Dailynews

4 hours ago

योग में ॐ पर बहस: सिंघवी के अंदाज में विजयवर्गीय का जवाब, बोले- 'छुटभैये' नेता के ट्वीट से कम नहीं होगी योग की महानता 
  


दुनिया भर में आज सातवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। पूरी दुनिया जब योग दिवस पर योग को जीवन शैली में शामिल करने के लिए इसके लाभ गिना रही है। वहीं कांग्रेस के नेता इस मौके पर भी धर्म का पाठ पढ़ाने में जुटे हैं। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकील अभिषेक मनु सिंघवी के योग में ॐ के उच्चारण को लेकर दिए गए बयान ने नई बहस छेड़ दी है। भाजपा नेताओं ने भी सिंघवी के अंदाज में पलटवार किया है। वहीं बाबा रामदेव ने कहा कि सन्मति दे भगवान।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट किया कि ॐ के उच्चारण से ना तो योग ज्यादा शक्तिशाली हो जाएगा और ना अल्लाह कहने से योग की शक्ति कम होगी।

कांग्रेसी नेता के योग में ॐ के उच्चारण वाले बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि सबको सन्मति दे भगवान। बाबा ने कहा कि ईश्वर-अल्लाह तेरो नाम, सबको सन्मति दे भगवान। रामदेव ने कहा कि अल्लाह, भगवान, खुदा सब एक ही है, ऐसे में ॐ बोलने में दिक्कत क्या है, लेकिन हम किसी को भी खुदा बोलने से मना नहीं कर रहे हैं। रामदेव ने कहा कि इन सभी को भी योग करना चाहिए, फिर इन सभी को एक ही परमात्मा दिखेगा।

भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने सिंघवी को उन्हीं के अंदाज में जवाब दिया। विजयवर्गीय ने पलटवार करते हुए कहा कि किसी 'छुटभैये' नेता के ट्वीट से योग की महानता कम नहीं होती है।

भाजपा ने मनु सिंघवी के योग में ॐ के उच्चारण वाले बयान पर कांग्रेस को घेरा। भाजपा सांसद प्रवेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस देश का माहौल बिगड़ना चाहती है। ये लोग योग में भी धर्म ढूढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब भी हिंदुओं के पर्व-त्योहार आने वाले होते हैं, कांग्रेस देश का महौल बिगाड़ना चाहती है। प्रवेश शर्मा ने बिना किसी का नाम लिया कांग्रेस पर हमला बोला कि जब चुनाव आता है, तो कांग्रेसी नेता हिंदू बन जाते हैं। धोती पहन लेते हैं, जनेऊ पहनते हैं और चुनाव बाद हिंदू धर्म की भावनाओं को आहत करते हैं।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

4 hours ago

पटना में खतरनाक ढंग से बढ़ रही गंगा, 24 घंटे में ही 2.67 मीटर चढ़ा जलस्तर 
  


नेपाल और बिहार में लगातार हो रही बारिश की वजह से नदियों का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ रहा है. सबसे खतरनाक ढंग से गंगा बढ़ रही है. पूरे सूबे में इसका जलस्तर लगातार ऊपर भाग रहा है. बक्सर, पटना, मुंगेर, भागलपुर में इसके जलस्तर में जबरदस्त वृद्धि हुई है.पटना में इसका जलस्तर महज 24 घंटे में 2.67 मीटर बढ़ गया. दीघाघाट पर इसका जलस्तर अब खतरे के निशान से मात्र 86 सेंटीमीटर नीचे रह गया है. गांधीघाट पर इसका जलस्तर 58 सेंटीमीटर बढ़ा और यहां नदी खतरे के निशान से मात्र 1.45 मीटर नीचे है. हाथीदह में इसका जलस्तर 1.12 मीटर बढ़ा जबकि मुंगेर में 1.16 मीटर और भागलपुर में 1.10 मीटर बढ़ गया.

पिछले 24 घंटे में सभी प्रमुख नदियों के साथ-साथ पहाड़ी नदियों के जलस्तर में भी बढ़ोतरी हुई है.

गंडक नदी गोपालगंज, मुजफ्फरपुर और वैशाली में लाल निशान के पार है. कोसी वीरपुर में 43 सेंमी और सहरसा में 9 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है. महानंदा पूर्णिया और कटिहार में बढ़ रही है तो कमला बलान जयनगर में और परमान अररिया में लगातार ऊपर बढ़ती जा रही है.uttar बिहार के कई जिलों में बाढ़ का संकट पैदा हो गया है.मौसम विभाग के मुताबिक पटना, गया, नालंदा, मुजफ्फरपुर सहित बिहार के 27 जिलों में सोमवार को 15 से 22 एमएम तक बारिश होने की संभावना है. इस दौरान 30 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेगी. बिहार के उत्तर-पश्चिम में 11 जिलों में 25 एमएम से अधिक बारिश होने की संभावना है. इस दौरान प्रदेश के सभी हिस्सों में वज्रपात होने के आसार है.

