India

Apr 02 2020, 21:58

तबलीगी जमात पर गृह मंत्रालय का एक्शन, 960 विदेशी नागरिक ब्लैक लिस्ट, वीजा रद्द

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में लॉकडाउन के दौरान इकट्ठा रह रहे हजारों लोगों का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. पहले इस मामले में पुलिस ने मरकज के लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. अब जानकारी सामने आई है कि तबलीगी गतविधियों में शामिल पाए गए 960 विदेशी नागरिकों को गृह मंत्रालय ने ब्लैक लिस्ट कर दिया है. इसके साथ ही इन सभी विदेशी नागरिकों के वीजा भी रद्द कर दिए गए हैं, क्योंकि सभी टूरिस्ट वीजा पर भारत आए हुए थे.

यही नहीं, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तबलीगी जमात के मामले में दिल्ली पुलिस और अन्य संबंधित राज्यों के पुलिस महानिदेशकों को विदेशी अधिनियम, 1946 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के प्रावधानों का उल्लंघन करने के लिए 960 विदेशियों के विरुद्ध आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने गुरुवार की मीडिया ब्रीफिंग में बताया कि देश भर में तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना की चपेट में हैं. वहीं, गृह मंत्रालय से जानकारी के मुताबिक, 9000 लोगों को क्वारनटीन किया गया है, जिसमें से 1306 विदेशी हैं.

लव अग्रवाल ने बताया कि अंडमान निकोबार, जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी, राजस्थान और उत्त प्रदेश से आई रिपोर्ट के मुताबिक, तबलीगी जमात से जुड़े अब तक 400 कोरोना पॉजिटिव केसेज आ चुके हैं. इसके अलावा अतिरिक्त टेस्टिंग भी चल रही है जिससे कुछ और केसेज भी पाए जा सकते हैं.

उन्होंने बताया, तमिलनाडु से 173 लोग, राजस्थान से 11, अंडमान निकोबार से 9, दिल्ली से 47 पुडुचेरी से 2, जम्मू-कश्मीर से 22, तेलंगाना से 33, आंध्रप्रदेश से 67 और असम से 16 ऐसे पॉजिटिव केसेज आए हैं. ये नंबर और बढ़ता जा रहा है जैसे-जैसे सैंपलिंग की रिपोर्ट आती जा रही है.

India

Apr 02 2020, 21:13

आज के ही दिन भारत ने 28 साल बाद रचा था इतिहास, धोनी के छक्के से वर्ल्ड कप पर किया कब्जा

भारत ने आज के ही दिन (2 अप्रैल) 2011 में दूसरी बार वर्ल्ड कप पर कब्जा किया था. 1983 में भारत ने पहली बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था. यानी 28 साल बाद टीम इंडिया ने एक बार फिर इतिहास रच डाला. इसके साथ ही भारतीय टीम वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बाद तीसरी ऐसी टीम बनी, जो दो या इससे अधिक बार खिताब पर कब्जा करने में सफल रही.

इससे पहले तक फाइनल में शतक बनाने वाले की टीम जीतती रही थी. लेकिन ऐसा पहली बार हुआ, जब शतक काम नहीं आया. महेला जयवर्धने के नाबाद 103 रनों के बाद भी श्रीलंका को जीत नसीब नहीं हुई. 275 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को शुरुआती झटके लगे थे. 2 विकेट महज 31 रनों पर गिर गए थे.

एक समय टीम इंडिया 114 रनों पर 3 विकेट खो चुकी थी. ओपनर गौतम गंभीर क्रीज पर थे और उनका साथ देने के लिए युवराज सिंह को आना था. लेकिन सबको हैरत में डालते हुए कप्तान धोनी पांचवें नंबर पर युवराज से पहले क्रीज पर आ गए. उन्होंने धमाकेदार पारी खेल कर भारत को जीत दिलाई, वे मैन ऑफ द मैच रहे.

