Bihar

Nov 23 2021, 19:37

विपक्ष के बाद अब बीजेपी विधायक ने अपनी ही सरकार के शराबबंदी पर उठाए सवाल, कानून को वापस लेने की कर दी मांग

  


डेस्क : बिहार में शराबबंदी को लेकर विपक्ष पहले से ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर है। विपक्ष द्वारा बार-बार बिहार में शराबबंदी कानून को वापस लिये जाने की मांग की जा रही है। अब इस कड़ी में बीजेपी के एक विधायक भी शामिल हो गये है। 

  

अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल ने अपनी ही सरकार पर कानून व्यवस्था को लेकर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने बिहार में शराबबंदी कानून को वापस लेने की मांग की है। 

  

उन्होंने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून पुलिस सफल नहीं होने दे रही है। इसलिए सीएम नीतीश इस कानून को वापस ले। विधायक हरिभूषण ठाकूर ने कहा है कि शराबबंदी को पुलिस तंत्र सरकार की छवि खराब कर रही है। इससे हम लोगों को नुकासान उठना पड़ रहा है। 

  

बचौल ने कहा कि बिहार में शराबबंदी की वजह से 10 लाख लोग प्रभावित है। पुलिस ऐसे लोगों को गिरफ्तार करती है, जो दोषी नहीं है और जो दोषी है, पुलिस उसको छोड़ देती है। विधायक ने इस दौरान कानून व्यवस्था पर एक कविता के श्लोक के द्वारा भी सवाल खड़े किये। उन्होंने कहा कि 'जो रखवाला है, वही चोर बना हुआ है। जो रक्षक है, वही भक्षक बना हुआ है। इसलिए 15 साल बेमिसाल कार्यक्रम पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में शराबबंदी कानून को वापस ले।

  

विधायक ने कहा कि जिस तरह पीएम नरेंद्र मोदी ने जन दवाब में आकर बहुत सुंदर कृषि कानूनों को वापस लेना का ऐलान किया है। ऐसे ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में शराबबंदी कानून को वापस ले। 

Bihar

Nov 23 2021, 15:37

बिहार के पशुपालकों और युवाओं के लिए एनडीए सरकार खोलेगी नव द्वार : बीजेपी

  


डेस्क : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द कुमार सिंह ने कहा है कि बिहार के पशुपालकों और युवाओं के लिए एनडीए सरकार नव द्वार  खोलेगी।

  

150 प्रखंडों में 600 सुधा बूथ खोला जाएगा, एक बूथ खोलने में 5 लाख रुपए का आएगा। खर्च से दुग्ध उत्पादन, पशुपालन और रोजगार में  अप्रत्याशित वृद्धि होगी।

  

 बिहार में एनडीए सरकार के  समदर्शी नेतृत्व में प्रगति पथ पर गतिमान है अपना बिहार
बिहार के मखाना को वैश्विक पहचान, मखाना को जल्द ही जीआई टैग मिलेगा। जीआई टैग मिलने से निर्यात में तेजी और सुलभता आएगी।  विश्व के किसी कोने में बिहार के मखाने की अपनी पहचान होगी।

  

 राज्य में सड़कों का महाजाल बिछा कर कन्नेक्टिविटी को दुरुस्त करने का श्रेय एनडीए सरकार को जाता है। सुदूर ग्रामीण इलाकों से भी पटना पहुँचने में अब मात्र 5 घंटे लगते हैं।

बिहार मे एनडीए सरकार ने अपने कार्यकाल में कोशी नदी पर 6 नए पुलों का  निर्माण कर पूर्वी मिथिला और पश्चिमी मिथिला के बीच बेटी-रोटी के संबंध को पुनर्जागृत किया। 

वहीं गंडक नदी पर 5 नए पुलों का निर्माण कर बिहार को पूर्वांचल से जोड़ने का काम किया है। 

उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार के बीच कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए गंगा नदी पर 11 पुलों का निर्माण कराया। 

