India

Jul 27 2021, 10:00


ममता बनर्जी के दिल्ली दौरे का पहला दिनन, पीएम मोदी से हो सकती है मुलाकात

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सोमवार को अपने पांच दिवसीय दौरे पर दिल्ली पहुंचीं। तीसरी बार पश्चिम बंगाल की सत्ता संभालने के बाद यह उनका राष्ट्रीय राजधानी का पहला दौरा है और वह मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर सकती हैं।

तृणमूल कांग्रेस द्वारा जारी की गई पांच दिवसीय यात्रा के कार्यक्रम के अनुसार, ममता बनर्जी मंगलवार को शाम चार बजे प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगी। सूत्रों के मुताबिक, ममता बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मुलाकात कर सकती हैं। बनर्जी का कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के अलावा कमलनाथ, आनंद शर्मा और अभिषेक मनु सिंघवी समेत अन्य कांग्रेसी नेताओं से भी मुलाकात का कार्यक्रम है।

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी भूमिका निभाने की तैयारी में हैं। पश्चिम बंगाल में लगातार तीसरी बार सत्ता पर काबिज होने वाली ममता बनर्जी का विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज करने के बाद यह पहला दिल्ली दौरा है। 

India

Jul 27 2021, 09:58

menhockeyteamsecond_victory
टोक्यो ओलंपिकः हॉकी में भारत को पदक की उम्मीद, आज तीसरे मैच में हॉकी टीम ने स्पेन को 3-0 से हराया

हॉकी में भारत ने पदक जीतने की उम्मीद बरकरार रखी है। आज तीसरे मैच में भारतीय हॉकी टीम ने स्पेन को एकतरफा मुकाबले में 3-0 से हराया। इस जीत के साथ टीम इंडिया ग्रुप ए में दूसरे स्थान पर पहुंच गई। 

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछले मैच में करारी शिकस्त के बाद भारत ने जोरदार वापसी करते हुए टोक्यो ओलंपिक की मेंस हॉकी स्पर्धा के पूल ए में मंगलवार को अपने तीसरे मैच में स्पेन को 3-0 से हराया। भारत को इस मुकाबले में जीत दिलाने में रुपिंदर पाल और सिमरनजीत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। टीम इंडिया की तरफ से रुपिंदर पाल ने दो और सिमरनजीत ने एक गोल दागा।

इससे पहले भारत को दूसरे हॉकी मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 7-1 से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था। वहीं अपने पहले हॉकी मैच में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड पर जीत दर्ज की थी। पहले मुकाबले में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया था। 

India

Jul 27 2021, 08:51

बहुचर्चित चित्रकूट के श्रेयांश और प्रियांश के अपहरण और हत्या के आरोपियों को दोहरे आजीवन कारावास की सजा

सतना।चित्रकूट के बहुचर्चित जुड़वा भाईयों श्रेयांश और प्रियांश के हत्याकांड के मामले में कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. कोर्ट ने पांचों आरोपियों को दोहरे आजीवन कारावास की सजा दी है. आरोपियों को हत्या और साक्ष्य छिपाने के मामले में दोषी माना गया था. इस मामले में मुख्य आरोपी रामकेश पहले ही जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर चुका है।यह हत्याकांड चर्चा में रहा था ।और देश भर में सुर्खियों में आया था।

स्कूल बस से हुआ था अपहरण
12 फरवरी 2019 को तेल कारोबारी बृजेश रावत के दो जुड़वा बेटे श्रेयांश और प्रियांश का स्कूल बस से अपहरण किया गया था. अपहरण की यह पूरी घटना स्कूल बस के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी. दोनों बच्चों को छोड़ने के एवज में 20 लाख रुपए की फिरौती की मांग की गई थी. पिता बृजेश रावत ने आरोपियों को 20 लाख की फिरौती भी दी थी, लेकिन आरोपियों ने दोनों बच्चों की हत्या कर शव को नदी में फेंक  दिया था