छक्के के साथ चैम्पियन बनाया

धोनी ने गंभीर के साथ 109 रनों की शानदार पार्टनरशिप की. गौतम गंभीर ने 97 रनों की ठोस पारी खेली. धोनी ने 79 गेंदों में 91 रन (8 चौके, दो छक्के) तो बनाए ही, साथ ही 'बेस्ट फिनिशर' की परिभाषा पर खरे उतरते हुए विजयी सिक्सर मारकर सबके दिलों को जीत लिया. युवी 24 गेंदों पर 21 रन बनाकर नाबाद रहे.

भारतीय क्रिकेट टीम 28 साल बाद वनडे वर्ल्ड कप विजेता बनी... और प्रशंसक जश्न में डूब गए. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का विश्व विजेता बनने का सपना पूरा हो चुका था. टीम ने इस दिग्गज को कंधे पर बिठाया और पूरे स्टेडियम का चक्कर लगाया.

India

Apr 02 2020, 20:32

लॉकडाउन के बीच PM मोदी कल देंगे देश को संदेश, सुबह 9 बजे जारी करेंगे वीडियो

कोरोना वायरस के चलते जारी लॉकडाउन के बीच गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा, 'कल सुबह 9 बजे देशवासियों के साथ मैं एक वीडियो संदेश साझा करूंगा.' पीएम मोदी का यह ट्वीट सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ लॉकडाउन पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग मीटिंग के बाद आया है.

At 9 AM tomorrow morning, I’ll share a small video message with my fellow Indians.

कल सुबह 9 बजे देशवासियों के साथ मैं एक वीडियो संदेश साझा करूंगा।-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

India

Apr 02 2020, 20:06

मरकज के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए जमातियों की वजह से देश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े- स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली – दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज मस्जिद के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए जमातियों की वजह से देश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े हैं। मरकज से जुड़े संक्रमितों में और इजाफा हो सकता है ये कहना है स्वास्थ्य मंत्रालय का। मंत्रालय के मुंताबिक यह आंकड़ा 400 के करीब तक पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि देशभर में 9 हजार तब्लीगी जमात के सदस्यों और उनके संपर्क में आए लोगों की पहचान की गई है। इनमें 1306 विदेशी हैं और बाकी भारतीय हैं। इन्हें क्वारैंटाइन किया जा रहा है।
लव अग्रवाल ने बताया कि अब तक देश भर में मरकज से जुड़े 400 कोरोना संक्रमित केस मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा 173 मामले तमिलनाडु से हैं। उधर, दिल्ली में 2 हजार तब्लीगी जमात के सदस्यों में से एक हजार 804 को क्वारैंटाइन किया है। वहीं, 334 को कोरोना के लक्षण की वजह से अस्पताल में भर्ती किया है।

10 राज्यों में मरकज के संक्रमित पहुंचे चुके हैं, जिसमें तमिलनाडु में सबसे ज्यादा संक्रमित हैं। देखते हैं किस राज्य में कितने जमाती संक्रमित हैं -  

तमिलनाडु  173
आंध्रप्रदेश   67 
दिल्ली     47 
तेलंगाना  33
कश्मीर    22 
असम     16
राजस्थान  11  
कर्नाटक11 
अंडमान निकोबार 09
पुड्डुचेरी  02
कुल391
मरकज में 1 से 15 मार्च के बीच हुए कार्यक्रम में देश-विदेश के 5 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। लेकिन, इसके बाद भी करीब 2000 से ज्यादा लोग यहां रुके रहे, जबकि ज्यादातर लॉकडाउन से पहले अपने घरों को लौट गए। यहां से संक्रमण का कनेक्शन दिल्ली समेत 22 राज्यों से जुड़ रहा है। इनमें तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, असम, उत्तरप्रदेश, तेलंगाना, पुडुचेरी, कर्नाटक, अंडमान निकोबार, आंध्रप्रदेश, श्रीनगर, दिल्ली, ओडिशा, प.बंगाल, हिमाचल, राजस्थान, गुजरात, मेघालय, मणिपुर, बिहार, केरल और छत्तीसगढ़ शामिल है।

