तुरंत उतारने का निर्णय भी लिया। विशेषज्ञ बताते हैं कि डीजीसीए की जांच में कॉकपिट और एटीसी के बीच संवाद की समीक्षा आने वाले दिनों में विमान उड़ाने वाले पायलटों और उनके लिये राह बनाने वाले एटीसी अफसरों के लिये उदाहरण है। पटना जैसे मुश्किल रनवे वाले एयरपोर्ट पर विमान को उतारने का भार दो सशक्त महिलाओं पर था और दोनों ने कमाल कर दिया। को -पायलट बलप्रीत सिंह भाटिया सहयोग कर रहे थे।

विमान के एक इंजन में आग लगी थी। इसी बीच कैप्टन मोनिका खन्ना ने विमान के बायीं इंजन को एटीसी से संवाद कर तत्काल बंद करने का निर्णय किया। विमान को मानकों के अनुरूप एक चक्कर लगाना था। विमान को आनन फानन में बिहटा की ओर से लौटाया गया और गायघाट की ओर से एक चक्कर लगाकर सुरक्षित लैंडिंग कराई गई। प्रत्यक्षदशियों का कहना है कि रनवे पर आते आते विमान के इंजन में लगी आग बूझ चुकी थी। सुरक्षित लैंडिंग के बाद विमानन कंपनियों के प्रतिनिधियों और एयरपोर्ट के अफसरों ने तालियां बजाकर कैप्टन मोनिका का स्वागत किया।

बता दें पटना से दिल्ली जा रहे विमान (स्पाइसजेट 723) के इंजन से पक्षी (चील) टकराने के कारण रविवार को बड़ा हादसा होते-होते टल गया। दोपहर 12.03 बजे एयरपोर्ट से टेकऑफ के दो मिनट बाद ही विमान के बाएं इंजन में आग लग गई। देखते-देखते चिंगारी हवा के प्रभाव में आकर भड़कने लगी। तब तक विमान बिहटा पहुंच चुका था, जहां उसकी ऊंचाई ढाई हजार फीट थी। हालांकि महिला पायलट व महिला एटीसी अफसर की सूझबूझ से बिहटा से गायघाट होते हुए विमान की19वें मिनट में पटना एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग करा ली गई। इसके बाद 185 यात्री व छह क्रू सदस्य सहित 191 लोग सुरक्षित बचा लिए गए।


Bihar

Jun 20 2022, 09:35

मौसम विभाग का अलर्ट : बिहार में सक्रिय हुआ मानसून, अगले 24 घंटे में राजधानी पटना समेत इन जिलों में तेज बारिश के साथ हो सकता है वज्रपात

डेस्क : बिहार में मानसून सक्रिय हो गया है। दक्षिण पश्चिम मानसून उत्तर बिहार में सक्रिय होने के साथ दक्षिण बिहार के पटना, गया, अरवल, नालंदा, नवादा समेत अन्य जिलों में अपना प्रभाव दिखा रहा है। 

मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले दो दिनों में पूरे प्रदेश में इसका प्रभाव दिखेगा। धीरे धीरे मानसून राज्य के शेष हिस्से में सक्रिय हो जाएगा। रविवार को मानसून के पटना आगमन की आधिकारिक घोषणा हुई।

मानसून की मजबूत स्थिति बने होने के कारण प्रदेश में अच्छी बारिश के आसार हैं। वहीं एक पूर्व-पश्चिम ट्रफ-रेखा पूर्वी यूपी से मणिपुर तक बिहार होते हुए बंगाल एवं असम से होते हुए गुजर रही है। इसके प्रभाव से प्रदेश में 24 घंटों में तीन जिलों के वैशाली, समस्तीपुर और खगड़िया के एक दो स्थानों पर भारी बारिश के आसार है। 

वहीं पटना, गया, नालंदा, शेखपुरा, नवादा, बेगूसराय, लखीसराय, जहानाबाद, पूर्वी व प. चंपारण, सिवान, सारण, गोपालगंज, बक्सर, भोजपुर, रोहतास, भभुआ, औरंगाबाद व अरवल में मेघ गर्जन के साथ वज्रपात व हल्की वर्षा को लेकर औरेंज अलर्ट जारी करते हुए लोगों को चेतावनी दी है।


Bihar

Jun 20 2022, 09:29

पटना में टला बड़ा विमान हादसा, पायलट और एटीसी अफसर की सूझबूझ से 191 लोगों की बची जान

डेस्क : बिहार में बीते रविवार को एक बड़ा विमान हादसा टल गया। महिला पायलट व महिला एटीसी अफसर की सूझबूझ से पटना एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग करा 185 यात्री व छह क्रू सदस्य सहित 191 लोग सुरक्षित बचा लिए गए। 