एक आरोपी लगा चुका है फांसी

इस मामले में कुल 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. जिसमें पदमकांत शुक्ला, राजू द्विवेदी, आलोक सिंह तोमर, विक्रम जीत और अपूर्व यादव को कोर्ट ने दोषी मानते हुए सजा का ऐलान कर दिया है, जबकि मुख्य आरोपी रामकेश चित्रकूट जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। 

India

Jul 27 2021, 08:50


सीबीएसई  बोर्ड का  निर्देश, अब 10वीं, 12वीं के छात्रों को स्‍कूल नहीं दे सकेंगे 95 फीसदी से अधिक अंक

नईदिल्ली CBSE ने आज एक अहम फैसला लेते हुए दसवीं एवं बारहवीं के छात्रों के अंकों से जुड़ा पुराना नियम बदल दिया है। अब नए नियम के अनुसार स्‍कूलों को यह छूट नहीं रहेगी कि वे मनमाने तरीके से छात्रों को 95 फीसदी से अधिक अंक दे सकें। सीबीएसई के नए निर्देशों के मुताबिक संदर्भ वर्ष में यदि चार छात्रों को 95 फीसद से ज्यादा अंक मिले थे तो इस वर्ष भी स्कूल केवल चार छात्रों को इतने अंक दिए जा सकते हैं। 2020-21 के लिए संदर्भ वर्ष पिछले तीन वर्षों यानी 2017-18, 18-19 और 19-20 को माना जाएगा। यदि कोई स्कूल बोर्ड के नियमों का पालन नहीं करता है तो बोर्ड स्वतः ही छात्रों के अंक कम कर देगा।

 बोर्ड के मुताबिक संदर्भ वर्ष का नियम केवल 96, 97, 98, 99 और 100 अंक देने के लिए लागू होगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से संबंधित स्कूल 10वीं-12वीं के छात्रों को मनमाने तरीके से 95 फीसद से ज्यादा अंक नहीं दे सकेंगे।

 बोर्ड ने कहा है कि रेफरेंस ईयर (संदर्भ वर्ष) में जितने छात्रों को 95 फीसद से ज्यादा अंक मिले थे, इस वर्ष भी उतने ही छात्रों को इतने अंक मिल सकते हैं। 

India

Jul 26 2021, 20:45

medalistmirabaichanuarrivedinindia
सिल्वर मेडल के साथ वतन लौटीं मीराबाई चानू, दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ जोरदार स्वागत

टोक्यो ओलंपिक में रजत जीतने वाली भारतीय महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू सोमवार को स्वदेश लौटी। देश लौटने पर दिल्ली एयरपोर्ट पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। चानू के एयरपोर्ट पर पहुंचते ही भारत माता की जय के नारे लगाए गए। मीरा के साथ उनके कोच विजय शर्मा भी लौटे हैं। 

बता दे क टोक्यो ओलंपिक में भारत की शानदार शुरुआत हुई थी। दूसरे दिन ही भारत की झोली में पदक आ गया था। 24 जुलाई को वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू (49 किग्रा) ने रजत पदक जीतकर भारत का खाता खोला था। चानू इस साल टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनीं। बता दें कि मणिपुर की 26 साल की वेटलिफ्टर ने कुल 202 किग्रा (87 किग्रा + 115 किग्रा) का भार उठाकर रजत पदक अपने नाम किया था।

जीत का तमगा लेकर स्वदेश लौटी चानू ने कहा कि सबकी उम्मीदों का तनाव था, लेकिन मन से काम किया। 2016 में पदक चूकने के बाद काफी मेहनत की
ओलंपिक में पदक जीतना बहुत बड़ी चुनौती थी। पांच साल की मेहनत सफल होने पर बहुत खुशी हुई।
 
वेटलिफ्टिंग में चानू पदक जीतने वाली भारत की दूसरी एथलीट हैं। इससे पहले कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 सिडनी ओलिंपिक में कांस्या पदक जीता था। मीराबाई को पांच साल पहले रियो ओलंपिक में भी पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन वह महिलाओं के 48 किग्रा भार वर्ग में उतना का वजन उठाने में सफल नहीं रहीं थीं। चानू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण, राष्ट्रमंडल खेलों में (2014 में रजत और 2018 में स्वर्ण) दो पदक और एशियाई चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीत चुकी हैं।

