SYEDMOHAMMADALAM35

Aug 23 2021, 13:39

रक्षाबंधन के मौके पर थप्पड़ गर्ल प्रियदर्शनी ने कैब चालक सआदत अली से अपना झगड़ा निपटाने के लिए उसे राखी बांधने की पहल की है. 
  


abplive.com⠀

यहां पढ़ें पूरी ख़बर :
http://bit.ly/3Day6ZN

        

SYEDMOHAMMADALAM35

Aug 23 2021, 13:39

रक्षाबंधन के मौके पर थप्पड़ गर्ल प्रियदर्शनी ने कैब चालक सआदत अली से अपना झगड़ा निपटाने के लिए उसे राखी बांधने की पहल की है. 
  


abplive.com⠀

यहां पढ़ें पूरी ख़बर :
http://bit.ly/3Day6ZN

        

Dailynews

Jun 03 2021, 08:52

...तो इस वजह से सऊदी से घर नहीं आ पाया दूल्हा, टालनी पड़ी शादी, जानें वजह
  


यूपी के महराजगंज के नौतनवा क्षेत्र के रहने वाले उमेश की शादी इसी महीने की चार तारीख को होनी थी। पिछले चार महीने से घर में तैयारी चल रही थी। अब ऐन वक्त पर सऊदी अरब से फ्लाइट ही नहीं मिल पाई। मजबूरन वर-वधू पक्ष ने आपसी सहमति से शादी टाल दी। नौतनवा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत रतनपुर टोला मोतीपुर निवासी राजकुमार चौधरी का मझला पुत्र उमेश चौधरी सऊदी अरब में काम करता है। एक बार सऊदी अरब से घर आया था और एक साल पहले दोबारा चला गया।

इधर परिजनों ने उसकी शादी इसी 4 जून को किशुनपुर नर्सरी में तय कर दी थी। दोनों घरों में महीनों से बड़े अरमानों के साथ शादी की तैयारियां चल रही थी। एक सप्ताह पहले दूल्हा सऊदी से घर आने वाला था, लेकिन फ्लाइट बंद होने के कारण वह वहीं फंस गया।

   जब दूल्हा घर नहीं पहुंचा तो वर-वधू पक्ष के लोगों ने आपस में बातचीत कर शादी की तारीख आगे के लिए टाल दिया। उमेश के परिजनों का कहना है कि उमेश का इंतजार किया जा रहा है। उसके आने के बाद ही शादी की तारीख तय की जाएगी। 

Dailynews

Jun 03 2021, 08:50

UP : बस यात्रियों के लिए पाबंदी बरकरार, दूसरे राज्यों में जानें की अनुमति नहीं
  


एक महीने के कोरोना कर्फ्यू से प्रयागराजवासियों को निजात मिल गई लेकिन बसों से दूसरे राज्यों की यात्रा पर पाबंदी जारी है। निजी या सरकारी बसों का संचालन सिर्फ प्रदेश की सीमा में हो रहा है। बसों से प्रयागराज से मध्यप्रदेश के कई जिले व महाराष्ट्र के नागपुर आवागमन करने वालों को फिलहाल ट्रेनों से यात्रा करनी होगी। पाबंदी के चलते प्रयागराज और मध्यप्रदेश के रीवा, सीधी और सागर के बीच नियमित बस सेवा बहाल नहीं हुई। प्रयागराज और नागपुर के मध्य भी निजी बस सेवा ठप है।

प्रयागराज से रीवा, सीधी, सागर और नागपुर के रूटों पर ट्रेन सेवा बहुत अच्छी नहीं है। इसलिए इन रूटों पर अधिकतर यात्री बसों से यात्रा करते हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के एआरएम (जीरो रोड) रवींद्र सिंह ने बताया कि जब तक मध्यप्रदेश सरकार सीमा नहीं खोलती, बसों का संचालन बंद रहेगा। निजी बस संचालक संजीत जायसवाल ने बताया कि उत्तर प्रदेश के बाहर किसी तरह की बस सेवा का परमिट नहीं मिल रहा है तो बसें खड़ी हैं।

