India

May 20 2021, 09:54

ओएनजीसी का बजरा डूबने से लापता हुए लोगों की तलाश जारी , 26 की मौत की पुष्टि
  


मुंबई । मुंबई के नज़दीक समुद्र में ओएनजीसी के एक बजरे के डूब जाने से 26 लोगों की मौत हो गई है, 53 लोग अभी भी लापता हैं। इस बजरे पर 261 लोग थे और यह समुद्री तूफ़ान तौकताए की चपेट में आकर डूब गया। 


बीबीसी के अनुसार, 26 शव बरामद किए जा चुके हैं। मरने वालों की तादाद बढ़ सकती है।

राहत व बचाव कार्य में गया नौसेना का युद्ध पोत 186 लोगों को लेकर मुंबई के तट पर पहुँच गया है। एक दूसरे बजरे से 35 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। 

सरकारी कंपनी तेल व प्राकृतिक गैस निगम (ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन यानी ओएनजीसी) का यह बजरा था और मुंबई समुद्र तट से थोड़ी दूर समुद्र में तेल परियोजना पर काम कर रहा था। 

बीबीसी के अनुसार, नौसेना के युद्ध पोत 'आईएनएस कोच्चि' के कमान्डिंग अफ़सर सचिन सिकेरा ने कहा, 'हम उस इलाक़े में अभी और लोगों की तलाश में हैं। हम आशावादी हैं। अब स्थिति सुधरी हुई है। उम्मीद की जाती है कि सबसे बुरा पल बीत चुका है।'

India

May 20 2021, 08:45

घर पर कोविड टेस्ट को लेकर आईसीएमआर की नई एडवाइजरी
  


 आईसीएमआर ने  कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि के लिए घरों में जांच के किट को मंजूरी दे दी. इसके साथ ही इस किट के इस्तेमाल को लेकर एडवायजरी भी जारी की है. 

इसमें कहा गया है कि इस टेस्ट में जो लोग पॉजिटिव पाए जाएं, उन्हें सच में संक्रमित माना  जा सकता है।  उन्हें दोबारा टेस्ट कराने की जरूरत नहीं है. 
 
कंपनी का नाम: मायलैब डिस्कवरी सॉल्यूशंस लिमिटेड 
 
किट का नाम: CoviSelfTM (PathoCatch) COVID-19 OTC Antigen LF device
 
 
टेस्ट सैंपल: Nasal swab
 
सभी  पॉजिटिव टेस्ट व्यक्तियों को सलाह दी जाती है कि वे आईसीएमआर और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय प्रोटोकॉल के अनुसार home isolation और देखभाल का पालन करें, जिसे पर देखा जा सकता है.

India

May 20 2021, 08:17

सभी बैंकों में 14 घंटे बंद रहेगी NEFT की सुविधा
  


मुंबई न्यूज़:-देश के सभी बैंक खाता धारकों के लिए रिजर्व बैंक की ओर से खास अलर्ट है। अगर आप एनईएफटी (NEFT) के जरिये ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करते हैं तो 23 मई के आधे दिन आप ऐसा नहीं कर पाएंगे। दरअसल 22 मई की रात 12 बजे से लेकर 23 मई को दोपहर 2 बजे तक ग्राहकों को नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) की सुविधा उपलब्ध नहीं हो सकेगी। यह बंदिश देश के सभी बैंकों पर लागू होगी। ऐसे में आपको पैसे ट्रांसफर करने में परेशानी हो सकती है।भारतीय रिजर्व बैंक ने जानकारी देते हुए कहा कि एनईएफटी सिस्टम को अपग्रेड करने का काम किया जाएगा। जिसके चलते यह सर्विस 14 घंटों के लिए बंद की जाएगी।

India

May 19 2021, 19:29

-3-months-after-recovery
  

स्वास्थ्य मंत्रालय की मंजूरी, कोरोना से ठीक होने के 3 महीने बाद लगेगी वैक्सीन

देश में कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लगातार सरकार की ओर से नए-नए कदम उठाए जा रहे हैं। भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान की देख-रेख कर रहे नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप (NEGVAC)ने वैक्सीनेशन की नई शर्तों को स्वीकार कर लिया है और इसके बारे में राज्यों को भी जानकारी दे दी है। नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप की ओर से दी गई सिफारिशों में यह कहा गया था कि कोरोना से ठीक होने के बाद मरीजों को 3 महीने के बाद ही वैक्सीन की डोज दी जाए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस सुझाव को अनुमति दे दी है।