चानू को मणिपुर की सरकार देगी एक करोड़ रुपये की नगद इनामी राशि
इधर मणिपुर राज्य का नाम रौशन करने पर सरकार ने भी सौगातों की बौछार की है। टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचने वाली मीराबाई चानू को मणिपुर सरकार ने एडिशनल एसपी नियुक्त किया है। राज्य सरकार ने मीराबाई चानू को मणिपुर पुलिस में एडिशनल एसपी (स्पोर्ट्स) के पद पर तैनात करने का फैसला किया है। राज्य सरकार पहले ही मीराबाई को एक करोड़ रुपये नकद पुरस्कार देने की घोषणा कर चुकी है। 

डॉमिनोज ने मुफ्त में पिज्जा खिलाने का किया वादा
वहीं पदक जीतने के बाद डॉमिनोज ने मीराबाई चानू को मुफ्त में ताउम्र पिज्जा खिलाने की पेशकश की। कंपनी ने टि्वटर पर लिखा, 'पदक घर लाने पर आपको बहुत-बहुत बधाई। आपने एक अरब से ज्यादा भारतीयों के सपनों को पूरा किया है। इससे ज्यादा खुशी की बात और क्या हो सकती कि हम आपको ताउम्र मुफ्त पिज्जा दें। फिर से बधाई।' बता दें कि चानू ने पदक जीतने के बाद पिज्जा खाने की इच्छा जताई थी। उन्होंने एक चैनल से खास बातचीत में कहा था कि उन्होंने महीनों से अपना पसंदीदा खाना नहीं खाया है। पदक जीतने के बाद मीराबाई ने कहा, 'मैंने महीनों से पिज्जा नहीं खाई है।' 

India

Jul 26 2021, 20:45

medalistmirabaichanuarrivedinindia
सिल्वर मेडल के साथ वतन लौटीं मीराबाई चानू, दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ जोरदार स्वागत

टोक्यो ओलंपिक में रजत जीतने वाली भारतीय महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू सोमवार को स्वदेश लौटी। देश लौटने पर दिल्ली एयरपोर्ट पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। चानू के एयरपोर्ट पर पहुंचते ही भारत माता की जय के नारे लगाए गए। मीरा के साथ उनके कोच विजय शर्मा भी लौटे हैं। 

बता दे क टोक्यो ओलंपिक में भारत की शानदार शुरुआत हुई थी। दूसरे दिन ही भारत की झोली में पदक आ गया था। 24 जुलाई को वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू (49 किग्रा) ने रजत पदक जीतकर भारत का खाता खोला था। चानू इस साल टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनीं। बता दें कि मणिपुर की 26 साल की वेटलिफ्टर ने कुल 202 किग्रा (87 किग्रा + 115 किग्रा) का भार उठाकर रजत पदक अपने नाम किया था।

जीत का तमगा लेकर स्वदेश लौटी चानू ने कहा कि सबकी उम्मीदों का तनाव था, लेकिन मन से काम किया। 2016 में पदक चूकने के बाद काफी मेहनत की
ओलंपिक में पदक जीतना बहुत बड़ी चुनौती थी। पांच साल की मेहनत सफल होने पर बहुत खुशी हुई।
 
वेटलिफ्टिंग में चानू पदक जीतने वाली भारत की दूसरी एथलीट हैं। इससे पहले कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 सिडनी ओलिंपिक में कांस्या पदक जीता था। मीराबाई को पांच साल पहले रियो ओलंपिक में भी पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन वह महिलाओं के 48 किग्रा भार वर्ग में उतना का वजन उठाने में सफल नहीं रहीं थीं। चानू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण, राष्ट्रमंडल खेलों में (2014 में रजत और 2018 में स्वर्ण) दो पदक और एशियाई चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीत चुकी हैं।