आज नदियों के उपर से जिस रफ्तार में गाड़ियां फर्राटे भड़तीं हैं उससे दोगुनी रफ्तार से बिहार आगे बढ़ रहा है।

श्री अरविन्द ने कहा है कि सामाजिक परिपेक्ष्य में लोगों के जीवन में सबसे बड़ी भूमिका स्वास्थय व्यवस्था की होती है। 

एनडीए सरकार ने इस व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए अस्पतालों के साथ-साथ 15 नए मेडिकल कॉलेज की स्थापना कराई है।

बिहार की जनता ने एक वो दौर भी देखा है जहां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में सिर्फ जानवर घूमा करते थे। 

बड़ी बीमारियों का इलाज पूरे बिहार में कहीं संभव नहीं था और मजबूरन लोगों को राज्य के बाहर इलाज कराने के लिए जाना पड़ता था। 

बिहार मे एनडीए सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान सवास्थ्य व्यवस्था को मजबूत करने में जिस तरह का काम किया है। जोकि अन्य राज्यों के लिए भी प्रेरणाश्रोत है।

 बिहार में एनडीए सरकार ने जहां एक तरफ प्रारंभिक शिक्षा को गुणवत्तापूर्ण बनाने की कोशिश की, वहीं युवाओं को तकनीकी विकास के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने का अवसर दिया। 

राज्य में 44 पॉलिटेक्निक संस्थान की शुरुआत की। इस फैसले से युवाओं का कौशल विकास हुआ और वह सभीको  रोजगार प्राप्त करने के साथ-साथ रोजगार सृजन में भी अपनी भूमिका निभाने लगा हैं।
 
हर घर बिजली के बाद अब एनडीए सरकार किसान बंधुओं को बेहद ही सस्ते दर 65 पैसे प्रति यूनिट की दर से खेत पटवन के लिए उनके खेतों तक बिजली पहुंचा रही है। 

Bihar

Nov 23 2021, 14:49

बड़ी खबर : जमुई के खैरा प्रखंड की निवर्तमान सीडीपीओ ज्योति कुमारी के पटना स्थित घर पर छापेमारी, 10 ही साल की नौकरी में बन गई करोड़पति

  




डेस्क : अभी-अभी राजधानी पटना से एक बड़ी खबर सामने आई है। जहां निगरानी विभाग की टीम सीडीपीओ के घर पर छापेमारी कर रही है। 

  

आय से अधिक संपत्ति के मामले में विजलेंस की टीम जमुई जिले के खैरा प्रखंड की निवर्तमान और पटना जिले के धनरुआ प्रखंड की वर्त्तमान सीडीपीओ ज्‍योति कुमारी के घर पर छापेमारी कर रही है। 

  

राजधानी पटना के आरपीएस मोड़ स्थित सीडीपीओ के आवास पर निगरानी का रेड जारी है। करोड़ों रुपये की संपत्ति का खुलासा हुआ है। 

  

जानकारी के मुताबिक मंगलवार की सुबह पटना जिले के धनरूआ प्रखंड की सीडीपीओ ज्योति कुमारी के घर पर निगरानी विभाग ने छापा मारा है। आय से अधिक संपत्ति के मामले में छापेमारी की जा रही है। 

  

बताया जा रहा है कि श्रीमती कुमारी पर 22 नवंबर को विशेष निगरानी ने मामला दर्ज कराया था। न्यायालय से सर्च वारंट लेने के बाद पटना के आरपीएस मोड़ स्थित उनके आवास पर टीम छापेमारी कर रही है। 

स्पेशल विजिलेंस की मानें तो ज्योति कुमारी को सरकारी सेवा में आए करीब 10 साल हुए हैं , इसके बावजूद उन्होंने इतनी कम अवधि में करोड़ों रुपए का फ्लैट पटना के आरपीएस मोड़ पर खरीदा है और साथ ही चार से साढ़े 04 लाख नकद की भी बरामदगी हुई है। 

