India

Feb 22 2022, 16:05

#167candidatestaintedinfourthphaseofup_elections यूपी विधानसभा चुनावः
candidatestaintedinfourthphaseofup_elections यूपी विधानसभा चुनावः चौथे चरण में 167 प्रत्याशी दागी तो 231 करोड़पति उत्तर प्रदेश में चौथे चरण का मतदान 23 फरवरी को होना है। इसके लिए सभी राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। इस चरण में 624 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। चौथे चरण में जिन नौ जिलों में मतदान होना है, उनमें बांदा, फतेहपुर, हरदोई, लखीमपुर खीरी, लखनऊ, रायबरेली, सीतापुर, पीलीभीत और उन्नाव शामिल हैं। इलेक्शन वॉच और एडीआर की जारी रिपोर्ट में पता चला था कि तीन चरणों की अपेक्षा चौथे चरण में सर्वाधिक आपराधिक छवि के उम्मीदवारों की भरमार है। चौथे चरण में 167 यानी 27 फीसदी प्रत्याशी दागी इलेक्शन वॉच एसोसिएशन फ़ॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) के मुताबिक इस चरण में 624 में से 621 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया है। 621 में से 167 यानी 27 फीसदी प्रत्याशी दागी हैं। इनमें से 129 पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से नौ ऐसे उम्मीदवार हैं, जिन पर महिलाओं पर अत्याचार से संबंधित मामले दर्ज हैं। वहीं दो ऐसे हैं, जिन पर बलात्कार और पांच ऐसे हैं जिनके ऊपर हत्या के मामले दर्ज हैं। 14 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या का प्रयास (आईपीसी-307) से संबंधित मामले घोषत किए हैं। इस चरण में 29 ऐसी सीटें हैं, जहां तीन या इससे ज्यादा प्रत्याशियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। दागियों के मामले में कांग्रेस की छलांग शुरुआती तीन चरणों में सबसे ज्यादा आपराधिक छवि वाले प्रत्याशी समाजवादी पार्टी के थे। इस बार कांग्रेस इस मामले में सपा के मुकाबले में है। इस चरण में सबसे ज्यादा आपराधिक छवि वाले नेताओं को टिकट देने में कांग्रेस आगे रही है। कांग्रेस के 53% प्रत्याशी दागी हैं। दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी है। सपा के 53% और तीसरे नंबर पर बसपा के 44% प्रत्याशी दागी हैं। भाजपा इस सूची में चौथे और आम आदमी पार्टी पांचवे नंबर पर है। भाजपा के 40% और आम आदमी पार्टी के 24% प्रत्याशी दागी हैं। किस-किस तरह के लगे हैं आरोप? नौ उम्मीदवारों पर महिलाओं के प्रति गंभीर अपराध का आरोप है। इसमें भी दो ऐसे प्रत्याशी हैं, जिनपर रेप के आरोप लगे हैं। जिन दो उम्मीदवारों पर रेप के आरोप हैं, उनमें एक रायबरेली के हरचंदरपुर सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। प्रत्याशी का नाम अशोक कुमार है। दूसरे प्रत्याशी समाजवादी पार्टी से सीतापुर के सेवता सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। इनका नाम महेंद्र कुमार सिंह है। पांच प्रत्याशियों ने अपने हलफनामे में बताया है कि उनपर हत्या का मामला है। 14 प्रत्याशियों पर हत्या के प्रयास का मामला चल रहा है। 59 में से 29 यानी 49% सीटें रेड अलर्ट जोन में है। मतलब यहां से चुनाव लड़ रहे तीन या इससे अधिक उम्मीदवार आपराधिक छवि वाले हैं। करोड़पति प्रत्याशियों को लेकर भाजपा अव्वल इस चरण में 621 में से 231 करोड़पति उम्मीदवार हैं। करोड़पति प्रत्याशियों को लेकर भाजपा अव्वल है। भाजपा के 57 में से 50, सपा के 57 में से 48, बसपा के 59 में से 44 और कांग्रेस के 58 में से 28 प्रत्याशियों के पास करोड़ों की सम्पत्ति है। आम आदमी पार्टी के 45 में से 16 उम्मीदवार करोड़पति हैं। लखनऊ इस मामले में खास हैं कि करोड़पति की सूची में टॉप करने वाले आप प्रत्याशी राजीव बख्शी यहां की पश्चिम की सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। चौथे चरण में उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 2.46 करोड़ रुपये है। यदि दलवार स्थिति देखी जाए तो भाजपा के प्रत्याशियों की औसत सम्पत्ति सात करोड़ रुपये, सपा की पांच करोड़ रुपये, बसपा की चार करोड़ रुपये, कांग्रेस के प्रत्याशियों की तीन करोड़ और आप की दो करोड़ रुपये है। इनमें से 259 (42 %) उम्मीदवारों ने अपनी देनदारी घोषित की है।