पश्चिमी चंपारण में 13 प्रखंडों के 177 गांवों की 1 लाख 15 हजार आबादी बारिश और बाढ़ से प्रभावित है. पिछले एक सप्ताह में नौतन, पिपरासी, चनपटिया, योगापट्‌टी, गौनाहा, बगहा-1, बगहा-2, भितहा, सिकटा, ठकराहा, नरकटियागंज, लौरिया और मझौलिया प्रखंड की बड़ी आबादी बाढ़/जलभराव का सामना कर रही है. पश्चिमी चंपारण ही नहीं, गोपालगंज, सारण और पूर्वी चंपारण जिले के करीब 26 प्रखंडों की बड़ी आबादी बाढ़-जलभराव से जूझ रही है.सारण जिला के 3 प्रखंडों- पानापुर, तरैया और मशरक के कई घरों में भी पानी प्रवेश कर रहा है. पूर्वी चंपारण के चार प्रखंड के 62 गांव बाढ़ के पानी से घिरे हैं. गोपालगंज जिला जिले के 6 प्रखंडों के 42 गांव बाढ़ में डूबे हैं और 16035 लोग प्रभावित है.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

Twitter India ने दिया गाजियाबाद पुलिस के नोटिस का जवाब, जानिए क्या कहा 
  


गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गाजियाबाद (Ghaziabad) में हुई बुजुर्ग अब्दुल समद की पिटाई (Abdul Samad Beating Case) के मामले में पुलिस ने ट्विटर इंडिया (Twitter India) के मैनेजिंग डायरेक्टर को नोटिस भेजा था, जिसका जवाब आ गया है. ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जांच में जुड़ सकते हैं.

मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि जो विवाद हुआ, उस मामले से हमारा कोई लेना-देना नहीं है. हम इस टॉपिक को डील नहीं करते हैं. लेकिन अब गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) ट्विटर इंडिया को दोबारा नोटिस भेजने की तैयारी में है क्योंकि वो मैनेजिंग डायरेक्टर के जवाब से सुंतष्ट नहीं है.

बता दें कि बीते 5 जून को गाजियाबाद में जादुई ताबीज के चक्कर में कुछ लोगों ने एक बुजुर्ग अब्दुल समद की पिटाई कर दी थी. जिसके बाद समाजवादी पार्टी के नेता उम्मेद पहलवान ने उसके साथ फेसबुक लाइव किया था और दंगा भड़काने की कोशिश की थी. उम्मेद ने अब्दुल समद को हाईजैक कर लिया था, जिसके बाद वीडियो में पिटाई की वजह को सांप्रदायिक बताया गया था. अब्दुल समद ने झूठ बोला कि जय श्री राम नहीं कहने पर उसकी पिटाई हुई. फिर उम्मेद ने दूसरे समुदाय को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी.

जिसके बाद कुछ पत्रकारों समेत कई लोगों ने ट्विटर पर इस वीडियो की सच्चाई जाने बिना फेक न्यूज फैलाई थी. इस पर ट्विटर ने कोई कार्रवाई नहीं की थी. फिर इस मामले में पुलिस ने ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सहित 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी.

गौरतलब है कि गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में शनिवार को दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल के पास से आरोपी उम्मेद पहलवान को गिरफ्तार किया था. पुलिस की पूछताछ में उम्मेद ने बताया कि उसने आगामी विधान सभा चुनाव और नगरपालिका चुनाव में टिकट हासिल करने के लिए ऐसा किया था.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

International Yoga Day: बोले PM मोदी- M-Yoga ऐप आयेगा, कई भाषाओं में होगा योग का वीडियो 
  


नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब भारत ने यूनाइटेड नेशंस में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव रखा था, तो उसके पीछे यही भावना थी कि ये योग विज्ञान पूरे विश्व के लिए सुलभ हो.आज इस दिशा में भारत ने यूनाइटेड नेशंस ने WHO के साथ मिलकर एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है.

अब विश्व को, M-Yoga ऐप की शक्ति मिलने जा रही है. इस ऐप में कॉमन योग प्रोटोकॉल के आधार पर योग प्रशिक्षण के कई विडियोज दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होंगे.

मोदी ने कहा कि अगर मानवता के लिए कोई खतरा है, तो योग अक्सर हमें समग्र स्वास्थ्य का मार्ग देता है. योग हमें एक खुशहाल जीवन जीने का तरीका भी देता है. मुझे विश्वास है कि योग जनता की स्वास्थ्य देखभाल में निवारक, साथ ही साथ प्रोत्साहक भूमिका निभाना जारी रखेगा.

