India

Aug 10 2019, 17:52

डिस्कवरी चैनल के लोकप्रिय शो मैन वर्सेज वाइल्ड में होस्ट बेयर ग्रिल्स के साथ नजर आएंगे पीएम मोदी   

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिस्कवरी चैनल के लोकप्रिय शो मैन वर्सेज वाइल्ड में होस्ट बेयर ग्रिल्स के साथ नजर आएंगे. यह खास एपिसोड 12 अगस्त को डिस्कवरी चैनल पर प्रसारित किया जाएगा. समाचार एजेंसी ANI के साथ बातचीत में शो के होस्ट बेयर ग्रिल्स पीएम मोदी से काफी प्रभावित नजर आए. उन्होंने पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि वह विषम परिस्थितियों में भी बहुत शांत-संतुलित रहते हैं.

बेयर के इस शो में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी नजर आ चुके हैं. जब बेयर से पूछा गया कि क्या पीएम मोदी और ओबामा में आपको कोई समानता नजर आई या वे दोनों पूरी तरह से अलग हैं. इस पर बेयर ने कहा, "मुझे कुछ साल पहले उनके साथ अलास्का में एक ट्रिप पर जाने का मौका मिला था. दोनों के बीच में जो बात एक जैसी थी वो ये है कि दोनों ही ये संदेश देना चाहते थे कि हमें प्रकृति को बचाना होगा."

अमेरिका के वेल्स में मौजूद बेयर ग्रिल्स ने कहा, "पीएम मोदी वो आदमी हैं जो प्रकृति के बारे में बहुत सोचते हैं. यही वजह है कि वह इस सफर पर हमारे साथ आए. उन्होंने एक युवा लड़के के तौर पर जंगलों में वक्त बिताया है और मैं बहुत हैरान था कि वह जंगल में इतने कंफर्टेबल, संतुलित और शांत कैसे थे."

बेयर ने कहा, "भारत कमाल का खूबसूरत देश है जिसमें बहुत सुंदरता है और आपको इसे सहेजना चाहिए. लेकिन ये हर किसी की जिम्मेदारी है तभी संभव होगा. इसमें छोटी चीजें जैसे नहीं थूकना, प्लास्टिक पैदा होने से बचाना या पर्यावरण बचाना या इसे प्रमोट करना शामिल हैं."

India

Aug 10 2019, 17:22

जम्मू - नेशनल कॉन्फ्रेंस के दो सांसद मो अकबर लोंन और हसनैन मसूदी ने जम्मू कश्मीर से 370 धारा हटाने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती   


 
नई दिल्ली ।केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छीनने और अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी (एनसी) ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के दो सासंद मोहम्मद अकबर लोन और हसनैन मसूदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने के फैसले को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। एनसी ने दावा किया है कि केंद्र सरकार का फैसला पूरी तरह से 'गैरकानूनी' है।

इससे पहले भी जम्मू- कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की जा चुकी है। शुक्रवार को कश्मीर के एक अधिवक्ता शाकिर शब्बीर ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर जम्मू- कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले को चुनौती दी थी। शाकिर शब्बीर ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष कहा कि यह एक संवौधानिक प्रावधान है जो केवल राष्ट्रपति के आदेश द्वारा संशोधित नहीं किया जा सकता है। दलील में आगे कहा गया कि इस तरह का फैसले लेने से पहले राज्य विधानसभा की सहमति लेना आवश्यक था।

इससे पहले सामाजिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने भी सरकार के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रूख किया था। तहसीन पूनावाला ने कहा था कि सरकार ने इस तरह का फैसले लेने से पहले लोगों को किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं दी। वहीं उन्होंने राज्य में कर्फ्यू और प्रतिबंध वापस लेने के साथ फोन लाइन, इंटरनेट और समाचार चैनलों के सिंगनल जैसे अन्य उपायों को बहाल करने की मांग की थी।