उल्लेखनीय है कि ज्योति कुमारी के पति पेशे से वकील हैं लेकिन स्पेशल विजिलेंस यूनिट की मानें तो उनके पास आय का कोई खास स्रोत नहीं है। इस स्थिति में ज्योति कुमारी इस पूरे मामले में फंसती नजर आ रही हैं।

 फिलहाल स्पेशल विजिलेंस यूनिट की टीम छापेमारी के दौरान ज्योति कुमारी से पूछताछ करने में लगी है। 

विस्तृत समाचार की प्रतीक्षा की जा रही है। ज्योति कुमारी जमुई जिले के खैरा प्रखंड में भी दो टर्म सीडीपीओ रही हैं। वे यहां भी कई मामलों में विवादित रही हैं। बाद में उनका स्थानांतरण भागलपुर जिला के कहलगांव प्रखंड किया गया था। 

श्रीमती कुमारी वहां भी विवादास्पद रहीं। अब धनरुआ में उनकी कमाई का भंडाफोड़ हुआ है। 

Bihar

Nov 23 2021, 14:43

बड़ी खबर : लालू प्रसाद को सीबीआई की विशेष अदालत से मिली बड़ी राहत, कोर्ट ने उनकी इस मांग को किया मंजूर

  


डेस्क : भागलपुर और बांका कोषागार से 46 लाख के अवैध निकासी के मामले में आरोपी बने लालू प्रसाद आज पटना के सीबीआई की विशेष अदालत MP-MLA कोर्ट में पेश हुए।

  

जहां महज कुछ देर ही चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने अगली तारीख 30 नवंबर मुकर्रर कर दी।

  

हालांकि इस दौरान कोर्ट ने लालू प्रसाद को एक बड़ी राहत दी। लालू प्रसाद ने कोर्ट से सशरीर पेशी से राहत देने की मांग की। इस पर कोर्ट राजी हो गया।

  

 बता दें बांका उप कोषागार से फर्जी विपत्र के सहारे 46 लाख रुपए की अवैध निकासी का मामला 1996 से चल रहा है। इसमें शुरू में तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू यादव के अलावा 44 आरोपी थे। फिलहाल 28 लोगों पर केस चल रहा है। आधा दर्जन आरोपियों की मौत हो चुकी है। इसकी सूचना कोर्ट को दी गई है।

  

इससे पहले कोर्ट में पेशी के दौरान अपना पक्ष रखते हुए राजद सुप्रीमो ने कहा, "हुजूर... मैं अक्सर बीमार रहता हूं। ऐसे में मुझे पेश होने से राहत दीजिए। मेरे वकील इस मामले को देखेंगे।' उनकी इस मांग पर कोर्ट ने कहा, "ठीक है अब से आप अपने वकील को तारीख पर भेज दीजिएगा।' इतनी सुनवाई के बाद केस की अगली तारीख 30 नवंबर तय की गई। 

गौरतलब हो कि इस केस में पटना के स्पेशल जज प्रजेश कुमार की अदालत ने लालू सहित 28 आरोपियों को सशरीर उपस्थित होने का आदेश दिया था। इसके बाद RJD सुप्रीमो सोमवार शाम दिल्ली से पटना आए हैं। 

Bihar

Nov 23 2021, 10:50

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज एवं अस्पताल और राजकीय तिब्बी कॉलेज एवं अस्पताल का किया निरीक्षण, किया यह एलान

  


डेस्क : बिहार के राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज एवं अस्पताल तथा राजकीय तिब्बी कॉलेज एवं अस्पताल का विस्तार किया जाएगा। इसको लेकर क्या-क्या नये कार्य किये जाएंगे, इसकी विधिवत जानकारी जल्द दी जाएगी। कैबिनेट से जल्द ही स्वीकृति दी जाएगी। यह एलान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया है। 

  

उन्होंने पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि इन संस्थानों को विशिष्ट एवं बेहतर बनाने के लिए योजना बनाकर काम करें। भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए इस संस्थान को और महत्वपूर्ण बनाना है।