India

Apr 02 2020, 18:08

यूपी पुलिस ने 218 विदेशी 'कोरोना कैरियर' को किया चिन्हित, किया पासपोर्ट जब्त

यूपी पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। यूपी पुलिस की कार्रवाई में 218 विदेशी 'कोरोना कैरियर' को चिन्हित किया है, जो अलग-अलग समय पर टूरिस्ट वीजा पर प्रदेश में आए थे। इनमें से कुछ विदेशी तबीलीग जमात के मरकज में भी शामिल हुए थे। मरकज में शामिल होने वाले विदेशी 'कोरोना कैरियर' के पासपोर्ट जब्त कर पुलिस ने उन्हें क्वारंटाइन कर दिया है। 

इन जिलों में विदेशी जमातियों पर दर्ज हुए मुकदमे
मेरठ में 19, हापुड़ में 9, बुलंदशहर में 11, प्रयागराज में 17, जौनपुर में 17 और लखनऊ में तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

प्रयागराज - अब्दुल्ला मस्जिद के मुसाफिरखाने में छिपे सात विदेशियों समेत 17 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज।

कानपुर - तबलीगी जमात में शामिल 11 विदेशी नागरिकों समेत 20 सैम्पल भेजे गए। कानपुर में तब्लीगी जमात के 120 सदस्य चिह्नित।

हरदोई - मदरसे से पकड़े गए 11 संदिग्ध लोग।

कन्नौज - पकड़े गए 11 लोगों के सेम्पल जांच के लिए भेजे।

शाहजहांपुर - धार्मिक स्थल से मिले थाईलैंड के नागरिक।

बदायूं - मस्जिद में दूसरे प्रदेशों के लोग मिले।

लखीमपुर - बिहार के 12 जमाती मिले।

मुरादाबाद - दिल्ली मरकज से आए 36 जमातियों को भेजा गया आईसोलेशन सेंटर। तबलीगी जमात के संपर्क में आए कांठ में 15 लोग क्वारेंटाइन।

रामपुर - रामपुर में तब्लीगी जमात से आए 17 की हुई ब्लड सैंपलिंग। निजामुद्दीन से लौटकर टांडा में आए पांच लोगों का लिया ब्लड सैंपल।

अमरोहा - अमरोहा से भी जमात में शामिल हुए थे 13 लोग।

जौनपुर - पुलिस ने बांग्लादेशियों  समेत 17 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है। 

भदोही - पुलिस ने बांग्लादेशियों समेत 12 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है। 

हाथरस - दिल्ली मरकज से लौटे पांच जमातियों समेत 42 पकड़े।

India

Apr 02 2020, 17:21

कोरोना के 54 और नए मामले आए सामने, मरनेवालों का आंकड़ा पहुंचा 60 के पार

भारत में कोरोना तेजी से पांव पसार रहा है। अब तक 21 सौ से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, और 18 सौ से ज्यादा लोग अब तक इस वायरस की गिरफ्त में हैं। आज गुरूवार की बात करें, तो 54 नए मामले सामने आए हैं और आज 6 लोगों की जान कोरोना ने ले ली है इसके साथ ही मरने वालों की संख्या 56 से बढ़कर 62 हो गई है। देश के सभी राज्यों में किस तरह के हालात हैं, आंकड़ों पर एक नजर - 