India

Aug 10 2019, 16:55

भारतीय भाषाओं पर संकट, भारत की लगभग 200 भाषाएं हो रही है बिलुप्त   


नई दिल्ली । पूरी दुनिया ने शुक्रवार को देशी भाषाओं का अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया। भाषा किसी भी संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है, इसलिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विलुप्त होती भाषाओं को लेकर जागरूकता के प्रयास जरूरी हैं। दुनिया भर में करीब 7,000 भाषाएं हैं।

भारत में अभी लगभग 450 जीवित भाषाएं हैं। देश की यह समृद्ध भाषाई विरासत गर्व करने लायक है। लेकिन चिंता की बात है कि हमारे देश की 10 भाषाएं ऐसी हैं जिसके जानकार 100 से भी कम लोग बचे हैं। इन भाषाओं में ज्यादातर भाषाएं मूल निवासियों द्वारा बोली जाती हैं, लेकिन ये भाषाएं खतरनाक ढंग से विलुप्त होती जा रही हैं।

वहीं 81 भारतीय भाषाओं की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। जिसमें मणिपुरी, बोडो, गढ़वाली, लद्दाखी, मिजो, शेरपा और स्पिति शामिल हैं। लेकिन ये सभी भाषाएं अभी 'कमजोर' की श्रेणी में हैं। इनको बचाए रखने के लिए संगठित प्रयास करने की जरूरत है।

दुनिया की खतरे में पड़ी भाषाओं के यूनेस्को एटलस के ऑनलाइन चैप्टर के मुताबिक भारत की 197 भाषाएं ऐसी हैं जो असुरक्षित, लुप्तप्राय या विलुप्त हो चुकी हैं। विलुप्त हो रही भाषाओं में अहोम, एंड्रो, रंगकास, सेंगमई, तोलचा व अन्य शामिल हैं। ये सभी भाषाएं हिमालयन बेल्ट में बोलीं जाती हैं।

वहीं यूनेस्को के मुताबिक दुनिया की करीब 97 फीसदी आबादी इनमें से सिर्फ 4 फीसदी भाषाओं की जानकारी रखती है, जबकि दुनिया के केवल 3 फीसदी लोग बाकी के 96 फीसदी भाषाओं की जानकारी रखते हैं।

India

Aug 10 2019, 16:53

जम्मू कश्मीर में समान्य हो रहे हैं हालात, राज्यपाल बोले- शांति से मनेगी बकरीद  

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने शुक्रवार को श्रीनगर में रावलपोरा, रामबाग, जवाहर नगर, सोनवार और राजबाग समेत कई इलाकों का दौरा किया। राज्यपाल ने विभिन्न इलाकों में खुली उचित मूल्य की दुकानों में राशन की आपूर्ति का भी जायजा लिया। इसके बाद शुक्रवार शाम एक प्रेस कॉन्फ्रेस आयोजित कर सत्यपाल मलिक ने राज्य स्थिति को लेकर कई जानकारियां साझा कीं।

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भी इस बात को लेकर आश्वस्त किया है कि कश्मीर घाटी में शांति के साथ बकरीद मनाई जाएगी।धीरे धीरे हालात सामान्य होने की तरफ बढ़ रहे हैं। लोगों को मिल रही सुविधाओं की समीक्षा होगी। उन्होने बताया कि, अस्पतालों के पास दवाइयों का पर्याप्त भंडार है और मरीजों को हरसंभव स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जा रही हैं। श्रीनगर में टीआरसी, अस्पतालों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर लंगर चल रहे हैं।

