Bhagalpur

Oct 30 2018, 22:17

सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने अपने कमरे में फांसी लगा कर ली आत्महत्या ! 

श्री दिगंबर जैन समाज के सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने अपने कमरे में फांसी लगा कर ली आत्महत्या, सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, कहा पिछले कुछ समय से थे दबाव में, कोई दोषी नहीं !

भागलपुर।  श्री दिगंबर जैन समाज के सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने आत्महत्या कर ली है। मुनिराज जी का शव उनके कमरे में फंदे से झूलता मिला है। घटनास्थल से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात करीब 8:30 बजे भागलपुर के ललमटिया थाना क्षेत्र स्थित श्री दिगंबर जैन समाज नाथनगर में घटना हुई है। 

कमरा संख्या तीन से मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज की डेडबॉडी बरामद हुई है। उनकी डेडबॉडी उनके कमरे में रस्सी से झूलती हुई मिली है। सुसाइड नोट में उन्होंने इस आत्महत्या के लिए खुद को दोषी माना है। उन्होंने लिखा है कि वह किसी दवाब में थे और इसी कारण उन्हें यह गलत कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने इसके लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया है। बताया जा रहा है कि मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज 4 माह पहले ही यहां आए थे। इस बीच मौके पर पुलिस पहुंच चुकी है। 

लेकिन मौका-ए-वारदात से उनकी डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के लिए नहीं भेजा जा सका है। समाज के लोग पोस्टमार्टम का विरोध कर रहे हैं। इधर, पुलिस का कहना है कि यदि वे चाहें तो कैमरे की निगरानी में पोस्टमार्टम कराया जाए। सूत्रों के अनुसार कुछ ही दिन पहले यहां हुए एक इंटरनल चुनाव को लेकर भी विवाद की बात सामने आ रही हैं।  अभी पुलिस कुछ भी नहीं बता रही है। मुनिराज की आत्महत्या से भक्तों में शोक की लहर है।

Bhagalpur

Oct 30 2018, 22:17

सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने अपने कमरे में फांसी लगा कर ली आत्महत्या ! 

श्री दिगंबर जैन समाज के सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने अपने कमरे में फांसी लगा कर ली आत्महत्या, सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, कहा पिछले कुछ समय से थे दबाव में, कोई दोषी नहीं !

भागलपुर।  श्री दिगंबर जैन समाज के सिद्ध मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज ने आत्महत्या कर ली है। मुनिराज जी का शव उनके कमरे में फंदे से झूलता मिला है। घटनास्थल से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात करीब 8:30 बजे भागलपुर के ललमटिया थाना क्षेत्र स्थित श्री दिगंबर जैन समाज नाथनगर में घटना हुई है। 

कमरा संख्या तीन से मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज की डेडबॉडी बरामद हुई है। उनकी डेडबॉडी उनके कमरे में रस्सी से झूलती हुई मिली है। सुसाइड नोट में उन्होंने इस आत्महत्या के लिए खुद को दोषी माना है। उन्होंने लिखा है कि वह किसी दवाब में थे और इसी कारण उन्हें यह गलत कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने इसके लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया है। बताया जा रहा है कि मुनिराज विप्रन सागर जी महाराज 4 माह पहले ही यहां आए थे। इस बीच मौके पर पुलिस पहुंच चुकी है। 

लेकिन मौका-ए-वारदात से उनकी डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के लिए नहीं भेजा जा सका है। समाज के लोग पोस्टमार्टम का विरोध कर रहे हैं। इधर, पुलिस का कहना है कि यदि वे चाहें तो कैमरे की निगरानी में पोस्टमार्टम कराया जाए। सूत्रों के अनुसार कुछ ही दिन पहले यहां हुए एक इंटरनल चुनाव को लेकर भी विवाद की बात सामने आ रही हैं।  अभी पुलिस कुछ भी नहीं बता रही है। मुनिराज की आत्महत्या से भक्तों में शोक की लहर है।