NEGVAC की नई सिफारिशों के अनुसार, अगर किसी व्यक्ति को वैक्सीन की पहली डोज़ लगाने के बाद कोरोना हो जाता है तो उसे 3 महीने के बाद ही दूसरी डोज दी जाएगी। एक्सपर्ट ग्रुप के सुझाव के मुताबिक अगर व्यक्ति 1 डोज के बाद कोरोना से संक्रमित होता है तो मरीज की रिकवरी हो जाने के तीन महीने बाद ही उसे कोरोना वायरस का टीका दिया जा सकेगा। इसके अलावा किसी दूसरी गंभीर बीमारी जिसमें व्यक्ति हॉस्पिटल/ICU में भर्ती रहा हो, उसे वैक्सीन लेने के लिए 4-8 हफ्तों का इंतजार करना चाहिए।

गंभीर रूप से बीमार होने के बाद भी वैक्सीन की दो डोज के बीच 2 महीने का अंतर होना चाहिए, लेकिन वैक्सीन लगाने या करोना की रिपोर्ट आने के 14 दिनों के बाद कोई भी स्वस्थ व्यक्ति ब्लड डोनेट कर सकता है। साथ ही स्तनपान करा रही सभी महिलाओं को कोविड वैक्सीन की डोज देने के लिए कहा गया है। कोरोना वैक्सीन की डोज लेने गए लोगों का एंटीजन टेस्ट करने से इनकार किया गया है।

कोविशील्ड के दूसरे डोज लेने की अवधि में हो चुका है बदलाव
इसके पहले सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड वैक्सीन के नए प्रोटोकॉल को लेकर बदलाव किया गया था। केंद्र सरकार ने कोविशील्ड की दूसरी वैक्सीन के लिए इंटरवल को 8-12 हफ्तों से बढ़ाकर 12-16 हफ्ते कर दिया। कई लोगों का कहना है कि ऐसा देश में वैक्सीन की कमी के चलते किया गया। नियम केवल कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी खुराक पर लागू होगा।

India

May 19 2021, 18:33

-with-rs-2-crore-package
  

हैदराबाद की दीप्ति को मिला दो करोड़ का सालाना पैकेज,  300 छात्रों में से सबसे अधिक वार्षिक वेतन पाने वाली पहली छात्रा

हैदराबाद की एक छात्रा को माइक्रोसॉफ्ट में 2 करोड़ रुपये सालाना के बड़े वेतन पैकेज के साथ नौकरी मिली है. उसका नाम दीप्ति नारकुटी है. दीप्ती अब अमेरिका के सिएटल में कंपनी के मुख्यालय में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर ग्रेड -2 कैटेगरी में काम करेगी. 

गौरतलब है कि दीप्ति ने इस महीने की शुरुआत में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय से एमएस (कंप्यूटर) का कोर्स पूरा किया और फिर उसे माइक्रोसॉफ्ट से नौकरी का ऑफर भी मिल गया. दीप्ति को पढ़ाई के दौरान पोस्टग्रेजुएशन में ही अमेरिका में ट्रीपल A  रेटिंग वाली कंपनियों से कई ऑफर मिले थे, इनमें  Amazon और Goldman Sachs जैसी कंपनियां भी शामिल हैं. 

दीप्ति के फैमिली बैकग्राउंड की बात करें तो दीप्ति के पिता, डॉ वेंकन्ना हैदराबाद पुलिस कमिश्नरेट में फोरेंसिक विशेषज्ञ के पद पर कार्यरत हैं. दीप्ति ने अपने लिंक्ड इन प्रोफाइल में लिखा है कि  "मेरा दृढ़ विश्वास है कि प्रौद्योगिकी दिन-प्रतिदिन की समस्याओं को हल करने में बहुत मदद कर सकती है, जिससे लोगों के जीवन को बदलने में महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है. 

दीप्ति ने हैदराबाद के उस्मानिया कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से बी.टेक पूरा किया और फिर जेपी मॉर्गन में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में शामिल हुईं. तीन साल तक जेपी मॉर्गन में काम करने के बाद, उसने हायर एजुकेशन करने का फैसला किया और नौकरी छोड़ दी. फिर फ्लोरिडा विश्वविद्यालय से स्कॉलरशिप हासिल की और एमएस कार्यक्रम करने के लिए अमेरिका चली गई. 