राज्यपाल ने जानकारी देते हुए कहा कि, बकरीद के लिए 2.5 लाख भेड़ / बकरी और 30 लाख मुर्गे की व्यवस्था की गई है। हमारे पास राशन का दो महीने का स्टॉक है। पेट्रोल, डीजल और नियमित एलपीजी की आपूर्ति का पर्याप्त भंडार है। बिजली आपूर्ति, पानी और स्वच्छता जैसी आवश्यक सेवाओं को सुनिश्चित करने के लिए 1600 कर्मचारी ड्यूटी पर हैं। कश्मीर में 10,000 लोग ड्यूटी पर काम कर रहे हैं। ज्यादातर बैंकों के एटीएम चालू हैं। हमने दैनिक वेतन भोगियों को अगस्त के लिए अग्रिम वेतन जारी किया है।

राज्यपाल ने बताया कि, पीएम मोदी के कल शाम देश के नाम संबोधन से काफी अच्छा प्रभाव पड़ा है। स्थिति शांतिपूर्ण है। ईद से पहले और बाद में पाबंदियों में छूट दी जाएगी। जिससे लोग त्योहार को उचित तरीके से मना सकेंगे। खबरों के मुताबिक उन्होंने यह भी कहा कि राज्य में ईद शांति से मनाई जाएगी। घाटी में हालात सामान्य हो रहे हैं। लोगों को परेशानी ना हो, इसका ख्याल रखा जाएगा। 40 से 50 प्रतिशत इलाकों में स्थिति बेहतर हो रही है। अभी तक किसी भी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई है।

India

Aug 10 2019, 13:32

जम्मू कश्मीर पर पढ़ लीजिए, ताज़ा अपडेट


जम्मू कश्मीर से हटाई गई धारा 144, राज्यपाल ने कहा-तेजी से हो रहे हैं हालात सामान्य, अधिसूचना जारी, खुल गए स्कूल कॉलेज, दिनचर्या लौटी सामान्य ढर्रे पर



Streetbuzz desk/जम्मू और कश्‍मीर से केंद्र सरकार के अनुच्‍छेद 370 हटाने के बाद घाटी में हालात सामान्‍य होने लगे हैं। स्कूल कॉलेज खुल गए हैं, धारा 144 हटा ली गई है। लोगों की दिनचर्या सामान्य होने लगी है। बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया जा रहा है। दोनों ही नए केंद्र शासित प्रदेश 31 अक्‍टूबर से अस्तित्‍व में आ जाएंगे। जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन एक्ट को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है। गृह मंत्रालय ने भी अधिसूचना जारी कर दिया है। जम्‍मू और कश्‍मीर में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। धारा 144 हटने के बाद जम्मू के सभी जिलों में स्कूल और कॉलेज शनिवार को खुल गए हैं। सड़कों पर चहल पहल देखी जा रही है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन कानून को मंजूरी दे दी है। इसके तहत दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख 31 अक्टूबर से अस्तित्व में आ जाएंगे। 31 अक्टूबर देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती है, जिन्होंने आजादी के बाद 565 रियासतों का भारत गणराज्य में विलय कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने कहा है कि शांति के साथ ईद मनाई जाएगी। उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी के भाषण ने शांति स्‍थापित करने का काम किया है। राज्‍य में हालात शांतिूपर्ण हैं। ईद के मद्देनजर पहले और बाद में छूट दी जाएगी, जिससे कि त्‍योहार को पूरे उत्‍साह से मनाया जाए। इधर, राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने राज्‍य में हालात की जानकारी देते हुए शुक्रवार को बताया, ‘मैं आज लल्‍ला डेड हॉस्पिटल और जीबी पंत चिल्‍ड्रेन हॉस्पिटल गया था। वहां पर सभी सुविधाएं ठीक हैं। दवाओं, मरीजों के इलाज और एंबुलेंस संबंधी खर्चों के लिए फंड जारी कर दिया गया है। उन्‍होंने बताया कि श्रीनगर में सार्वजनिक स्‍थानों पर लोगों के लिए लंगर की व्‍यवस्‍था की गई है। ईद के लिए 2.5 लाख बकरों/बकरियों की व्‍यवस्‍था की गई है। हमारे पास दो महीने का राशन का स्‍टॉक है। साथ ही एलपीजी, पेट्रोल और डीजल का भी पर्याप्‍त स्‍टॉक है।
राज्‍यपाल के मुताबिक राज्‍य के लोगों बिजली, पानी संबंधी कोई परेशानी ना हो, इसलिए 1600 कर्मचारी कार्यरत हैं। एटीएम भी सुचारू रूप से काम कर रहे हैं। सभी कर्मचारियों का अगस्‍त की सैलरी भी एडवांस में देने की बात भी सामने आई है।