STATE/UT	CONFIRMED	ACTIVE	RECOVERED	DECEASED
MAHARASHTRA	339	284	39	16
KERALA	265	237	26	2
TAMIL NADU	234	227	6	1
DELHI	152	144	6	2
ANDHRA PRADESH	132	130	2	-
RAJASTHAN	131	128	3	-
TELANGANA	127	104	14	9
KARNATAKA	121	109	9	3
UTTAR PRADESH	117	98	17	2
MADHYA PRADESH	98	92	-	6
GUJARAT	87	73	7	7
JAMMU AND KASHMIR	62	58	2	2
HARYANA	47	20	27	-
PUNJAB	47	42	1	4
WEST BENGAL	37	28	3	6
BIHAR	24	23	-	1
CHANDIGARH	17	17	-	-
ASSAM	16	16	-	-
LADAKH	13	10	3	-
ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS	10	10	-	-
CHHATTISGARH	9	6	3	-
UTTARAKHAND	7	5	2	-
GOA	5	5	-	-
ODISHA	5	4	1	-
HIMACHAL PRADESH	3	1	1	1
PUDUCHERRY	3	3	-	-
MANIPUR	2	2	-	-
ARUNACHAL PRADESH	1	1	-	-
JHARKHAND	1	1	-	-
MIZORAM	1	1	-	-
TOTAL	2113	1879	172	62

India

Apr 02 2020, 14:40

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्य मंत्रियों से किए संवाद, दिया संदेश- केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर कोरोना को हराएंगे


कोरोना संकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सभी राज्यों के मुख्य मंत्रियों से बात की। पीएम मोदी ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की ओर किए जा रहे उपायों पर भी चर्चा कर सुझाव दिए। राज्य सरकारों से कहा कि केंद्र इस महामारी से लड़ने के लिए हर संभव मदद को तैयार है। हर राज्यों के मुख्य मंत्रियों से लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराये जाने की अपील की। कहा कि लोगों को जरूरी सामान भी मुहैया कराई जाए , ताकि किसी को दिक्कत न हो। श्रमिकों के पलायन पर कहा कि हमें इसे रोकने के लिए हर संभव प्रयास करना है। उन्होंने प्रत्येक राज्य को श्रमिकों के पलायन को अपने स्तर से रोके जाने की सलाह दी। पीएम मोदी ने मजदूरों के लिए शेल्टर होम के साथ उनके खाने - पीने की व्यवस्था किये जाने की बात - बताते  हुए कहा कि श्रमिक भी लॉक डाउन का पालन करें और बेवजह सड़कों पर न निकलें। यह संकट की घड़ी है। इस वक्त केंद्र और राज्य सरकारों के बीच बेहतर समन्वय की जरूरत है। केंद्र सरकार हर राज्य के साथ खड़ी है और उन्हें जरूरी मदद उपलब्ध कराई जाएगी। पीएम मोदी ने मुख्य मंत्रियों से राज्यों में  उपलब्ध मेडिकल सुविधा की भी जानकारी ली और कई महत्वपूर्ण संदेश दिया। कोरोना वायरस पीड़ित लोगों की तादाद बढ़ने पर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि इसे नियंत्रित करने के लिए आईसोलेशन और क्वारन्टीन व्यवस्था का अक्षरशः पालन सुनिश्चित किया जाए। इसे जानलेवा बीमारी के साथ इसे महामारी बताते हुए कहा कि देश के नागरिकों का जीवन अमूल्य है। इसकी रक्षा करना सर्वोच्च प्राथमिकता है।

India

Apr 02 2020, 14:16

कोरोना वायरस के संक्रमण की संकट में देश की अर्थव्यवस्था-

अगले छह माह में 04.88 लाख करोड़ का कर्ज लेगी सरकार,इस साल 07.08 लाख करोड़ कर्ज लेने का है अनुमान