एक नजर में गैर राज्यों के लिए बस सेवा
◆ प्रतिदिन औसत 2000 से अधिक यात्रियों का था आवागमन
◆ रीवा, सीधी, सागर के लिए रोडवेज की नौ बसें चलती थीं
◆ मध्यप्रदेश के तीन जिलों से प्रतिदिन 800 से अधिक यात्रियों का था आवागमन
◆ प्रयागराज-नागपुर रूट पर एक दर्जन बसों का प्रतिदिन हो रहा था संचालन
◆ दोनों शहरों के बीच रोज 1200 यात्री आवागमन कर रहे थे
  

Dailynews

Jun 03 2021, 08:48

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को मुफ्त में पढ़ाएगा इलाहाबाद यूनिवर्सिटी, कुलपति ने जिला प्रशासन को भेजा प्रस्ताव
  


कोरोना महामारी ने देश के जन जीवन पर गहरा असर डाला है। इससे मानसिक, शारीरिक और आर्थिक तौर पर लाखों लोगों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। कुछ बच्चों ने इस महामारी में अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है। कोरोना महामारी में अपने माता-पिता दोनों खो चुके विद्यार्थियों को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी नि:शुल्क उच्च शिक्षा मुहैया कराएगा।

कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने जिला प्रशासन को एक प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव में कुलपति ने लिखा ‘कोरोना की दूसरी लहर ने हमारे जन जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है। एक अनुमान के अनुसार करीब 9000 बच्चे अपने माता-पिता को खो चुके हैं। ऐसे विपरीत हालात में इन बच्चों के प्रति हम सबकी जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है।’

भेजे इस प्रस्ताव में कुलपति ने कहा कि कोरोना के दौरान जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है इलाहाबाद यूनिवर्सिटी उनकी आगे की पढ़ाई की पूरी व्यवस्था करेगा।

ऐसे बच्चे जिन्होंने बारहवीं कक्षा तक की पढ़ाई पूरी कर ली है उनकी आगे की पढ़ाई का पूरा भार यूनिवर्सिटी द्वारा वहन किया जाएगा। ऐसे बच्चों को अनिवार्य रूप से अपने दिवंगत माता-पिता की मृत्यु का प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा। ऐसे छात्र-छात्राएं अगर यूनिवर्सिटी में अपना नामांकन कराते हैं तो उनकी पूरी फीस माफ की जाएगी ।

कुलपति के इस निर्णय से कोरोना प्रभावित बच्चों को काफी मदद मिलेगी। कोरोना में अपने माता पिता को खो चुके बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए इलाहाबाद यूनिवर्सिटी हर संभव मदद करेगा। कुलपति ने इस आशय का प्रस्ताव प्रशासन को भेज दिया है। - डॉ. चितरंजन कुमार, असिस्टेंट पीआरओ, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी
  

Dailynews

Jun 03 2021, 08:44

UP: चंद रोज पहले कोविड वार्ड से ली थी प्रधान पद की शपथ, आज उसी बेड पर तोड़ दिया दम
  


यूपी के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के परिणाम के बाद प्रधानों के शपथ लेने के अंतिम दिन नव निर्वाचित ग्राम प्रधान सुरेश प्रसाद ने आनलाइन शपथ लेकर प्रदेश भर में सुर्खिया बटोरी थी। लेकिन बुधवार को वे कोरोना से जंग हार गए। उनके निधन से पंचायत राज विभाग के अधिकारियों एवं ग्राम प्रधानों में शोक की लहर है।

पिपराइच ब्लाक के ग्राम पंचायत बरईपुर से 51 वर्षीय सुरेश प्रसाद ने चुनाव जीता था। उन्होंने पंचायती राज विभाग के अधिकारियों के पूछने पर अस्पताल से ही शपथ लेने की सहमति जताई थी, जिसके डीपीआरओ हिमांशु शेखर ठाकुर ने उन तक प्रपत्र पहुंचाए और हस्ताक्षर भी कराए। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार पिपराइच ब्लाक की ग्राम पंचायत बरईपुर अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी।