प्रधानमंत्री ने कहा कि योग हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और निगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है.

भारत के ऋषियों ने, भारत ने जब भी स्वास्थ्य की बात की है, तो इसका मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ्य नहीं रहा है. इसीलिए, योग में फिजिकल हेल्थ के साथ-साथ मेंटल हेल्थ पर इतना जोर दिया गया है.

मोदी ने कहा कि जब कोरोना के अदृष्य वायरस ने दुनिया में दस्तक दी थी, तब कोई भी देश, साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से, इसके लिए तैयार नहीं था. हम सभी ने देखा है कि ऐसे कठिन समय में, योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना.

पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया के अधिकांश देशों के लिए योग दिवस उनका सदियों पुराना सांस्कृतिक पर्व है. इस मुश्किल समय में, इतनी परेशानी में लोग इसे भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे. लेकिन इसके विपरीत, लोगों में योग का उत्साह बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है. दो वर्ष से दुनिया भर के देशो में और भारत में भले ही बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ हो लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब रिफंड के लिए नहीं करना होगा इंतजार, तुरंत खाते में आ जायेंगे पैसे 
  


नयी दिल्ली : भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने रेल यात्रियों को एक बड़ी राहत दी है. जो यात्री आईआरसीटीसी (IRCTC) की वेबसाइट या ऐप पर ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुक करते थे और फिर उसे कैंसल कर रहे थे, उन्हें अपना रिफंड पाने के लिए दो-तीन दिनों तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा.

लाइव हिंदुस्तान की एक रिपोर्ट के अनुसार, जो यात्री आईआरसीटीसी के पेमेंट गेटवे आईआरसीटीसी-आईपे (IRCTC-ipay) के माध्यम से टिकट बुक करते हैं, उन्हें टिकट रद्द करने के तुरंत बाद उनका रिफंड मिल जायेगा.

आईआरसीटीसी-आईपे को 2019 में केंद्र सरकार के डिजिटल इंडिया अभियान के एक हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था. आईआरसीटीसी ने इस संबंध में अपनी वेबसाइट को भी अपग्रेड किया है. आईआरसीटीसी के एक प्रवक्ता ने कहा कि नयी व्यवस्था यात्रियों को कैंसल करने के अलावा तत्काल और नियमित टिकट आसानी से बुक करने की सुविधा भी देगा.

अधिकारी ने यह भी कहा कि रेल यात्रियों की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए, आईआरसीटीसी ने आईआरसीटीसी-आईपे फीचर के साथ अपने यूजर इंटरफेस को अपग्रेड किया है, जिससे टिकट बुक करने में कम समय लग रहा है. पेमेंट गेटवे आई-पे में ऑटो पे का फीचर भी जोड़ा गया है. इससे यात्रियों को टिकट बुकिंग में काफी कम समय लग रहा है. स्वत: टिकट कैंसल होने पर तुरंग रिफंड मिलता है.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

श्रमिकों मिलने वाली है बड़ी राहत, 30 दिन के भीतर देना होगा मुआवजा, एक दिन की भी देरी पर देना होगा 12% ब्याज 
  


केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय से मजदूरों को बड़ी राहत मिलने वाली है। दरअसल, श्रम मंत्रालय ने सामाजिक सुरक्षा संहिता, 2020 का मसौदा जारी किया है। इसमें प्रस्तावत दिया गया है कि अगर कर्मचारी काम के दौरान धायल या उसकी मौत हो जाती है तो नियोक्ता को कर्मचारी को कंपसेशन (मुआवजा) एक महीने यानी 30 दिन के भीतर देना होगा। इसके बाद एक दिन देरी करने पर नियोक्ता को 12 फीसदी की सधारण ब्याज दर से मुआवजा का भुगतान करना होगा।

श्रम मंत्रालय ने सामाजिक सुरक्षा संहिता, 2020 के तहत कर्मचारी के मुआवजे से संबंधित मसौदा नियमों को संबंधित पक्षों के सुझावों और आपत्तियों के लिए अधिसूचित कर दिया है।बयान के अनुसार अगर कोई सुझाव और आपत्ति है, तो उसे मसौदा नियमों की अधिसूचना की तारीख से 45 दिनों की अवधि के भीतर देना जरूरी है।

सामाजिक सुरक्षा संहिता, 2020 संगठित एवं असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारियों और श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा का लाभ प्रदान करने के मकसद से सामाजिक सुरक्षा से संबंधित कानूनों में जरूरी संशोधन और उसका एकीकरण करती है। सामाजिक सुरक्षा संहिता, 2020 के अध्याय सात (कर्मचारी का मुआवजा) में अन्य बातों के साथ-साथ घातक दुर्घटनाओं, गंभीर शारीरिक चोटों या पेशेगत रोगों के मामले में मुआवजे के लिए नियोक्ता के दायित्वों से संबंधित प्रावधानों को शामिल किया गया है।