द हंस इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, दीप्ति को फ्लोरिडा विश्वविद्यालय में चयनित 300 में से सबसे अधिक वार्षिक वेतन मिला है.

India

May 19 2021, 18:30

-cyclone-updates
  

ताऊ ते तूफान के बाद तबाही का मंजर, अरब सागर से अब तक 14 शव बरामद, गुजरात में मरनेवालों की संख्या 33 पहुंची

ताऊ ते चक्रवाती तूफान के शांत होने के बाद अब तबाही का मंजर सामने आ रहा है. तूफान ने गुजरात महाराष्ट्र,  कर्नाटक और गोवा के कुछ हिस्सों में भारी तबाही मचायी है. राहत बचाव कार्य में जुटे भारतीय नौसेना के अधिकारी ने बताया कि अब तक अरब सागर से 14 शव बरामद किये जा चुके हैं, जबकि अन्य 78 की तलाश जारी है. यह सभी शव बराज पी 305 से निकाले गये हैं. गौरतलब है कि यह बराज तूफान के कारण अरब सागर में डूब गया था. इधर गुजरात में तूफान से मरनेवालों की संख्या 33 पहुंच गयी है. 

तूफान के कमजोर पड़ने के बाद इसके प्रभाव से उत्तर भारत के राज्यों में भारी बारिश का अनुमाम मौसम विभाग ने लगाया है. दिल्ली में रूक रूक कर बारिश हो रही है. इधर हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भी भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है.  राजस्थान में तूफान से सात जिले प्रभावित हुए हैं. पाकिस्तान का सबसे बड़ा शहर कराची भी मंगलवार को ताऊ के प्रभाव में तेज हवाओं और धूल भरी आंधी की चपेट में आ गया, जिससे चार लोगों की मौत हो गई.

अरब सागर में तीन जहाज डूबे लोगों को बचाया गया 
तूफान ताऊ ते के कारण एक तेल रिग भी टूट गया था. साथ ही अरब सागर में तीन जहाज भी डूब गये थे.  नौसेना ने इस बात की पुष्टि की कि तेल रिग सागर भूषण के सभी 101 कर्मचारियों को बचा लिया गया है.  पालघर के पास से गल कंस्ट्रक्टर पर सवार 137 लोगों को भी बचा लिया गया. SS03 पर 196 लोग है जो अभी भी समुद्र में ही हैं पर वो सुरक्षित हैं उन्हें निकालने के लिए टग बोट भेजी गयी है. 

पीएम मोदी ने किया हवाई सर्वेक्षण
इधर पीएम मोदी भी आज चक्रवात प्रभावित इलाकों के हालात का जायजा लेने के लिए गुजरात पहुंचे. पीएम मोदी ने भावनगर में उतरे. वहां से उन्होंने जाफराबाद, ऊना और डियो का हवाई सर्वेक्षण किया. इसके बाद पीएम मोदी अहमदाबाद में एक समीक्षा बैठक भी करेंगे.

India

May 19 2021, 18:17

-year-corona-patient-committed-suicide
  

होम आइसोलेशन में 70 वर्षीय कोरोना संक्रमित ने की आत्महत्या, सवालों के घेरे में प्रशासन

असम में एक 70 वर्षीय कोरोना मरीज ने आत्महत्या कर ली है. वह होम आइसोलेशन में था. असम के सिलचर की यह घटना है. मृतक रंगीरखारी इलाक में एक स्थानीय दुकान में काम करता था. वह अपनी 65 वर्षीय बहन के साथ एक कमरे वाले छोटे से फ्लैट में रहता था.  बुजुर्ग की आत्महत्या के बाद जिला प्रशासन के ऊपर सवाल उठ रहे हैं कि आखिर क्यों उस बुजुर्ग को होम आइसोलेशन की सलाह दी गयी जबकि उसके घर में अलग रहने के लिए जगह भी नहीं थी. 