दरअसल पटना से दिल्ली जा रहे विमान (स्पाइसजेट 723) के इंजन से पक्षी (चील) टकराने के कारण रविवार को बड़ा हादसा होते-होते टल गया। दोपहर 12.03 बजे एयरपोर्ट से टेकऑफ के दो मिनट बाद ही विमान के बाएं इंजन में आग लग गई। देखते-देखते चिंगारी हवा के प्रभाव में आकर भड़कने लगी। तब तक विमान बिहटा पहुंच चुका था, जहां उसकी ऊंचाई ढाई हजार फीट थी। हालांकि महिला पायलट व महिला एटीसी अफसर की सूझबूझ से बिहटा से गायघाट होते हुए विमान की19वें मिनट में पटना एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग करा ली गई। इसके बाद 185 यात्री व छह क्रू सदस्य सहित 191 लोग सुरक्षित बचा लिए गए। इस दौरान करीब एक घंटे रनवे बाधित रहा। उधर, शाम पांच बजे विशेष विमान से सभी यात्रियों को दिल्ली भेजा गया।

बताया जा रहा है कि विमान के उड़ते ही फुलवारीशरीफ के लोगों ने जोरदार आवाज सुनी। उड़ते विमान में आग देखी। इसकी सूचना तुरंत प्रशासन व एयरपोर्ट को दी गई। खिड़की से यात्रियों ने भी चिंगारी देखी। अनहोनी की आशंका से सहमे यात्रियों में विमान के भीतर अफरातफरी मच गई।

इसी बीच पटना एयरपोर्ट के एटीसी से विमान के इंजन के पास असामान्य स्थिति का संदेश पायलट को मिला। उसने भी उसी समय इंजन में गड़बड़ी की सूचना एटीसी के अफसरों को दी। महिला पायलट व को-पायलट ने निर्देशों के मुताबिक विमान के एक इंजन को बंद कर दिया। 

आनन-फानन में रनवे पर संपूर्ण आपात स्थिति घोषित की गई। एयरपोर्ट निदेशक अंचल प्रकाश ने रनवे की ओर अग्निशमन दस्ते को भेजा । इधर, रनवे खाली होने का संकेत पाकर 19वें मिनट में विमान को सुरक्षित उतार लिया गया। विमान को ग्राउंडेड कर दिया गया है।


Bihar

Jun 20 2022, 09:23

बिहार में बढ़ रहा कोरोना का खतरा, पटना में लगातार तीसरे दिन मिले 30 से ज्यादा कोरोना संक्रमित

डेस्क : बिहार फिर से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। सबसे बड़ी बात यह है कि जो भी नए मरीज मिल रहे उनमें सर्वाधिक संख्या पटना की है। पटना में लगातार तीसरे दिन 30 से ज्यादा कोरोना संक्रमित मिले हैं। 

रविवार को कुल 37 नए संक्रमित मिले। जिले में अब तक 182 सक्रिय संक्रमित हो गए हैं। इससे पहले शनिवार को 31 और शुक्रवार को 40 संक्रमित मिले थे। रविवार को मिले संक्रमितों में से दो दूसरे शहर के हैं। 

रविवार के मिले 37 संक्रमितों में से दो कंकड़बाग व दो हनुमाननगर के एक ही परिवार के हैं। इसके अलावा फुलवारी, दीघा, राजेंद्रनगर, पटना सिटी, गोला रोड, रूपसपुर, दानापुर, खगौल, बिहटा, पालीगंज के निवासी हैं। अधिकतर संक्रमितों की सूची निजी लैबों द्वारा जांच के बाद सिविल सर्जन कार्यालय को उपलब्ध कराई गई है। 

सिविल सर्जन डॉ. विभा सिंह ने बताया कि अब कुल संक्रमितों की संख्या 182 हो गई है। उन्होंने संक्रमण से बचाव के लिए लोगों से मास्क पहनने की अपील की व लक्षण दिखने पर जांच कराने की भी सलाह दी है।


Bihar

Jun 20 2022, 09:19

पटना : बरनवाल भवन न्यास की ओर से रक्तदान शिविर का हुआ आयोजन, बड़ी संख्या में लोगों ने किया ब्लड डोनेट

पटना : राजधानी पटना के कदम कुआं स्थित बरनवाल भवन में बरनवाल भवन न्यास की ओर से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। 

मां ब्लड सेंटर दरियापुर पटना के सहयोग से आयोजित इस विशाल रक्तदान शिविर में लगभग 132 रक्त वीरों ने अपना रक्त रक्तदान करने की इच्छा जताई। जिसमें 78 रक्तवीरों ने ब्लड डोनेट किया। जबकि 20 लोग का हिमोग्लोबिन कम रहने के कारण रक्त दान नहीं कर पाए। रक्तदान के उपरांत सभी रक्त वीरों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया|