India

Aug 10 2019, 11:29

उन्नाव दुष्कर्म के मामले में बाहुबली विधायक कुलदीप सेंगर पर आरोप तय,अब पास्को एक्ट के तहत तय होगा सजा,

ढही बादशाहत की किला,राजनीति कैरियर खत्म,अब पीड़िता को मिलेगा न्याय

चर्चित उन्नाव दुष्कर्म के मामले में उन्नाव से बाहुबली विधायक कुलदीप सेंगर पर लगे दुष्कर्म के आरोप की सुनवाई कर रही रही दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने 2017 में नाबालिग के दुष्कर्म के मामले में विधायक के खिलाफ दुष्कर्म के आरोप तय किया है । 

    इसी के साथ विधायक के 25 सालों का रातनीतिक साम्राज्य का 
किला ढह गया। अदालत ने सेंगर के साथी शशि सिंह के खिलाफ भी  नाबालिग लड़की के अपहरण के संबंध में आरोप भी तय किए हैं। 

अदालत ने भारतीय दंड संहिता की धाराओं 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र), 363 (अपहरण), 366 (अपहरण एवं महिला पर विवाह के लिए दबाव डालना), 376 (बलात्कार) और बाल यौन अपराध संरक्षण कानून (पॉक्सो) की प्रासंगिक धाराओं के तहत आरोप तय किए हैं। सीबीआई ने बृहस्पतिवार को अदालत को बताया था कि सेंगर और उसके भाई ने लड़की के पिता पर हमला किया और तीन राज्य पुलिस अधिकारियों एवं पांच अन्य के साथ मिलकर शस्त्र कानून के एक मामले में उसे फंसाया।

दुष्कर्म पीड़िता के एक्सीडेंट के बाद फिर सुलग उठा था उन्नाव दुष्कर्म कांड

28 जुलाई 2019 को रायबरेली में पीड़िता की कार में टक्कर लगने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को सज्ञान में लिया । इस हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो चुकी है। इस से पहले 12 जुलाई 2019 को पीड़िता की मां ने सुप्रीम कोर्ट को एक पत्र भी लिखा था। जिसके आधार पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस मामले की सुनवाई की।इस मामले को लेकर परिवार, विपक्ष व समाजसेवियों के हंगामे के बाद केंद्र की मंजूरी पर सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की थी ।

India

Aug 10 2019, 11:26

17 से 18 अगस्त तक भूटान के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे पी एम नरेंद्र मोदी ,यात्रा के दौरान वे शीर्ष नेतृत्व के साथ पनबिजली सहित द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे बातचीत


 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूटान से संबंधों को और मज़बूत बनाने के उधेश्य  से 17 से 18 अगस्त तक भूटान के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे। यात्रा के दौरान वे शीर्ष नेतृत्व के साथ पनबिजली सहित द्विपक्षीय संबंधों व आपसी हितों  से जुड़े विविध विषयों पर व्यापक चर्चा करेंगे।