स्थानीय लोगों ने कहा कि उन्हें घटना के बारे में शाम करीब 4:45 बजे पता चला जब पीड़िता की बहन ने मदद के लिए आवाज लगाई. जब वो घर के करीब गए तो उन्होंने देखा कि वह रो रही थी और कह रही थी कि उसके भाई ने आत्महत्या कर ली है. लोगों ने बताया कि वह कोरोना पॉजिटिव था इसलिए लोग उनकी मदद नहीं कर पाये.  इसके तुरंत पुलिस और स्वास्थ्य विभाग को सूचित किया.

लॉकडाउन से परेशान बुजुर्ग ने की आत्महत्या
पीड़िता की बहन ने कहा कि उसका भाई संक्रमण को रोकने के लिए राज्य में लगाए गए लॉकडाउन से परेशान था, क्योंकि इससे उसकी आय प्रभावित हुई थी. मृतक की बहन ने कहा कि पिछले शुक्रवार को कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से ही घर में आइसलेशन पर था. इसके बाद मंगलवार शाम शाम करीब साढ़े चार बजे वो वॉशरूम गयी, फिर जब बार निकली तो देखा की उनका भाई फांसी पर लटका हुआ है. बहन के कहा कि उसे समझ में नहीं आ रहा है कि उसने ऐसा क्यों किया और इस हालात में उसे अकेला छोड़कर चला गया.  
 
स्थानीय लोग प्रशासन के फैसले पर उठा रहे सवाल
पड़ोसियों के तुरंत मदद नहीं करने को लेकर मृतक की बहन ने कहा कि वो समझती है कि उसके पड़ोसी मदद करने के लिए क्यों नहीं आयो. कोरोना संक्रमित के करीब किसी का आना सुरक्षित नहीं था. हालांकि बुजुर्ग की मौत के बाद से ही स्थानीय लोग प्रशासन के फैसले पर सवाल उठा रहे हैं कि आखिर क्यों जगह की कमी होने के बावजूद बुजुर्ग को होम आइसोलेशन में रहने की अनुमती दी गयी. क्योंकि बुजुर्ग के साथ उसकी बहन भी थी, जो बीमार चल रही है.  

गाइडलाइन के अनुसार 50+ का संक्रमित नहीं रह सकता घर पर
हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक उनके एक पड़ोसी उत्तम राय ने पूछा की ऐसे समय में जब सरकार ने स्पष्ट गाइडलाइन जारी की है कि 50 वर्ष से अधिक की उम्र का कोई भी कोरोना संक्रमित व्यक्ति घर पर नहीं रह सकता है. इस बुजुर्ग को किस आधार पर घर पर रहने की अनुमति मिली थी. 

पर्याप्त संसाधन वालों को ही होम आइसोलेशन की अनुमति
असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने हाल ही में राज्य के सभी जिलों के उपायुक्तों को अपने अधिकार क्षेत्र में वरिष्ठ नागरिकों के स्वास्थ्य की निगरानी करने का निर्देश दिया था.  कोरोना गाइडलाइंस के मुताबिक घर में पर्याप्त संसाधनों वाले व्यक्तियों को ही होम आइसोलेशन की अनुमति दी जा सकती है. जबकि मृत

India

May 19 2021, 16:09

-in-narada-case
  

प बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की मुश्किलें बढी, नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई ने बनाया पक्षकार

नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मुश्किलें बढ़ने वाली है। दरअसल केस को पश्चिम बंगाल के बाहर ट्रांसफर करने की मांग वाली याचिका में सीबीआई ने मुख्यमंत्री को भी पक्षकार बनाया है। सीबीआई ने इसके अलावा याचिका में कानून मंत्री मलय घटक और टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का भी नाम लिया है।
बता दें कि नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई ने तृणमूल कांग्रेस के दो मंत्रियों और एक विधायक के साथ पार्टी के पूर्व नेता को सोमवार को गिरफ्तार किया था। इसके विरोध में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सीबीआई कार्यालय में धरने पर बैठ गई थी। वहीं केंद्रीय एजेंसी की कार्रवाई के खिलाफ राज्य के कई स्थानों पर हिंसक प्रदर्शन हुए।

सीबीआई की विशेष अदालत ने इस मामले में टीएमसी के नेता फिरहाद हकीम, सुब्रत मुखर्जी, विधायक मदन मित्रा, पूर्व टीएमसी नेता और कोलकाता के पूर्व महापौर सोवन चटर्जी को सोमवार को जमानत दे दी थी, लेकिन कलकत्ता हाई कोर्ट ने जल्द ही निचली अदालत के आदेश के अमल पर रोक लगा दी।