  


मुख्यमंत्री ने सोमवार को इन संस्थानों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि यहां विशेषज्ञों को बुलाकर उक्त चिकित्सा पद्घति को और बेहतर बनाने के लिए काम करें। ताकि लोगों के इलाज में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो। बेड, डॉक्टर व चिकित्साकर्मी की संख्या बढ़ाने की जरूरत हो तो इसे बढ़ाएं। साथ ही अन्य जरूरी सुविधाओं के लिए सभी इंतजाम करें। रिसर्च विंग को भी प्रोत्साहित करें। आयुर्वेद की जड़ी बूटियों का नाम संस्कृत और हिन्दी में ही रखें, ताकि लोगों को इसकी जानकारी में सहूलियत हो।

  


मुख्यमंत्री ने कहा कि पटना के अलावा मुजफ्फरपुर, दरभंगा और बेगूसराय की स्थिति के बारे में भी हमलोगों ने समीक्षा कर ली है, उसका भी विस्तार करेंगे। राजगीर में आयुर्वेदिक औषधियों के पौधे को विशेषज्ञों द्वारा चिह्नित कर उन्हें सुरक्षित रखने को भी कहा है। कहा कि लोग इसका दवा के रूप में उपयोग करते हैं। 

  

उन्होंने यह भी कहा कि हमलोग एलोपैथिक के साथ-साथ आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक व यूनानी चिकित्सा पद्घति को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं, ताकि लोगों को इलाज में सहूलियत हो। 

मौके पर स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से उक्त दोनों संस्थानों के शैक्षणिक, आधारभूत संरचना और वहां दी जा रही चिकित्सिकीय सेवाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी। 

Bihar

Nov 23 2021, 10:20

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पत्नी राबड़ी देवी और बेटी मीसा भारती के  साथ पहुंचे पटना, आज पटना की सीबीआई अदालत में होंगे पेश

  


डेस्क : राजद सुप्रीमो सोमवार की देर शाम दिल्ली से पटना पहुंच गये। उनके साथ पूर्व सीएम व उनकी पत्नी रावड़ी देवी और बेटी मीसा भारती भी पटना आई हैं। वहीं लालू प्रसाद आज मंगलवार को चारा घोटाले के मामले में पटना की सीबीआई अदालत में पेश होंगे। 

  

पटना आने के बाद राजद प्रमुख लालू प्रसाद एयरपोर्ट से सीधे अपने बड़े पुत्र तेज प्रताप से मिलने उनके आवास पर गए। हालांकि वहां उनकी मुलाकात तेजप्रताप से नहीं हुई और वह वापस 10 सर्कुलर लौट गए। बताया जाता है कि तब तेजप्रताप यादव जिम में थे। बाद में उन्होंने राबड़ी देवी के आवास पर जाकर पिता से मुलाकात की।

  


वहीं पटना रवाना होने से पहले दिल्ली में पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान लालू प्रसाद ने बिहार में शराबबंदी को लेकर जमकर निशाना साधा। लालू प्रसाद ने कहा कि शराबबंदी लागू करने के समय हमने नीतीश कुमार से कहा था कि यह कैसे होगा लागू? एक तरफ बंगाल दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश है। उधर, एक तरफ नेपाल तो दूसरी तरफ झारखंड है। चारों तरफ से स्मगलिंग होगी। 

  

वहीं यह पूछने पर कि क्या शराबबंदी खत्म होनी चाहिए, कहा कि क्या करना है यह तो सरकार जाने, लेकिन अगर ईमानदारी से लागू नहीं कर सके तो हम तो खत्म करना ही चाहते थे। होटल में पुलिस की छापेमारी पर कहा कि यही हो रहा है नीतीश के राज में। जहरीली शराब पीकर लोग मर रहे हैं। शराबबंदी पूरी तरह फेल है। छापेमारी करने होटल में महिला के कमरे में पुलिस चली गई। इस तरह की चीजों से परहेज करना चाहिए। 