वे इस यात्रा के दौरान  भूटान के सांसदों से व्यक्तिगत मुलाकात भी करंगे ।वहां के युवाओं व छात्रों से भी मिलेंगे।बताया जा रहा है कि
भूटान के प्रधानमंत्री डॉ. लोटे शेरिंग के आमंत्रण पर वहां जा रहे हैं।मोदी की कोशिश है कि अपने पड़ोसी मुल्कों के साथ बेहतर संबंध बने और विकास के लिए आपसी समन्वय भी ।साथ ही साथ भारत और भूटान समय की कसौटी पर खरे उतरे और विशेष संबंधों को साझा करते हैं और दोनों देश साझी सांस्कृतिक धरोहर, लोगों के बीच सम्पर्क के साथ आपसी समझ और सम्मान का भाव रखते हैं।यह यात्रा 
डोकाला विवाद के बाद पहली बार भूटान यात्रा पर जा रहे पीएम मोदी की भूटानी नेतृत्व से सामरिक और रणनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे। मोदी 17 अगस्त को वहां पहुंचेंगे और भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक व भूटान के चौथे नरेश जिग्मे सिग्ये वांगचुक से भेंट करेंगे। इसी दिन वह अपने समकक्ष डॉ. लोटे शेरिंग के साथ भी बैठक करेंगे

India

Aug 10 2019, 09:56

पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा के वरिष्ट नेता अरुण जेटली की स्थिति स्थिर,इलाज का हो रहा है असर

नई दिल्ली। अरुण जेटली के स्वास्थ्य को लेकर एम्स की ओर से जारी मेडिकल बुलेटिन में जानकारी दी गई है कि उनकी हालत स्थिर है।  डॉक्टरों की टीम की निगरानी में उनका इन्टेंसिव केयर यूनिट में इलाज चल रहा है.इलाज का असर उन पर हो रहा है ।अभी वे चिकित्सकों के निगरानी में रहेंगे ।
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 
लंबे समय से बीमार चल रहे उनकी तबीयत शुक्रवार को फिर से खराब हो गई थी, और उसी दिन  11 बजे उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया .

India

Aug 09 2019, 22:39

उप राष्ट्रपति श्री वैंकेया नायडू कल करेंगे मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की शुरुआत


रांची: उप राष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू 10 अगस्त को मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की शुरुआत करेंगे. इस योजना की लांचिंग को लेकर राजधानी रांची के हरमू मैदान में दिन के 11.30 बजे से मुख्य समारोह के साथ- साथ सभी जिलों में भी कार्यक्रम का आय़ोजन होगा. कृषि विभाग की सचिव श्रीमती पूजा सिंघल ने आज सूचना भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की शुरुआत को लेकर की जा रही तैयारियों की विस्तृत जानकारी दी. 

कृषि सचिव ने बताया कि 15 लाख किसानों को प्रथम चरण में प्रथम किस्त की राशि दी जानी है. इस सिलसिले में अबतक 13.60 लाख किसानों की आनलाइन प्रविष्टि हो चुकी है. उन्होंने यह भी बताया कि 3000 करोड़ रुपए की इस योजना के तहत पहले चरण के लिए 800 करोड़ रुपए जारी कर दी गई है. किसानों को दो किस्तों में यह राशि दी जाएगी औऱ पहले चरण में 400 करोड़ दिए जा रहे हैं. 

आनलाइन जुड़े रहेंगे पांच जिले

श्रीमती सिंघल ने बताया कि मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की शुरुआत के लिए रांची में आय़ोजित होने वाले मुख्य समारोह को लेकर पांच जिले भी इससे आनलाइन जुड़े रहेंगे. इन जिलों में पूर्वी सिंहभूम, गिरिडीह, पाकुड़, लातेहार औऱ चतरा जिला शामिल है. रांची में चयनित किसानों को मुख्य समारोह में इस योजना का लाभ दिया जाएगा, जबकि अन्य जिलों में होनेवाले समारोह में सांसद, विधायक और अन्य जन प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे. 