साल 2014 में बंगाल के एक पत्रकार ने TMC के कुल 12 नेताओं का स्टिंग ऑपरेशन किया था। इनमें उस समय के 7 सांसद, ममता बनर्जी सरकार के 4 मंत्री और टीएमसी के एक विधायक शामिल थे। आरोप है कि ये सभी नेता 5-5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़े गए थे। ये टेप साल 2016 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से महज कुछ पहले सार्वजनिक किए गए थे। कलकत्ता हाई कोर्ट ने मार्च 2017 में इस मामले की सीबीआई जांच का आदेश दिया था।

India

May 19 2021, 15:53

पीएम पहुंचे गुजरात के भावनगर, दीव के चक्रवात से प्रभावित इलाकों का कर रहे हवाई सर्वेक्षण, उच्चस्तरीय बैठक में राहत बचाव पर बनेगी रणनीति
  



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात में चक्रवात ताउते से हुए नुकसान का जायजा ले रहे हैं। आज सुबह पीएम मोदी भावनगर पहुंचे,जहां मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने उनका स्वागत किया। प्रधानमंत्री मोदी गुजरात और दीव के चक्रवात से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर रहे हैं।


प्रभावित इलाकों का जायजा लेने के बाद प्रधानमंत्री अहमदाबाद में बैठक भी करेंगे जिसमें मुख्यमंत्री के अलावा उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहेंगे। बैठक में हुई क्षति का आकलन और राहत बचाव पर चर्चा होगी। 

बता दें कि गुजरात में चक्रवाती तूफान के कारण तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ, बिजली के खंभे तथा पेड़ उखड़ गए तथा कई घरों व सड़कों को भी नुकसान पहुंचा। इस दौरान हुई घटनाओं में करीब 13 लोगों की मौत भी हुई है। वहीं चक्रवाती तूफान अब राजस्थान में घुस चुका है और वहां बारिश हो रही है। हालांकि इसकी तीव्रता कम है।

India

May 19 2021, 15:35

इसरो ने कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई के लिए बनाया स्वदेशी तकनीक से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, एक ही वक्त पर दो मरीजों का उपचार संभव
  



इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाइजेशन के विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर ने मेडिकल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बनाया है , जिसका नाम "श्वास " दिया है। 

यह उपकरण ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजों को प्राणवायु का समृद्ध स्तर 95 प्रतिशत से अधिक जीवनदायिनी हवा प्रदान करेगा। श्वास ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्रेशर स्विंग एडसॉर्पशन द्वारा हवा से नाइट्रोजन गैस को अलग कर ऑक्सीजन की मात्रा में वृद्धि कर इसे मरीजों को प्रदान करेगा। यह उपकरण एक मिनट के भीतर करीब 10 लीटर सांस उगलने में सक्षम है। इससे एक ही वक्त पर दो मरीजों का उपचार संभव है।
 इसरो द्वारा बनाया गया यह कंसेंट्रेटर 600 वॉट पावर का है जो कि 220 V/50 हर्टज के वोल्टेज पर संचालित किया जा सकेगा। इसके माध्यम से ऑक्सीजन कंसंट्रेशन 82 प्रतिशत से 95 प्रतिशत तक अधिक होगा। इसमें फ्लो रेट और लो प्योरिटी या कम या हाई लेवल प्यूरिटी के लिए ऑडिबल अलार्म की भी व्यवस्था की गई है। 

इसरो के द्वारा बनाए गए इस ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का वजन करीब 44 किलो है। यह मशीन ऑक्सीजन कंसंट्रेशन ,  प्रेशर और फ्लो रेट को डिस्प्ले  करने में सक्षम है। विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर ने बताया कि इसरो चिकित्सा उपकरण बनाने में दिलचस्पी नहीं लेता है। लेकिन कोरोना की विस्फोटक स्थिति को देखते हुए लब्ध प्रतिष्ठित चिकित्सकों की मदद से यहां कार्यरत इंजीनियर्स ने ऑक्सिजन कन्संट्रेटर के निर्माण की प्रक्रिया की जानकारी हासिल की और इससे सम्बंधित सिद्धांत का गहराई से अध्ययन कर इसरो इसमें सफल हुआ।