Bihar

Nov 22 2021, 15:22

सशक्त और आत्मनिर्भरता की दिशा में बढ़ते भारत के प्रयासों को मिल रही सफलता : बीजेपी

  



डेस्क : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द कुमार सिंह ने कहा है कि सशक्त और आत्मनिर्भरता की दिशा में बढ़ते भारत के प्रयासों को सफलता मिल रही है। भारत विश्व में इस्पात का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता राष्ट्र बन गया है । 

  

डिजिटल इंडिया ने भारतीय अर्थव्यवस्था को बदल दिया है।  डिजिटल लेनदेन का मूल्य 2016 में सिर्फ 69 अरब रुपये से बढ़कर 2020-21 में 41,306 अरब रुपये हो गया है।

  

 कुछ वर्षों पहले तक हम सरकारी खातों में लाखों करोड़ का हिसाब तो करते थे, लेकिन सच्चाई ये भी थी कि देश के करोड़ों परिवारों के पास अपना बैंक खाता तक नहीं था। देश में बुनियादी सुविधाएं लग्जरी होती थी, लेकिन आज ये परिस्थिति बदल रही है।

  

पहले की सरकारों में बैंकों के जो लाखों करोड़ रुपये फंसाए गए थे, उनमें से करीब 5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की रिकवरी की जा चुकी है।

  

जन धन खाते आज दुनिया के सामने फाइनेंसियल इंसुलेशन का बेहतरीन उदाहरण हैं।

 नवंबर के लिए मासिक कर हस्तांतरण को दोगुना करते हुए, मोदी सरकार राज्यों को 95,082 करोड़ रुपये प्रदान कर रही है।
 इससे आर्थिक विकास को और बढ़ावा मिलेगा और निजी निवेश को बढ़ावा मिलेगा।

 सड़क और पुल निर्माण के शेष कार्यों को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-1 और 2 एवं वामपंथी उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों के लिए सड़क संपर्क परियोजना को जारी रखने की केंद्रीय कैबिनेट ने स्वीकृति दी।  

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत 6.77 लाख किमी से अधिक लंबी सड़कें बनाई जा चुकी हैं और 1.71 लाख से अधिक बसावटों को पक्की सड़कों से जोड़ा गया है।

 भारत में खुदरा बिक्री 2020 की तुलना में 34% और पूर्व-महामारी के स्तर की तुलना में 14% बढ़ी है, जो कोविड -19 महामारी के बाद आर्थिक प्रतिक्षेप में सकारात्मक प्रवृत्ति का संकेत है।

श्री अरविन्द  ने कहा है कि लंबे समय से भारत को दुनिया के सबसे बड़े हथियार खरीदार देशों में गिना जाता रहा है।
लेकिन आज देश का मंत्र है- "मेक इन इंडिया मेक फॉर वर्ल्ड"।
आज भारत अपनी सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम कर रहा है।

 कनेक्टिविटी और इंटरनेट तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए, मोदी सरकार 6,466 करोड़ रुपये के खर्च से 7,827 गांवों को कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए तैयार है।

 मोदी सरकार द्वारा लास्ट माइल कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए कई योजनाओं के तहत अद्वितीय कार्य किया जा रहा है।
 इसके लिए 2021-22 से 2024-24 के बीच 1.12 लाख करोड़ रुपये खर्च करने का आवंटन किया गया है।

 पहले जिस शौचालय की बात करने में लोगों को झिझक होती थी,  वो आज देश की सोच का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत घरों में शौचालय पाकर लाभांवित परिवारों ने गरिमामय जीवन के लिए मा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रति आभार जता रहे हैं।

 प्रधानमंत्री आवास योजना से अब देश के गरीबों और वंचितों के पक्के आवास का सपना हो रहा साकार। नवनिर्मित 2.12 करोड़ से अधिक आवासीय मकानों में 2.09 करोड़ से अधिक परिवारों को घर हुए आवंटित। 