प्राइमरी पास सुरेश प्रसाद पुत्र सुदामा ने 50 फीसद से अधिक वोट पाकर जीत हासिल की। उन्हें अब शपथ लेने की इंतजार था लेकिन उससे पहले कोरोना से संक्रमित हो गए। आक्सीजन लेवल घटने पर स्वजन ने उन्हें निजी कोविड अस्पताल में भर्ती कराया। जिला पंचायत राज अधिकारी हिमांशु शेखर ठाकुर ने कहा कि सुरेश प्रसाद का बुधवार को उपचार के दौरान निजी अस्पताल में निधन हो गया है। यह काफी दुखद है। उन्होंने ईश्वर उनकी आत्मा की शांति एवं परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने के लिए प्रार्थना की। हालांकि पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पंचायत उप चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो रही है, इसी के साथ इस रिक्त ग्राम पंचायत में भी ग्राम प्रधान पद पर चुनाव कराया जाएगा।
   

Dailynews

Jun 01 2021, 10:19

UP Police SI Bharti 2021: UP पुलिस की 9500 एसआई भर्ती के लिए आवेदन की तिथि बढ़ी, जानिए पूरी डिटेल्स
  


UP Police SI Bharti 2021: कोरोना महामारी को देखते हुए, यूपी पुलिस भर्ती बोर्ड द्वारा 9500 एसआई भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि को बढ़ा देने का फैसला लिया गया है।

UP Police SI Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्न्ति बोर्ड (UPPRPB), लखनऊ ने उप निरीक्षक भर्ती के लिए महत्वपूर्ण नोटिस जारी किया है। जिन उम्मीदवारों ने आवेदन किया है और जिन उम्मीदवारों ने अभी तक अप्लाई नहीं किया है, वे इसे जरूर पढ़ें। यह भर्ती कुल 9534 पदों पर भर्ती के लिए निकाली गई है। इससे पहले आवेदन जमा करने की आखिरी तारीख 30 अप्रैल से 30 मई तक की थी। अब इसे बढ़ाकर 15 जून, 2021 कर दिया गया है।

जिन उम्मीदवारों ने अभी तक आवेदन नही किया है वे लोग अब 15 जून, 2021 से पहले आफिशिय़ल बेवसाइट uppbpb.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। एसआई पदों की भर्ती के लिए यूपी पुलिस की ओर आवेदन की प्रक्रिया 25 फरवरी, 2021 से शुरू हो गई थी।

आवेदन करने के लिए उम्मीदवार सबसे पहले बेवसाइट uppbpb.gov.in पर जाएं और यूपी पुलिस एसआई भर्ती 2021 लिंक पर क्लिक करें।
इसके बाद नया पेज खुलने पर आपसे आवश्यक विवरण मांगा जाएगा जिसे भरने के बाद उसे रजिस्टर करने के लिए अपना ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर प्रदान करें।
इसके बाद आपको ओटीपी भेजा जाएगा जिसे दर्ज करके, सत्यापन कोड टाइप करें, घोषणा की जांच करें और जमा करें।

इसके बाद आवेदन प्रक्रिया को पूरा करें और संबंधित दस्तावेज़ को पूछे गए अनुसार अपलोड करें। शुल्क भुगतान के सफलतापूर्वक पूरा होने पर, आपके पंजीकृत मेल आईडी पर एक रसीद भेजी जाएगी। अंतिम जमा करने के लिए आवेदन की पुष्टि करें और जमा करें।
   

Dailynews

Jun 01 2021, 10:16

UP में कोरोना टीकाकारण का महाअभियान आज से, जून में एक करोड़ वैक्सीनेशन का लक्ष्य
  


लखनऊ। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ कोरोना वैक्सीन एक बड़ा हथियार है। उत्तर प्रदेश सरकार भी प्रदेश के हर नागरिक को इस हथियार से लैस करने की तैयारी में हैं। प्रदेश में वैसे तो एक मई से बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन चल रहा है, लेकिन महाअभियान मंगलवार से शुरू होगा।