India

Feb 22 2022, 16:05

#167candidatestaintedinfourthphaseofup_elections यूपी विधानसभा चुनावः
candidatestaintedinfourthphaseofup_elections यूपी विधानसभा चुनावः चौथे चरण में 167 प्रत्याशी दागी तो 231 करोड़पति उत्तर प्रदेश में चौथे चरण का मतदान 23 फरवरी को होना है। इसके लिए सभी राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है। इस चरण में 624 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। चौथे चरण में जिन नौ जिलों में मतदान होना है, उनमें बांदा, फतेहपुर, हरदोई, लखीमपुर खीरी, लखनऊ, रायबरेली, सीतापुर, पीलीभीत और उन्नाव शामिल हैं। इलेक्शन वॉच और एडीआर की जारी रिपोर्ट में पता चला था कि तीन चरणों की अपेक्षा चौथे चरण में सर्वाधिक आपराधिक छवि के उम्मीदवारों की भरमार है। चौथे चरण में 167 यानी 27 फीसदी प्रत्याशी दागी इलेक्शन वॉच एसोसिएशन फ़ॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) के मुताबिक इस चरण में 624 में से 621 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया है। 621 में से 167 यानी 27 फीसदी प्रत्याशी दागी हैं। इनमें से 129 पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से नौ ऐसे उम्मीदवार हैं, जिन पर महिलाओं पर अत्याचार से संबंधित मामले दर्ज हैं। वहीं दो ऐसे हैं, जिन पर बलात्कार और पांच ऐसे हैं जिनके ऊपर हत्या के मामले दर्ज हैं। 14 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या का प्रयास (आईपीसी-307) से संबंधित मामले घोषत किए हैं। इस चरण में 29 ऐसी सीटें हैं, जहां तीन या इससे ज्यादा प्रत्याशियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किए हैं। दागियों के मामले में कांग्रेस की छलांग शुरुआती तीन चरणों में सबसे ज्यादा आपराधिक छवि वाले प्रत्याशी समाजवादी पार्टी के थे। इस बार कांग्रेस इस मामले में सपा के मुकाबले में है। इस चरण में सबसे ज्यादा आपराधिक छवि वाले नेताओं को टिकट देने में कांग्रेस आगे रही है। कांग्रेस के 53% प्रत्याशी दागी हैं। दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी है। सपा के 53% और तीसरे नंबर पर बसपा के 44% प्रत्याशी दागी हैं। भाजपा इस सूची में चौथे और आम आदमी पार्टी पांचवे नंबर पर है। भाजपा के 40% और आम आदमी पार्टी के 24% प्रत्याशी दागी हैं। किस-किस तरह के लगे हैं आरोप? नौ उम्मीदवारों पर महिलाओं के प्रति गंभीर अपराध का आरोप है। इसमें भी दो ऐसे प्रत्याशी हैं, जिनपर रेप के आरोप लगे हैं। जिन दो उम्मीदवारों पर रेप के आरोप हैं, उनमें एक रायबरेली के हरचंदरपुर सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। प्रत्याशी का नाम अशोक कुमार है। दूसरे प्रत्याशी समाजवादी पार्टी से सीतापुर के सेवता सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। इनका नाम महेंद्र कुमार सिंह है। पांच प्रत्याशियों ने अपने हलफनामे में बताया है कि उनपर हत्या का मामला है। 14 प्रत्याशियों पर हत्या के प्रयास का मामला चल रहा है। 59 में से 29 यानी 49% सीटें रेड अलर्ट जोन में है। मतलब यहां से चुनाव लड़ रहे तीन या इससे अधिक उम्मीदवार आपराधिक छवि वाले हैं। करोड़पति प्रत्याशियों को लेकर भाजपा अव्वल इस चरण में 621 में से 231 करोड़पति उम्मीदवार हैं। करोड़पति प्रत्याशियों को लेकर भाजपा अव्वल है। भाजपा के 57 में से 50, सपा के 57 में से 48, बसपा के 59 में से 44 और कांग्रेस के 58 में से 28 प्रत्याशियों के पास करोड़ों की सम्पत्ति है। आम आदमी पार्टी के 45 में से 16 उम्मीदवार करोड़पति हैं। लखनऊ इस मामले में खास हैं कि करोड़पति की सूची में टॉप करने वाले आप प्रत्याशी राजीव बख्शी यहां की पश्चिम की सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। चौथे चरण में उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति 2.46 करोड़ रुपये है। यदि दलवार स्थिति देखी जाए तो भाजपा के प्रत्याशियों की औसत सम्पत्ति सात करोड़ रुपये, सपा की पांच करोड़ रुपये, बसपा की चार करोड़ रुपये, कांग्रेस के प्रत्याशियों की तीन करोड़ और आप की दो करोड़ रुपये है। इनमें से 259 (42 %) उम्मीदवारों ने अपनी देनदारी घोषित की है।