सामाजिक सुरक्षा संहिता की धारा 76 के अनुसार, चोट के कारण मृत्यु के मामले में मुआवजे की राशि मृतक कर्मचारी के मासिक वेतन का 50% होना चाहिए, जिसे केंद्र सरकार के रेलिवेंट फैक्स के गुणा किया जाएगा। इसी तरह चोट के कारण स्थायी रूप से पूर्ण रूप से अक्षम होने की स्थिति में, घायल कर्मचारी के मासिक वेतन के 60 प्रतिशत के बराबर होना चाहिए। इसे भी केंद्र सरकार के रेलिवेंट फैक्टर से गुणा किया जाएगा।

केन्द्र सरकार द्वारा अधिसूचित कर्मचारी के मुआवजा से संबंधित मसौदा नियमों में दावे या निपटान के लिए आवेदन के तरीके, मुआवजे के विलंबित भुगतान के लिए ब्याज दर, कार्यवाही के स्थान एवं मामलों के हस्तांतरण, नोटिस एवं एक सक्षम प्राधिकारी से दूसरे प्राधिकारी को धन हस्तांतरित करने के तरीकों और मुआवजे के रूप में भुगतान किए गए धन के हस्तांतरण के लिए अन्य देशों के साथ की जाने वाली व्यवस्था से संबंधित प्रावधान शामिल हैं।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

LPG ग्राहक ऐसे बदल सकते हैं अपना डिस्ट्रीब्यूटर, न सिलेंडर जमा करना पड़ेगा और न ही रेग्यूलेटर, कोई फीस भी नहीं देनी होगी 
  


घरेलू एलपीजी उपभोक्ताओं को मोदी सरकार एक बड़ी राहत देने जा रही है। अब ग्राहक खुद ही यह तय कर सकेंगे कि उन्हें किस डिस्ट्रीब्यूटर से गैस रिफिल करवानी है। इस सुविधा को रिफिल बुकिंग पोर्टेबिलिटी नाम दिया गया है और देश के चुनिंदा शहरों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर अगले हफ्ते से इसे शुरू किया जा सकता है। बता दें डिस्ट्रीब्यूटर चुनने के अलावा सिलेंडर बुक करने की पूरी प्रोसेस में कोई बदलाव नहीं होगा। फिलहाल इस योजना को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया जा रहा है। सरकार ने इसके लिए चंडीगढ़, कोयंबटूर, गुड़गांव, पुणे और रांची को चुना है। अगर पायलट प्रोजेक्ट सफल रहा तो इस योजना को धीरे-धीरे बाकी शहरों में भी लॉन्च किया जा सकता है।

अभीआप अगर गैस सिलेंडर बुक करते हैं, तो जिस डिस्ट्रीब्यूटर से आपने कनेक्शन ले रखा है, वही आपको सिलेंडर की डिलीवरी करता है। यानी एक बार आपने जिस डिस्ट्रीब्यूटर से गैस कनेक्शन ले लिया आपको गैस से जुड़ी तमाम सुविधाएं उसी डिस्ट्रीब्यूटर द्वारा दी जाती हैं। आपके पास डिस्ट्रीब्यूटर बदलने का विकल्प नहीं होता है।

इस योजना के आपके शहर में लागू होने के बाद जब आप नया सिलेंडर बुक करेंगे तो आपके पास डिस्ट्रीब्यूटर चुनने का विकल्प भी होगा। आपके इलाके में जितने भी डिस्ट्रीब्यूटर हैं, उन सबकी लिस्ट आपको दिखेगी। आप डिस्ट्रीब्यूटर की रेटिंग और बाकी सुविधाएं देखकर डिस्ट्रीब्यूटर चुन सकेंगे। यही डिस्ट्रीब्यूटर आपको सिलेंडर की डिलीवरी करेगा। जिस डिस्ट्रीब्यूटर की ज्यादा रेटिंग होगी उसकी सुविधाएं उतनी ही बेहतर होंगी। आप जब सिलेंडर बुकिंग करेंगे तो हर डिस्ट्रीब्यूटर की रेटिंग भी आपको दिखेगी। इसी को देखकर आप अपने लिए बेहतर डिस्ट्रीब्यूटर चुन सकेंगे।