उत्तर प्रदेश सरकार का लक्ष्य जून में एक करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन का है। वैक्सीन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आज सरकार मिशन जून का आगाज करने जा रही है। मिशन जून अभियान के तहत 30 दिन में कम से कम एक करोड़ से लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है।

जून में एक करोड़ से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ देने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार ने छह हजार वैक्सीनेशन सेंटर बनाए हैं।

सभी अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि समाज के सभी वर्गों, विशेष रूप से आर्थिक आॢथक रूप से कमजोर वर्ग के लेगों को बिना परेशानी के टीका लगाया जाए। जून में प्रदेश में ड्राइवर, वेंडर, और रिक्शा चालकों के लिए 15 से खास वैक्सीन अभियान चलाया जाएगा। यह ऐसा वर्ग है जिन्हेंं लगातार अपने काम के सिलसिले में कई लोगों से मिलना होता है। लखनऊ में मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ कम से कम चार स्थान पर टीकाकरण अभियान का निरीक्षण करेंगे। उन्होंने कहा कि जून के महीने में हमारा लक्ष्य एक करोड़ लोगों को वैक्सीन की खुराक देना है। अपने इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए हमारे पास पर्याप्त वैक्सीन है। प्रदेश में युद्ध स्तर पर इसकी तैयारी की गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों को केंद्र सरकार और वैक्सीन निर्माता कंपनियों के लगातार संपर्क में रहने को भी कहा है जिससे वैक्सीन की सप्लाई पर असर ना पड़े।

प्रदेश में मार्च से चरणवार शुरू कोरोना वैक्सीनेशन के तहत अब तक वैक्सीन की 1,83,32,104 डोज दी जा चुकी है। 34,80,181 लोगों को वैक्सीन की दोनों खुराक दी जा चुकी है। कम से कम एक खुराक प्राप्त करने वालों में से लगभग दो-तिहाई 45 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग के हैं। 18-44 आयु वर्ग में 34 लाख से अधिक लोगों को टीके की कम से कम एक खुराक मिली है। लखऊ में सर्वाधिक 9.16 लाख लोगों को वैक्सीन लगी है। गौतमबुद्ध नगर में 6.19 लाख, कानपुर नगर में 5.88 लाख, गाजियाबाद में 5.82 लाख, मेरठ में 5.77 लाख, प्रयागराज में 5.76 लाख, वाराणसी में 5.18 लाख और गोरखपुर में 5.15 लाख इससे लाभान्वित हैं।
    

SYEDMOHAMMADALAM35

Aug 23 2021, 13:39

रक्षाबंधन के मौके पर थप्पड़ गर्ल प्रियदर्शनी ने कैब चालक सआदत अली से अपना झगड़ा निपटाने के लिए उसे राखी बांधने की पहल की है. 
  


abplive.com⠀

यहां पढ़ें पूरी ख़बर :
http://bit.ly/3Day6ZN

        

SYEDMOHAMMADALAM35

Aug 23 2021, 13:39

रक्षाबंधन के मौके पर थप्पड़ गर्ल प्रियदर्शनी ने कैब चालक सआदत अली से अपना झगड़ा निपटाने के लिए उसे राखी बांधने की पहल की है. 
  


abplive.com⠀

यहां पढ़ें पूरी ख़बर :
http://bit.ly/3Day6ZN

        