चानू को मणिपुर की सरकार देगी एक करोड़ रुपये की नगद इनामी राशि
इधर मणिपुर राज्य का नाम रौशन करने पर सरकार ने भी सौगातों की बौछार की है। टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचने वाली मीराबाई चानू को मणिपुर सरकार ने एडिशनल एसपी नियुक्त किया है। राज्य सरकार ने मीराबाई चानू को मणिपुर पुलिस में एडिशनल एसपी (स्पोर्ट्स) के पद पर तैनात करने का फैसला किया है। राज्य सरकार पहले ही मीराबाई को एक करोड़ रुपये नकद पुरस्कार देने की घोषणा कर चुकी है। 

डॉमिनोज ने मुफ्त में पिज्जा खिलाने का किया वादा
वहीं पदक जीतने के बाद डॉमिनोज ने मीराबाई चानू को मुफ्त में ताउम्र पिज्जा खिलाने की पेशकश की। कंपनी ने टि्वटर पर लिखा, 'पदक घर लाने पर आपको बहुत-बहुत बधाई। आपने एक अरब से ज्यादा भारतीयों के सपनों को पूरा किया है। इससे ज्यादा खुशी की बात और क्या हो सकती कि हम आपको ताउम्र मुफ्त पिज्जा दें। फिर से बधाई।' बता दें कि चानू ने पदक जीतने के बाद पिज्जा खाने की इच्छा जताई थी। उन्होंने एक चैनल से खास बातचीत में कहा था कि उन्होंने महीनों से अपना पसंदीदा खाना नहीं खाया है। पदक जीतने के बाद मीराबाई ने कहा, 'मैंने महीनों से पिज्जा नहीं खाई है।' 

India

Jul 26 2021, 18:11

स्मृति मंधाना को साथी खिलाड़ी द्वारा शराब से नहाने की कोशिश का  वीडियो हुआ वायरल,छिड़ा सोशल साइट पर बहस, स्मृति भारतीय महिला क्रिकेट टीम की है  ओपनिंग बल्लेबाज

नई दिल्ली से एक वीडियो इन दिनों सोशल साइट पर काफी वायरल हो रही है। भारतीय महिला  क्रिकेट टीम की ओपनिंग बल्लेबाज स्मृति मंधाना के साथ उनके साथी खिलाड़ी मस्ती करते हुए उसे शैम्पेन से नहलाने की कोशिश कर रहे हैं।हालांकि इस   सलूक को  बहुत अच्छा नही कहा जा सकता है। इस वीडियो को सामने आने पर  इस पर बहस भी छिड़ गया है। यह  उसके साथी खिलाड़ी की तुच्छ मानसिकता का परिचायक है।

  स्मृति मंधना एक सिर्फ दमदार खिलाड़ी ही नही है बल्कि वह  खेल को लेकर दुनिया में  जितनी मशहूर हैं उतना ही वो अपनी खूबसूरती को लेकर भी चर्चा में रही हैं। 

स्मृति को 'नेशनल क्रश' भी कहा जाता है. इसी बीच स्मृति का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें उन्हें शराब से जबरन नहलाया जा रहा है.

क्या है वायरल वीडियो में..?

स्मृति मंधाना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर  वायरल हो रहा है। उस वीडियो में टीम के उसके साथी खिलाड़ी स्मृति को जबरन शैंपेन से नहलाने की कोशिश कर रहे हैं। इस वीडियो में टीम के खिलाड़ी उनके साथ मस्ती करते हुए नजर आ रहे हैं। टीम की सबसे दिग्गज खिलाड़ी झूलन गोस्वामी ने कई बार शैंपेन की बोतल से स्मृति को नहलाने की कोशिश की।

अपनी खूबसूरती को लेकर  स्मृति मंधाना चर्चा में रहती है

स्मृति मंधाना बेहद खूबसूरत खिलाड़ी हैं। वो अपनी सुंदरता को लेकर काफी चर्चा में रहती हैं। उन्हें 'नेशनल क्रश' भी कहा जाता है। लाखों लोग स्मृति को सोशल मीडिया पर भी फॉलो करते हैं. उनकी फोटोज और वीडियो भी कई बार सोशल मीडिया पर खूब तहलका मचाती हैं।

स्मृति ने वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक ठोंक कर बनाई थी रिकॉर्ड