डिस्ट्रीब्यूटर चुनने की प्रक्रिया
आपको www.mylpg.in वेबसाइट पर जाकर अपनी LPG आईडी से लॉगिन करना होगा।
अगर आप पहले से रजिस्टर्ड नहीं हैं तो रजिस्ट्रेशन करना होगा।
यहां आपको क्षेत्रवार डिस्ट्रीब्यूटर की जानकारी मिलेगी।
हर डिस्ट्रीब्यूटर के आगे उसकी रेटिंग भी दी गई होगी। आप अपनी पसंद से डिस्ट्रीब्यूटर को चुन सकेंगे।
डिस्ट्रीब्यूटर चुनने के बाद आपको मेल पर कंफर्मेशन के लिए एक फॉर्म भेजा जाएगा।
आप डिस्ट्रीब्यूटर बदल रहे हैं ये जानकारी आपके वर्तमान डिस्ट्रीब्यूटर को भेजी जाएगी।
मौजूदा डिस्ट्रीब्यूटर तीन दिन के भीतर फोन पर आपसे डिस्ट्रीब्यूटर न बदलने का अनुरोध कर सकता है।
अगर आप वर्तमान डिस्ट्रीब्यूटर के साथ ही बने रहना चाहते हैं तो डिस्ट्रीब्यूटर के पास आपकी रिक्वेस्ट कैंसिल करने का ऑप्शन होगा।
अगर डिस्ट्रीब्यूटर बदलना ही चाहते हैं तो वर्तमान डिस्ट्रीब्यूटर को इसके लिए बोल सकते हैं। वो तुरंत आपका कनेक्शन नए डिस्ट्रीब्यूटर को ट्रांसफर कर देगा।
अगर मौजूदा डिस्ट्रीब्यूटर 3 दिन के भीतर आपका कनेक्शन ट्रांसफर नहीं करता तो चौथे दिन अपने आप ही आपका कनेक्शन नए डिस्ट्रीब्यूटर को ट्रांसफर हो जाएगा।
आपको अपने सिलेंडर और बाकी चीजों को जमा करने की जरूरत नहीं होगी, न ही आपको डिस्ट्रीब्यूटर के पास जाना होगा। पूरी प्रोसेस ऑनलाइन होगी।
इस पूरी प्रोसेस के लिए आपसे रजिस्ट्रेशन फीस, सिक्योरिटी डिपॉजिट या किसी भी तरह का कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

Jun 19 2021, 07:31

ऑक्सीजन मॉक ड्रिल से नहीं हुई थीं 16 मौतें, यूपी के श्रीपारस अस्पताल को दी गई क्लीनचिट 
  


मॉकड्रिल मामले में श्रीपारस हॉस्पिटल को प्रशासन ने क्लीनचिट दे दी है। देर रात जारी की गई मजिस्ट्रेटी जांच और डेथ ऑडिट रिपोर्ट में कहा गया कि 26 अप्रैल की सुब 96 मरीजों पर मॉकड्रिल नहीं की गई। हालांकि 26-27 अप्रैल को सात की जगह 16 मौतों को स्वीकार किया है।

नौ दिन बाद जारी की गई जांच रिपोर्ट में सबसे पहले अस्पताल संचालक अरिंजय जैन के बयान का उल्लेख है। जिसमें बताया गया कि हॉस्पिटल में पांच मिनट की मॉकड्रिल करने और 22 मरीजों की छंटनी का गलत अर्थ निकाला जा रहा है। आरोप निराधार हैं। ऑक्सीजन बंद कर मॉकड्रिल नहीं की गई और न ही इसका प्रमाण है। यदि ऐसा होता तो 26 अप्रैल को सुबह 22 मृत्यु होनी चाहिए थी, जो कि नहीं हुईं।

संचालक ने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन थी लेकिन भविष्य में आपूर्ति का संकट था। ऑक्सीजन का असिस्मेंट ही मॉकड्रिल है। हाइपोक्सिया के लक्षण एवं ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल को मॉनीटर करते हुए मरीजों की ऑक्सीजन आपूर्ति को विनिंग प्रोसेस का पालन किया, जिससे ये प्रतीत हुआ कि भर्ती मरीजों में 22 अतिगंभीर हैं।

रिपोर्ट में बताया गया कि अस्पताल में अन्य जनपदों के पांच लोग भी भर्ती थे। 10 पीड़ितों के शिकायती प्रार्थना पत्र हैं, जबकि तीन सामाजिक संगठनों ने ज्ञापन दिए। डेथ ऑडिट टीम ने पाया कि 16 मरीजों में से 14 किसी न किसी कोमार्बिड बीमारी से ग्रसित थे। दो मरीजों में कोई कोमार्बिड नहीं पाई गई। जांच टीम ने पाया कि किसी भी मरीज की ऑक्सीजन बंद नहीं की गई थी। मरीजों की मौत उनकी बीमारी की गंभीर अवस्था के कारण एवं अन्य बीमारियों के कारण हुईं।