अक्टूबर तक 35 लाख किसान आएंगे योजना के दायरे में

श्रीमती सिंघल ने बताया कि पहले चरण में 15 लाख किसानों को इस योजना के दायरे में लाया गया है, लेकिन अक्टूबर तक 35 लाख किसानों को इस योजना के दायरे में लाने की कोशिश की जा रही है. इस योजना के अंतर्गत लभी लघु एवं सीमांत किसानों को कृषि कार्य हेतु प्रति एकड़ पांच हजार रुपए की दर से अधिकतम 25 हजार रुपए आर्थिक सहायता दी जाएगी. यह राशि दो किस्तों में दी जाएगी. पहली किस्त में ढ़ाई हजार रुपए और दूसरी किस्त में फिर ढ़ाई हजार रुपए डीबीटी के जरिए किसानों के खाते में भेजे जाएंगे.

पहले चरण के 83 प्रतिशत लाभुक किसानों के पास दो एकड़ से कम जमीन

श्रीमती सिंघल ने बताया कि पहले चरण में जिन 13.60 लाख किसानों को पहली किस्त की राशि दी जा रही है उनमें 83 प्रतिशत के पास दो एकड़ से कम कृषि योग्य जमीन है. इसमें 65 प्रतिशत किसानों के पास एक एकड़ से कम और 18 प्रतिशत किसानों के पास एक से दो एकड़ के बीच जमीन है. 

 किसान सारथी रथ को रवाना करेंगे उप राष्ट्रपति

सूचना एवं जन संपर्क विभाग के निदेशक श्री रामलखन प्रसाद गुप्ता ने संवाददाताओं को बताया कि इस मौके पर किसान सारथी रथ को भी उप राष्ट्रपति रवाना करेंगे. इसका मकसद मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना समेत अन्य कृषि योजनाओं की जानकारी किसानों को देना है, ताकि वे इसका फायदा उठ

  • India
     @India   उठा सकें. उन्होंने कहा कि सभी जिलों में किसान सारथी रथ 45 दिनों के अंदर सभी पंचायतों को कवर करेगा. यह रथ जीपीएस प्रणाली से युक्त है और सूचना एवं जन संपर्क मुख्यालय से इसकी निरंतर मॉनिटरिंग की जाएगी.

    सुरक्षा के किए गए हैं पुख्ता इंतजाम

    रांची के उपायुक्त श्री राय महिमापत रे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उप राष्ट्रपति के आगमन को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. हरमू स्थित मुख्य समारोह स्थल में उपराष्ट्रपति का आगमन पूर्वाह्न 11.45 बजे होगा और लगभग एक घंटे तक वे यहां रहेंगे. इस समारोह मे लगभग 10 हजार लोग शामिल होने की उम्मीद है. यहां पेयजल, शौचालय की व्यवस्था के साथ विधि व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में मजिस्ट्रेट व जवान तैनात रहेंगे. उन्होंने यह भी बताया कि उपराष्ट्रपति के आगमन को लेकर किसी मार्ग को अवरुद्ध नहीं किया जाएगा, लेकिन जिस रुट से वे गुजरेंगे उस दौरान कुछ मिनटों के लिए यातायात को रोका जाएगा.

    संवाददाता सम्मेलन में कृषि निदेशक श्री छवि रंजन, रांची के उपायुक्त श्री राय महिमापत रे और सूचना एवं जन संपर्क विभाग के निदेशक श्री रामलखन प्रसाद गुप्ता समेत अन्य मौजूद थे.
India

Aug 09 2019, 21:06

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की तबियत खराब , एम्स में चल रहा इलाज

नई दिल्ली:  पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की तबियत खराब हो गयी है. उन्हें आज सुबह एम्स में भर्ती कराया गया. बताया जा रहा है कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी, जिसके बाद उन्हे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया.  गृहमंत्री अमित शाह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीऔर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन उनका हाल जानने एम्स पहुंचे. जेटली का सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था. बीमारी का  इलाज कराकर वो फरवरी में वापस लौटे थे. उनका मेडिकल बुलेटिन रात में जारी किया जाएगा.

  • India
    
    दिल्ली पूर्व मंत्री अरुण जेटली जी की हालत स्थिर है।आईसीयू में इलाज जारी है-एम्स