स्मृति मंधाना वनडे फॉर्मेट में दोहरा शतक ठोकने वाली इकलौती महिला क्रिकेटर हैं। उन्होंने एक घरेलू मैच में महाराष्ट्र के खिलाफ ये कारनामा किया था. इसके अलावा उन्होंने वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 2000 रन भी पूरे किए थे. बता दें कि उन्होंने 2013 में महज 17 साल की उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था। डेब्यू करने के बाद से कभी भी मंधाना ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और आज वो एक बेहतरीन ओपनिंग बल्लेबाज हैं। 

India

Jul 26 2021, 17:20

वह उसका आखरी ट्वीट था, किन्नौर के खूबसूरत वादियों में नयनाभिराम दृश्यों में खोई वह 2 ट्वीट अपने फॉलोअर्स के लिए की,अचानक मौत ने दी दस्तक,और सदा के लिए वह खामोश हो गयी।

जयपुर की रहने वाली 34 साल की डॉक्टर दीपा शर्मा.बहुत खुश थी।वह भारत की उस छोड़पर खड़ी थी जहां के बाद चीन का अबैध कब्ज़ा बाला क्षेत्र तिब्बत शुरू ही जाता है...!

वह ट्विटर पर बहुत सक्रिय  रहती थी ।अपने तकरीबन 12 हजार फॉलोअर्स से हर मुद्दे पर बातचीत करती रहतीं। 

कुछ दिन पहले हिमाचल प्रदेश घूमने गई थीं। उनकी यात्रा का एक पड़ाव किन्नौर घाटी भी था।जिसकी नयनाभिराम दृश्य  से रोमांचित वह काफी उत्साहित थी।उसे पता नही था कि आधा घंटा बाद क्या होने वाला है।

 रविवार 25 जुलाई को उन्होंने किन्नौर की खूबसूरती को लेकर 2 ट्वीट किए। इसी के तकरीबन आधा घंटे बाद खबर आई कि किन्नौर में लैंडस्लाइड हो गया है. 9 लोग मारे गए हैं। इसमें डॉक्टर दीपा भी थी।

दीपा ने अपने आखिरी ट्वीट में लिखा था-

“मैं भारत के उस छोर पर खड़ी हूं जहां तक नागरिकों को जाने की इज़ाज़त है। इस स्थान से आगे करीब 80 किलोमीटर दूर तिब्बत का बॉर्डर है, जिस पर चीन ने अवैध तरीके से कब्जा कर रखा है।” 

दीपा के अलावा 8 और लोगों ने इस हादसे में जान गंवाई। इनमें से तीन एक ही परिवार के सदस्य थे। नेवी के एक युवा अधिकारी की भी इस हादसे में जान चली गई।

कुल 9 लोगों की जान गई
हिमाचल के खूबसूरत किन्नौर की सांगला-छितकुल रोड, 25 जुलाई की दोपहर करीब 1.30 बजे यहां बटसेरी के पास लैंडस्लाइड हुआ। चट्टानें गिरीं। इनकी चपेट में सांगला की ओर जा रहा एक टेंपो ट्रैवलर (HR 55 AC 9003) भी आ गया। गाड़ी में करीब 11 लोग सवार थे, जिनमें से नौ की मौत हो गई। आठ ने तो मौके पर दम तोड़ दिया, जबकि एक की मौत अस्पताल ले जाते वक्त हुई।

डॉक्टर दीपा शर्मा के अलावा इस हादसे में मरने वालों में शामिल हैं-
# प्रतीक्षा सुनील पाटिल (27 साल) – नागपुर, महाराष्ट्र
# अमोघ बापट (27 साल) – कोरबा, छत्तीसगढ़
# सतीश कटकबार (34 साल) – कोरबा, छत्तीसगढ़
# ड्राइवर अंबर सिंह (42 साल) – नई दिल्ली
# कुमार उल्हास वेदपाठक (37 साल)
# अनुराग बियानी (31 साल) – सीकर, राजस्थान
# माया देवी बियानी (55 साल) – सीकर, राजस्थान
# ऋचा बियानी (25 साल) – सीकर राजस्थान