 देश के छोटे किसानों की चुनौतियों को दूर करने के लिए, केंद्र की एनडीए सरकार ने बीज, बीमा, बाजार और बचत, इन सभी पर चौतरफा काम किया है। 

Bihar

Nov 22 2021, 11:30

*नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राज्य व केन्द्र सरकार पर साधा निशाना, किया यह ट्वीट*

  


डेस्क : बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव प्रदेश की नीतीश और केन्द्र की मोदी सरकार पर लगातार हमलावार है। उन्होंने एकबार फिर प्रदेश की नीतीश सरकार पर रोजगार और केन्द्र की मोदी सरकार पर किसान आंदोलन को लेकर निशाना साधा है। 

  

उन्होंने अपने सोशल मीडिया के ट्वीटर पर प्रदेश की नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है 16 वर्षों की नीतीश-भाजपा सरकार युवाओं, छात्रों और शिक्षकों की समस्याओं को लेकर कतई गंभीर नहीं है। प्रदेश में ना नौकरी है,ना आईटी पार्क,ना उद्योग-धँधे,ना विकासोन्मुख कोई रोड मैप और विजन है। बिहार को इन्होंने बेरोजगारी का केंद्र और देश को मज़दूर सप्लाई करने वाला राज्य बना दिया है।

  

वहीं उन्होंने ट्वीट के माध्यम से केन्द्र से मांग की है कि आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों के परिजनों को केंद्र सरकार 25 लाख की अनुग्रह राशि और एक परिजन को सरकारी नौकरी दे।  

Bihar

Nov 21 2021, 18:37

यदि आपके पास भी है दूसरे राज्यों से रजिस्ट्रेशन वाला वाहन, तो जल्द करवा ले बिहार में रजिस्ट्रेशन बरना पड़ जायेंगे लेने के देने 

  


डेस्क : अगर आपके वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर किसी दूसरे प्रदेश का है तो आपके लिए परेशानी वाली खबर है। झारखंड समेत अन्य राज्यों से निबंधित वाहनों का बिहार में अवैध रूप से स्थायी तौर पर परिचालन करने वाले वाहन मालिकों पर परिवहन विभाग द्वारा कार्रवाई की जाएगी।

  

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने इस संबंध में सभी डीटीओ, एमवीआई और ईएसआई को विशेष अभियान चलाकर कार्रवाई का निर्देश दिया है। वहीं बीते शनिवार को विशेष अभियान चला कर ऐसे वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई। अभियान के तहत झारखंड समेत अन्य राज्यों के 21 वाहनों पर कार्रवाई की गई। 

  

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि टैक्स चोरी के उद्देश्य से एवं अन्य कारणों से वाहन मालिक लक्जरी और अन्य वाहनों का रजिस्ट्रेशन झारखंड से कराते हैं और चोरी छुपे स्थायी तौर पर बिहार में परिचालन करते हैं। यह मोटरवाहन अधिनियम का उल्लंघन है। इससे बिहार को राजस्व क्षति भी हो रहा है। 

  

परिवहन सचिव ने कहा है कि झारखंड और अन्य राज्यों में रजिस्ट्रेशन करा स्थायी रुप से बिहार में चलाने वाले वाहनों को अब बिहार का नंबर लेना पड़ेगा। बिहार का नंबर लेने के लिए किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। सभी जिला परिवहन पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है कि वे आवेदन प्राप्त होने के सात दिनों के अंदर बिहार का नंबर प्रदान करें।

  


संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि झारखंड एवं अन्य राज्य के वास्तविक वाहन मालिक को इसके लिए घबड़ाने की जरूरत नहीं है। वो अपना पेट्रोल पंप रसीद, ड्राइविंग लाइसेंस, टोल प्लाजा के रसीद, आधार कार्ड, डीएल, या अन्य कोई प्रमाण पत्र दिखा कर झारखंड या अन्य राज्य से आने का प्रूफ दिखाएंगे तो उन्हें फाइन नहीं लगेगा। 