जांच रिपोर्ट में बताया गया कि 25-26 अप्रैल को ऑक्सीजन ट्रेडिंग कंपनी को ऑक्सीजन की असामान्य आपूर्ति की जानकारी दी गई। जांच में मिला कि अस्पताल को 25 अप्रैल को 149 सिलेंडर, 40 रिजर्व तथा 26 अप्रैल को 121 व 15 रिजर्व सिलेंडर की सप्लाई की गई थी। अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए ऑक्सीजन के इतने सिलेंडर प्रयाप्त माने गए। कुछ मरीजों के तीमारदार वैकल्पिक व्यवस्था से भी सिलेंडर लेकर अस्पताल पहुंचे थे।

रिपोर्ट में है कि प्रबंधन द्वारा मरीजों को ऑक्सीजन की कमी का हवाला देते हुए डिस्चार्ज करने की बात सामने आई है। इसलिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा भ्रम पैदा करना माना गया। उनके खिलाफ महामारी अधिनियम 1897 के तहत 180/21 अंतर्गत धारा 25/5 महामारी अधिनियम आईपीसी की धारा 118/505 में मुकदमा पंजीकृत किया गया। जिसकी पुलिस विवेचना कर रही है। वहीं सीएमओ ने श्रीपारस हॉस्पिटल के लाइसेंस को निलंबित कर सील कर दिया है। इस संबंध में अस्पताल प्रबंधन का जो भी जवाब आएगा। उसके अनुसार सीएमओ द्वारा कार्रवाई की जाएगी।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

Jun 19 2021, 07:28

डॉक्टरों से हिंसा पर केंद्र का राज्यों को पत्र, महामारी अधिनियम कड़ाई से लागू करें 
  


पिछले दिनों कुछ राज्यों में डॉक्टरों के साथ हिंसा के मामले को सरकार ने गंभीरता से लिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एक विस्तृत समीक्षा करके यह सुनिश्चित करने के लिए पत्र लिखा है कि संशोधित महामारी रोग अधिनियम के कार्यान्वयन के अलावा स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा व भलाई के लिए तत्काल आवश्यक कदम उठाए जाएं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे अपने पत्र में कहा कि कि स्वास्थ्य कर्मियों की हर मोर्चे पर कोविड-19 प्रबंधन में सबसे अहम भूमिका है।

हाल ही में असम, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक समेत कुछ जगहों से डॉक्टरों, स्वास्थ्य क्षेत्र के कर्मियों तथा अन्य पेशेवरों के खिलाफ हिंसा की खबरें आईं।

उन्होंने कहा कि इस तरह के वाकये हमारे स्वास्थ्य क्षेत्र के कर्मियों के मनोबल को प्रभावित करते हैं जिन्होंने कोविड-19 प्रबंधन में सभी चुनौतियों के खिलाफ अनुकरणीय प्रतिबद्धता दिखाई।

बता दें , कुछ दिन पहले असम के होजई जिले में डॉक्टर पर हमले के बाद इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा था। इस पत्र में आईएमए ने शाह से स्वास्थ्य संबंधी हिंसा के खिलाफ एक प्रभावी और मजबूत कार्रवाई को मंजूरी देने का अनुरोध किया गया था।

बता दें कि असम के होजई जिले में फुलताली मॉडल अस्पताल में कोरोना मरीज की मौत के बाद पुरुषों के एक समूह द्वारा एक ऑन-ड्यूटी डॉक्टर पर हमला किया गया था। जिसके बाद से राज्य के डॉक्टरों में नाराजगी देखी गई। वहीं आईएमए ने भी घस घटना की कड़ी निंदा की थी।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

Jun 19 2021, 07:25

मनी लॉन्ड्रिंग: कतर सरकार के आग्रह पर भारतीय नागरिक की 88 लाख की संपत्ति ईडी ने की फ्रीज 
  


कतर सरकार के कानूनी अनुरोध पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक भारतीय नागरिक की 88 लाख रुपये की संपत्ति को फ्रीज कर दिया है। यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत की गई है। भारतीय नागरिक सुब्रह्मण्यम श्रीनिवास पिनिन्ति कतर में एक अग्रणी रिटेल स्टोर चेन में काम करता है।

ईडी ने शुक्रवार को बताया कि 15 जून को सुब्रह्मण्यम के आंध्र प्रदेश में विशाखापट्टनम के नजदीक सीताम्माधरा स्थित आवास पर छापा भी मारा। वह कतर के दोहा में अल मीरा कंज्यूमर गुड्स कंपनी में बॉयर्स विभाग के प्रमुख हैं। समूह की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, यह कंपनी 2005 में बनाई गई थी और कतर में इसकी 50 से अधिक ब्रांच हैं।