इस आयोजन के उद्घाटन समारोह में मां ब्लड सेंटर के संस्थापक श्री मुकेश हिसारिया, डॉक्टर अजय प्रकाश, पार्षद श्री आशीष कुमार सिन्हा श्रीमती प्रमिला वर्मा श्री सतीश गुप्ता एवं श्री इंद्र दीप चंद्रवंशी श्री अर्जुन यादव, श्रीमती सुषमा साहू श्री विजय यादव श्री राजेश आर्य डॉ श्रवण कुमार एवं बरनवाल भवन न्यास के पदाधिकारी श्री प्रदीप कुमार बरनवाल श्री संजय कुमार बरनवाल एवं श्री अशोक कुमार, श्री रवि कुमार मुन्ना, श्री उमा नाथ बरनवाल पलटू एवं सभी कार्यकारिणी सदस्य तथा श्री भारतवर्षीय बरनवाल वैश्य महासभा पटना महानगर समिति के पदाधिकारी श्री जयशंकर प्रसाद बरनवाल, अनिल कुमार गुप्ता बबलू, श्री विवेक हर्ष, लीलाधर एवं मुकेश कांत बरनवाल कल्याण न्यास के पदाधिकारी श्री प्रिंस कुमार राजू प्रबुद्ध महिला समिति से श्रीमती कल्याणी बरनवाल, इंदु बरनवाल, पुष्पा कुमारी एवं समाज के सभी बुद्धिजीवी गण एवं सदस्यगण उपस्थित रहे|


Bihar

Jun 19 2022, 17:23

अग्निपथ विवाद : बिहार बीजेपी के 12 नेताओं को केंद्र सरकार की ओर से सीआरपीएफ की 'वाई' श्रेणी की सुरक्षा वहीं राज्य के नेताओं में बढ़ता जा रहा रार

अबतक 138 FIR और 718 गिरफ्तार, 15 जिलों में इंटरनेट सेवा सस्पेंड

बिहार बीजेपी के 12 नेताओं को केंद्र सरकार की ओर से सीआरपीएफ की 'वाई' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। इन नेताओं में डिप्टी सीएम रेणु देवी भी शामिल हैं।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बिहार के 12 बीजेपी नेताओं को सीआरपीएफ की सुरक्षा दी है। इन नेताओं में प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, दोनों डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी, बीजेपी के फायर ब्रांड विधायक हरि भूषण ठाकुर, दरभंगा से बीजेपी विधायक संजय सरावगी, दीघा से विधायक संजीव चौरसिया, दरभंगा सांसद गोपाल जी ठाकुर, बीजेपी एमएलसी अशोक अग्रवाल और बीजेपी एमएलसी दिलीप जयसवाल शामिल हैं. CRPF के 12 जवान इनकी सुरक्षा में रहेंगे। बिस्फी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने इसकी पुष्टि की है।

 

दरअसल, अग्निपथ आंदोलन के दौरान जिस तरीके से शुक्रवार को बेतिया में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल और उपमुख्यमंत्री रेणु देवी के आवास पर उग्र छात्रों के द्वारा हमला किया गया उसके बाद ही केंद्र सरकार ने बीजेपी के नेताओं की सुरक्षा बढ़ाने का फैसला लिया।

गौरतलब है कि डॉ. संजय जायसवाल ने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके नीतीश कुमार सरकार पर हमला बोला और आरोप लगाया कि अग्निपथ आंदोलन के दौरान बिहार में चुन-चुनकर केवल बीजेपी के नेताओं को टारगेट किया जा रहा है और उनके आवास पर हमला बोला जा रहा है।

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने लगाया आरोप

संजय जयसवाल ने आरोप लगाया कि बीजेपी के नेताओं को भीड़ के द्वारा टारगेट किए जाने के दौरान मौके पर मौजूद पुलिस उग्र नौजवानों को रोकने की कोशिश नहीं करती है। जयसवाल ने आरोप लगाया कि पुलिस उग्र छात्रों पर ना तो लाठीचार्ज किया और ना ही कोई कार्रवाई की, जिसकी वजह से बीजेपी के कई नेताओं के आवास और बीजेपी के कई दफ्तरों को आंदोलन के दौरान आग के हवाले कर दिया गया।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा- ज्यादा तवज्जो की जरूरत नहीं

हालांकि जनता दल यूनाइटेड के नेता उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि संजय जायसवाल के बयान पर ज्यादा तवज्जो देने की जरूरत नहीं है। कुशवाहा ने कहा कि वह अनर्गल बयानबाजी करते रहते हैं।

बीजेपी नेताओं को केंद्रीय अर्द्ध सैनिक बल की सुरक्षा देने से ये साफ लग रहा है कि बिहार सरकार की पुलिस पर उन्हें अब भरोसा नहीं रहा क्योंकि उनकी सुरक्षा में पहले से ही बिहार पुलिस तैनात है. यही नहीं बीजेपी के प्रदेश कार्यालय पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। बिहार पुलिस के साथ-साथ वहां अर्द्धसैनिक बल भी तैनात किए गए हैं।

बिहार में अग्निपथ योजना के विरोध में लगातार हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। राज्य में अब तक हिंसक प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ अबतक 138 एफआईआर दर्ज की गई हैं. साथ ही 718 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है. बिहार के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज और वीडियो फुटेज के आधार हिंसा करने वालो की पहचान की जा रही है।

बिहार सरकार ने अग्निपथ के विरोध में हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए 15 जिलों में इंटरनेट सेवा सस्पेंड कर दी है। बिहार के 15 जिलों में इंटरनेट सेवा 19 जून तक सस्पेंड रहेगी।