कोरोना वायरस के प्रकोप से देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो रही है। इसको लेकर सरकार अगले छह माह में 04.88 लाख करोड़ का कर्ज लेने की तैयारी में है। यह जानकारी आर्थिक मामलों के सचिव अतनु चक्रवर्ती ने दी है।
   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020 - 21 के लिए बजट में बाजार से 07.08 लाख करोड़ रुपये का उधार लिए जाने का अनुमान लगाया था। इस रकम का करीब 60 फीसदी हिस्सा शुरुआती 06 महीनों में ही लिए जाने की उम्मीद है। वित्त मंत्री ने 2020 - 21 का आम बजट पेश करते हुए कहा था कि नए वित्त वर्ष में बाजार से उठाई जाने वाली राशि का एक बड़ा हिस्सा पूंजी व्यय में खर्च होने का अनुमान है। सरकार ने पूंजी खर्च में 21 प्रतिशत की वृद्धि का प्रावधान किया है। सरकार अपने राजकोषीय घाटे को पूरा करने के लिये बाजार से धन जुटाती है। इसके लिए मियादी बांड और ट्रेजरी बिल जारी किए जाते हैं। वर्ष 2020 - 21 के बजट में सरकार का राजकोषीय घाटा 07.96 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान लगाया गया है जो कि सकल घरेलू उत्पाद का 03.05 प्रतिशत होगा।
   कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से देश की अर्थव्यवस्था का बुरा हाल होने की आशंका है। बीते दिनों एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि लॉक डाउन की वजह से अर्थव्यवस्था को 120 अरब डॉलर (करीब नौ लाख करोड़ रुपये) का नुकसान हो सकता है। नुकसान भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के चार प्रतिशत के बराबर है।
 लॉक डाउन 14 अप्रैल तक निर्धारित है। लॉक डाउन के कारण सारी आर्थिक गतिविधियां ठप है। इस स्थिति में अर्थव्यवस्था का तबाह होना तय माना जा रहा है।

India

Apr 02 2020, 14:14

जान लीजिए, उत्तर कोरिया , यमन समेत दुनिया के 15 देशों में कोरोना का कोई प्रभाव नहीं इन 37 देशों में अभी तक 10 से कम मामले


-- 180 देशों में कोरोना वायरस के 8.59 लाख केस दाखिल, 
बीमारी से 130 देशों में 42341 लोगों की मौत


-- अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कोरोना वायरस को लेकर जारी किया डेटाबेस



अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कोरोना वायरस के अपडेट के लिए दुनिया का डेटा जारी किया है। ज्यादातार मीडिया संस्थान और सरकारें यूनिवर्सिटी के डेटा का ही इस्तेमाल कर रही हैं। यूनिवर्सिटी के मुताबिक कोरोना वायरस अब तक दुनिया के 180 देशों तक पहुंच चुका है। लेकिन कुछ ऐसे भी देश हैं , जहां इसका अब तक एक भी केस सामने नहीं आया है। इनमें उत्तर कोरिया भी शामिल है।  किम जोंग उन सरकार का कहना है कि उनके यहां कोरोना वायरस का कोई खतरा नहीं है , न ही कोई केस आया है। जबकि उत्तर कोरिया की सीमा चीन और दक्षिण कोरिया जैसे देशों से लगी हुई है। इन दोनों देशों से ही सबसे पहले बाकी दुनिया में कोराेना वायरस फैलने की शुरुआत हुई है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के जारी 31 मार्च तक के डेटा के अनुसार अफ्रीका महाद्वीप में कई ऐसे देश हैं , जहां अब तक कोरोना वायरस का एक भी केस सामने नहीं आया है। इन देशों में बोत्सवाना , बुरुंडी , तुर्कमेनिस्तान , तजाकिस्तान , यमन , कोमोरोस , मलावी , साओ तोमे एंड प्रिंसिपी , दक्षिण सुडान आदि शामिल हैं। इसके अलावा कुछ छोटे आईसलैंड भी हैं , जहां कोरोना वायरस अब तक नहीं पहुंचा है। इनमें सोलोमन आइसलैंड , वानुआतु आदि है। 
  इधर, पूरी  दुनिया कोरोना वायरस को रोकने में जुटी है पर उत्तर कोरिया मिसाइल टेस्ट में लगा हुआ है। दो दिन पूर्व ही उसने मिसाइल टेस्ट किया है। उत्तर कोरिया में अब तक कोरोना वायरस का प्रवेश न होने के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि वह बाकी दुनिया से अलग - थलग है। इसलिए यह संभव हो सका है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के डेटाबेस के मुताबिक अब तक दुनिया के 180 देश कोरोना वायरस की चपेट में आये हैं। विश्व के विभिन्न देशों में इस बीमारी ने 08.59 लाख लोगों को लपेटा है वहीं 130 राष्ट्र में 42341 लोगों के मौत हो जाने की जानकारी मिली है। यूनिवर्सिटी के मुताबिक कोरोना वायरस से पीड़ित 01.78 लाख लोग यथोचित इलाज के बाद स्वस्थ हुए हैं। यूनिवर्सिटी रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में अब तक इस बीमारी से 01.89 लाख लोग पीड़ित हुए हैं वहीं सम्बंधित रोग से सबसे अधिक 12428 लोगों की मौत इटली में हुई है।