छुट्टी मनाने आए थे लेफ्टिनेंट अमोघ बापट

नेवी में लेफ्टिनेंट अमोघ वापट की तैनाती अंडमान में थी। वह 15 दिन की छुट्टी लेकर कोरबा आए थे। इसके बाद अपने दोस्त सतीश कटकबार के साथ 18 जुलाई को शिमला घूमने पहुंचे। सतीश छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले के चांपा कस्बे के रहने वाले थे। 25 जुलाई को दोनों दोस्त किन्नौर में दुर्घटना का शिकार हो गए। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। किन्नौर पुलिस ने इसकी सूचना कोरबा पुलिस को दी. इसके बाद परिजन उनके शव लेने हिमाचल पहुंचे।

एक ही परिवार के तीन लोगों की गई जान

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में हुए लैंडस्लाइड ने सीकर के एक परिवार को भी गहरा दर्द दिया है। इस हादसे में सीकर के बियानी परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई- 75 वर्षीय माया देवी बियानी , 28 वर्षीय बेटा अनुराग बियानी और 24 वर्षीय बेटी ऋचा बियानी. बियानी परिवार शुक्रवार को शिमला आदि स्थानों पर घूमने के लिए निकला था। रविवार को ही परिवार ने वापस आने की बात कही थी। लेकिन इससे पहले ही हादसे का शिकार हो गए। यह परिवार लंबे अर्से से मुम्बई में रहता था। लेकिन लॉकडाउन की वजह से सीकर आया हुआ था। लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद से ही वो घूमने की योजना बना रहे थे. इनके परिवार में अब पिता नंदकिशोर बियानी और एक बेटी ज्योति बियानी ही बचे हैं।
इस दुर्घटना पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर और लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला आदि ने भी शोक व्यक्त किया है।

 केंद्र की तरफ से मृतकों के परिवार के लिए 2-2 लाख की सहायता राशि की भी घोषणा की गई है।

साभार- सूचनाएं  संग्रहित,लल्लनटॉप फेसबुक पेज से 

India

Jul 26 2021, 17:18

दिल्ली एवं  आसपास क्षेत्र में आज  सुबह भूकंप के झटके, सुरक्षा के कारण इस झटके के बाद दिल्ली मेट्रो की सेवा 1 घंटे तक रही बाधित,मेट्रो का गेट बंद होने से लगी लंबी कतारें

नई दिल्ली/ कोरोना  संक्रमण से उबर रही दिल्ली अब पटरी पर लौट रही है। इसके साथ ही सरकार अन्य सभी दुकानें मॉल,ऑफिस के साथ मेट्रो सेवाएं भी पूरी तरह चालू कर दी है।

      इसी बीच आज सुबह दिल्ली और आस पास के क्षेत्रों में महसूस किए गए भूकम्प के झटके के बाद मेट्रो सेवा में अफरा तफरी मच गई।

 आज (26 जुलाई) से फुल कैपिसिटी के साथ  मेट्रो चलाने की अनुमति मिल गई है , लेकिन भूकंप के कारण  सुबह-सुबह मेट्रो की सेवा बाधित हो गई। कई स्टेशनों के गेट करीब 1 घंटे तक बंद रहे. इस वजह से यात्रियों को सफर में परेशानी का सामना करना पड़ा। साथ हीं यात्रियों की लंबी कतारें लग गयी।

दरअसल, राजधानी दिल्ली में सुबह-सुबह 6 बज कर  42 मिनट के करीब भूकंप के झटके महसूस किए गए थे । जिसके बाद डीएमआरसी ने मेट्रो सेवा कुछ समय के लिए बंद कर दी।


सुरक्षा के कारण  रोकी गई मेट्रो की सेवा।

इस सम्बंध में दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने ट्वीट कर बताया, 'सुबह करीब 6.42 बजे भूकंप हल्के झटके की पुष्टि हुई। इसके बाद एक मानक प्रक्रिया के तहत ट्रेनों को सावधानी की गति से चलाया गया और अगले स्टेशन पर रोक दिया गया। हालांकि अब सेवाएं सामान्य रूप से चल रही हैं।