जांच एजेंसी ने आरोप लगाया कि जांच में पाया गया कि पिनिन्ति ने अपने दोहा नेशनल बैंक खाते से भारत स्थित एक्सिस बैंक और एचडीएफसी बैंक में पैसे भेजे। पैसों का यह हस्तांतरण संदिग्ध था।

जांच में पता चला कि उसने दोहा से भेजे गए पैसों में से 45 लाख रुपये का विभिन्न म्यूचुअल फंड में निवेश किया गया। यह निवेश उसने अपने और पत्नी के नाम पर किया था। साथ ही उसने विजयनगरम और विशाखापट्टनम में अपने नाम पर तीन आवासीय प्लाट खरीदे। तीन तीनों प्लाट की बाजार में कीमत करीब 43 लाख रुपये है। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत पिनिन्ति के खिलाफ फ्रीजिंग आदेश जारी किया गया था। कतर में सात लाख से अधिक भारतीय रहते हैं।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

4 hours ago

योग में ॐ पर बहस: सिंघवी के अंदाज में विजयवर्गीय का जवाब, बोले- 'छुटभैये' नेता के ट्वीट से कम नहीं होगी योग की महानता 
  


दुनिया भर में आज सातवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। पूरी दुनिया जब योग दिवस पर योग को जीवन शैली में शामिल करने के लिए इसके लाभ गिना रही है। वहीं कांग्रेस के नेता इस मौके पर भी धर्म का पाठ पढ़ाने में जुटे हैं। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकील अभिषेक मनु सिंघवी के योग में ॐ के उच्चारण को लेकर दिए गए बयान ने नई बहस छेड़ दी है। भाजपा नेताओं ने भी सिंघवी के अंदाज में पलटवार किया है। वहीं बाबा रामदेव ने कहा कि सन्मति दे भगवान।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट किया कि ॐ के उच्चारण से ना तो योग ज्यादा शक्तिशाली हो जाएगा और ना अल्लाह कहने से योग की शक्ति कम होगी।

कांग्रेसी नेता के योग में ॐ के उच्चारण वाले बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि सबको सन्मति दे भगवान। बाबा ने कहा कि ईश्वर-अल्लाह तेरो नाम, सबको सन्मति दे भगवान। रामदेव ने कहा कि अल्लाह, भगवान, खुदा सब एक ही है, ऐसे में ॐ बोलने में दिक्कत क्या है, लेकिन हम किसी को भी खुदा बोलने से मना नहीं कर रहे हैं। रामदेव ने कहा कि इन सभी को भी योग करना चाहिए, फिर इन सभी को एक ही परमात्मा दिखेगा।

भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने सिंघवी को उन्हीं के अंदाज में जवाब दिया। विजयवर्गीय ने पलटवार करते हुए कहा कि किसी 'छुटभैये' नेता के ट्वीट से योग की महानता कम नहीं होती है।

भाजपा ने मनु सिंघवी के योग में ॐ के उच्चारण वाले बयान पर कांग्रेस को घेरा। भाजपा सांसद प्रवेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस देश का माहौल बिगड़ना चाहती है। ये लोग योग में भी धर्म ढूढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब भी हिंदुओं के पर्व-त्योहार आने वाले होते हैं, कांग्रेस देश का महौल बिगाड़ना चाहती है। प्रवेश शर्मा ने बिना किसी का नाम लिया कांग्रेस पर हमला बोला कि जब चुनाव आता है, तो कांग्रेसी नेता हिंदू बन जाते हैं। धोती पहन लेते हैं, जनेऊ पहनते हैं और चुनाव बाद हिंदू धर्म की भावनाओं को आहत करते हैं।

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

4 hours ago

पटना में खतरनाक ढंग से बढ़ रही गंगा, 24 घंटे में ही 2.67 मीटर चढ़ा जलस्तर 
  


नेपाल और बिहार में लगातार हो रही बारिश की वजह से नदियों का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ रहा है. सबसे खतरनाक ढंग से गंगा बढ़ रही है. पूरे सूबे में इसका जलस्तर लगातार ऊपर भाग रहा है. बक्सर, पटना, मुंगेर, भागलपुर में इसके जलस्तर में जबरदस्त वृद्धि हुई है.पटना में इसका जलस्तर महज 24 घंटे में 2.67 मीटर बढ़ गया. दीघाघाट पर इसका जलस्तर अब खतरे के निशान से मात्र 86 सेंटीमीटर नीचे रह गया है. गांधीघाट पर इसका जलस्तर 58 सेंटीमीटर बढ़ा और यहां नदी खतरे के निशान से मात्र 1.45 मीटर नीचे है. हाथीदह में इसका जलस्तर 1.12 मीटर बढ़ा जबकि मुंगेर में 1.16 मीटर और भागलपुर में 1.10 मीटर बढ़ गया.