India

Apr 02 2020, 14:12

जान लीजिए, उत्तर कोरिया , यमन समेत दुनिया के 15 देशों में कोरोना का कोई प्रभाव नहीं इन 37 देशों में अभी तक 10 से कम मामले


-- 180 देशों में कोरोना वायरस के 8.59 लाख केस दाखिल, 
बीमारी से 130 देशों में 42341 लोगों की मौत


-- अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कोरोना वायरस को लेकर जारी किया डेटाबेस



अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने कोरोना वायरस के अपडेट के लिए दुनिया का डेटा जारी किया है। ज्यादातार मीडिया संस्थान और सरकारें यूनिवर्सिटी के डेटा का ही इस्तेमाल कर रही हैं। यूनिवर्सिटी के मुताबिक कोरोना वायरस अब तक दुनिया के 180 देशों तक पहुंच चुका है। लेकिन कुछ ऐसे भी देश हैं , जहां इसका अब तक एक भी केस सामने नहीं आया है। इनमें उत्तर कोरिया भी शामिल है।  किम जोंग उन सरकार का कहना है कि उनके यहां कोरोना वायरस का कोई खतरा नहीं है , न ही कोई केस आया है। जबकि उत्तर कोरिया की सीमा चीन और दक्षिण कोरिया जैसे देशों से लगी हुई है। इन दोनों देशों से ही सबसे पहले बाकी दुनिया में कोराेना वायरस फैलने की शुरुआत हुई है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के जारी 31 मार्च तक के डेटा के अनुसार अफ्रीका महाद्वीप में कई ऐसे देश हैं , जहां अब तक कोरोना वायरस का एक भी केस सामने नहीं आया है। इन देशों में बोत्सवाना , बुरुंडी , तुर्कमेनिस्तान , तजाकिस्तान , यमन , कोमोरोस , मलावी , साओ तोमे एंड प्रिंसिपी , दक्षिण सुडान आदि शामिल हैं। इसके अलावा कुछ छोटे आईसलैंड भी हैं , जहां कोरोना वायरस अब तक नहीं पहुंचा है। इनमें सोलोमन आइसलैंड , वानुआतु आदि है। 
  इधर, पूरी  दुनिया कोरोना वायरस को रोकने में जुटी है पर उत्तर कोरिया मिसाइल टेस्ट में लगा हुआ है। दो दिन पूर्व ही उसने मिसाइल टेस्ट किया है। उत्तर कोरिया में अब तक कोरोना वायरस का प्रवेश न होने के पीछे तर्क दिया जा रहा है कि वह बाकी दुनिया से अलग - थलग है। इसलिए यह संभव हो सका है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के डेटाबेस के मुताबिक अब तक दुनिया के 180 देश कोरोना वायरस की चपेट में आये हैं। विश्व के विभिन्न देशों में इस बीमारी ने 08.59 लाख लोगों को लपेटा है वहीं 130 राष्ट्र में 42341 लोगों के मौत हो जाने की जानकारी मिली है। यूनिवर्सिटी के मुताबिक कोरोना वायरस से पीड़ित 01.78 लाख लोग यथोचित इलाज के बाद स्वस्थ हुए हैं। यूनिवर्सिटी रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में अब तक इस बीमारी से 01.89 लाख लोग पीड़ित हुए हैं वहीं सम्बंधित रोग से सबसे अधिक 12428 लोगों की मौत इटली में हुई है।