स्टेशनों के बाहर लगी लंबी कतारें

दिल्ली मेट्रो की सर्विस करीब एक घंटे के लिए बंद रही और सेवा बाधिक होने के बाद कई स्टेशनों के गेट  बंद कर दिए गए। इस वजह से स्टेशनों के बाद पैसेंजर्स लंबी लाइन लग गई। इस दौरान यात्रियों ने बताया कि करीब 1 घंटे तक इंतजार करना पड़ा। पूछताछ पर गार्ड ने बताया कि मेट्रो लाइन में कुछ तकनीकी खराबी है, जिसकी वजह से सेवाएं रोकी गई हैं। बताया जा रहा है कि करीब 1 घंटे बाद मेट्रो सेवा को फिर से शुरू किया गया, लेकिन एक घंटा मेट्रो बंद रहने की वजह से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। इंतजार करने के बाद लोग ऑटो रिक्शा, टैक्सी, कैब लेकर अपने ऑफिस के लिए रवाना हुए।

100 फीसदी क्षमता के साथ चल रही मेट्रो
कोरोना संक्रमण दर में लगातार हो रही गिरावट को देखते हुए दिल्ली सरकार ने लगाई गई पाबंदियों में काफी हद तक छूट दे दी है. दिल्ली में अनलॉक 8 के तहत दिल्ली मेट्रो और डीटीसी बसों को पूरी क्षमता के साथ चलाने की अनुमति दी गई है. दिल्ली सरकार के ताजा आदेश के मुताबिक मेट्रो (Delhi Metro) में अब 100 फीसदी क्षमता के साथ लोग बैठ कर यात्रा कर सकते हैं. हालांकि लोगों को खड़े होकर यात्रा करने पर अभी भी पाबंदी रहेगी. डीटीसी बसें (DTC Bus), जो दिल्ली की सड़कों पर लोगों की सेवा के लिए दौड़ती हैं उन्हें भी अब पूरी क्षमता के साथ दौड़ने की इजाजत मिली है. इस फैसले से मेट्रो और बस स्टैंड पर लगने वाली भीड़ को इस तरह से थोड़ी राहत मिल जाएगी. 

India

Jul 26 2021, 16:57

willbeCMof_Karnataka


येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद किसके हाथ होगी कर्नाटक की कमान, मुख्यमंत्री पद की दौड़ में हैं ये नाम आगे

कर्नाटक के सीएम पद से बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद अब नए मुख्यमंत्री के नाम पर कयासों का दौर जारी है। बता दें कि येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा ऐसे समय दिया है, जब आज कर्नाटक की भाजपा सरकार के दो साल पूरे हुए हैं। ऐसे में हर किसी की नजर इस बात पर है कि अब भाजपा राज्य की कमान किसे सौंपेगी। वहीं नई दिल्ली में कर्नाटक के नए सीएम को लेकर बैठक हो रही है, जिसमें पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद हैं। 

कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की रेस में प्रह्लाद जोशी, बीएल संतोष, लक्ष्मण सवदी और मुरुगेश निरानी का नाम शामिल है। इसके अलावा कर्नाटक के ही गृह मंत्री बासवराज बोम्मई भी सीएम पद की रेस में हैं। कहा जा रहा है कि अभी कर्नाटक के सीएम के तौर पर नए नेता के चुनाव में एक से दो दिन का वक्त लगेगा। तब बीएस येदियुरप्पा ही कार्यवाहक सीएम के तौर पर राज्य की व्यवस्था संभालेंगे। वहीं सूत्रों ने बताया कि भाजपा जल्द ही कर्नाटक में पर्यवेक्षण भेजेगी।इस बीच बीजेपी ने राज्य में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को पर्यवेक्षक के तौर पर भेजने का फैसला लिया है। 


मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने का एलान करते हुए येदियुरप्पा ने कहा, "मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया है। भावुक होते हुए उन्होंने कहा कि वह हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरे हैं। उन्होंने कहा कि जब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने मुझे केंद्र में मंत्री बनने के लिए कहा, लेकिन मैंने कहा कि मैं कर्नाटक में रहूंगा।