पिछले 24 घंटे में सभी प्रमुख नदियों के साथ-साथ पहाड़ी नदियों के जलस्तर में भी बढ़ोतरी हुई है.

गंडक नदी गोपालगंज, मुजफ्फरपुर और वैशाली में लाल निशान के पार है. कोसी वीरपुर में 43 सेंमी और सहरसा में 9 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है. महानंदा पूर्णिया और कटिहार में बढ़ रही है तो कमला बलान जयनगर में और परमान अररिया में लगातार ऊपर बढ़ती जा रही है.uttar बिहार के कई जिलों में बाढ़ का संकट पैदा हो गया है.मौसम विभाग के मुताबिक पटना, गया, नालंदा, मुजफ्फरपुर सहित बिहार के 27 जिलों में सोमवार को 15 से 22 एमएम तक बारिश होने की संभावना है. इस दौरान 30 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेगी. बिहार के उत्तर-पश्चिम में 11 जिलों में 25 एमएम से अधिक बारिश होने की संभावना है. इस दौरान प्रदेश के सभी हिस्सों में वज्रपात होने के आसार है.

पश्चिमी चंपारण में 13 प्रखंडों के 177 गांवों की 1 लाख 15 हजार आबादी बारिश और बाढ़ से प्रभावित है. पिछले एक सप्ताह में नौतन, पिपरासी, चनपटिया, योगापट्‌टी, गौनाहा, बगहा-1, बगहा-2, भितहा, सिकटा, ठकराहा, नरकटियागंज, लौरिया और मझौलिया प्रखंड की बड़ी आबादी बाढ़/जलभराव का सामना कर रही है. पश्चिमी चंपारण ही नहीं, गोपालगंज, सारण और पूर्वी चंपारण जिले के करीब 26 प्रखंडों की बड़ी आबादी बाढ़-जलभराव से जूझ रही है.सारण जिला के 3 प्रखंडों- पानापुर, तरैया और मशरक के कई घरों में भी पानी प्रवेश कर रहा है. पूर्वी चंपारण के चार प्रखंड के 62 गांव बाढ़ के पानी से घिरे हैं. गोपालगंज जिला जिले के 6 प्रखंडों के 42 गांव बाढ़ में डूबे हैं और 16035 लोग प्रभावित है.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत

Dailynews

5 hours ago

Twitter India ने दिया गाजियाबाद पुलिस के नोटिस का जवाब, जानिए क्या कहा 
  


गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गाजियाबाद (Ghaziabad) में हुई बुजुर्ग अब्दुल समद की पिटाई (Abdul Samad Beating Case) के मामले में पुलिस ने ट्विटर इंडिया (Twitter India) के मैनेजिंग डायरेक्टर को नोटिस भेजा था, जिसका जवाब आ गया है. ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जांच में जुड़ सकते हैं.

मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि जो विवाद हुआ, उस मामले से हमारा कोई लेना-देना नहीं है. हम इस टॉपिक को डील नहीं करते हैं. लेकिन अब गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) ट्विटर इंडिया को दोबारा नोटिस भेजने की तैयारी में है क्योंकि वो मैनेजिंग डायरेक्टर के जवाब से सुंतष्ट नहीं है.

बता दें कि बीते 5 जून को गाजियाबाद में जादुई ताबीज के चक्कर में कुछ लोगों ने एक बुजुर्ग अब्दुल समद की पिटाई कर दी थी. जिसके बाद समाजवादी पार्टी के नेता उम्मेद पहलवान ने उसके साथ फेसबुक लाइव किया था और दंगा भड़काने की कोशिश की थी. उम्मेद ने अब्दुल समद को हाईजैक कर लिया था, जिसके बाद वीडियो में पिटाई की वजह को सांप्रदायिक बताया गया था. अब्दुल समद ने झूठ बोला कि जय श्री राम नहीं कहने पर उसकी पिटाई हुई. फिर उम्मेद ने दूसरे समुदाय को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी.

जिसके बाद कुछ पत्रकारों समेत कई लोगों ने ट्विटर पर इस वीडियो की सच्चाई जाने बिना फेक न्यूज फैलाई थी. इस पर ट्विटर ने कोई कार्रवाई नहीं की थी. फिर इस मामले में पुलिस ने ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सहित 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी.

गौरतलब है कि गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में शनिवार को दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल के पास से आरोपी उम्मेद पहलवान को गिरफ्तार किया था. पुलिस की पूछताछ में उम्मेद ने बताया कि उसने आगामी विधान सभा चुनाव और नगरपालिका चुनाव में टिकट हासिल करने के लिए ऐसा किया था.

हमें फॉलो करें @Dailynews ऐसे ही न्यूज़ सबसे पहले पाने के लिए-रिपोर्टर: प्रभाकर कुमार अमरजीत