परिवहन विभाग को विभिन्न स्रोतों से यह सूचना मिली है कि अन्य राज्यों के निबंधित वाहन का अवैध परिचालन बिहार में किया जा रहा है। यहां के स्थायी निवासी आस-पास के राज्यों में अवैध रूप से वाहनों का निबंधन करवा रहे हैं और बिहार में वाहनों का परिचालन कर रहे हैं। गलत पते देकर रजिस्ट्रेशन कराने वाले वाहन मालिकों के प्रमाण पत्रों की भी जांच की जाएगी।


बता दें मोटरवाहन अधिनियम की धारा- 49 के अंतर्गत यह प्रावधान है कि अपने निवास स्थान में परिवर्तित स्थान पर उपयोग करते हैं तो अधिकतम 30 दिनों के अंदर वाहन स्वामी को परिवर्तित स्थल से संबंधित निबंधन प्राधिकार जिला परिवहन पदाधिकारी को वाहन उपयोग की सूचना देना अनिवार्य है। इसके बाद ही परिवर्तित क्षेत्र में वाहन का परिचालन वैध होगा। अगर ऐसा नहीं करते हैं तो वाहन का परिचालन अवैध होगा। 

Bihar

Nov 21 2021, 18:34

बड़ी खबर : बिहार के इस युवा चेहरा को बीजेपी में मिली बड़ी जिम्मेवारी, बनाये गये राष्ट्रीय मंत्री

  


डेस्क : बिहार के युवा राजनेता ऋतुराज सिन्हा को चुनाव के समय अमित शाह के नवरत्नों में शामिल किया गया था। अब उन्हें बीजेपी में और बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। उनको राष्ट्रीय मंत्री बनाया गया है। आज रविवार को देश के पांच नेताओं को भाजपा ने राष्ट्रीय प्रभार दिया है, जिसमें ऋतुराज का भी नाम शामिल है। 

  

2014 और 2019 लोकसभा चुनाव में अहम भूमिका निभा चुके सिन्हा भाजपा के अहम चुनावी रणनीतिकारों में शामिल हैं। इनके अलावा महाराष्ट्र के विनोद तावडे को राष्ट्रीय महामंत्री, झारखंड की आशा लाकड़ा को राष्ट्रीय सचिव, पश्चिम बंगाल के भारती घोष को राष्ट्रीय प्रवक्ता और शहजाद पुनावाला को राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया गया है।

  

ऋतुराज सिन्हा बीजेपी के वरिष्ठ नेता व पूर्व राज्यसभा सांसद आर.के सिन्हा के पुत्र है। इनके राजनीतिक सफर की अगर बात की जाए तो यह 2005 से राजनीति में सक्रिय है। इन्हें 2014 लोकसभा चुनाव में फ्रंट लाइन पर काम करते दिखे थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में इनको कैंपेन कमेटी में बड़ी भूमिका दी गई थी। 2015 में अमित शाह ने प्रचार अभियान समिति के सदस्य के तौर पर दायित्व सौंपा था।

  

2017 से 2020 के बीच नित्यानंद राय की प्रदेश कमेटी में बतौर प्रदेश पदाधिकारी भी काम कर चुके हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में नेशनल कैंपेन कमेटी के सदस्य बनाए गए। इस कमेटी में 8 सदस्य थे। जिसका नेतृत्व अरुण जेटली तब कर रहे थे।

  

ऋतुराज एक सफल उद्यमी भी हैं. ऐसे में अगर उनको बिहार का ग्लोबल बिहारी कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं मानी जाएगी। युवा उद्यमी के साथ-साथ ऋतुराज ने बड़े पैमाने पर बिहार के लोगों को रोजगार मुहैया कराने का भी काम किया है। सरकारी सेक्टर को अगर छोड़ दिया जाए तो निजी क्षेत्र में ऋतुराज बिहार में सबसे ज्यादा नौकरियां उपलब्ध कराने का रिकॉर्ड भी खुद के नाम रखते हैं।