Dailynews

Jun 03 2021, 08:52

...तो इस वजह से सऊदी से घर नहीं आ पाया दूल्हा, टालनी पड़ी शादी, जानें वजह
  


यूपी के महराजगंज के नौतनवा क्षेत्र के रहने वाले उमेश की शादी इसी महीने की चार तारीख को होनी थी। पिछले चार महीने से घर में तैयारी चल रही थी। अब ऐन वक्त पर सऊदी अरब से फ्लाइट ही नहीं मिल पाई। मजबूरन वर-वधू पक्ष ने आपसी सहमति से शादी टाल दी। नौतनवा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत रतनपुर टोला मोतीपुर निवासी राजकुमार चौधरी का मझला पुत्र उमेश चौधरी सऊदी अरब में काम करता है। एक बार सऊदी अरब से घर आया था और एक साल पहले दोबारा चला गया।

इधर परिजनों ने उसकी शादी इसी 4 जून को किशुनपुर नर्सरी में तय कर दी थी। दोनों घरों में महीनों से बड़े अरमानों के साथ शादी की तैयारियां चल रही थी। एक सप्ताह पहले दूल्हा सऊदी से घर आने वाला था, लेकिन फ्लाइट बंद होने के कारण वह वहीं फंस गया।

   जब दूल्हा घर नहीं पहुंचा तो वर-वधू पक्ष के लोगों ने आपस में बातचीत कर शादी की तारीख आगे के लिए टाल दिया। उमेश के परिजनों का कहना है कि उमेश का इंतजार किया जा रहा है। उसके आने के बाद ही शादी की तारीख तय की जाएगी। 

Dailynews

Jun 03 2021, 08:50

UP : बस यात्रियों के लिए पाबंदी बरकरार, दूसरे राज्यों में जानें की अनुमति नहीं
  


एक महीने के कोरोना कर्फ्यू से प्रयागराजवासियों को निजात मिल गई लेकिन बसों से दूसरे राज्यों की यात्रा पर पाबंदी जारी है। निजी या सरकारी बसों का संचालन सिर्फ प्रदेश की सीमा में हो रहा है। बसों से प्रयागराज से मध्यप्रदेश के कई जिले व महाराष्ट्र के नागपुर आवागमन करने वालों को फिलहाल ट्रेनों से यात्रा करनी होगी। पाबंदी के चलते प्रयागराज और मध्यप्रदेश के रीवा, सीधी और सागर के बीच नियमित बस सेवा बहाल नहीं हुई। प्रयागराज और नागपुर के मध्य भी निजी बस सेवा ठप है।

प्रयागराज से रीवा, सीधी, सागर और नागपुर के रूटों पर ट्रेन सेवा बहुत अच्छी नहीं है। इसलिए इन रूटों पर अधिकतर यात्री बसों से यात्रा करते हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के एआरएम (जीरो रोड) रवींद्र सिंह ने बताया कि जब तक मध्यप्रदेश सरकार सीमा नहीं खोलती, बसों का संचालन बंद रहेगा। निजी बस संचालक संजीत जायसवाल ने बताया कि उत्तर प्रदेश के बाहर किसी तरह की बस सेवा का परमिट नहीं मिल रहा है तो बसें खड़ी हैं।

एक नजर में गैर राज्यों के लिए बस सेवा
◆ प्रतिदिन औसत 2000 से अधिक यात्रियों का था आवागमन
◆ रीवा, सीधी, सागर के लिए रोडवेज की नौ बसें चलती थीं
◆ मध्यप्रदेश के तीन जिलों से प्रतिदिन 800 से अधिक यात्रियों का था आवागमन
◆ प्रयागराज-नागपुर रूट पर एक दर्जन बसों का प्रतिदिन हो रहा था संचालन
◆ दोनों शहरों के बीच रोज 1200 यात्री आवागमन कर रहे थे
  

Dailynews

Jun 03 2021, 08:48

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को मुफ्त में पढ़ाएगा इलाहाबाद यूनिवर्सिटी, कुलपति ने जिला प्रशासन को भेजा प्रस्ताव
  


कोरोना महामारी ने देश के जन जीवन पर गहरा असर डाला है। इससे मानसिक, शारीरिक और आर्थिक तौर पर लाखों लोगों का जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। कुछ बच्चों ने इस महामारी में अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है। कोरोना महामारी में अपने माता-पिता दोनों खो चुके विद्यार्थियों को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी नि:शुल्क उच्च शिक्षा मुहैया कराएगा।

कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने जिला प्रशासन को एक प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव में कुलपति ने लिखा ‘कोरोना की दूसरी लहर ने हमारे जन जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है। एक अनुमान के अनुसार करीब 9000 बच्चे अपने माता-पिता को खो चुके हैं। ऐसे विपरीत हालात में इन बच्चों के प्रति हम सबकी जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है।’

भेजे इस प्रस्ताव में कुलपति ने कहा कि कोरोना के दौरान जिन बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है इलाहाबाद यूनिवर्सिटी उनकी आगे की पढ़ाई की पूरी व्यवस्था करेगा।

ऐसे बच्चे जिन्होंने बारहवीं कक्षा तक की पढ़ाई पूरी कर ली है उनकी आगे की पढ़ाई का पूरा भार यूनिवर्सिटी द्वारा वहन किया जाएगा। ऐसे बच्चों को अनिवार्य रूप से अपने दिवंगत माता-पिता की मृत्यु का प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा। ऐसे छात्र-छात्राएं अगर यूनिवर्सिटी में अपना नामांकन कराते हैं तो उनकी पूरी फीस माफ की जाएगी ।

कुलपति के इस निर्णय से कोरोना प्रभावित बच्चों को काफी मदद मिलेगी। कोरोना में अपने माता पिता को खो चुके बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए इलाहाबाद यूनिवर्सिटी हर संभव मदद करेगा। कुलपति ने इस आशय का प्रस्ताव प्रशासन को भेज दिया है। - डॉ. चितरंजन कुमार, असिस्टेंट पीआरओ, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी
  

Dailynews

Jun 03 2021, 08:44

UP: चंद रोज पहले कोविड वार्ड से ली थी प्रधान पद की शपथ, आज उसी बेड पर तोड़ दिया दम
  


यूपी के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के परिणाम के बाद प्रधानों के शपथ लेने के अंतिम दिन नव निर्वाचित ग्राम प्रधान सुरेश प्रसाद ने आनलाइन शपथ लेकर प्रदेश भर में सुर्खिया बटोरी थी। लेकिन बुधवार को वे कोरोना से जंग हार गए। उनके निधन से पंचायत राज विभाग के अधिकारियों एवं ग्राम प्रधानों में शोक की लहर है।

पिपराइच ब्लाक के ग्राम पंचायत बरईपुर से 51 वर्षीय सुरेश प्रसाद ने चुनाव जीता था। उन्होंने पंचायती राज विभाग के अधिकारियों के पूछने पर अस्पताल से ही शपथ लेने की सहमति जताई थी, जिसके डीपीआरओ हिमांशु शेखर ठाकुर ने उन तक प्रपत्र पहुंचाए और हस्ताक्षर भी कराए। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार पिपराइच ब्लाक की ग्राम पंचायत बरईपुर अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित थी।

प्राइमरी पास सुरेश प्रसाद पुत्र सुदामा ने 50 फीसद से अधिक वोट पाकर जीत हासिल की। उन्हें अब शपथ लेने की इंतजार था लेकिन उससे पहले कोरोना से संक्रमित हो गए। आक्सीजन लेवल घटने पर स्वजन ने उन्हें निजी कोविड अस्पताल में भर्ती कराया। जिला पंचायत राज अधिकारी हिमांशु शेखर ठाकुर ने कहा कि सुरेश प्रसाद का बुधवार को उपचार के दौरान निजी अस्पताल में निधन हो गया है। यह काफी दुखद है। उन्होंने ईश्वर उनकी आत्मा की शांति एवं परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने के लिए प्रार्थना की। हालांकि पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पंचायत उप चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो रही है, इसी के साथ इस रिक्त ग्राम पंचायत में भी ग्राम प्रधान पद पर चुनाव कराया जाएगा।